Dill: डिल क्या है?

Medically reviewed by | By

Update Date जनवरी 10, 2020
Share now

परिचय

डिल (Dill) क्या है?

डिल (Dill) एक औषधीय पौधा है जिसका इस्तेमाल दवाओं के साथ-साथ पकवानों में भी किया जाता है। यह अपच, मासिक धर्म के दौरान महिलाओं के पेट में होने वाली ऐंठन, सामान्य सर्दी-खांसी और फ्लू के लक्षणों के उपचार के लिए इस्तेमाल की जाती है। महिलाएं जो स्तनपान करवाती हैं लेकिन, किसी कारण मिल्क फॉर्मेशन नहीं हो पाता है तो ऐसी स्थिति में इस औषधि के सेवन से लाभ होता है। इसके लिए ब्रेस्टफीडिंग कराने वाली महिलाएं को इस औषधि के बीज से चाय बना कर पी सकती हैं। साथ ही, जिन लोगों को बहुत कम भूख लगती है उन्हें भी इसके सेवन से लाभ मिल सकता है। इसके अलावा यह औषधि हल्का मूत्रवर्धक भी माना जाता है। महिलाएं इसका इस्तेमाल अपने नाखूनों को लंबा करने और उन्हें मजबूत बनाने के लिए भी कर सकती है।

यह भी पढ़ेंः त्वचा से लेकर बालों तक के लिए फायदेमंद है नीम, जानें इसके लाभ

डिल का उपयोग ​किस लिए किया जाता है?

  • पाचन की तकलीफ मिटाने के लिए, पित्ताशय की समस्या, लिवर और गैस की समस्या के उपचार के तौर पर डिल उपयोगी है,
  • यूरिन की समस्या होने पर,
  • सर्दी और जुकाम होने पर,
  • ब्रोकाइटिस की समस्या,
  • बवासीर में,
  • इंफेक्शन होने पर,
  • मांसपेशियों में दर्द,
  • प्रजनन अंगों में हुए फोड़ो के लिए,
  • मासिक दर्द में,
  • अनिंद्रा की समस्या होने पर।
  • गले में दर्द और डिल के बीज मुंह एवं गर्दन पर लगाने से गले का दर्द और सूजन कम होते है।

यह औषधि और कई बीमारियों के इलाज के लिए प्रभावकारी है। ज्यादा जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से बात करें।

डिल किस प्रकार शरीर के लिए प्रभावकारी है?

इस औषधि के बीज में कुछ ऐसे केमिकल्स होते हैं जो कि आपके मांसपेशियों को रिलैक्स करने में मदद करते हैं। इसके बीज में पाए जाने वाले अन्य केमिकल्स बैक्टीरिया से लड़ने के में मददगार हैं।

यह भी पढ़ें :Flax Seeds : अलसी के बीज क्या है?

सावधानियां और चेतावनियां

इसके बारे में मुझे क्या जानकारी होनी चाहिए?

डिल के उपयोग से पहले डॉक्टर से बात जरूर करें, यदि—

  • आप गर्भवती हैं या स्तनपान कराती हैं, तो डिल का इस्तेमाल डॉक्टर की सलाह पर करें। ऐसा इसलिए क्योंकि जब आप बच्चे को फीडिंग कराती हैं तो अपने डॉक्टर की सलाह के मुताबिक ही आपको दवाइयों का सेवन करना चाहिए।• आप कोई दूसरी दवा लेते हैं जो बिना डॉक्टर की पर्ची के आसानी से मिल जाती है, जैसे कि हर्बल सप्लिमेंट।• आपको डिलऔर उसके दूसरे पदार्थों से या फिर किसी दूसरे हर्ब्स से एलर्जी हो।• आप पहले से किसी तरह की बीमारी से पीड़ित हों।• आपको पहले से ही खाने-पीने वाली चीजों से, हेयर डाई से या किसी जानवर आदि से किसी तरह की एलर्जी हैं ।हर्बल सप्लीमेंट के उपयोग से जुड़े नियम अंग्रेजी दवाओं के नियमों जितने सख्त नहीं होते हैं। इनकी उपयोगिता और सुरक्षा से जुड़े नियमों के लिए अभी और शोध की जरुरत है। इस हर्बल सप्लीमेंट के इस्तेमाल से पहले इसके फायदे और नुकसान की तुलना करना जरूरी है। इस बारे में और अधिक जानकारी के लिए किसी हर्बल विशेषज्ञ या आयुर्वेदिक डॉक्टर से संपर्क करें।

डिल का सेवन कितना सुरक्षित है?

प्रेगनेंसी और ब्रैस्ट फीडिंग:

प्रेग्नेंसी के दौरान इसकी दवाई लेना उचित नहीं है। इस पौधे के बीज ब्लीडिंग शुरू कर सकते है जिस से की आपके मासिक शुरू हो सकते  हैं और गर्भपात हो सकता है।

ब्रैस्ट फीडिंग के दौरान इस पौधे का प्रयोग कितना सेफ है इसकी कोई ठोस माहिती नहीं है। बेहतर है की आप अपने रूटीन खुराक से जुडे रहे।

सर्जरी :

अगर आपकी कोई सर्जरी निर्धारित है तो उसके दो सप्ताह पहले से ही डिल का प्रयोग बंद कर दें, क्योंकि इससे सर्जरी के बाद या चालू सर्जरी में शुगर लेवल नीचे जा सकता है ।

यह भी पढ़ें :Protein powder : प्रोटीन पाउडर क्या है?

साइड इफेक्ट्स

डिल से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

इस पौधए से ज्यादातर कोई साइड इफेक्ट्स नहीं होते है लेकिन किसी को यह अगर माफिक नहीं आता तो चमड़ी के रोग होने की सम्भावना रहती है। ऐसे चमड़ी के प्रगाह भी सिर्फ तभी होते है जब कोई इस के पौधे से रोज सीधे संपर्क में आता है और वो भी सूर्य के अल्ट्रा वायलेट किरणों के सामने। बाकी इससे कोई साइड इफेक्ट्स नहीं होते है।

साइड इफेक्ट्स सभी को एक ही प्रकार से हो ये जरुरी नहीं है। हो सकता है कोई साइड इफेक्ट्स ऐसे भी हो जो यहां नहीं दर्शाए गए। इसलिए सावधानी बरतनी आवश्यक है और डॉक्टर की सलाह के बाद अच्छे नतीजे प्राप्त करना अनिवार्य है।

यह भी पढ़ें :Green Tea : ग्रीन टी क्या है ?

खुराक

यहां पर दी गई जानकारी को डॉक्टर की सलाह का विकल्प न मानें। किसी भी दवा या सप्लिमेंट का इस्तेमाल करने से पहले हमेशा डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

आमतौर पर कितनी मात्रा में  डिल खाना चाहिए?

डिल की चाय:

एक कप उबलते हुए पानी में दो चम्मच इसके बीज को क्रश कर के मिलाएं और मिक्स करें। फिर इसकी चाय पीएं। दो चम्मच इसकी सही मात्रा है। पि लें। दो चम्मच इसकी सही मात्रा है।

डिल के बीज और पत्ते:

इस पौधे के पत्ते तुलसी के पत्तों की तरह ही सीधा चबा सकते हैं। इसके जूस को ठंडे वातावरण में कुछ दिनों के लिए स्टोर भी किया जा सकता है ।

इस पौधे के पाउडर की कैप्सूल्स भी बाजार में उपलब्ध है। ये कैप्सूल्स खाने के बाद दिन में दो बार दो ली जा सकती है ।

आपको केमिस्ट के पास डिल की क्रीम व मरहम भी मिल जायेंगे। यह क्रीम घाव को ठीक करने में काफी सहायक होती है। इस औषधि से आपको स्किन एलर्जी भी नहीं होगी। लेकिन, कई बार किसी और क्रीम या केमिकल्स के साथ इस क्रीम का इस्तेमाल ​करने पर लाल छाले पड़ सकते हैं। यदि ऐसा रिएक्शन आपको हो तो इसका उपयोग न करें।

डिल का तेल:

डिल के तेल की कुछ बूंदे स्टीमर में डालकर स्टीम लेने से तनाव की समस्या में आराम मिलता है। ये त्वचा के लिए भी गुणकारी है।

डिल की मात्रा हर मरीज के लिए अलग हो सकती है। आपके द्वारा ली जाने वाली डिल की खुराक मात्रा आपकी उम्र, स्वास्थ्य और अन्य कई चीजों पर निर्भर रहती है। हर्बल सप्लीमेंट हमेशा सुरक्षित नहीं होते हैं। इसलिए सही मात्रा की जानकारी के लिए हर्बलिस्ट या डॉक्टर से चर्चा करें।

डिल किन रूपों में उपलब्ध है?

  • डिल किसी भी केमिस्ट के पास आरास से मिल जाएगा,
  • डिल के सूखे पत्तेख,
  • डिल के सूखे बीज,
  • डिल का तेल,
  • कैप्सूल के रूप में,
  • डिल की चायपत्ती
  • डिल के क्रीम और मरहम।

हैलो हेल्थ किसी भी प्रकार की मेडिकल सलाह, निदान या सारवार नहीं देता है न ही इसके लिए जिम्मेदार है।

और पढ़ें:-

क्या है नाता विटामिन-डी का डायबिटीज से?

चमकदार त्वचा चाहते हैं तो जरूर करें ये योग

शिशु की त्वचा से बालों को निकालना कितना सही, जानें क्या कहते हैं डॉक्टर?

कौन-से ब्यूटी प्रोडक्ट्स त्वचा को एलर्जी दे सकते हैं? जानें यहां

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    18 साल के बाद हर महिला को करवानी चाहिए ये 8 शारीरिक जांच

    जानिए महिलाओं को कौन-कौन सी शारीरिक जांच कब-कब करवानी चाहिए. 10 से 39 साल की उम्र में शारीरिक जांच से क्या लाभ हैं? शारीरिक जांच कराने के फायदे क्या हैं?

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Nidhi Sinha

    Jiaogulan: जागुलन क्या है?

    जानिए जागुलन की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, जागुलन के उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Jiaogulan डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Anu Sharma

    पैड्स टैम्पून और मेंस्ट्रुअल कप में से आपके लिए क्या है बेहतर?

    पैड्स टैम्पून और मेंस्ट्रुअल कप क्या है, पैड्स टैम्पून और मेंस्ट्रुअल कप की तुलना, मासिक कप क्या है,Pad tampon and menstrual cup comparision in Hindi.

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shayali Rekha

    पैड और मेंस्ट्रुअल कप से जुड़ी जरूरी बातें, जो हर महिला को जानना जरूरी है

    पैड और मेंस्ट्रुअल कप क्या है, पैड और मेंस्ट्रुअल कप में से महंगा कौन है, क्या है, मेंस्ट्रुअल कप का उपोग कैसे करतें हैं, pad and menstrual cup in Hindi.

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shayali Rekha