Tramadol : ट्रामाडोल क्या है?

Medically reviewed by | By

Update Date जून 25, 2020 . 8 मिनट में पढ़ें
Share now

उपयोग

ट्रामाडोल का उपयोग किसके लिए किया जाता है?

ये दवा मध्यम से गंभीर रूप से होने वाले दर्द से छुटकारा दिलाने में मदद करती है। ट्रामाडोल नारकोटिक एनाल्जेसिक के समान होता है। यह

मस्तिष्क में ऐसे परिवर्तन करता है जिससे आपको दर्द कम महसूस होता है।

और पढ़ें : क्रेमाफीन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

मैं ट्रामाडोल को कैसे इस्तेमाल करूं?

इस दवा को डॉक्टर की सलाह अनुसार आमतौर पर दर्द को दूर करने के लिए जरूरत पड़ने पर 4 से 6 घंटे के अंतराल पर लें। आप इस दवा को खाने के साथ या खाने से पहले ले सकते हैं। अगर आपको मतली की समस्या है, तो इस दवा को खाने के साथ लें। मतली की समस्या को कम करने के लिए डॉक्टर से अन्य तरीकों के बारे में पूछें ( जब भी आपको सिर हल्का लगे तो एक से दो घंटे के लिए लेट जाएं)।

खुराक आपकी चिकित्सीय स्थिति और इलाज के प्रति प्रतिक्रिया पर निर्भर करती है। साइड इफेक्ट के जोखिम को कम करने के लिए, आपका डॉक्टर आपको इस दवा को कम खुराक में शुरू करने के लिए कह सकते हैं और फिर धीरे-धीरे खुराक को बढ़ा सकते हैं। सलाह से दी जाने वाली अधिकतम खुराक 400 मिलीग्राम प्रतिदिन दी जाती है। अपनी खुराक में वृद्धि न करें, दवा को अधिक बार लें, या निर्धारित समय से अधिक समय तक लें। डॉक्टर की सलाह पर दवा को बंद कर दें।

दर्द की दवाएं सबसे अच्छा काम करती हैं यदि वे दर्द के शुरूआती लक्षणों पर ही उपयोग की जाती हैं। अगर आप दर्द के बंद होने का इंतजार करते हैं, लेकिन स्थिति और बिगड़ जाती है तो ये दवा उस समय काम नहीं करेगी।

अगर दर्द जारी है (जैसे अर्थराइटिस की वजह से), तो डॉक्टर नारकोटिक दवाइयां लंबे समय तक के लिए खाने को बोल सकता है। अन्य नॉन नारकोटिक दर्द निवारक (जैसे एसिटामिनोफेन, आईबुप्रोफेन) को इस दवा के साथ लेने की सलाह दी जाती है। अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट से बात करें अगर आपको ट्रामाडोल को अन्य दवाओं के साथ लेने की सुरक्षा के बारे में किसी भी तरह का सवाल है।

ये दवाई विड्राल सिम्पटम का कारण बन सकती है, खासकर अगर इसे रोजाना लंबे समय या अधिक खुराक के रूप में इस्तेमाल किया गया है। यदि आप अचानक इस दवा का उपयोग करना बंद कर देते हैं तो ऐसे मामलों में, विड्राल सिम्पटम (जैसे कि बेचैनी, आंखों में पानी आना, नाक बहना, मतली, पसीना, मांसपेशियों में दर्द) हो सकते हैं। लक्षणों को वापस आने से रोकने के लिए, आपका डॉक्टर धीरे-धीरे खुराक को कम करेगा। अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर या फार्मासिस्ट से बात करें और किसी भी तरह के लक्षण वापस आ रहे हैं तो डॉक्टर को बताएं।

अगर ये दवाई लंबे समय तक इस्तेमाल की जाती है तो ये सही तरह से कार्य नहीं करेगी। अपने डॉक्टर से बात करें अगर ये दवाई काम करना बंद कर देती है। फायदो के साथ ही, ये दवाई असामान्य व्यवहार का भी कारण बन सकती है। अगर आप पहले शराब या ड्रग्स की लत है तो इस दवाई का जोखिम बढ़ सकता है। इस दवाई को उसी तरह से लें जिस तरह से डॉक्टर द्वारा बताई गई है जिससे इसकी लत कम की जा सके। अपने डॉक्टर को बताएं अगर दर्द लगातार बढ़ता है या बिगड़ता है।

मैं ट्रामाडोल को कैसे स्टोर करूं?

ट्रामाडोल को अच्छा होगा अगर आप घर के तापमान में ही रखें और सीधी रोशनी व नमी से दूर रखें। दवा को खराब होने से बचाने के लिए, आपको ट्रामाडोल को बाथरूम या फ्रीजर में नहीं रखना चाहिए। ट्रामाडोल के अलग-अलग ब्रांड हो सकते हैं जिनको स्टोर करने की जरूरतें अलग हो सकती हैं। इसलिए आवश्यक है कि आप उसे खरीदने से पहले उत्पाद पर लिखी संग्रह करने की जानकारियों को ध्यानपूर्वक पढ़ लें या फिर फार्मासिस्ट से इसकी जानकारी ले लें। सुरक्षा के लिए, आपको सभी दवाइयां बच्चों और जानवरों से दूर रखनी चाहिए।

आपको ट्रामाडोल टॉयलेट या किसी सीवर में नहीं डालनी चाहिए तब तक जब तक डॉक्टर आपको सलाह न दे। आवश्यक है कि आप पूरी तरह से दवाई को खत्म कर दें अगर वो एक्सपायर हो गई है या किसी काम के लायक नहीं रही है। इसे सुरक्षित व सही तरह से खत्म करने के लिए एक बार अपने फार्मासिस्ट से बात जरूर करें।

और पढ़ें: Nootropics : नूट्रोपिक्स, ये दवाएं आपके दिमाग को बना सकती हैं एवेंजर्स

जरूरी बातें

ट्रामाडोल का उपयोग करने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

दवाई इस्तेमाल करने से पहले, उसके लाभों के अलावा उससे होने वाले जोखिमों के बारे में भी देखना चाहिए। यह निणर्य आपका डॉक्टर और आप ले सकते हैं। इस दवा के लिए, कुछ निम्नलिखित बातें बताई गई हैं :

एलर्जी –

अगर आपको इस दवा से या अन्य दवाओं से अनचाहे रिएक्शन हुए हैं या एलर्जिक रिएक्शन हुए हैं तो अपने डॉक्टर को जरूर बताएं। साथ ही अगर आपको अन्य किसी भी तरह की एलर्जी हुई है तो वो भी अपने डॉक्टर को बताएं। जैसे खाना, डाई, प्रिजर्ववेटिव या जानवरों से एलर्जी। बिना डॉक्टर की सलाह के इसे उपयोग करने के लिए उत्पाद पर लिखी जानकारी व सामग्री को ध्यान से पढ़ें।

बच्चों का उपचार –

16 साल से कम उम्र के बच्चों में Rybix ™ ODT, Ryzolt ™, और Ultram® से जुड़ी गोलियों के प्रभावों पर उचित अध्ययन नहीं किया गया है। इनकी सुरक्षा और प्रभावों को लेकर अभी बताया नहीं गया है।

बाल चिकित्सा पॉपुलेशन में अल्ट्राम® ईआर एक्सटेंडेड-रिलीज, उम्र पर पड़ने वाले गोलियों के प्रभावों पर किसी भी तरह का अध्ययन नहीं किया गया है। इनकी सुरक्षा और प्रभावों को लेकर अभी बताया नहीं गया है।

वृद्धावस्था –

आज तक किए गए अध्ययनों में वृद्धावस्था से जुड़ी खास समस्याओं का अभी कुछ पता नहीं चल पाया है, जो बुजुर्गों में ट्रामाडोल की उपयोगिता को सीमित करे। हालांकि, बुजुर्ग रोगियों में अनचाहे दुष्प्रभाव होने की संभावना अधिक होती है (उदाहरण के लिए, कब्ज; सिर हल्का होना, चक्कर आना, या बेहोशी; पेट खराब होना; कमजोरी)।

ट्रामाडोल सांस लेने की प्रक्रिया को धीमा या रोक सकती है। इस दवा के दुरूपयोग से आपको इसकी लत लग सकती है और ओवरडोज लेने पर जान भी जा सकती है। खासतौर पर तब, जब इसे बिना डॉक्टर की सलाह लिए बच्चों या अन्य किसी के लिए इस्तेमाल किया गया हो। 

अगर आपको सांस से जुड़ी तकलीफ है या पेट या आंतों में ब्लाॅकेज की समस्या है तो ट्रामाडोल का सेवन नहीं करना चाहिए। इसी तरह अगर आपने हाल ही में एल्कोहॉल, नींद की दवाइयां, ट्रानक्वीलाइजर, नशीली दवाएं या एमओए इन्हिबिटर ( आइसोकार्बोक्साजिड, लाइनजोलिड, मेथीलिन ब्लू इंजेक्शन,रैसागिलाइन आदि) का उपयोग किया है तो ट्रामाडोल का सेवन ना करें बल्कि डॉक्टर से संपर्क करें।

और पढ़ें : मेफ्टल फोर्टे क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

क्या प्रेग्नेंसी या ब्रेस्टफीडिंग के दौरान ट्रामाडोल लेना सुरक्षित है?

प्रेग्नेंसी या ब्रेस्टफीडिंग के दौरान इसके इस्तेमाल करने से महिलाओं को किस तरह की परेशानियां हो सकती हैं इसके बारे में अभी कोई खास जानकारी नहीं है। ऐसे में इसके इस्तेमाल से पहले हमेशा अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

गर्भावस्था के दौरान इस दवा का इस्तेमाल तभी करना चाहिए जब बहुत जरूरी हो। यह दवा गर्भस्थ शिशु को नुकसान पहुंचा सकती है। इसके फायदों और नुकसान से जुड़ी जानकारी डॉक्टर से लें। 

इस दवा की कुछ मात्रा मां के दूध में मिल सकती है और उसकी वजह से शिशु में कुछ असामान्य लक्षण नजर आ सकते हैं जैसे कि : सोने में दिक्कत, सांस लेने में तकलीफ, स्तनपान में दिक्कत आदि। इस दवा के उपयोग के दौरान ब्रेस्टफीडिंग ना करें। ब्रेस्टफीडिंग कराने से पहले  डॉक्टर से सलाह लें। 

साइड इफेक्ट्स

ट्रामाडोल के क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

अगर आपको इनमें से एलर्जिक रिएक्शन के लक्षण दिखाई देते हैं तो चिकित्सीय मदद जरूर लें जैसे : हीव्स, सांस लेने में दिक्कत, चेहरे, होंठ, जीभ या गले पर सूजन

अगर आपको इनमें से कोई भी गंभीर साइड इफेक्ट्स दिखाई देते हैं तो इसका इस्तेमाल बंद करके डॉक्टर से बात करें।

  • मानसिक भ्रम, ह्रदय की गति तेज होना, उल्टी, मतली, डायरिया, तालमेल में गड़बड़ होना, बेहोशी; मिर्गी;
  • लाल, छाले, त्वचा का निकलना; या
  • कमजोर ह्रदय की गति, सांस हल्की होना।

कुछ कम गंभीर साइड इफेक्ट्स जैसे:

  • चक्कर आना, सर घूमने जैसी झनझनाहट
  • कब्ज, पेट खराब
  • सिरदर्द
  • सुस्ती
  • नर्वस होना या चिंतित होना

हर कोई इन साइड इफेक्ट का अनुभव नहीं करता। कुछ ऐसे साइड इफेक्ट्स हैं जो ऊपर नहीं बताया गया है। अगर आपको साइड इफेक्ट को लेकर किसी भी तरह की दुविधा है तो अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट से बात करें।

और पढ़ेंः किडनी में ट्यूमर कितने प्रकार के होते हैं, जानिए यहां

इंटरैक्शन

कौन सी दवाएं ट्रामाडोल के साथ इस्तेमाल नहीं की जा सकती हैं?

अगर आप पहले से कुछ दवाइयों का सेवन कर रहे हैं तो इस दवा के उपयोग से बचना चाहिए।  इससे दवाओं के कार्य करने में बदलाव आ सकता है या गंभीर साइड इफेक्ट्स का जोखिम बढ़ सकता है। किसी भी दवा के गलत प्रभाव को रोकने के लिए, आपको इस्तेमाल की जाने वाली दवाओं की एक सूची बनाकर रख लेनी चाहिए (जिनमें डॉक्टर के पर्चे की दवाएं, बिना सलाह वाली दवाएं और हर्बल उत्पाद शामिल हैं) और फिर उसे डॉक्टर या फार्मासिस्ट के साथ साझा करें।

इस दवाई का इस्तेमाल नीचे बताई गई किसी भी दवाई के साथ नहीं करने की सलाह दी जाती है। आपका डॉक्टर निणर्य ले सकता है कि इन दवाइयों के साथ इलाज करना है या जो दवाइयां आप ले रहे हैं उनमें कोई बदलाव करने हैं.

  • नलट्रेक्सोन
  • रसगीलाइन
  • सेलीगीलाइन

आमतौर पर इस दवा को लेने की सलाह नीचे बताई गयी दवाइयों के साथ नहीं दी जाती, लेकिन कुछ मामलों में ऐसा हो सकता है। अगर दोनों दवाइयों को एक साथ लेने की सलाह दी जाती है, तो आपका डॉक्टर आपकी खुराक में बदलाव कर सकता है या कैसे आपको एक या दोनों दवाइयां किस तरह लेनी है बता सकता है।

  • एसीटोफेनाजिन
  • एमिट्रिपलाइन
  • एमोक्सापिन
  • ब्रोमपेरिडोल
  • बूप्रोपिओ
  • बुसपीरों
  • कारबामाजेपीन
  • कार्बिनोक्सामिन
  • सेर्टिनिब
  • क्लोरफेनीरामाईन
  • क्लोरप्रोमाजिन
  • सिटालोपराम
  • क्लॉरिथ्रोमाइसीन
  • क्लोबाजाम
  • क्लोमीप्रामिन
  • क्लोरगायलिन
  • क्लोवोएक्सामिन
  • कोबिसिस्टेट
  • कोकेन
  • क्रिजोटिनिब
  • साइक्लोबेन्प्रिजान
  • डबराफेनिब
  • डेसिप्रामिन
  • देसवेनलाफक्सिन
  • डेक्सट्रोएम्फेटामिन
  • डेक्सट्रोमेथोर्फेन
  • डोलसेटरों
  • डोथीपिन
  • डोक्सीपिन
  • इलिट्रिप्टन
  • एसिटालोपराम
  • एस्लीकरबाजेपीन एसिटेट
  • ईथोप्रोपाजीन
  • फेमोक्सेटिन
  • फेंटानिल
  • फ्लुकोनाजोल
  • फ्लुओक्सेटिन
  • फ्लूफेनेजिन
  • फ्लूवोक्सामिन
  • ग्रानीसेटरों
  • हलोपेरिडोल
  • हाईड्रोकोडों
  • हाइड्रोक्सीट्रीप्टोफन
  • डेलालिसिब
  • मिप्रामिन
  • प्रोनीएजिड
  • सोकार्बोक्साजीड
  • मेलपिरोन
  • मेपेरिडाइन
  • मेसोरिडाजिन
  • मेथाडोन
  • मिथोट्रिमेप्रजिन
  • मेथिलीन ब्लू
  • मेटोक्लोप्रामिड़
  • मिलनासिप्रान
  • मीराबेगरोन
  • मिरताजापिन
  • मिटोटेन
  • मोकलोबीमाईड
  • मोलिनडॉन
  • मॉर्फिन
  • मॉर्फिन सल्फेट लिपोसोम
  • नारट्रिप्टन
  • नेफजोडों
  • निलोटिनिब
  • नोरट्रिप्टाइलिन
  • ओलनजपिन
  • ऑक्सीकोडों
  • ऑक्सिमोरफोन
  • पलोनोसेट्रों
  • पारगीलाइन
  • परोक्सेटिन
  • पेगिन्टरफेरों अल्फा 2 बी
  • पंफ्लूरिडोल
  • पेंटाजोसिन
  • परफेनजिन
  • फेनेल्जिन
  • पिमोजाइड
  • पिपराक्वीन
  • पीपोटियांजिन
  • प्रीमिडों
  • प्रोकारबाजीन
  • प्रोक्लोरपेराजीन
  • प्रोमाजिन
  • प्रोमीथेजिन
  • प्रोपायोमाजिन
  • प्रोपोक्सीफेन
  • प्रोट्रिप्टीलाइन
  • रेमॉक्सीप्राइड
  • रिसपेरीडोन
  • रिज़ाट्रिप्टान
  • सरट्रालाइन
  • सीबुटरालाइन
  • सिलटुक्सीमेब
  • सेंट जॉन वोर्ट
  • सल्पिराईड
  • सुमाट्रिप्टान
  • सुवोरेसन्ट
  • टपेंटाडोल
  • थीथाईलपेराजाइन
  • थिओरिडाजाइन
  • थिओथिसेन
  • ट्रनाइलसायप्रोमाइन
  • ट्राजोड़ों
  • ट्रीफ्लूओपराजिन
  • ट्रीफ्लूप्रोमाजीं
  • ट्रिमिप्रामिन
  • वल्प्रोइक एसिड
  • वेलाफक्सिन
  • विलाजोड़ों
  • वोरटीओक्सेटिन
  • ज़ोलमीट्रिप्टान
  • जूक्लोपेथिक्सोल

इस दवाई को अगर आप ऊपर बताई गई दवाइयों के साथ लेते हैं तो कुछ प्रकार के साइड इफेक्ट्स का जोखिम बढ़ सकता है, लेकिन दोनों दवाइयों को एक साथ लेना आपके लिए एक बेहतर इलाज हो सकता है। अगर दोनों दवाइयां एक साथ लेने को कहा जाता है, तो आपका डॉक्टर खुराक व दोनों दवाइयां कैसे लेना हैं जैसी चीजो में बदलाव कर सकता है।

  • डायजोक्सिन
  • क्विनडाइन
  • वार्फरिन

क्या भोजन या एल्कोहॉल के साथ ट्रामाडोल का इस्तेमाल किया जा सकता है?

ट्रामाडोल दवा के काम करने के तरीके को बदलकर गंभीर दुष्प्रभावों के जोखिम को बढ़ाकर भोजन या एल्कोहॉल के साथ गलत प्रभाव डाल सकती है। इस दवा को लेने से पहले भोजन या एल्कोहॉल के साथ किसी भी तरह के सही परिणाम नहीं दिखाई देते हैं तो अपने डॉक्टर या फार्मासिस्ट से बात जरूर करें।

ट्रामाडोल खाने से स्वास्थ्य पर किस तरह का प्रभाव पड़ सकता है?

ट्रामाडोल आपकी स्वास्थ्य स्थिति पर गलत प्रभाव डाल सकती है। यह प्रभाव आपकी स्वास्थ्य स्थिति को बिगाड़ सकती है या फिर दवाई के कार्य करने के तरीके को कम कर सकता है। जरूरी है कि आप अपनी स्वास्थ्य स्थिति को डॉक्टर और फार्मासिस्ट को बताएं, खासकर ;

  • शराब की लत या पहले से इसकी लत 
  •  डिप्रेशन या पहले से इसकी समस्या
  • ड्रग्स की लत या पहले इतिहास में कभी उपयोग किया हो
  • सिर की चोट या
  • हार्मोनल समस्या या
  • सिर में बढ़ता दबाव या
  • केंद्रीय तंत्रिका तंत्र (CNS) संक्रमण या
  • मानसिक बीमारी का इतिहास या
  • फेनिलकेटोन एलर्जी, का इतिहास या
  • श्वसन अवसाद (हाइपोवेंटिलेशन या धीमी सांस) या
  • दौरे या मिर्गी, का इतिहास या
  • पेट की समस्याएं
  •  ऐसी परिस्थितियों में सावधानी के साथ प्रयोग करें। गंभीर दुष्प्रभावों की संभावना बढ़ सकती है।
  • श्वास या फेफड़ों की समस्याएं (जैसे, अस्थमा, हाइपरकेनिया), गंभीर – इस स्थिति वाले रोगियों में उपयोग नहीं किया जाना चाहिए।
  • गुर्दे की बीमारी या
  • फेफड़ों की बीमारी (सिरोसिस सहित) – सावधानी के साथ प्रयोग करें। शरीर में दवा के कम असर की वजह से इसका प्रभाव बढ़ सकता है।
  • फेनिलकेटोनुरिया (पीकेयू) – खाने के रूप में खाई जाने वाली गोली में फेनिलएलनिन होता है, जो इस स्थिति को बदतर बना सकता है।

और पढ़ें: पेट से लेकर हड्डियों तक के लिए बेहद फायदेमंद है हॉग प्लम (Hog Plum)

डॉक्टर की सलाह

नीचे दी गई जानकारी किसी चिकित्सक की सलाह नहीं है। इसका इस्तेमाल करने से पहले अपने चिकित्सक या फार्मासिस्ट से संपर्क करें।

ट्रामाडोल कैसे उपलब्ध है?

ट्रामाडोल खुराक के रूप में और उसके प्रभाव के रूप में उपलब्ध है : कैप्सूल, घुलनशील टैबलेट, ओरोडिस्पर्सिबल टेबलेट (मुंह में घुलने वाली), मोडिफाइड रिलीज टैबलेट और कैप्सूल और इंजेक्शन।

इमरजेंसी या ओवरडोज होने की स्थिति में क्या करना चाहिए?

इमरजेंसी या ओवरडोज होने की स्थिति में अपने स्थानीय आपातकालीन सेवाओं को कॉल करें या अपने नजदीकी इमरजेंसी वॉर्ड में जाएं।

जरूरत से ज्यादा खुराक लेने के लक्षण जैसे :

  • पुतली का आकार कम होना (आंख के केंद्र में काला घेरा)
  • सांस लेने मे तकलीफ
  • अत्यधिक सुस्ती
  • बेहोशी की हालत
  • कोमा (कुछ समय के लिए होश खो देना)
  • धीमी गति से दिल का धड़कना
  • मांसपेशियों में कमजोरी
  • ठंड लगना, रूखी त्वचा

अगर एक खुराक लेना भूल जाएं तो क्या करना चाहिए?

अगर ट्रामाडोल की खुराक लेना भूल जाते हैं तो याद आने पर जल्द से जल्द अपनी खुराक लें। हालांकि, अगर इसके कुछ ही समय बाद आपको अपनी अगली खुराक लेनी हो तो इसे न लें और अपनी नियमित खुराक के अनुसार ही इसका सेवन करते रहें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सक सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Roxithromycin: रॉक्सीथ्रोमाइसिन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

जानिए रॉक्सीथ्रोमाइसिन की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, रॉक्सीथ्रोमाइसिन उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Roxithromycin डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Sunil Kumar
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल फ़रवरी 11, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Bacitracin+Neomycin+Polymyxin B: बेकिट्रासिन+नियोमायसिन+पोलीमैक्सिन बी क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

जानिए सेररटीओपेप्टिड्स की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, सेररटीओपेप्टिड्स उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Bacitracin+Neomycin+Polymyxin B डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Sunil Kumar
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल फ़रवरी 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Eczema (infants) : बेबी एक्जिमा क्या है?

बेबी एक्जिमा क्या है in hindi, बेबी एक्जिमा के कारण, जोखिम और उपचार क्या है, Eczema (infants) को ठीक करने के लिए आप इस तरह के घरेलू उपाय अपना सकते हैं।

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Anoop Singh
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z फ़रवरी 6, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Diosmin: डिओसमिन क्या है?

जानिए डिओसमिन की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, डिओसमिन उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Diosmin डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
Written by Sunil Kumar
जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल दिसम्बर 4, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

Betnesol, बेटनेसोल

Betnesol: बेटनेसोल क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Bhawana Awasthi
Published on जून 25, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
Alaspan , एलास्पेन

Alaspan: एलास्पेन क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Bhawana Awasthi
Published on जून 24, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
खाने से एलर्जी

खाने से एलर्जी और फूड इनटॉलरेंस में क्या है अंतर, जानिए इस आर्टिकल में

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh
Published on अप्रैल 23, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
स्पर्म-एलर्जी-क्या-है

क्या स्पर्म एलर्जी प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकती है?

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shivam Rohatgi
Published on अप्रैल 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें