Martagon Lily: मार्टगोन लिली क्या है?

Medically reviewed by | By

Update Date जून 23, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

परिचय

मार्टगोन लिली क्या है?

लिली के फूल को ही मार्टगोन कहा जाता है। मार्टगोन लिली ज्यादातर साइबेरिया और कोरिया जैसे देशों में पाए जाते हैं। यह नम, छायादार, हरे-भरे मैदानों वालों स्थानों में पनपता है। इसका फूल देखने में बल्बनुमा होता है, जिसका रंग लाल और बैंगनी होता है। आमतौर पर इस हर्बल का इस्तेमाल अल्सर के उपचार करने के लिए किया जा सकता है। साथ ही, इसका इस्तेमाल हर्बल टी के तौर पर भी किया जा सकता है। हर्बल टी में इसका इस्तेमाल करने के लिए इसके फूलों को पीसकर मिलाया जा सकता है। कई मायनों में यह स्वास्थ्य के लिए लाभकारी हो सकती है।

इसे बोजो, लिलियम मार्टागोन, लिरियो ललोरन, लिस डू कनाडा, लिस डे कैथरीन, लिस मार्टगोन, लिस टर्बन, लिस मार्टगोन, मार्टगोन, पेटिट लिस डु कैलवायर, पर्पल तुर्क कैप लिली, तुर्क कैप के नाम से भी जाना जाता है।

और पढ़ेंः Oswego Tea: ओसवेगो चाय क्या है?

मार्टगोन लिली का उपयोग किसलिए किया जाता है?

निम्न स्वास्थ्य स्थितियों में मार्टगोन लिली का इस्तेमाल किया जा सकता है, जिसमें शामिल हो सकते हैंः

मासिक धर्म से जुड़ी समस्या का उपचार करने के लिए

मार्टगोन लिली से औषधि बनाने के लिए इसके पत्ती, तने और फूल का उपयोग किया जा सकता है। जिसके इस्तेमाल से मासिक धर्म से जुड़ी समस्याओं का उपचार किया जा सकता है।

अल्सर की समस्या में

इसके अलावा शरीर के छाले यानी अल्सर की समस्या होने पर भी मार्टगोन लिली का इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके इस्तेमाल से अल्सर की समस्या से जल्द ही राहत मिल सकती है। अल्सर से राहत पाने के लिए इसके फूल, पत्तियों और तनों से बने लेप को सीधा प्रभावित स्थान पर लगाया जा सकता है।

कैंसर के उपचार के लिए

कुछ स्टडी के मुताबिक, मार्टगोन लिली का उपयोग कैंसर के उपचार के लिए भी किया जा सकता है। हालांकि, अभी भी इस दिशा में उचित अध्ययन करने की आवश्यकता हो सकती है।

एक बात का ध्यान रखें कि इस फूल के इस्तेमाल से किसी भी तरह की एलर्जी होने की संभावना बहुत ही दुर्लभ है। हालांकि, फिर भी सेंसिटिव स्किन पर इसका सीधा इस्तेमाल करने से पहले आपको अपने डॉक्टर की सलाह लेना जरूरी होता है।

मार्टगोन लिली कैसे काम करता है?

  • मार्टगोन लिली के फूल को सूखे और फ्रेश दोनों ही स्थितियों में इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • इस फूल के इस्तेमाल से मासिक धर्म में होने वाले असहनीय दर्द से राहत मिल सकती है।
  • इसका इस्तेमाल गर्म पानी या गर्म दूध के साथ भी किया जा सकता है, जो कई शारीरिक समस्याओं से राहत दिलाने में लाभकारी हो सकता है।
  • मार्टगोन एक मरहम की तरह काम करता है। सिर में दर्द और शरीर में सूजन की समस्या से राहत पाने के लिए पीसकर इसका इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके इस्तेमाल से त्वचा पर किसी तरह का कोई निशान नहीं पड़ता है और दर्द से भी राहत मिल सकती है।
  • मार्टगोन की जड़ को पीसकर उसमें शहद मिलाकर भी खाया जा सकता है।
  • अगर इसके पेस्ट को तेल के साथ मिलाकर लगाया जाए, तो यह उन जगहों पर फिर से बाल लाता है जो जल गए हैं या झड़ गए होते हैं। यानी, अगर आपको गंजेपन की स्थिति है, तो यह नए बाल उगाने में मदद कर सकता है।
  • सफेद मार्टगोन की जड़ को वाइन के साथ मिलाकर दो या तीन दिनों के लिए पीने के लिए दिया जाता है तो यह महामारी के जहर को बाहर निकाल सकता है।

और पढ़ें: Buchu: बुचु क्या है?

उपयोग

मार्टगोन लिली का उपयोग करना कितना सुरक्षित हो सकता है?

मार्टगोन एक औषधि की तरह काम करता है, जिसे सुरक्षित माना जाता है। हालांकि, कुछ स्वास्थ्य स्थितियों में इसके कुछ दुष्प्रभाव भी देखे जा सकते हैं, लेकिन वे बहुत ही दुर्लभ मामले हो सकते हैं।

  • मासिक धर्म और अल्सर के लिए मार्टगोन को रामबाण माना गया है।
  • अगर आप प्रेग्नेंट हैं या फिर स्तनपान कराती हैं, तो मार्टगोन या किसी भी अन्य जड़ी-बूटी या हर्बल का प्रयोग करने से पहले अपने डॉक्टर की सलाह अवश्य लें।
  • मार्टगोन यानी लिली का इस्तेमाल परफ्यूम और तेल बनाने के लिए भी किया जा सकता है।
  • मार्टगोन नारंगी, सफेद और बैंगनी जैसे कई रंगों में होते हैं। इनकी खुशबू इतनी तीव्र होती है कि पूरे हाथ को महका सकते हैं।
  • हालांकि, मार्टगोन शरीर को रूखा बना देती है। इसलिए इसकी खुशबू का उपयोग ऑलिव ऑयल और बादाम के तेल में मिलाकर ही किया जाना चाहिए। ताकि, इसके इस्तेमाल से स्किन में ड्राईनेस की समस्या न हो

साइड इफेक्ट्स

मार्टगोन लिली के इस्तेमाल से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

मार्टगोन शरीर के कई रोगों को दूर कर सकता है। हालांकि, इसके साइड इफेक्ट्स की भी संभावना बनी रह सकती हैं। मार्टगोन के साइड इफेक्ट्स पर ज्यादा स्टडी नहीं की गई है। इसलिए इसके इस्तेमाल से पहले अपने डॉक्टर की उचित सलाह जरूर लें।

प्रेग्नेंसी के समय भी ऐसे किसी भी हर्बल का इस्तेमाल ना करें।

अगर आप पहले से कोई दवा ले रहे हैं, तो भी मार्टगोन का इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। इसके अलावा अगर इसके इस्तेमाल से आपको कोई साइड इफेक्ट होता है, तो तुरंत इसकी जानकारी अपने हर्बलिस्ट को दें।

और पढ़ें: Oolong Tea: ओलोंग चाय क्या है?

डोसेज

यहां प्रदान की गई जानकारी किसी भी तरह की चिकत्सीय सलाह प्रदान नहीं करती है। ऐसे किसी भी औषधि का इस्तेमाल करने से पहले आपको अपने डॉक्टर की उचित सलाह लेनी चाहिए।

मार्टगोन को लेने की सही खुराक क्या है?

  • मार्टगोन को वैसे तो दूध और पानी के साथ लिया जा सकता है।
  • इसका इस्तेमाल सुखाकर चूर्ण की तरह भी किया जा सकता है।
  • साथ ही, इसका इस्तेमाल शरीर पर लेप की तरह भी किया जा सकता है।

इसके अलावा हर मरीज के लिए इसकी अलग-अलग खुराक निर्धारित की जा सकती है। खुराक की मात्रा व्यक्ति की शारीरिक स्थिति और उम्र के अनुसार निर्धारित की जा सकती है।

और पढ़ें: Green Coffee: ग्रीन कॉफी क्या है?

उपलब्ध

यह फूल किन रूपों में उपलब्ध है?

निम्नलिखित रूपों में आप इस औषधि को प्राप्त कर सकते हैंः

  • कच्चा मार्टगोन

हमें उम्मीद है कि मर्टगोन पर आधारित यह आर्टिकल आपको पसंद आया होगा। हमने इस लेख में इस हर्ब से संबंधित सभी प्रकार की जानकारी देने की कोशिश की है। अगर आपको यहां बताई गई किसी प्रकार की कोई शारीरिक परेशानी है तो आप इस हर्ब का उपयोग कर सकते हैं, लेकिन डॉक्टर की सलाह पर। याद रखें हर्ब का उपयोग सभी के लिए सही नहीं होता।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह या उपचार की सिफारिश नहीं करता है। अगर इससे जुड़ा आपका कोई सवाल है, तो कृपया इसके बारे में अधिक जानकारी के लिए आपको अपने डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Hepatitis : हेपेटाइटिस क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

लिवर में सूजन आने की समस्या को हेपेटाइटिस कहा जाता है। इससे बचने के उपाय व इलाज के बारे में विस्तार से जानते हैं। Hepatitis in Hindi.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Surender Aggarwal
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z जून 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Testicular Pain : अंडकोष में दर्द क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

अंडकोष में दर्द कई कारणों से हो सकता है। आइए, इससे बचाव व इसके उपचार के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करते हैं। Testicular Pain in Hindi.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Surender Aggarwal
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z जून 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Anxiety : चिंता क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

चिंता हमारे शरीर द्वारा दी जाने वाली एक प्रतिक्रिया है, जो कि काफी आम और सामान्य है। कई मायनों में यह अच्छी भी है, पर ज्यादा होना बीमारी का कारण बन जाता है।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Surender Aggarwal
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z जून 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Vertigo : वर्टिगो क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

वर्टिगो में आपको चक्कर आने लगते हैं, जो कि किसी अन्य बीमारी का लक्षण होता है। जानते हैं वर्टिगो का कैसे पता लगायें और कैसे मिलेगी राहत। Vertigo in Hindi.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Surender Aggarwal
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z जून 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें