कोरोना वायरस कम्युनिटी स्प्रेड : आईएमए ने बताया भारत में कोरोना का सामुदायिक संक्रमण है भयावह

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जुलाई 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

कोरोना वायरस रोजाना अपने आपको लेकर एक नए आंकड़े तक पहुंच रहा है। जहां एक तरफ भारत में पिछले महीने से अनलॉक की प्रक्रियाएं शुरू हो चुकी हैं, वहीं कोरोना का सामुदायिक संक्रमण होना खुद में एक डराने वाली बात है। अब तो इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) के हवाले से भारत में कोरोना वायरस कम्युनिटी स्प्रेड की बात कही गई है। कोरोना का कम्युनिटी ट्रांसमिशन ही शायद संक्रमित मरीजों की बढ़ती तादाद की मुख्य वजह है।

भारत में 20 जुलाई, 2020 तक 11,19,307 कोरोना के मामले हो गए। जिसमें से 3,91,147 कोरोना के एक्टिव केसेस हैं, वहीं अब तक कोरोना से 7,00,646 लोगों ने जंग जीत ली है। दूसरी तरफ 27,514 लोग कोरोना संक्रमण के कारण अपनी जान तक गंवा चुके हैं। एक्सपर्ट्स का मानना है कि शायद कोरोना वायरस कम्युनिटी ट्रांसमिशन के कारण ही जुलाई माह में कोरोना के मामले दोगुनी तेजी से बढ़े हैं। आइए जानते हैं कि कोरोना वायरस कम्युनिटी स्प्रेड क्या होता है और इसे कैसे रोका जा सकता है?

और पढ़ें : क्या कोरोना के इलाज के लिए इस्तेमाल होने वाली दवा इटोलिजुमैब (Itolizumab) से मौत हो रही हैं कम?

कोरोना वायरस कम्युनिटी स्प्रेड क्या है?

संक्रमितों की प्रतिदिन बढ़ती संख्या

कोरोना वायरस कम्युनिटी स्प्रेड का मतलब है- कोरोना का सामुदायिक संक्रमण होना। ये किसी भी महामारी के संक्रमण की एक डराने वाली स्थिति हो सकती है। इस सामुदायिक संक्रमण में एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में संक्रमण फैलने के साथ ही पूरे परिवार या एक जगह पर रह रहे समुदाय के लोगों का संक्रमित होना है। कोरोना का कम्युनिटी स्प्रेड भी कुछ इस तरह से ही हो रहा है। एक व्यक्ति से पूरे परिवार और फिर गांव, मोहल्ले, सोसायटी में रह रहे अन्य लोगों में संक्रमण का होना ही सामुदायिक संक्रमण (Community Spread) है।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

भारत में कोरोना का सामुदायिक संक्रमण पर क्या कहता है आईएमए?

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के चेयरमैन डॉ. वीके मोंगा ने बताया है कि भारत में कोरोना का सामुदायिक संक्रमण हो चुका है। डॉ. मोंगा का मानना है कि “जिस तरह से बीते दिनों में कोरोना के रोजाना के मामले 30,000 के पार पहुंच चुके हैं, उसे देख कर हमें गंभीर होना चाहिए। ऐसा इसलिए है कि अब भारत में कोरोना वायरस कम्युनिटी स्प्रेड हो रहा है। हालांकि, कोरोना के फैलने के कई सारे फैक्टर हैं, लेकिन जिस तरह से कोरोना वायरस भारत के गांवों में फैल रहा है, ये कोरोना वायरस कम्युनिटी स्प्रेड की तरफ इशारा करता है। भारत के लिए कोरोना का सामुदायिक संक्रमण बहुत भयावह स्थिति है।”

डॉ. मोंगा ने कहा कि, “दिल्ली, महाराष्ट्र, केरल, कर्नाटक, मध्य प्रदेश के शहरों में कोरोना के मामलों में कमी आई है, जबकि इन्हीं राज्यों के कस्बों और गांवों में कोरोना संक्रमण के मामालों में उछाल दर्ज किया गया है। रोजाना देखने में आ रहा है कि अब कस्बों और गांवों में कोरोना के नए हॉटस्पॉट बन रहे हैं। इसके लिए जरूरी है कि सरकार को इस कम्युनिटी स्प्रेड को रोकना होगा वरना भविष्य में स्थिति बद से बदतर होते देर नहीं लगेगी।”

और पढ़ें : कोरोना से तो जीत ली जंग, लेकिन समाज में फैले भेदभाव से कैसे लड़ें?

कोरोना संक्रमण की स्टेजेस क्या हैं? (Stages of Corona Spread)

कोरोना संक्रमण से साल 2020 की शुरुआत से ही पूरी दुनिया दो चार हो रही है। अगर बात की जाए कोरोना संक्रमण की तो पर्सन-टू-पर्सन फैल कर कोरोना वायरस एक महामारी का रूप ले चुका है। आइए जानते हैं कि कोरोना संक्रमण की स्टेजेस क्या हैं? 

कोरोना संक्रमण स्टेजेस 1 : बीमारी से रुबरु होना

कोरोना संक्रमण स्टेजेस में पहले चरण में किसी भी देश में बीमारी यानी कि कोरोना वायरस से एक या दो लोग रुबरु होते हैं। भारत में ये स्टेड जनवरी से मार्च के बीच में पाई गई थी। जब सिर्फ 3 से 10 केस ही थे। इस स्टेज में कोरोना भारत में प्रवेश किया और कुछ ही लोगों को संक्रमित किया।

और पढ़ें : कोरोना वायरस एयरबॉर्न : WHO कोविड-19 वायु जनित बीमारी होने पर कर रही विचार

कोरोना संक्रमण स्टेजेस 2 : लोकल ट्रांसमिशन

कोरोना संक्रमण स्टेजेस के दूसरे चरण में कोरोना वायरस लोकल लेवल पर फैलता है। कोरोना वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है। ये कोई भी हो सकता है, ट्रैवेल करने वाला सह यात्री या एक देश से दूसरे देश में आने वाले व्यक्ति। हालांकि, भारत में देखा गया है कि लोकल ट्रांसमिशन परिवार, दोस्त, सहकर्मी, पड़ोसी या उन लोगों में ज्यादा फैला है, जिनसे हम ज्यादतर मिला करते थे। इसी को देखते हुए 24 मार्च, 2020 को भारत में लॉकडाउन किया गया था, ताकि लोकल ट्रांसमिशन ना हो पाए। इसी के मद्देनजर सोशल डिस्टेंसिंग, कोविड-19 स्क्रिनिंग आदि की जा रही है। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) ने मार्च से लेकर जून तक भारत में लोकल ट्रांसमिशन की पुष्टि की है। 

कोरोना संक्रमण स्टेजेस 3 : कम्युनिटी ट्रांसमिशन या कम्युनिटी स्प्रेड

कोरोना संक्रमण स्टेजेस का तीसरा चरण इस वक्त भारत में शुरू हो गया है। कोरोना वायरस कम्युनिटी स्प्रेड होना तब शुरू होता है, जब लोकल ट्रांसमिशन के कारण कोरोना वायरस के हॉटस्पॉट बनने लगते हैं। कोरोना वायरस कम्युनिटी स्प्रेड में एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति और फिर कस्बे, मोहल्ले और गांवों में संक्रमण फैल रहा है। इस बात की पुष्टि इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के चेयरमैन डॉ. वीके मोंगा ने की है। कोरोना संक्रमण का तीसरा चरण पहले दोनों चरणों से काफी भयावह स्थिति है। जिसमें ये पता लगाना मुश्किल होता है कि कोरोना का संक्रमण कहां से शुरू हुआ है और कितने लोगों में फैलने की आशंका है। कोरोना वायरस कम्युनिटी स्प्रेड को रोक पाना बहुत कठिन है, इसलिए एक्सपर्ट का मानना है कि अगर स्थिति को संभाला नहीं गया तो भविष्य बहुत भयावह हो सकता है। इसके लिए बड़े पैमाने पर लॉकडाउन की भी सलाह  दे रहे हैं।

कोरोना संक्रमण स्टेजेस 4 : वाइडस्प्रेड आउटब्रेक

कोरोना संक्रमण स्टेजेस के चौथे चरण में कोई भी महामारी कंट्रोल करना नामुमकिन हो जाती है। ऐसे में कोरोना संक्रमण के बारे में समझ में ही नहीं आएगा कि वो कहां से किस-किस को हुआ है। अगर कोरोना वायरस कम्युनिटी स्प्रेड को रोका नहीं गया तो इस स्थिति में भारत को पहुंचते देर नहीं लगेगी।

और पढ़ें : वायुजनित रोग (एयरबॉर्न डिजीज) क्या है? जानें इसके प्रकार, लक्षण, कारण और इलाज के बारे में

कोरोना वायरस कम्युनिटी स्प्रेड को कैसे रोका जा सकता है?

कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ रहा है सारा भारत देश

कोरोना वायरस कम्युनिटी स्प्रेड को रोकने के लिए भारत सरकार के स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय (Ministry of Health and Family Welfare Government of India) की तरफ से जारी की गई पांच सलाह को मानने से कोरोना संक्रमण को रोका जा सकता है :

इन उपायों को अपना कर आप कोरोना वायरस कम्युनिटी स्प्रेड को रोक सकते हैं। एक बात गांठ बांध लीजिए कि आपकी सावधानी ही आपका बचाव है। कोरोना से डरे नहीं, बल्कि रोकथाम के साथ डट कर लड़ें। इस संबंध में अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

REVIEWED

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

वर्ल्ड टूरिज्म डे: कोविड-19 के बाद कितना बदल जाएगा यात्रा करना?

कोविड-19 के बाद ट्रैवल करना पहले जितना मजेदार नहीं रहेगा क्योंकि एक तो आपको संक्रमण से बचाव की चिंता लगी रहेगी दूसरी तरफ कई नियमों का पालन भी करना होगा।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
कोरोना वायरस, कोविड-19 सितम्बर 8, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

वर्ल्ड पेशेंट सेफ्टी डे: पेशेंट और हेल्थ वर्कर्स की सेफ्टी कैसे है एक दूसरे पर निर्भर?

जानिए विश्व मरीज सुरक्षा दिवस में कोविड-19 के समय कैसे मरीज और स्वास्थ्य कर्मियों की सुरक्षा एक दूसरे से संबंधित है? पेशेंट और हेल्थ वर्कर्स की सेफ्टी ।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन सितम्बर 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

कैसे स्वस्थ भोजन की आदत कोरोना से लड़ने में मददगार हो सकती है? जानें एक्सपर्ट्स से

स्वस्थ भोजन की आदत कैसे डेवलप करें? बेहतर स्वास्थ्य के लिए स्वस्थ भोजन की आदत को अपनाना जरूरी है। स्वस्थ भोजन खाने के क्या फायदे या प्रभाव हैं?

के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन अगस्त 27, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

लॉकडाउन में ईटिंग हैबिट्स किसी की सुधरी तो किसी की हुई बेकार

लॉकडाउन में ईटिंग हैबिट्स बदल गई हैं। लॉकडाउन के दौरान घर पर हेल्दी फूड्स खाना आपकी इम्युनिटी को स्ट्रॉन्ग रखने के लिए जरूरी है। वर्क फ्रॉम होम करते हुए हम लोगों को अपनी सेहत और फिटनेस पर भी ध्यान देने का मौका मिला। Lockdown eating habits in hindi

के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन अगस्त 27, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

हार्ट पर कोविड-19 का प्रभाव, heart issues after recovery from coronavirus

कोविड-19 रिकवरी और हार्ट डिजीज का क्या है संबंध, जानिए एक्सपर्ट की राय

के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ सितम्बर 24, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
कोविड के बाद फेफड़ों का स्वास्थ्य -corona and lung world lungs day

क्या कोरोना होने के बाद आपके फेफड़ों की सेहत पहले जितनी बेहतर हो सकती है?

के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
प्रकाशित हुआ सितम्बर 22, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
कोरोना से ठीक होने के बाद के उपाय

कोरोना संक्रमण से ठीक होने के बाद ऐसे बढ़ाएं इम्यूनिटी, स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताए कुछ आसान उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ सितम्बर 18, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
PPI medicines - पीपीआई से कोरोना

क्या पेंटोप्रोजोल, ओमेप्रोजोल, रैबेप्रोजोल आदि एंटासिड्स से बढ़ सकता है कोविड-19 होने का रिस्क?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ सितम्बर 11, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें