क्या बच्चे में सिर दर्द है? जानें कारण और उपाय

By

Update Date जनवरी 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

सिरदर्द आजकल एक आम समस्या बन गई है। बड़ों के साथ-साथ अब बच्चे में सिर दर्द की समस्या बहुत कम उम्र में ही देखने को मिल रही है। कुछ पेरेंट्स तो यहा तक सोच लेते हैं कि बच्चा स्कूल न जाने के लिए हेडएक का बहाना कर रहा है। लेकिन, माता-पिता कम उम्र में ही अक्सर बच्चे में सिर दर्द की शिकायत को जरा भी हल्के में न लें। यह किसी बीमारी की ओर इशारा हो सकता है। एक ऐसा ही सवाल देहरादून की रहने वाली प्रीति किरण ने पूछा। जिनके बच्चे में सिरदर्द की शिकायत अक्सर रहती है तो जानते हैं डॉक्टर इस बारे में क्या कहते हैं।

सवाल 

प्रीति ने पूछा है कि “मेरा बेटा 10 साल का है। वह हमेशा सिरदर्द की शिकायत करता है। शुरू में मुझे लगा कि वह झूठ बोल रहा है। लेकिन, बाद में पता चला कि उसे सच में सिरदर्द होता है। क्या तनाव (stress) इसकी वजह हो सकता है? बच्चे में सिर दर्द का इलाज कैसे किया जाए?”

यह भी पढ़ेंः बच्चों के मानसिक तनाव को दूर करने के 5 उपाय

जवाब

प्रीति के इस सवाल के लिए हैलो स्वास्थ्य ने बेंगलुरू स्थित फोर्टिस हॉस्पिटल के कंसल्टेंट हैडेक क्लीनिक की डॉ. जयश्री कैलासम से बात की। डॉ. जयश्री कैलासम ने बताया कि अगर आप सोच रही हैं कि बच्चा स्कूल जाने से बचने के लिए सिरदर्द का बहाना कर रहा है, तो दोबारा सोचें। बच्चे में सिर दर्द की समस्या अब आम हो गई है। इसकी वजह हमेशा तनाव नहीं हो सकता है। बच्चों को काफी कम उम्र से ही सि रदर्द (headache) की समस्या हो सकती है। यह उनके पारिवारिक इतिहास, जीवनशैली और माहौल पर भी निर्भर करता है। किसी बच्चे में सिर दर्द की समस्या हमेशा रहेगी या नहीं, यह उसके जींस (Genes) पर निर्भर करता है।

कई मामलों में देखा गया है कि अगर बच्चे के परिवार में सिर दर्द की शिकायत पुरानी है तो बच्चे में सिर दर्द की प्रॉब्लम हो सकती है। यहां पर आपको ध्यान देने की जरूरत है कि आपका बच्चा खान-पान की स्वस्थ आदतों का पालन करें। जंक या फास्ट फूड का सेवन बच्चे के लिए अच्छी बात नहीं है। कैफीनयुक्त पेय पदार्थ या सॉफ्ट ड्रिंक्स के सेवन के कारण भी बच्चे में सिर दर्द हो सकता है। इसके अलावा उसे रोजाना घर से बाहर खेलने-कूदने के लिए भेजें। साथ ही बच्चे को व्यायाम करने के लिए प्रेरित करें। अगर बच्चे में सिर दर्द के साथ ही चक्कर या हाथ-पैर नहीं हिलने जैसे लक्षण नजर आ रहे हैं तो उसे तुरंत डॉक्टर के पास ले जाएं। अगर बच्चा बेहोश हो जाता है तो उसे तुरंत मेडिकल सहायता दिलाने की कोशिश करें। 

यह भी पढ़ेंः आसानी से बनाएं ये पांच हेल्दी ब्रेकफास्ट; करेगा आपकी सेहत को काफी अपलिफ्ट

बच्चे में सिर दर्द के घरेलू इलाज

नीचे बच्चे में सिर दर्द के घरेलू उपाय बताए जा रहे हैंजब बच्चे को सिर दर्द से ज्यादा परेशानी हो तो ये उपाय अपनाए जा सकते हैं जैसे-

पानी

क्या आप जानते हैं शरीर में पानी की कमी भी सिरदर्द का एक कारण हो सकती है? अध्ययन में पाया गया है कि निर्जलीकरण (डिहायड्रेशन) कई बार तनाव और सिर दर्द का कारण बन सकता है। इसके अलावा, शरीर में पानी की कमी तनाव और चिड़चिड़ापन पैदा कर सकती है, जो इसे बढ़ा सकता है। इसलिए, दिनभर में ज्यादा से ज्यादा बच्चे को पानी पिलाएं। हो सकता है यह हेडएक बच्चे में पानी की कमी की वजह से हो।

यह भी पढ़ें: Crohns Disease : क्रोहन रोग क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और इलाज

अदरक

अदरक सिर के दर्द से लड़ने का एक बेहतरीन विकल्प हो सकती है। 2014 में 100 लोगों पर किए गए एक अध्ययन में अदरक को सिर दर्द से लड़ने में उतना ही प्रभावी पाया गया, जितना कि सुमैट्रिप्टन (माइग्रेन की एक दवा)। इससे यह पता चला कि अदरक माइग्रेन जैसी जटिल समस्या का समाधान हो सकती है। साथ ही, इसके कोई साइड इफेक्ट्स भी नहीं हैं। 

यह भी पढ़ें: कुछ इस तरह स्ट्रेस मैनेजमेंट की मदद से करें तनाव को कम

एसेंशियल ऑयल 

एसेंशियल ऑयल भी आपके बच्चे में सिर दर्द की समस्या को दूर कर सकता है। एक अध्ययन में पाया गया कि पेपरमिंट (peppermint) एसेंशियल ऑयल को माथे के दोनों सिरों पर इस्तेमाल करने से तनाव के कारण होने वाले सिर दर्द से काफी राहत मिलती है। वही, एक और अन्य अध्ययन में लेवेंडर ऑयल (lavender oil) को माइग्रेन के लिए बेहतर औषधि बताया गया। एसेंशियल ऑयल में काफी उच्च मात्रा में केमिकल कंपाउंड्स पाए जाते हैं। इसलिए, इसका उपयोग सही मात्रा में करना बेहद आवश्यक है। इसका इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

यह भी पढ़ें: Dementia : डेमेंशिया क्या है?

भरपूर नींद लें

नींद की कमी कई मायनों में आपके लिए हानिकारक साबित हो सकती हैं। ऐसे ही एक अध्ययन में यह पाया गया कि जो लोग रोजाना छह घंटे से कम की नींद लेते थे उनमें सिर दर्द की समस्या दूसरों की तुलना में ज्यादा थी। वहीं, एक और अन्य अध्ययन में हद से ज्यादा नींद को भी सिर दर्द के कारण बताया। इसलिए, रोजाना सात से आठ घंटे की नींद बच्चे के लिए एक बेहतर विकल्प हो सकता है।

बच्चे में सिर दर्द की समस्या न हो पाए इसके लिए अपनाएं ये टिप्स

अगर आप चाहते हैं कि आपका बच्चा सिरदर्द की परेशानी से दूर रहे, तो नीचे बताई गई बातों पर ध्यान दें-

  • इस बात पर ध्यान दें कि आपका बच्चा पर्याप्त नींद ले।
  • बच्चों को फास्ट फूड से दूर रखें।
  • ध्यान दें बच्चा अपना खाना न छोड़ें या देर तक भूखा न रहे।
  • अगर डॉक्टर ने सिर दर्द की कोई दवा दी है, तो उसे सही वक्त पर दवा दें।
  • बच्चे को तनाव से दूर रखें।
  • बच्चे को हल्के-फुल्के व्यायाम कराएं।

तो यह थे कुछ नुस्खे जिन्हें अपनाकर आप और बच्चों में सिर दर्द की समस्या को दूर किया जा सकता है। लेकिन, अगर समस्या ज्यादा दिनों तक बनी रहे, अगर बच्चे में सिर दर्द के साथ बुखार, उल्टी या बच्चे को सिरदर्द से नींद नहीं आ रही हो या बहुत ज्यादा नींद आ रही हो, सिर दर्द की वजह से बच्चा आंखें न खोल पा रहा हो तो डॉक्टर से तुरंत परामर्श करें। उम्मीद है कि इस लेख में बताए गए बच्चे में सिर दर्द के कारण और उपाय आपके काम आएंगे। अगर आपके पास भी कोई जानकारी है तो कमेंट बॉक्स में हमारे साथ शेयर कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें:

Diabetes: डायबिटीज क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

खाने के बाद क्यों आती है डकार ? जानिए डकार के पीछे के विज्ञान को

शिशु को डकार दिलाना क्यों हैं जरूरी?

शिशु के पाचन संबंधी 5 सामान्य समस्याएं

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    National Herbs and Spices Day: मसाले और जड़ी-बूटियां स्वास्थ्य के लिए हैं लाभकारी, जानें इनके फायदे

    जड़ी बूटियां और मसाले शरीर के लिए लाभदायक होते हैं। कुछ जड़ी बूटियां हमारे घर में ही उपस्थित होती हैं, जो कई प्रकार की बीमारियों से राहत दिलाती हैं। herbal and spices

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Bhawana Awasthi
    आहार और पोषण, स्वस्थ जीवन मई 22, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    मन को शांत करने के उपाय : ध्यान या जाप से दूर करें तनाव

    इस भागदौड़ भरी जिंदगी में मन को शांत करने के उपाय जानने बहुत जरूरी हो गए हैं। किसी के भी पास आज खुद के लिए समय बहुत कम होता है। जिससे वो तनाव का शिकार हो सकते हैं। उनके मन में हमेशा ये दुविधा रहती है कि क्या करें या क्या न करें।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Bhawana Awasthi
    मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन मई 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    सिर्फ विलेन ही नहीं हीरो का भी रोल करता है स्ट्रेस, जानें स्ट्रेस के फायदे

    स्ट्रेस के फायदे क्या हैं? क्रोनिक मानसिक तनाव से डिप्रेशन, माइग्रेन, टाइप 2 डायबिटीज, अल्जाइमर जैसे कई रोग होते हैं लेकिन थोड़ा-सा स्ट्रेस प्रोडक्टिविटी को बढ़ा सकता है। इसे गुड स्ट्रेस कहते है। Stress benefits in hindi

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shikha Patel
    हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन मई 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    जीवन में आगे बढ़ने के लिए स्ट्रेस मैनेजमेंट है जरूरी, जानें इसके उपाय

    तनाव दूर करने का उपाय क्या है? स्ट्रेस को दूर भगाने के लिए टाइम मैनेजमेंट सीखना भी जरूरी है साथ ही टू डू लिस्ट, एक्सरसाइज, विजन में स्पष्टता, दिन की अच्छी शुरुआत करें....how to reduce stress in hindi

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Smrit Singh
    मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन मई 13, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    Recommended for you

    अस्टिमिन फोर्ट

    Astymin Forte: अस्टिमिन फोर्ट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Satish Singh
    Published on जून 24, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
    Headache: सिरदर्द क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

    Headache: सिरदर्द क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Mona Narang
    Published on जून 10, 2020 . 10 मिनट में पढ़ें
    Stress : स्ट्रेस

    Stress : स्ट्रेस क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Surender Aggarwal
    Published on जून 2, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    वॉकिंग मेडिटेशन के फायदे Benefits of walk meditation

    वॉकिंग मेडिटेशन से स्ट्रेस को कैसे कर सकते मैनेज

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Mousumi Dutta
    Published on जून 1, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें