Jaborandi : जैबोरेंडी क्या है?

Medically reviewed by | By

Update Date जनवरी 11, 2020
Share now

परिचय

जैबोरेंडी क्या है?

जैबोरेंडी एक जड़ी बूटी है, जिसकी पत्तियां दवाओं के रूप में प्रयोग होती है। इसका वैज्ञानिक नाम पाइलोकार्पस माइक्रोफाइलस (Pilocarpus Microphyllus) है। यह डायरिया के इलाज के लिए मददगार साबित होता है। इसका उपयोग उनके लिए भी किया जाता है, जिन्हें कम पसीना होता है। यह एक होमियोपैथिक औषधि के रूप में इस्तेमाल किया जाता है, जो ग्लॉकोमा के इलाज के लिए आंखों में डाला जाता है।

ये कैसे काम करता है?

इसका कोई वैज्ञानिक  तथ्य नहीं है कि ये काम कैसे करता है। लेकिन, ये एक उत्तेजक औषधि है। ये पेट और आंतों की मांसपेशियों के संकुचन को प्रेरित करता है। इसके अलावा, लार और पसीने को बनाने में मदद करता है।

यह भी पढ़ेंः नींद की दिक्कत के लिए ले रहे हैं स्लीपिंग पिल्स तो जरूर पढ़ें 10 सेफ्टी टिप्स 

उपयोग

इसका उपयोग किस लिए किया जाता है?

इसका उपयोग कई तरह के रोगों को ठीक करने में होता है :

मोतियाबिंद के उपचार में

अगर मोतियाबिंद होने के कारण आंखों से कम दिखाई देने लगा है, आंखों से हर समय आंसू की तरह पानी बहता है, आंखों के ऑपरेशन के कारण आंखों की पुतलियों में सिकुड़न आ गया है या पलकों से जुड़ी कोई समस्या हो रही है, तो उसके उपचार में जैबोरेंडी का उपयोग करना लाभकारी हो सकता है।

मुंह से संबंधित परेशानियों के उपचार में

अगर बार-बार या बहुत जल्दी मुंह सूख जाता है, या बहुत जल्दी प्यास लगने की समस्या हो रही है, तो इसकी समस्या के उपचार में भी जैबोरेंडी का उपयोग करना लाभकारी हो सकता है।

स्त्री रोगों के उपचार में

टीनएजर में आने के बाद लड़कियों में शारीरिक और मानसिक बदलाव होने शुरू हो जाते हैं। इस दौरान सेक्स की इच्छा भी काफी बढ़ जाती है, साथ ही हाथ-पैरों के ठंडे होने की स्थिति या बहुत ज्यादा पसीना आने की स्थिति में भी जैबोरेंडी का इस्तेमाल किया जा सकता है।

इसके अलावा निम्न स्थितियों में भी इसका इस्तेमाल किया जा सकता हैः

यह भी पढ़ेंः त्वचा से लेकर बालों तक के लिए फायदेमंद है नीम, जानें इसके लाभ

सावधानियां और चेतावनी

जैबोरेंडी का उपयोग करने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

किसी भी जड़ी बूटी के इस्तेमाल के पहले आपको उसके फायदे और नुकसान जान लेने चाहिए। जैबोरेंडी का इस्तेमाल गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाएं न करें। इसमें ऐसे रसायन पाए जाते हैं जो गर्भपात के लिए जिम्मेदार होते हैं। इसके अलावा, गर्भावस्था के दौरान इसका उपयोग मुंह या आंखों के द्वारा कतई न करें। ये जच्चा और बच्चा दोनों के लिए नुकसानदायक हो सकता है। 

ये कितना सुरक्षित है?

औषधीय आधार पर जैबोरेंडी पूरी तरह से सुरक्षित नहीं है। मात्र पांच से दस ग्राम ही जैबौरेंडी की पत्तियों का इस्तेमाल किया जाता है। इससे ज्यादा मात्रा में इसका उपयोग हानिकारक साबित हो सकता है। जैबोरेंडी से ही पाइलोकार्पिन दवा बनती है। 

यह भी पढ़ेंः चमकदार त्वचा चाहते हैं तो जरूर करें ये योग

साइड इफेक्ट्स

इससे मुझे क्या साइड इफेक्ट हो सकते हैं?

जैबोरेंडी का सेवन बिना डॉक्टर की सलाह के लेना आपके लिए हानिकारक साबित हो सकता है। इसके साइड इफेक्ट से गर्भपात तक हो सकता है। अगर किसी गर्भवती महिला द्वारा इसका सेवन किया जाता है तो उसका गर्भपात हो सकता है। इसके अलावा, पेट में पल रहे बच्चे की सेहत पर असर पड़ सकता है। वहीं, स्तनपान कराने वाली महिला और उसके बच्चे के लिए भी नुकसानदायक है। इसलिए अपने डॉक्टर की सलाह पर ही इसका उपयोग करें।

जैबोरेंडी के सेवन से संभावित साइड इफेक्ट्स में बहुत ज्यादा नींद आने की समस्या, चक्कर आना, लो ब्लड प्रेशर या सिर दर्द जैसी समस्या हो सकती है। ऐसी कोई सी भी स्थिति का अनुभन होने पर गाड़ी या भारी मशीन न चलाएं। ऐसा करना जीवन के लिए जोखिम भरा हो सकता है। इसके अलावा इस दवा के सेवन के दौरान डॉक्टर शराब ना पीने की सलाह देते हैं। क्योंकि शराब के सेवन से नींद आने की समस्या और अधिक गंभीर हो सकती है। जैबोरेंडी के इस्तेमाल से आपको किस तरह के साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं, इसके बारे में अधिक जानकारी के लिए कृपया अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

यह भी पढ़ेंः कौन-से ब्यूटी प्रोडक्ट्स त्वचा को एलर्जी दे सकते हैं? जानें यहां

प्रभाव

इसके साथ मुझ पर क्या प्रभाव पड़ सकता है?

अभी तक किसी भी प्रकार की दवा के साथ इसका कोई भी प्रभाव वैज्ञानिक तौर पर सामने नहीं आया है। इसलिए आप इसका इस्तेमाल डॉक्टर के निर्देशन में ही करें।

खुराक

जैबोरैंडी की सही खुराक क्या है?

जैबोरेंडी की सही खुराक की कोई भी वैज्ञानिक पुष्टि नहीं है। इसलिए इसे डॉक्टर की सलाह पर उम्र, सेहत और अन्य परिस्थितियों के आधार पर ही लें।

जैबोरैंडी की खुराक छूटने पर क्या करना चाहिए?

हमेशा कोशिश करें कि अपने डॉक्टर द्वारा दिए गए निर्देशों के अनुसार ही एक निश्चित समय पर इसकी खुराक लें। अगर किसी कारण आप इसकी कोई खुराक भूल जाते हैं, तो याद आने पर जल्द से जल्द छूटी हुई खुराक खा सकते हैं। हालांकि, ध्यान रखें कि अगर आपकी अगली खुराक के समय में बहुत ही कम समय बचा हुआ है, तो छूटी हुई खुराक का सेवन न करें। अगली खुराक को उसके तय समय और तय मात्रा में ही खाएं और अपने नियमित खुराक को पहले की ही तरह जारी रखें। इसके साथ ही, छूटी हुई खुराक की भरपाई करने के लिए अगली खुराक का अधिक सेवन न करें। उतनी ही खुराक का सेवन करें जितना एक बार में आपके लिए तय किया गया हो।

यह भी पढ़ेंःदांत टेढ़ें हैं, पीले हैं या फिर है उनमें सड़न हर समस्या का इलाज है यहां

ओवरडोज होने पर क्या करें?

अगर किसी ने निर्देशित खुराक से जैबोरैंडी का ज्यादा सेवन कर लिया है और उसके कारण किसी तरह के जोखिम के लक्षण होते हैं, तो जल्द से जल्द आपातकालीन नंबर पर कॉल करें या नजदीकी अस्पताल में उपचार के लिए जाएं। अगर व्यक्ति ने जैबोरैंडी का सेवन मौखिक तौर पर किया है, तो उल्टी कराने की कोशिश करें, ताकि ओवरडोज दाव का असर कम से कम हो। इसके बारे में अधिक जानकारी के लिए कृपया अपने डॉक्टर से बात करें।

क्या अन्य व्यक्ति में सामान लक्षण दिखाई देने पर उसे जैबोरैंडी की खुराक निर्देशित करनी चाहिए?

आप जिस भी मौजूदा लक्षण या स्वास्थ्य स्थिति के लिए जैबोरैंडी का सेवन करते हैं, अगर उसके ही सामान लक्षण आपको किसी अन्य व्यक्ति में दिखाई दे, तो उस अन्य व्यक्ति को जैबोरैंडी के सेवन की सलाह न दें। उसे जल्द से जल्द डॉक्टर से परामर्श करने की सलाह देनी चाहिए। 

उपलब्ध

ये किन रूपों में उपलब्ध है?

  • मूलार्थ / मदर टिंचर (Mother tincture)
  • तेल (Oil)

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है, अधिक जानकारी के लिए आप डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

और पढ़ेंः-

वजन कम करने के लिए डायट में शामिल करें वेट लॉस फूड्स

वेट लॉस के लिए क्यों सबसे बेहतर है इंडियन डायट चार्ट?

वेट लॉस के लिए डायट के साथ वेट लॉस ड्रिंक्स भी आजमाएं

सिर्फ डायट बढ़ाने से नहीं बनेगी बात, वेट गेन करना है तो ऐसा भी करें

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    कोरोना वायरस से बचाने के लिए वरदान समान हैं ये जड़ी बूटियां, कुछ तो आपकी किचन में ही हैं मौजूद

    कोरोना वायरस से बचाव के लिए जड़ी बूटियां का सेवन करें। इस लेख में कुछ ऐसी चमत्कारीक जड़ी बूटियों के बारे में जानें,जो शरीर की रोग प्रतिरोधी क्षमता को बढ़ाने में मददगार हैं। ayurvedic tips for corona

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Mona Narang

    प्रेग्नेंसी में बीपी लो क्यों होता है – Pregnancy me low BP

    प्रेग्नेंसी में लो बीपी की कैसे पहचान करें। प्रेग्नेंसी में ब्लड प्रेशर कम क्यों हो जाता है,जानें pregnancy me bp low के आसान से घरेलू उपायों in Hindi.

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shivam Rohatgi

    गर्भावस्था का बालों पर असर को कैसे रोकें? जाने घरेलू उपाय

    इस लेख में जाने की गर्भावस्था का बालों पर असर क्यों और कैसे पड़ता है और साथ ही इसे रोकने के लिए आप क्या कर सकती हैं। Home remedies for hair loss in pregnancy

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shivam Rohatgi

    सनस्क्रीन लोशन क्यों है जरूरी?

    जानिए सनस्क्रीन लोशन से जुड़ी जानकारी in hindi. सनस्क्रीन लोशन इस्तेमाल से पहले किन तीन बातों का रखें ख्याल?इसके फायदे क्या-क्या हैं?

    Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
    Written by Bhawana Awasthi