Diarrhea: डायरिया क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

Medically reviewed by | By

Update Date जुलाई 6, 2020 . 4 mins read
Share now

डायरिया (Diarrohea) क्या है?

डायरिया होने पर लूजमोशन होते हैं जिससे आपको लगातार बाथरूम जाने की आवश्यकता पड़ सकती है। डायरिया का असर इस बात पर निर्भर करता है कि यह कितने समय तक रहता है। यह मुख्यतः तीन रूप होते हैं:

  • अक्यूट डायरिया: यह कुछ दिनों से एक सप्ताह तक रहता है।
  • पर्सिस्टेंट डायरिया :यह लगभग 3 सप्ताह तक रहता है।
  • क्रॉनिक डायरिया: यह 4 सप्ताह से अधिक समय तक रहता है।

शिशुओं, बच्चों और वयस्कों में इस स्थिति के लक्षण और कारण अलग-अलग होते हैं जिसके कारण इसका इलाज भी अलग तरह से किया जाता है। आज हम आपको इस लेख में डायरिया के लक्षण, कारण और इलाज के बारे में बताएंगे।

और पढ़ें – Lead Poisoning: सीसा विषाक्तता क्या है?

डायरिया कितना आम है?

डायरिया होना बहुत आम है। एक औसत वयस्क को वर्ष में तीन से चार बार डायरिया हो सकता हैं। डायरिया किसी भी उम्र और जेंडर के लोगों को हो सकता है। डायरिया एक ऐसी बीमारी है जो आपको जानलेवा स्टेज तक पहुंचा सकती है। इसलिए बहुत से लोग इस बीमारी से जुड़ी चिकित्सा सलाह लेते हैं। अगर डायरिया का इलाज बहुत लंबे समय तक नहीं किया जाता है, तो यह गंभीर समस्याओं का कारण बन सकता है। जैसे कि आंत में सूजन इत्यादि।

और पढ़ें – Ulcerative colitis : अल्सरेटिव कोलाइटिस क्या है? जाने इसके कारण ,लक्षण और उपाय

डायरिया के लक्षण क्या हैं?

डायरिया के लक्षण बच्चों और वयस्कों में अलग-अलग होते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि यह बीमारी हर उम्र के व्यक्ति को अलग तरह से प्रभावित करती है। तो चलिए जानते हैं लूज मोशन के सबसे सामने लक्षण जो हर किसी भी में दिखाई दे सकते हैं

ऐसे अन्य कई लक्षण हो सकते हैं जिनका उल्लेख नहीं किया गया हो। यदि डायरिया के दुष्प्रभावों के बारे में कोई प्रश्न हैं, तो कृपया अपने डॉक्टर से परामर्श लें।

और पढ़ें – Scabies : स्केबीज क्या है?

मुझे अपने डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?

शिशुओं और छोटे बच्चों में डायरिया :

डायरिया छोटे बच्चों को होने वाली एक गंभीर बीमारी है। यह बहुत कम समय में गंभीर डीहाइड्रेशन का कारण बन जाता है। जो आगे चलकर जानलेवा भी हो सकता है। यदि आपको अपने बच्चे में ये निम्नलिखित लक्षण दिखें तो आपको अपने डॉक्टर से तुरंत संपर्क करना चाहिए:

यदि आप अपने बच्चे में निम्नलिखित में से कोई भी लक्षण पाते हैं तो तत्काल चिकित्सा उपचार के लिए जाएं :

  • डिहाइड्रेशन के लक्षण, जैसे ठंडे हाथ और पैर, पीली त्वचा, कम यूरिन पास होना, चिड़चिड़ापन
  • तेज बुखार
  • स्टूल में ब्लड आना
  • काले रंग का स्टूल पास होना
  • वयस्कों में लूजमोशन होना 

यदि आपको निम्नलिखित लक्षण हैं तो आपको अपने डॉक्टर से तुरंत संपर्क करना चाहिए:

आप अपने डॉक्टर के साथ डायरिया से जुड़े खतरों का आंकलन कर, उसे ठीक करने के तरीकों पर चर्चा कर सकते हैं। आप हमेशा अपने डॉक्टर के साथ उपचार और निदान की उन विधियों के बारे में चर्चा करें जो आपके लिए सबसे अच्छा उपचार हो सकता है।

और पढ़ें – Piles : बवासीर क्या है?

डायरिया किन कारणों से होता है?

डायरिया एक ऐसी स्थिति है जो कभी भी किसी को भी हो सकती है। इसके कई कारण हो सकते हैं, जैसे की –

और पढ़ें – लिक्विड डाइट प्लान क्या है? जानें इसके फायदे

किन कारणों से बढ़ सकता है डायरिया का खतरा ?

डायरिया को होने के बाद भी रोका जा सकता है। हालांकि, इसके लिए आपको निम्न चीजों से परहेज करने की जरूरत पड़ सकती है –

और पढ़ें – Migraine: माइग्रेन क्या है ? जाने इसके कारण,लक्षण और उपचार

डायरिया का निदान कैसे किया जाता है?

 डॉक्टर शारीरिक परीक्षण कर डायरिया के कारणों की पहचान कर सकते हैं। इसके साथ ही आपके मेडिकल हिस्ट्री पर भी नजर डाली जा सकती है। डॉक्टर आपसे कुछ प्रश्न पूछ सकते हैं, जैसे:

  • आप कैसा महसूस कर रहे हैं?
  • आप दिन में कितनी बार शौचालय जाने की आवश्यकता महसूस करते हैं?
  • डायरिया शुरू होने से पहले आपने क्या खाना खाया था?
  • आप हाल ही में कोई दवा ले रहे हैं या नहीं?
  • अन्य कोई बदलाव या लक्षण जो आप अनुभव कर रहे हैं?

कुछ मामलों में, आपकी स्थिति के बारे में अधिक जानने के लिए अतिरिक्त परीक्षण किया जा सकता है। इन परीक्षणों में निम्नलिखित शामिल हो सकते हैं :

डायरिया (Diarrhea) का इलाज कैसे किया जाता है?

डायरिया के शुरुआती चरण के उपचार में शरीर में बहुत सारे तरल पदार्थों की आपूर्ति की आवश्यकता होती है। इसका मतलब ये है कि आपको अधिक पानी, इलेक्ट्रोलाइट या स्पोर्ट्स ड्रिंक पीने की आवश्यकता है। अधिक गंभीर मामलों में इंट्रावीनस (intravenous) के माध्यम से आपके शरीर में तरल पदार्थ की कमी को पूरा किया जा सकता है। यदि आपको डायरिया बैक्टीरिया इंफेक्शन के कारण होता है, तो डॉक्टर एंटीबायोटिक्स लिख सकते हैं। डायरिया की समस्या को दूर करने के लिए रेडोटिल लेने की सलाह डॉक्टर दे सकते हैं। 

आपके डॉक्टर आपको ओरल रिहाइड्रेशन (आपके शरीर में डीहाइड्रेशन को कम करने का उपाय) के सेवन का सुझाव दे सकते हैं। यह उपाय डीहाइड्रेशन की समस्या खत्म करता है और आपके शरीर में ग्लूकोज, नमक और अन्य महत्वपूर्ण मिनरल की कमी को पूरा करता है। ओरल रिहाइड्रेशन बच्चों और वयस्कों दोनों के लिए उपयुक्त है, जो बिना किसी डॉक्टर के पर्चे के भी स्थानीय मेडिकल स्टोर पर उपलब्ध है।

और पढ़ें – स्टेमिना बढ़ाने के लिए अपनाएं ये घरेलू उपाय

जीवनशैली में बदलाव और घरेलू उपचार :

स्टैनफोर्ड हेल्थ केयर के पोषण विशेषज्ञों के अनुसार,निम्नलिखित जीवनशैली और डायरिया के घरेलू उपचार आपको डायरिया से लड़ने में मदद कर सकते हैं:

  • फ्रूट जूस को बगैर चीनी मिलाए पिएं।
  • उच्च-पोटेशियम युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करें जैसे केले, आलू इत्यादि ।
  • उच्च सोडियम युक्त खाद्य और तरल पदार्थ का सेवन करें ।
  • फाइबर से भरपूर खाद्य पदार्थ खाएं जैसे केला, दलिया, चावल
  • तली-भुनी चीजों को कम खाएं।
  • कैफीन, चाय और शीतल पेय से बचें ।
  • मैग्नीशियम से भरपूर डेयरी उत्पादों और भोजन से बचें ।

इस आर्टिकल में हमने आपको डायरिया से संबंधित जरूरी बातों को बताने की कोशिश की है। उम्मीद है आपको हैलो हेल्थ की दी हुई जानकारियां पसंद आई होंगी। अगर आपको इस बीमारी से जुड़े किसी अन्य सवाल का जवाब जानना है, तो हमसे जरूर पूछें। हम आपके सवालों के जवाब मेडिकल एक्सर्ट्स द्वारा दिलाने की कोशिश करेंगे। अपना ध्यान रखिए और स्वस्थ रहिए।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

बच्चों को दस्त होने पर न दे ये फूड्स

बच्चों को दस्त कई कारणों से हो सकता है। बच्चों में डायरिया होने पर ओआरएस देने के साथ ब्रैट डायट के लिए डॉक्टर सलाह देते हैं। ...diarrhea in kids in hindi

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Shikha Patel

Labdanum: लाबडानम क्या है?

जानिए लाबडानम (Labdanum) की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, लाबडानम उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Labdanum डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Sunil Kumar

Cassie absolute: कैसी एब्सोल्युट क्या है?

जानिए कैसी एब्सोल्युट की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, कैसी एब्सोल्युट उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Cassie absolute डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Anu Sharma

Rose Geranium Oil: रोज जेरेनियम ऑयल क्या है?

जानिए रोज जेरेनियम ऑयल की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, रोज जेरेनियम ऑयल उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Rose Geranium Oil डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Anu Sharma

Recommended for you

बरगद -banyan tree

बरगद के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Banyan Tree (Bargad ka Ped)

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Ankita Mishra
Published on जून 8, 2020 . 4 mins read
विजीलैक-vizylac

Vizylac: विजीलैक क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Bhawana Awasthi
Published on जून 2, 2020 . 6 mins read
बिफिलेक

Bifilac: बिफिलेक क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh
Published on जून 2, 2020 . 6 mins read
Chinese Rhubarb-चाइनीज रुबाब

Chinese Rhubarb: चाइनीज रुबाब क्या है?

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Mona Narang
Published on मई 18, 2020 . 4 mins read