Bitter Melon: करेला क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट सितम्बर 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

परिचय

करेला क्या है?

करेला एक फल है जिसकी सब्जी भी बनाई जाती है। करेला में कई औषधीय तत्व मौजूद होते हैं जो कई बीमारियों के लिए दवा के रूप में काम आते हैं। मिनरल्स, विटमिन्स, फाइबर और ऐंटीऑक्सिडेंट्स से भरपूर करेला स्वाद में बहुत कड़वा होता है। इसका पत्तियों का इस्तेमाल भी दवा में किया जाता है। करेला को कड़वा तरबूज या मोमोर्डिका चरैन्टिया (Momordica charantia) के रूप में भी जाना जाता है। करेला एक उष्णकटिबंधीय फल है, जो लौकी जैसा होता है और कई प्रकार के लाभ प्रदान करता है। करेले का सेवन भोजन के रूप में किया जा सकता है, जैसे कि करेला का रस या चाय।

करेले में ऐसे यौगिक होते हैं जो डायबिटीज (मधुमेह) जैसी स्थितियों के उपचार में सहायता करते हैं। करेले का अर्क भी स्वास्थ्य के लिहाज से काफी लाभकारी होता है।

करेले (Bitter Melon) का उपयोग किस लिए किया जाता है?

इसका उपयोग इन स्थितियों में होता है:

ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल करें

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुमान के मुताबिक, दुनिया भर में 382 लाख से अधिक लोग डायबिटीज (मधुमेह) से पीड़ित हैं। करेला में एक इंसुलिन जैसा यौगिक होता है जिसे पॉलीपेप्टाइड-पी या पी-इंसुलिन कहा जाता है जो स्वाभाविक रूप से मधुमेह को नियंत्रित करने में सक्षण होता है। साल 2011 में किए गए एक अध्ययन में टाइप-2 डायबिटीज और टाइप-1 डायबिटीज से पीड़ित लोगों को शामिल किया गया है। जिन्रहें इस अध्ययन के दौरान 2,000 मिलीग्राम करेले की खुराक दी गई। जिसके में पाया गया कि टाइप -2 मधुमेह से पीड़ित रोगियों में ब्लड शुगर का लेवल काफी कम हुआ है। अध्ययन से पता चला कि करेले के पौधे में पाया जाना वाला इंसुलिन टाइप -1 मधुमेह के रोगियों के लिए भी मदद होता है।

जर्नल ऑफ केमिस्ट्री एंड बायोलॉजी में जारी एक अन्य रिपोर्ट में इसका दावा किया गया है कि करेले के सेवन से शरीर में ग्लूकोज का लेवल तेज से बढ़ता है और ग्लाइसेमिक को नियंत्रण करता है।

  • यह कफ, कब्ज और पाचन संबंधी समस्याओं को दूर करने के काम आता है।
  • अस्थमा और दमा की शि‍कायत होने पर करेला बेहद फायदेमंद होता है।
  • करेले का जूस पीने से लीवर मजबूत होता है और लिवर की सभी समस्याएं खत्म हो जाती है।
  • करेले की पत्त‍ियों या फल को पानी में उबालकर इसका सेवन करने से, रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है, और किसी भी प्रकार का संक्रमण ठीक हो जाता है।
  • उल्टी-दस्त या हैजा हो जाने पर करेले का रस पीने से तुरंत आराम मिलता है।
  • लकवा या पैरालिसिस में भी करेला बहुत कारगर उपाय है। 
  • खून साफ करने के लिए भी करेला अमृत के समान है।
  • खूनी बवासीर में करेला अत्यंत लाभदायक है। 
  • गठिया व हाथ पैरों में जलन होने पर करेले के रस की मालिश करना लाभप्रद होता है।
  • किडनी की समस्याओं में करेले का उबला पानी व करेले का रस दोनों ही बेहद लाभकारी होते हैं।
  • ह्दय संबंधी समस्याओं के लिए करेला एक बेहतर इलाज है।
  • नींबू के रस के साथ करेले के रस को चेहरे पर लगाने से मुंहासे ठीक हो जाते हैं और त्वचा के रोग नहीं होते।
  • कैंसर से लड़ने के लिए करेले के रस का सेवन बहुत ही लाभकारी सिद्ध होता है।
  • एचआईवी/एड्स के उपचार के लिए करेला काम आता है। 

और पढ़ें :  गुलदाउदी क्या है?

करेला कैसे काम करता है?

यूएसडीए के मुताबिक, 100 ग्राम करेले में 13 मिलीग्राम सोडियम, 602 ग्राम पोटेशियम, 7 ग्राम कुल कार्बोहाइड्रेट और 3.6 ग्राम प्रोटीन के साथ लगभग 34 कैलोरी होती है।

यह एक हर्बल सप्लिमेंट है और कैसे काम करता है, इसके संबंध में अभी कोई ज्यादा शोध उपलब्ध नहीं हैं। इस बारे में और अधिक जानकारी के लिए आप किसी हर्बल विशेषज्ञ या फिर किसी डॉक्टर से संपर्क करें। हालांकि कुछ शोध यह बताते हैं कि करेला में केमिकल होता है जो इन्सुलिन की तरह काम करता है और शरीर में शुगर लेवल कम करता है। करेले में भरपूर मात्रा में विटामिन-ए, बी और सी के साथ-साथ जिंक, पोटैशियम, कैरोटीन, बीटाकैरोटीन, आयरन, लूटीन, मैग्नीशियम और मैगनीज जैसे फ्लावोन्वाइड होते हैं, जो शरीर के लिए प्रभावकारी है। इसमें पाए जाने वाला फास्फोरस कफ और कब्ज से निजात दिलाता है। इसमें सूजन कम करने वाले, एंटीफंगल, एंटी-बायोटिक, एंटी-एलर्जिक, एंटीवायरल और एंटीपारासिटिक गुण पाए जाते हैं। 

और पढ़ें : दालचीनी क्या है?

उपयोग

कितना सुरक्षित है करेले का उपयोग ?

  • यूं तो करेला का सेवन सभी के लिए सुरक्षित है, लेकिन हाल ही में कुछ शोध में ये बात सामने आई है कि प्रेग्नेंट महिलाओं को इसका सेवन नहीं करना चाहिए। करेले में पाए जाने वाला मोमोकैरिन नामक तत्व गर्भपात होने का खतरा होता है। 
  • मधुमेह की दवा और करेला साथ में लेना उचित नहीं है। मधुमेह की दवा पर करेला प्रभाव कर सकता है। इससे शुगर लेवल काफी निचे गिरने की संभावना है।
  • लिवर संबंधित परेशानियों से ग्रसित लोगों के लिए भी करेला सुरक्षित नहीं। करेला का सेवन एन्जाइम्स को बढ़ा सकता है।

हर्बल सप्लीमेंट के उपयोग से जुड़े नियम अंग्रेजी दवाओं के नियमों जितने सख्त नहीं होते हैं। इनकी उपयोगिता और सुरक्षा से जुड़े नियमों के लिए अभी और शोध की जरुरत है। इस हर्बल सप्लीमेंट के इस्तेमाल से पहले इसके फायदे और नुकसान की तुलना करना जरूरी है। इस बारे में और अधिक जानकारी के लिए किसी हर्बल विशेषज्ञ या आयुर्वेदिक डॉक्टर से संपर्क करें।

और पढ़ें : काजू क्या है?

साइड इफेक्ट्स

करेले से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

हालांकि हर किसी को ये साइड इफेक्ट हो ऐसा जरुरी नहीं है, कुछ ऐसे भी साइड इफेक्ट हो सकते हैं, जो ऊपर बताए नहीं गए हैं। अगर आपको इनमें से कोई भी साइड इफेक्ट महसूस हो या आप इनके बारे में और जानना चाहते हैं तो नजदीकी डॉक्टर से संपर्क करें।

और पढ़ें : बर्च क्या है?

डोसेज

करेले को लेने की सही खुराक क्या है ?

इस हर्बल सप्लीमेंट की खुराक हर मरीज के लिए अलग हो सकती है। आपके द्वारा ली जाने वाली खुराक आपकी उम्र, स्वास्थ्य और कई चीजों पर निर्भर करती है। हर्बल सप्लीमेंट हमेशा सुरक्षित नहीं होते हैं। इसलिए सही खुराक की जानकारी के लिए हर्बलिस्ट या डॉक्टर से चर्चा करें।

और पढ़ें : जौ क्या है?

उपलब्ध

किन रूपों में उपलब्ध है?

यह हर्बल सप्लीमेंट कई खुराक के रूप में उपलब्ध है – 

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

क्या डायबिटीज का उपचार संभव है?

डायबिटीज का उपचार संभव है?, डायबिटीज का उपचार कैसे करें, जानिए इसके उपचार के कुछ आसान तरीको के बारे में, how to cure diabetes in hindi, diabetes

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
हेल्थ सेंटर्स, डायबिटीज जुलाई 27, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

डायबिटीज पैचेस : ये क्या है और किस प्रकार करता है काम?

डायबिटीज पैचेस लगाना स्वास्थ्य के लिए है कितना लाभकारी, मार्केट में कितने प्रकार के डायबिटीज पैचेस हैं उपलब्ध, जानने के लिए पढ़ें यह आर्टिकल।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
हेल्थ सेंटर्स, डायबिटीज जुलाई 23, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Galvus Met : गैल्वस मेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

गैल्वस मेट की जानकारी in hindi, दवा के साइड इफेक्ट क्या है, मेटफॉर्मिन और विल्डागलिप्टिन दवा किस काम में आती है, रिएक्शन, उपयोग, Galvus Met

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जुलाई 22, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

पोस्टप्रांडियल ब्लड शुगर क्या है और इसे कैसे नियंत्रित किया जा सकता है?

पोस्टप्रांडियल ब्लड शुगर क्या है,पोस्टप्रांडियल ब्लड शुगर नियंत्रित करने के तरीके, भोजन के बाद ब्लड ग्लूकोज, postprandial blood sugar in hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
हेल्थ सेंटर्स, डायबिटीज जुलाई 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

डायबिटीज टेस्ट स्ट्रिप्स/Diabetes Test Strips

डायबिटीज टेस्ट स्ट्रिप्स का सुरक्षित तरीके से कैसे करें इस्तेमाल?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
प्रकाशित हुआ सितम्बर 14, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
क्या मेटफोर्मिन वेट लॉस का कारण बन सकती है

जानिए, मेटफार्मिन को वजन कम करने के लिए प्रयोग करना चाहिए या नहीं?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
प्रकाशित हुआ अगस्त 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
घर पर डायबिटीज टेस्ट

घर पर डायबिटीज टेस्ट कैसे करें?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
प्रकाशित हुआ अगस्त 17, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
डायबिटिक फूड लिस्ट

डायबिटिक फूड लिस्ट के तहत डायबिटीज से ग्रसित मरीज कौन सी डाइट करें फॉलो तो किसे कहे ना, जानें

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ जुलाई 28, 2020 . 8 मिनट में पढ़ें