खसखस के बीज के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Poppy Seed

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट October 27, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

परिचय

खसखस के बीज (Poppy Seeds) क्या हैं?

खसखस एक औषधीय पौधा होता है, जिसके बीज का इस्तेमाल कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं के उपचार के लिए किया जाता है। इसके बीज (Poppy Seeds) का इस्तेमाल आमतौर पर लोग अस्थमा, कब्ज, खांसी, संक्रमण के कारण होने वाले दस्त, नींद न आने और वेसिकोएनेटिक फिस्टुला नामक स्थिति का निदान करने के लिए करते हैं।

इसके बीज से केक, पेस्ट्री और दलिया बना कर उसका सेवन किया जाता है। इसके अलावा इसके बीजों से तेल भी बनाया जा सकता है। इसका इस्तेमाल साबुन बनानें के लिए भी किया जाता है।

और पढे़ं : सिंघाड़ा के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Singhara (Water chestnut)

इसका इस्तेमाल किस लिए किया जाता है?

इसके बीज खसखस के पेड़ से मिलते हैं और यह सेहत के लिए बहुत ही लाभदायक होते हैं। इसके बीज का इस्तेमाल निम्नलिखित बीमारियों में किया जाता है –

खसखस के बीज कैसे काम करते हैं?

यह बीज शरीर में कैसे काम करता है इस बारे में ज्यादा जानकारी मौजूद नहीं है। इस बारे में और अधिक जानकारी के लिए आप डॉक्टर या हर्बल विशेषज्ञ से संपर्क कर सकते हैं। हालांकि, कुछ शोध के अनुसार खसखस का बीज कैंसर को बढ़ने से रोकने में मदद करता है।

और पढे़ं : केवांच के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Kaunch Beej

उपयोग

खसखस के बीज के इस्तेमाल से पहले मुझे क्या जानकारी होनी चाहिए?

खसखस के बीज का इस्तेमाल करने से पहले आपको डॉक्टर या फार्मासिस्ट या फिर हर्बल विशेषज्ञ से सलाह लेनी चाहिए, यदि

  • आप गर्भवती हैं या स्तनपान कराती हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि जब आप बच्चे को फीडिंग करवाती हैं तो अपने डॉक्टर के मुताबिक ही आपको दवाओं का सेवन करना चाहिए।
  • आप कोई दूसरी दवा लेते हैं जो कि बिना डॉक्टर के प्रिस्क्रिप्शन के आसानी से मिल जाती है।
  • अगर आपको खसखस के बीज और उसके दूसरे पदार्थों से या किसी दूसरे हर्ब्स (HERBS) से एलर्जी हो।
  • आप पहले से किसी तरह की बीमारी आदि से ग्रसित हैं।
  • आपको पहले से ही किसी तरह की एलर्जी हो जैसे खाने पीने वाली चीजों से या डाइज से या किसी जानवर आदि से।

इनकी उपयोगिता और सुरक्षा से जुड़े नियमों के लिए अभी और शोध की जरूरत है। इस हर्बल सप्लीमेंट के इस्तेमाल से पहले इसके फायदे और नुकसान की तुलना करना जरूरी होता है। इस बारे में और अधिक जानकारी के लिए किसी हर्बल विशेषज्ञ या आयुर्वेदिक डॉक्टर से संपर्क करें।

और पढ़ें : पारिजात (हरसिंगार) के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Night Jasmine (Harsingar)

खसखस के बीज का सेवन कितना सुरक्षित है?

ज्यादातर वयस्क अगर खाद्य पदार्थों के रुप में मौजूद खसखस का सेवन करते हैं तो इसका इस्तेमाल करना सुरक्षित माना जाता है।

दवा के रूप में खसखस का बीज का इस्तेमाल करना भी संभवतः सुरक्षित होता है। किसी भी पेय पदार्थों या दही में 35 से 250 ग्राम खसखस का बीज मिलाकर पीना सुरक्षित होता है।

और पढ़ें : कदम्ब के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Kadamba Tree (Neolamarckia cadamba)

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

खसखस के बीज के साइड इफेक्ट

इसके सेवन से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

इस पौधे के बीज का सेवन करने से कुछ लोगों में एलर्जी हो सकती है। इस पौधे के बीज के सेवन से होने वाले साइड इफेक्ट्स इस प्रकार हैं, उल्टी, मुंह के अंदर सूजन, हीव्स, आंखों में सूजन, कंजक्टिवाइटिस (conjunctivitis), सांस लेने में दिक्कत होना। खसखस के बीज को सूंघने से एलर्जी की समस्या जैसे त्वचा का लाल होना और त्वचा के अंदर सूजन होना संभावित है।

हालांकि, हर किसी को यह साइड इफेक्ट्स हों ऐसा जरूरी नहीं है। कुछ ऐसे भी साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं जो यहां नहीं बताए गए हैं। अगर आपको इनमें से कोई भी साइड इफेक्ट्स महसूस हो या आप इनके बारे में और जानना चाहते हैं तो नजदीकी डॉक्टर से संपर्क करें।

और पढ़ें : अर्जुन की छाल के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Arjun Ki Chaal (Terminalia Arjuna)

खसखस के बीज से जुड़े परस्पर प्रभाव

इस बीज का सेवन करने से अन्य किन चीजों पर प्रभाव पड़ सकता है?

किसी भी तरह की हर्बल औषधि जरूरी नहीं की पूरी तरह से सुरक्षित हो क्योंकि वह आयुर्वेदिक या प्राकृतिक है। इस बीज के इस्तेमाल से आपकी बीमारी या आप जो वतर्मान में दवाइयां खा रहे हैं उनके ऊपर प्रभाव पड़ सकता है। इसलिए सेवन से पहले डॉक्टर से इस विषय में परामर्श करें।

और पढ़ें : पारिजात (हरसिंगार) के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Night Jasmine (Harsingar)

खसखस के बीज की खुराक

यहां पर दी गई जानकारी को डॉक्टर की सलाह का विकल्प न मानें। किसी भी दवा या सप्लीमेंट का इस्तेमाल करने से पहले हमेशा डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।

आमतौर पर कितनी मात्रा में इस बीज का सेवन करना चाहिए?

वैज्ञानिक शोध के आधार पर निम्नलिखित खुराक निर्धारित की गई है –

खाने के रुप में (Oral Route)

वेसिकोइंटेरिक फिस्टुला (vesicoenteric fistula) के डायग्नोसिस के लिए

ड्रिंक या दही के साथ 35 से 250 ग्राम खसखस का बीज मिलाकर पिएं। इसके 48 घंटे बाद यूरिन को मॉनिटर करें।

इस बीज की खुराक हर मरीज के लिए अलग होती है। आपके द्वारा ली जाने वाली खुराक आपकी उम्र, स्वास्थ्य और कई चीजों पर निर्भर करती हैं। हर्बल सप्लीमेंट हमेशा सुरक्षित नहीं होते हैं। इसलिए सही खुराक की जानकारी के लिए हर्बलिस्ट या डॉक्टर से परामर्श करें।

और पढ़ें : दूर्वा (दूब) घास के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Durva Grass (Bermuda grass)

खसखस का बीज किन रूपों में उपलब्ध है?

यह बीज निम्नलिखित रूपों में उपलब्ध है –

  • कच्चा खसखस का बीज
  • खसखस के बीज का लिक्विड एक्सट्रैक्ट
  • खसखस के बीज का कैप्सूल
हम आशा करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। हैलो हेल्थ के इस आर्टिकल में खसखस के बीज से जुड़ी ज्यादातर जानकारियां देने की कोशिश की है, जो आपके काफी काम आ सकती हैं। अगर आपको ऊपर बताई गई कोई सी भी शारीरिक समस्या है तो इन बीज का इस्तेमाल आपके लिए फायदेमंद हो सकता है।
बस इस बात का ध्यान रखें कि हर हर्ब सुरक्षित नहीं होती। इसका इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर या हर्बलिस्ट से कंसल्ट करें तभी इसका इस्तेमाल करें। अगर आप खसखस के बीज से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

कॉन्स्टिपेशन और बैक पेन! कहीं आपकी परेशानी ये दोनों तो नहीं?

कब्ज के कारण पीठ दर्द की परेशानी क्यों होती है? कब्ज के कारण पीठ दर्द से हैं परेशान, तो जानिए क्या है इसका रामबाण इलाज। Constipation and Back Pain solution in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
कब्ज, स्वस्थ पाचन तंत्र February 1, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें

स्टीमुलेंट लैक्सेटिव या सेलाइन लैक्सेटिव के सेवन से पहले हमें क्या जानना है जरूरी?

स्टीमुलेंट लैक्सेटिव या सेलाइन लैक्सेटिव के सेवन से पहले हमें क्या जानना है जरूरी? Know abot Stimulant laxatives and Saline laxatives in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
कब्ज, स्वस्थ पाचन तंत्र January 29, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें

इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम (IBS) का यूनानी इलाज कैसे किया जाता है?

इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम क्या है? इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम का यूनानी इलाज किन-किन दवाओं से किया जाता है? Unani treatment for Irritable bowel syndrome in Hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha

जब कब्ज और एसिडिटी कर ले टीमअप, तो ऐसे जीतें वन डे मैच!

कब्ज के कारण गैस कब्ज एसिडिटी की तकलीफ हो, तो आपको पेट में जलन, खट्टी डकारें (acid reflux), डिस्कम्फर्ट और मोशन में गड़बड़ी की दिक्कत होने लगती है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Toshini Rathod

Recommended for you

महिलाओं में होने वाली बीमारी (Women illnesses)

Women illnesses: इन 10 बीमारियों को इग्नोर ना करें महिलाएं

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ March 4, 2021 . 8 मिनट में पढ़ें
नक्स वोमिका (Nux Vomica)

नक्स वोमिका क्या है? जानिए इसके फायदे और नुकसान

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ February 15, 2021 . 4 मिनट में पढ़ें
Hyperglycemia and type-2 diabetes - हाइपरग्लाइसेमिया और टाइप 2 डायबिटीज

हाइपरग्लाइसेमिया और टाइप 2 डायबिटीज में क्या है सम्बंध?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Toshini Rathod
प्रकाशित हुआ February 10, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
कम उम्र के इरेक्टाइल डिस्फंक्शन, Erectile Dysfunction in young men

कम उम्र के पुरुषों में इरेक्टाइल डिस्फंक्शन के क्या हो सकते हैं कारण?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ February 9, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें