खाएं ये डेंगू आहार, जल्द ठीक हो जाएंगे आप

Medically reviewed by | By

Update Date जनवरी 31, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

डेंगू एक वायरस से होने वाली बीमारी है। इस वायरस का संक्रमण एडीज प्रजाति के मच्छर के काटने से होता है। खास बात यह है कि डेंगू फैलाने वाला एडीज मच्छर गंदे पानी की बजाय साफ पानी में पनपता है। इसलिए बरसात में गमलों, कूलरों, टायर आदि में एकत्रित हुए पानी में यह मच्छर ज्यादा पाया जाता है। डेंगू बुखार तेजी से अपने पांव पसार रहा है। यह ज्‍यादातर शहरी क्षेत्र में फैलता है। यदि डेंगू बुखार के लक्षण शुरुआत में पता चल जाएं तो इस बीमारी से बचा जा सकता है।

डेंगू कभी-कभी जानलेवा भी हो सकता है। यह बहुत जरुरी है कि जिसे डेंगू हुआ हो, वह अच्‍छी डाइट ले क्‍योंकि सही प्रकार की डाइट से आपका शरीर जल्‍दी ठीक हो सकता है।

यह भी पढ़ें : Flax Seeds : अलसी के बीज क्या है?

डेंगू क्या है ?

डेंगू (Dengue) एक वायरस है, जो एडीज इजिप्टी (Adese aegypti) मच्छर के लार में मौजूद होता है। एडीज मच्छर के काटने से यह संक्रामक रोग होता है। अंग्रेजी में इसे ब्रेक-बोन (Break-Bone Fever) यानी हड्डी तोड़ बुखार  भी कहते है।

यह भी पढ़ें ः इन आसान तरीकों से करें डेंगू से बचाव

क्या है डेंगू के लक्षण?

डेंगू से ग्रसित व्यक्ति में बहुत तेज बुखार के साथ शरीर पर लाल चकत्ते और जोड़ों के दर्द जैसे लक्षण दिखाई देते हैं। लेकिन, डेंगू के गंभीर मामलों में खून बहना और ब्लड प्रेशर में में अचानक से गिरावट आना यानी ब्लड प्रेशर का घटना य बढ़ना जैसे लक्षण भी सामने आते हैं। गंभीर मामलों में व्यक्ति की मौत भी हो जाती है। इसके अलावा जी मिचलाना तेज बुखार, उल्टी होना और कमजोरी  महसूस होना इसके लक्षण हैं ।

डेंगू का इलाज कैसे करें

  • मरीज को साधारण डेंगू बुखार है तो उसका इलाज व देखभाल घर पर किया जा सकता है। इसके अलावा, ब्लड टेस्ट और प्लेटलेट्स काउंट की जांच की जाती है।
  • डॉक्टर के परामर्श पर पैरासिटामोल ले सकते हैं।
  • एस्प्रिन (डिस्प्रिन आदि) कत्तई न लें। इनसे ब्लड प्लेटलेट्स कम हो सकते हैं।
  • अगर बुखार 102 डिग्री फारेनहाइट से ज्यादा है तो मरीज के शरीर पर ठंडे पानी की पट्टियां रखें।
  • सामान्य खाना खाने के लिए देते रहे। साथ ही पपीतेकिवी और ड्रैगन फ्रूट आदि तरह के फल देना चाहिए।
  • इन सभी चीजों के साथ मरीज को आराम करने दें।

डेंगू से बचाव के लिए क्या खाएं 

1. डेंगू आहार में खाएं संतरा

रोगी को डेंगू आहार में संतरा शामिल करना चाहिए। इस बीमारी में आपको खूब सारे संतरे खाने या इसका जूस पीना चाहिए। संतरे में एनर्जी और खूब सारा विटामिन-सी होता है। यह पाचन क्रिया मजबूत बनाता है और शरीर में एंटीबॉडी का विकास करता है। इससे बुखार जल्‍द ठीक हो जाता है। संतरा आपके शरीर के अंदर के विषाक्त पदार्थो को बाहर निकालने में मदद करता है। संतरा हर तरह से आपका डेंगू दूर करने में मदद करता है। 

2. डेंगू आहार में खाएं पपीता

पपीता तो सदियों से रोगियों के लिए रामबाण माना जाता है, अक्सर आपने देखा या सुना होगा कि डॉक्टर या आयुर्वेदिक एक्सपर्ट पपीता या पपीते के पत्तों को खाने के लिए कहते हैं। क्योंकि इसमें कई सारे औषधि गुण होते हैं, जो डेंगू जैसी बीमारी से निपटने में मददगार होते हैं।

3.दलिया और खिचड़ी डेंगू आहार में खाएं  

डेंगू रोगी के लिए सबसे अच्‍छा आहार है द‍लिया। यह शरीर को ऊर्जा देता है और आसानी से खाया भी जा सकता है। यह आसानी से पच भी जाता है। दलिया या खिचड़ी बहुत से लोगों को पसंद नहीं होती पर इसमें एक बीमार व्यक्ति के लिए बेहद लाभादायक होती है।

4. डेंगू आहार में पिएं हर्बल टी

जिन्‍हें तेज बुखार है वे हर्बल-टी पी कर आराम पा सकते हैं। इसमें अदरक, पेपरमिंट और इलायची डालकर भी पी सकते हैं। इन सभी में एंटीऑक्सिडेंट्स भरपूर मात्रा में होते है,जो डेंगू को सही करने में बेहद कारगर होते हैं। 

यह भी पढ़ें : Garcinia : गार्सिनिआ क्या है ?

5. डेंगू आहार में पिएं नारियल पानी

जब आप डेंगू बुखार से परेशान हो रहे हों, तो उस दौरान नारियल पानी पिएं। इसमें एलेक्‍ट्रोलाइट्स, मिनरल और अन्‍य जरुरी पोषक तत्‍व होते हैं, जो शरीर को मजबूत बनाते हैं। 

6.फलों का रस है डेंगू आहार में सबसे सही

डेंगू बुखार में विटामिन-सी वाले फलों का रस जरुर पीना चाहिए। यह एक ऐसा डेंगू आहार है जो शरीर के रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। विटामिन-सी, स्‍ट्रॉबेरी, अमरूद, कीवि, संतरा और पपीते में पाया जाता है। यह बैक्‍टीरिया और वायरस को भी मार भगाता है। 

7.डेंगू आहार में प्रोटीन को करें शामिल 

डेंगू बुखार के मरीज को दूध या अंडों का सेवन करना चाहिए क्‍योंकि इसमें बहुत अधिक प्रोटीन होता है। आप चाहें तो चिकन और मीट का भी सेवन कर सकते हैं। 

8.सूप:

डेंगू के दौरान हड्डियों में काफी ज्‍यादा दर्द होता है, जिसमें सूप पीने से आराम मिल सकता है। सूप पीने से पेट की भूख मिटती है और मुंह का टेस्‍ट भी बदलता है। और उसी के साथ सूप में बहुत से अलग तरीके के सब्जिया भी होती हैं, जिनसे आपको ताकत मिलती है।

9.नींबू जूस:

नींबू का रस शरीर से गंदगी बाहर कर शरीर को स्‍वस्‍थ बनाने में मदद करता है। इसी के साथ निम्बू पानी से मुंह का स्वाद भी बदलता हैं।

डेंगू में क्या नहीं खाना चाहिए?

  • ऑयली (फ्राइड) खाद्य पदार्थ- इस समय के दौरान तैलीय भोजन से बचना चाहिए। हल्के आहार का चयन करना सबसे बेहतर विकल्प है। तैलीय भोजन में बहुत अधिक वसा होता है जिससे उच्च रक्तचाप (हाई ब्लड प्रेशर) और उच्च कोलेस्ट्रॉल (हाई कोलेस्ट्रॉल) हो सकता है।
  • कैफीन युक्त पेय पदार्थ- इस समय के दौरान शरीर को तरल पदार्थों की आवश्यकता होती है लेकिन, कैफीनयुक्त पेय पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए। इन ड्रिंक्स की वजह से हृदय गति, थकान और मांसपेशियों की समस्या शुरू हो सकती है। यह आपकी रिकवरी में बाधा डाल सकता है, इसलिए इनका सेवन न करें।
  • मसालेदार भोजन- डेंगू के मरीजों स्पाइसी फूड का सेवन बिलकुल भी नहीं करना चाहिए। इससे पेट में एसिड की समस्या हो सकती है। कभी-कभी ज्यादा मसालेदार खाने की वजह से अल्सर भी हो सकता है। एक बीमारी से लड़ते-लड़ते मसालेदार खाने की वजह से आप दूसरी बीमारी को न्योता दे सकते हैं।

आप इन सभी दिए गए आहारों से डेंगू कइ बुखार में खा सकते हैं। ये सब चीज़े न सिर्फ डेंगू के वक़्त खाने में सुरक्षित है पर आपके डेंगू बुखार को काम करने हेतु भी मदद करता हैं। इसीलिए डेंगू बुखार के वक़्त यह सभी आहार आराम से बिना किसी संकोच के आप खा सकते हैं। 

और पढ़ें : 

जानें डेंगू टाइमलाइन और इससे जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य

डेंगू (डेंगी) के लक्षण और उपाय को जानने के लिए क्विज खेलिए

किडनी की बीमारी कैसे होती है? जानें इसे स्वस्थ रखने का तरीका

खून से जुड़ी 25 आश्चर्यजनक बातें जो आप नहीं जानते होंगे

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    बच्चों में पिनवॉर्म की समस्या और इसके घरेलू उपाय

    जानिए बच्चों में पिनवॉर्म in Hindi, बच्चों में पिनवॉर्म क्या है, बच्चों के पेट में कीड़े के कारण, बच्चों के पेट में कीड़े के लक्षण, bachcho me Pinworm के घरेलू उपाय।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Ankita Mishra
    बच्चों की देखभाल, पेरेंटिंग अप्रैल 13, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

    Boneset: बोनसेट क्या है?

    जानिए बोनसेट की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, बोनसेट उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Boneset डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Anu Sharma
    जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल मार्च 24, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    घर में ही बनाएं मच्छर मारने की दवा, आसान है प्रॉसेस

    मच्छर मारने की दवा क्या है, मच्छर मारने की दवा का उपयोग कैसे करें, नेचुरल तरीके से मच्छर कैसे भगाएं, मच्छर की बीमारियां, natural mosquito killer in Hindi

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shayali Rekha
    हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन मार्च 24, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

    ये 100 से कम कैलोरी वाले 12 फूड वजन घटाने में करेंगे मदद

    कम कैलोरी वाले फूड क्या हैं, कम कैलोरी वाले फूड कौन से हैं, वजन कम करने वाले फूड, कितनी कैलोरी लेना चाहिए, 100 calories food in Hindi.

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shayali Rekha
    आहार और पोषण, स्वस्थ जीवन मार्च 16, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    Recommended for you

    child labour effects - चाइल्ड लेबर के दुष्प्रभाव, बाल श्रम

    बच्चों के विकास का बाधा बन सकता है चाइल्ड लेबर, जानें कैसे

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Surender Aggarwal
    Published on मई 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    डेंगू हेमरेज फीवर

    जानलेवा हो सकता है डेंगू हेमरेज फीवर, जानें इसके कारण, लक्षण और उपचार

    Written by Mona Narang
    Published on मई 16, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    आईसीयू में बच्चे की देखभाल

    कैसे करें आईसीयू में एडमिट बच्चे की देखभाल?

    Written by shalu
    Published on मई 13, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    ग्रोइंग-पेन

    बच्चों में ग्रोइंग पेन क्या होता है?

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shivam Rohatgi
    Published on अप्रैल 28, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें