Green Coffee: ग्रीन कॉफी क्या है?

Medically reviewed by | By

Update Date दिसम्बर 15, 2019
Share now

परिचय

ग्रीन कॉफी (Green Coffee) बीन्स, कॉफी फ्रूट्स के वे बीज होते हैं जो भुने हुए नहीं होते हैं। आपको बता दें कि नियमित रूप से भुने हुए कॉफी बीन्स की तुलना में ग्रीन कॉफी में क्लोरेजेनिक एसिड की मात्रा बहुत ज्यादा होती है। ग्रीन कॉफी में मौजूद क्लोरेजेनिक एसिड स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है। इसका बोटेनिकल नाम कॉफिया (Coffea) नाम है, जो कि रुबीएसी (Rubiaceae) फैमिली से आता है।

यह भी पढ़ें- Fo-Ti: फो-ती क्या है?

उपयोग

ग्रीन कॉफी (Green Coffee) किसलिए इस्तेमाल होती है?

साल 2012 में डॉ. ओजेड शो में प्रसारण होने के बाद ग्रीन कॉफी वजन घटाने को लेकर बहुत प्रसिद्ध हुई।

मोटापा, डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर, अल्जाइमर (Alzheimer’s disease) और बैक्टीरियल इंफेक्शन में लोग ग्रीन कॉफी का इस्तेमाल करते हैं।

यह भी पढ़ें : Parsley : अजमोद क्या है?

ग्रीन कॉफी (Green Coffee) कैसे काम करती है?

ग्रीन कॉफी (Green Coffee) शरीर में कैसे काम करती है इसको लेकर अभी ज्यादा शोध मौजूद नहीं है। इस बारे में ज्यादा जानकारी के लिए आप किसी डॉक्टर या हर्बलिस्ट से संपर्क करें। हालांकि ऐसा माना जाता है कि ग्रीन कॉफी में मौजूद क्लोरेजेनिक एसिड खून की नालियों (Blood Vessels) को प्रभावित करता है जिसकी वजह से ब्लड प्रेशर कम होता है।

ऐसा मानना है कि ग्रीन कॉफी में मौजूद क्लोरोजेनिक एसिड शरीर के ब्लड शुगर और मेटाबोलिज्म को प्रभावित करके वजन कम करने में मदद करती है।

यह भी पढ़ें- Ginger : अदरक क्या है?

ग्रीन कॉफी से जुडी सावधानियां और चेतावनी

ग्रीन कॉफी के सेवन से पहले मुझे इसके बारे में क्या-क्या जानकारी होनी चाहिए?

ग्रीन कॉफी का इस्तेमाल करने से पहले आपको डॉक्टर या फार्मसिस्ट या फिर हर्बलिस्ट से सलाह लेनी चाहिए, यदि

  • आप गर्भवती हैं या स्तनपान कराती हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि जब आप बच्चे को फीडिंग कराती हैं तो अपने डॉक्टर के मुताबिक ही आपको दवाओं का सेवन करना चाहिए।
  • आप कोई दूसरी दवा लेते हैं जोकि बिना डॉक्टर की पर्ची के आसानी से मिल जाते हैं।
  • अगर आपको ग्रीन कॉफी और उसके दूसरे पदार्थों से या फिर किसी और दूसरे हर्ब्स से एलर्जी हो।
  • आप पहले से किसी तरह की बीमारी आदि से ग्रसित हैं।
  • आपको पहले से ही किसी तरह की एलर्जी हो जैसे खाने पीने वाली चीजों से, या डाई से या किसी जानवर आदि से।

हर्बल सप्लीमेंट के उपयोग से जुड़े नियम दवाओं के नियमों जितने सख्त नहीं होते हैं। इनकी उपयोगिता और सुरक्षा से जुड़े नियमों के लिए अभी और शोध की जरुरत है। इस हर्बल सप्लीमेंट के इस्तेमाल से पहले इसके फायदे और नुकसान की तुलना करना जरुरी है। इस बारे में और अधिक जानकारी के लिए किसी हर्बलिस्ट या आयुर्वेदिक डॉक्टर से संपर्क करें।

ग्रीन कॉफी का सेवन कितना सुरक्षित है?

सही तरीके से ग्रीन कॉफी का सेवन करना बिल्कुल सुरक्षित है। अगर रोजाना 480 mg ग्रीन कॉफी एक्सट्रैक्ट 12 हफ्तों तक आप लेते हैं तो आपके लिए सुरक्षित है। इसके अलावा एक खास किस्म का ग्रीन कॉफी एक्सट्रैक्ट जिसे रोजाना पांच बार केवल 200 mg, 12 हफ्तों तक इस्तेमाल करना सुरक्षित होता है।

यह भी पढ़ें : Poison Ivy: पॉइजन आईवी क्या है?

ग्रीन कॉफी से जुड़ी विशेष सावधानियां और चेतावनी

गर्भावस्था और स्तनपान के दौरान: गर्भावस्था और स्तनपान के दौरान ग्रीन कॉफी के सेवन को लेकर अभी ज्यादा जानकारी मौजूद नहीं है। इसलिए इस दौरान आप इससे परहेज करें।

होमोसिस्टीन (homocysteine) के हाई लेवल के दौरान: कम समय में क्लोरेजेनिक एसिड को ज्यादा मात्रा में लेने से प्लाज्मा (Plasma) में होमोसिस्टीन (homocysteine) का लेवल बढ़ जाता है जिसकी वजह से हृदय संबंधी बीमारियां हो सकती हैं।

घबराहट संबंधी बीमारियों में (Anxiety disorders): ग्रीन कॉफी में मौजूद कैफीन घबराहट या उलझन को और अधिक बढ़ा सकता है।

ब्लीडिंग डिसॉर्डर(Bleeding disorders): कुछ शोध में यह पता चला है कि ग्रीन कॉफी में मौजूद कैफीन ब्लीडिंग डिसॉर्डर(Bleeding disorders) को और अधिक खराब कर सकता है।

डायबिटीज: कुछ शोध के अनुसार ग्रीन कॉफी में मौजूद कैफीन डायबिटिक लोगों के शुगर प्रोसेस को बदल सकता है। कैफीन ब्लड शुगर को घटाता भी है और बढ़ाता भी है। इसलिए वे लोग जिन्हें डायबिटीज की समस्या है वो सावधानीपूर्वक कैफीन का सेवन करें और ब्लड शुगर का रेगुलर चेकअप कराएं।

डायरिया: ग्रीन कॉफी में कैफीन होता है। ग्रीन कॉफी का ज्यादा मात्रा में सेवन करने से डायरिया की समस्या और अधिक बढ़ सकती है।

मोतियाबिंद (Glaucoma): ग्रीन कॉफी के सेवन से आंखों के अंदर दबाव बढ़ सकता है। आंखों के अंदर का यह दबाव 30 मिनट के अंदर शुरू होता है और 90 मिनट तक रहता है।

हाई ब्लड प्रेशर: जो लोग हाई ब्लड प्रेशर के मरीज हैं अगर वे ग्रीन कॉफी का सेवन करते हैं तो उनका ब्लड प्रेशर बढ़ सकता है। हालांकि जो लोग रेगुलर कॉफी का सेवन करते हैं उनमें यह प्रभाव कम होता है।

हाई कोलेस्ट्रॉल: बिना फिल्टर किये हुए कॉफी में कुछ ऐसे तत्व होते हैं जो कोलेस्ट्रॉल लेवल को बढाने का काम करते हैं। ऐसे तत्व ग्रीन कॉफी में भी पाए जाते हैं। हालांकि इस बारे में यह अभी स्पष्ट नहीं है कि ग्रीन कॉफी के सेवन से कोलेस्ट्रॉल लेवल भी बढ़ता है।

इरिटेबल बाउल सिंड्रोम(Irritable bowel syndrome, IBS): ग्रीन कॉफी में कैफीन होता है। अगर ज्यादा मात्रा में कॉफी का सेवन किया जाता है तो उससे डायरिया की समस्या हो सकती है और इससे इरिटेबल बाउल सिंड्रोम(Irritable bowel syndrome, IBS) की समस्या और अधिक खराब हो सकती है।

ओस्टियोपोरोसिस यानी हड्डी के पतला होने में: ग्रीन कॉफी में मौजूद कैफीन और दूसरे सोर्स कैल्शियम की मात्रा को बढ़ाते हैं जोकि मूत्र के माध्यम से बाहर निकल जाता है। इस वजह से आपकी हड्डियां कमजोर हो जाती हैं। अगर आपको ऑस्टियोपोरोसिस की समस्या है तो आपको दिन में 300 mg से कम (लगभग दो से तीन कम नियमित रूप से) कॉफी का सेवन करना चाहिए। कैल्शियम युक्त सप्लीमेंट लेने से कैल्शियम की कमी पूरी होती है। ऐसी महिलाएं जिनका मीनोपॉज (Menopause) समाप्त हो चुका हैं उन्हें ग्रीन कॉफी का सेवन सावधानीपूर्वक करना चाहिए।

यह भी पढ़ें : Potato: आलू क्या है ?

ग्रीन कॉफी के साइड इफेक्ट

ग्रीन कॉफी के सेवन से मुझे क्या साइड इफेक्ट हो सकते हैं?

कॉफी की ही तरह ग्रीन कॉफी के भी साइड इफेक्ट होते हैं जैसे, नींद ना आना, नर्वसनेस, बेचैनी, पेट खराब होना, मिचली, उल्टी और हार्ट रेट का बढ़ना आदि।

अधिक मात्रा में कॉफी का सेवन करने से सिर दर्द, उलझन, उत्तेजना, कान में आवाज आना और हार्ट बीट का असामान्य होना आदि साइड इफेक्ट हो सकते हैं।

हालांकि हर किसी को ये साइड इफेक्ट हों ऐसा जरुरी नहीं है। कुछ ऐसे भी साइड इफेक्ट हो सकते हैं जो ऊपर बताए नहीं गए हैं। अगर आपको इनमें से कोई भी साइड इफेक्ट महसूस हो या आप इनके बारे में और जानना चाहते हैं तो नजदीकी डॉक्टर से संपर्क करें।

यह भी पढ़ें : Sabudana : साबूदाना क्या है?

ग्रीन कॉफी से जुड़े परस्पर प्रभाव/ ग्रीन कॉफी से पड़ने वाले प्रभाव

ग्रीन कॉफ़ी के सेवन से अन्य किन-किन चीजों पर प्रभाव पड़ सकता है?

ग्रीन कॉफी के सेवन से आपकी बीमारी या आप जो वतर्मान में दवाइयां खा रहे हैं उनके असर पर प्रभाव पड़ सकता है। इसलिए सेवन से पहले डॉक्टर से इस विषय पर बात करें।

ग्रीन कॉफ़ी की खुराक

यहां पर दी गई जानकारी को डॉक्टर की सलाह का विकल्प ना मानें। किसी भी दवा या सप्लीमेंट का इस्तेमाल करने से पहले हमेशा डॉक्टर की सलाह जरुर लें।

आमतौर पर कितनी मात्रा में ग्रीन कॉफ़ी का सेवन करना चाहिए?

इस हर्बल सप्लीमेंट की खुराक हर मरीज के लिए अलग हो सकती है। आपके द्वारा ली जाने वाली खुराक आपकी उम्र, स्वास्थ्य और कई चीजों पर निर्भर करती है। हर्बल सप्लीमेंट हमेशा सुरक्षित नहीं होते हैं। इसलिए सही खुराक की जानकारी के लिए हर्बलिस्ट या डॉक्टर से चर्चा करें।

ग्रीन कॉफी किन रूपों में उपलब्ध है?

ग्रीन कॉफी निम्नलिखित रूपों में उपलब्ध हैः

  • कच्चा ग्रीन कॉफी बीन्स
  • ग्रीन कॉफी एक्सट्रैक्ट

और पढ़ें : Cocoa: कोकोआ क्या है?

संबंधित लेख:

    सूत्र

    Green coffee http://www.webmd.com/vitamins-supplements/ingredientmono-1264-green%20coffee.aspx?activeingredientid=1264 August 10, 2017

    Does green coffee bean extract work? A detailed review http://www.medicalnewstoday.com/articles/318611.php?nfid=43941 August 10, 2017

    https://www.healthline.com/nutrition/green-coffee

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    कॉफी से जुड़े फैक्ट: क्या जानवरों की पॉटी से बनती है बेस्ट कॉफी?

    कॉफी से जुड़े फैक्ट में हर कोई यह जानना चाहता है कि बेस्ट कॉफी(Best Coffee) कौन सी है? कैसे बनाई जाती है दिमाग को तरोताजा करने वाली कॉफी?

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Hema Dhoulakhandi

    जानें बॉडी पर कैफीन के असर के बारे में, कब है फायदेमंद है और कितना है नुकसान दायक

    कैफीन के असर से क्या क्या होती हैं बीमारिया, कितना में मात्रा में सेवन करना है फायदेमंद, पूर्व में किए शोध से क्या पता चला है, तमाम जानकारी इस आर्टिकल में जानिए।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Satish Singh

    स्तनपान में सुधार के लिए सेवन करें सिर्फ 3 हर्बल प्रोडक्ट

    जानिए स्तनपान में सुधार के लिए कौन-कौन से हर्बल प्रोडक्ट का सेवन करना चाहिए। क्या स्तनपान में सुधार लाने के लिए हर्ब का सेवन करना चाहिए?

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Nidhi Sinha

    Mormon Tea: मॉरमर्न टी क्या है?

    जानिए मॉर्मन टी की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, मॉर्मन टी उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Mormon Tea डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Mona Narang