backup og meta

एलोवेरा जूस पीने के 12 अनोखे फायदे

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड Dr. Pooja Bhardwaj


Manjari Khare द्वारा लिखित · अपडेटेड 20/04/2021

एलोवेरा जूस पीने के 12 अनोखे फायदे 

एलोवेरा पौधे की एक प्रजाति है जिसमें कई औषधीय और पोषण संबंधी गुण पाए जाते हैं। इस पौधे में हरे और जेल से भरे पत्ते होते हैं। बहुत से लोग जलने और घावों के इलाज के लिए इस जेल का उपयोग करते हैं। इसका जूस भी बहुत उपयोगी है। इसमें विटामिन सी से लेकर नेचुरल लैक्सेटिव पाया जाता है। एलोवेरा जूस कई नेचुरल फूड स्टोर और सुपर मार्केट में आसानी से मिल जाता है। इसको पीने के कई फायदे हो सकते हैं। जानते हैं उनके बारे में। 

और पढ़ें – थायराइड डाइट प्लान अपनाकर पाएं हेल्दी लाइफस्टाइल, बीमारी से रहे दूर

1.कब्ज से दिला सकता है राहत

जो लोग समय-समय पर कब्ज का अनुभव करते हैं वे एक प्राकृतिक लैक्सेटिव के रूप में एलोवेरा जूस का उपयोग कर सकते हैं। पौधे के बाहरी हिस्से में एंथ्राक्विनोन नामक तत्व होते हैं जिनका लैक्सेटिव इफेक्ट होता है।यदि कोई पहली बार एलोवेरा जूस ले रहा है, तो उसे काम मात्रा से इसकी शुरुआत करना चाहिए। जो कि 1 कप या  8 औंस (औंस) होता है।

जबकि रिसर्चर्स ने एलोवेरा के लैक्सेटिव प्रभाव के बारे में बताया है, यूनाइटेड स्टेट्स फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (एफडीए) ने यह नहीं कहा है कि यह इस उद्देश्य को पूरा करता है। इसलिए कब्ज को दूर करने के लिए इसका उपयोग करने से पहले अपने डॉक्टर से संपर्क जरूर करें।

और पढ़ें – इन फूड्स की वजह से हो सकता है शिशुओं में कब्ज, ऐसे करें दूर

2.विटामिन सी का अच्छा सोर्स  

एक कप एलोवेरा जूस में लगभग 9.1 ग्राम विटामिन सी होता है। यह विटामिन एक व्यक्ति के बेहतर स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह एक प्राकृतिक एंटीऑक्सीडेंट और इंफ्लामेशन से लड़ने में मदद करता है।

विटामिन सी के कई लाभ हैं, जो हृदय रोग के जोखिम को कम करने से लेकर इम्यून सिस्टम के कार्य में सुधार करता है। पर्याप्त मात्रा में विटामिन सी लेने से शरीर में प्लांट बेस्ड फूड से आयरन को अवशोषित करने की क्षमता भी बढ़ती है। जबकि विटामिन सी संतरे, हरी मिर्च, ब्रोकली, अंगूर, और टमाटर के रस आदि में स्वाभाविक रूप से मौजूद है, एलोवेरा जूस इसका एक उत्कृष्ट सोर्स है।

3.बॉडी को हाइड्रेटेड रखने में मदद करता है 

दिन भर में बहुत सारा लिक्विड पीने से व्यक्ति को हाइड्रेटेड रहने में मदद मिल सकती है, और एलोवेरा का जूस शुगरी ड्रिंक्स और फ्रूट जूस का कम कैलोरी वाल अल्टरनेटिव ऑप्शन हो सकता है। एक कप एलोवेरा जूस में सिर्फ 36 कैलोरी होती है।

हालांकि, एडेड शुगर और दूसरे तत्वों के लेबलिंग की जांच करना आवश्यक है। जो जूस में कैलोरी, शुगर और कार्बोहाइड्रेट की मात्रा बढ़ा सकते हैं।

[mc4wp_form id=’183492″]

4.मसूड़ों की सूजन को कम करना

एलोवेरा मसूड़ों की सूजन को कम करने में मदद कर सकता है। एक छोटे अध्ययन में पाया गया कि एलोवेरा जूस से माउथवॉश करने वाले लोगों को मसूड़ों की सूजन को कम करने में मदद मिली, जो हाल ही में प्लाक हटाने के ट्रीटमेंट से गुजरे थे।अध्ययन में, 15 प्रतिभागियों ने एलोवेरा जूस से माउथवॉश किया था और 15 ने किसी चीज का यूज नहीं किया। निष्कर्ष के अनुसार जिन लोगों ने माउथवॉश का इस्तेमाल किया था, उनमें मसूड़ों की सूजन कम थी। ऐसा एलोवेरा में पाए जाने वाली एन्टीबैक्टीरियल और एंटी- माइक्रोबियल प्रॉपर्टीज के कारण हो सका।

5.पेट के अल्सर को रोकना

2014 के शोध के अनुसार, एलोवेरा जूस से पेट के अल्सर को कम करने और पाचन में सुधार जैसे अतिरिक्त लाभ हो सकते हैं। एलोवेरा जूस में कई एंटी-इंफ्लेमेटरी कंपाउंड, जैसे कि विटामिन सी पाया जाता है जो इस तरह के डाइजेस्टिव इफेक्ट में योगदान कर सकता है।

6.लिवर को रखे स्वस्थ

जब बात आती है डिटॉक्स करने की तो लिवर फंक्शन को ठीक करने के लिए इससे बेहतर उपाय और कोई नहीं। एलोवेरा जूस लिवर को स्वस्थ रखने के लिए सबसे बेहतरीन माना जाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि हमारा लिवर हाइड्रेटेड और पोषण पाने पर अच्छे से कार्य कर पाता है। एलोवेरा जूस में फाइटोन्यूट्रिएंट्स होते हैं जो लिवर को हाइड्रेटेड रखने में मदद करते हैं।

और पढ़ें – जानें हेल्दी लाइफ के लिए आपका क्या खाना जरूरी है और क्या नहीं

7.सीने में जलन से दिलाता है राहत

एलोवेरा जूस का सेवन करने से सीने में जलन जैसी समस्या से आराम मिलता है और इसके अटैक भी कम आते हैं। एलोवेरा जूस में मौजूद यौगिक पेट में एसिड को बनने से रोकते हैं और उसके स्राव को नियंत्रित बनाए रखते हैं। यह प्रभाव गैस्ट्रिक अल्सर से भी लड़ने में मदद करते हैं और उन्हें बढ़ने से रोकते हैं।

8.पाचन प्रणाली के लिए है फायदेमंद

एलोवेरा जूस में एंजाइम होते हैं जो शुगर और फैट को पचाने में मदद करते हैं जिससे पाचन आसानी से हो पाता है। अगर आपका पाचन तंत्र सही ढंग से कार्य नहीं कर पाता है तो आपको अपने आहार में मौजूद सभी पोषक तत्व नहीं प्राप्त होते हैं।

आहर में मौजूद पोषक तत्वों के अवशोषण के लिए आपको अपने पेट यानी पाचन प्रणाली को स्वस्थ रखने की आवश्यकता होती है। एलोवेरा जूस पेट और आंतों में होने वाली इर्रिटेशन को कम करता है।

यदि आप इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम से ग्रस्त हैं तो आपको एलोवेरा के जूस का सेवन जरूर करना चाहिए।

9.एनीमिया का इलाज है एलोवेरा

घृतकुमारी के जूस को आयुर्वेद में मुख्य रूप से खून की कमी के इलाज में इस्तेमाल किया जाता रहा है। बता दें की एनीमिया एक ऐसी स्थिति है जिसमें व्यक्ति के शरीर में आयरन की कमी हो जाती है जिसके कारण शरीर में खून पर्याप्त मात्रा में नहीं बन पाता है।

एलोवेरा जूस रक्त प्रवाह में सुधार लाने के साथ जॉन्डिस और अल्सर के इलाज में भी मदद करता है।

10.हृदय रोग के लिए है सबसे बेहतर

एलोवेरा जूस में कई ऐसे गुण पाए जाते हैं जो फैट को कम करने में मदद करते हैं। चूहों पर किए गए एक अध्ययन के मुताबिक एलोवेरा जूस हृदय संबंधी समस्याओं को कम करने में मदद करता है।

इसके अलावा डायबिटीज से ग्रस्त चूहों पर किए गए अध्ययन में पाया कि एलोवेरा जूस में मौजूद तत्व हृदय को स्वस्थ बनाए रखते हैं। यदि एलोवेरा जूस के साथ सही आहार और पोषण का सेवन किया जाए तो कुछ ही समय में हाई बीपी की समस्या को कम किया जा सकता है।

और पढ़ें – हृदय रोग के लिए डाइट प्लान क्या है, जानें किन नियमों का करना चाहिए पालन?

11.वेट लॉस में करता है मदद

आंतों और पेट में सूजन वजन बढ़ने के कारणों में से एक होता है। एलोवेरा जूस में मौजूद एंटीइंफ्लामेट्री गुण इस स्थिति को कम करने में मदद करते हैं। एलोवेरा जूस के औषधीय गुण वजन कम करने में मदद कर सकते हैं। हालांकि, इसका अभी तक कोई सबूत नहीं मिला है। एलोवेरा जूस और वजन को लेकर अध्ययनों की कमी के कारण इस बात की पुष्टि नहीं की जा सकती है कि एलोवेरा जूस वाकई वजन कम करने में मददगार होता है।

हालांकि, चूहों पर किए गए अध्ययन में यह पाया गया कि डायट के कारण होने वाला मोटापा एलोवेरा जूस से रोका जा सकता है।

और पढ़ें – जानें ऐसी 7 न्यूट्रिशन मिस्टेक जिनकी वजह से वेट लॉस डायट प्लान पर फिर रहा है पानी

12.एलोवेरा जूस कैंसर के रोकथाम में करता है मदद

एक स्टडी के मुताबिक एलोवेरा जूस कैंसर कोशिकाओं की वृद्धि को रोकने में मदद कर सकता है। इसके साथ ही यह कैंसर की दवाओं के प्रभाव को भी बढ़ाता है। एलोवेरा जूस में अलोइन और लेक्टिन नामक यौगिक होते हैं जो एंटीइंफ्लामेट्री दवाओं की तरह कार्य करते हैं। एलोवेरा जूस के इन ही गुणों के कारण कैंसर का खतरा भी कम हो सकता है।

शोधकर्तओं की माने तो एलोवेरा जूस में मौजूद फाइटोन्यूट्रिएंट कैंसर कोशिकाओं को फैलने से रोकते हैं। हालांकि, फिलहाल इस विषय में अधिक अध्ययन नहीं हुए हैं।

अपना स्वास्थ्य बेहतर बनाने के लिए प्रतिदिन 250 एमएल एलोवेरा जूस का सेवन करें। आप चाहें तो एलोवेरा में बर्फ मिला सकते हैं या अपने किसी फेवरट जूस के साथ इसकी स्मूदी भी तैयार कर सकते हैं। अगर आपको यहां बताई गई किसी भी चीज से एलर्जी है तो पहले डॉक्टर से सलाह लें फिर इसका सेवन करें।

डिस्क्लेमर

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

Dr. Pooja Bhardwaj


Manjari Khare द्वारा लिखित · अपडेटेड 20/04/2021

advertisement iconadvertisement

Was this article helpful?

advertisement iconadvertisement
advertisement iconadvertisement