आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

पैरासाइट इंफेक्शन (Parasites infection) के ये लक्षण कहीं आप में तो नहीं?

    पैरासाइट इंफेक्शन (Parasites infection) के ये लक्षण कहीं आप में तो नहीं?

    परजीवी अन्य होस्ट जीवों (Host organisms) में रहते हैं और जीवित रहने के लिए उन पर निर्भर हैं। होस्ट के बिना पैरासाइट जीवित नहीं रह सकते और ना ही वृद्धि कर सकते हैं ना मल्टिपाय हो सकते हैं। ये पैरासाइट इंफेक्शन (Parasites infection) का कारण बनते हैं। जिसके बारे में इस आर्टिकल में बताया जाएगा। साथ ही पैरासाइट इंफेक्शन के लक्षण और ट्रीटमेंट के बारे में भी जानकारी दी जाएगी।

    पैरासाइट कितने प्रकार के होते हैं? (Types of Parasites)

    पैरासाइट की कई किस्में होती हैं। कुछ आंखों से दिखाई देते हैं जैसे कि मलेरिया पैरासाइट जबकि कुछ को आंखों से देख पाना मुश्किल होता है। पैरासाइट कोई बीमारी नहीं है, लेकिन ये बीमारियों को फैला सकते हैं। अलग पैरासाइट का प्रभाव अलग होता है। तीन प्रकार के पैरासाइट्स होते हैं। जो निम्न हैं।

    प्रोटोजोआ (Protozoa)

    प्रोटोजोआ एकल-कोशिका वाले जीव हैं (Single-celled organisms) जो मनुष्यों में जाकर मल्टिपाय हो सकते हैं। ये परजीवी दूषित भोजन और पानी, व्यक्ति से व्यक्ति के संपर्क और कीड़े के काटने से फैल सकते हैं। प्रोटोजोआ में प्लास्मोडियम मलेरिया (Plasmodium malaria) शामिल है, जो मलेरिया संक्रमण का कारण बनता है, और क्रिप्टोस्पोरिडियम जो निगलने योग्य (Ingestible) है।

    और पढ़ें: विश्व मच्छर दिवस: जानें किस वजह से पड़ी इस दिन को मनाने की जरूरत और रोचक तथ्य

    हेल्मिन्थस (Helminths)

    इसे हिंदी में कृमि या पेट का कीड़ा कहते हैं। यह व्यक्ति के डायजेस्टिव ट्रैक्ट में पाया जाता है। ये पैरासाइट हृयूमन बॉडी में मल्टिप्लाय या डिवाइड नहीं हो पाते हैं और ये स्टूल के जरिए बाहर निकल जाते हैं। इनमें हूकवॉर्म (Hookworm) और एसकेरिस लम्ब्रिकोइस (Ascaris lumbricoidesand) पैरसाइट शामिल हैं।

    एक्टोपैरासाइट्स (Ectoparasites)

    पैरासाइट इंफेक्शन (Parasites infection)

    ये छोटे ऑर्गानिज्म हैं जो बॉडी के बाहर रहते हैं। इनमें इनमें टिक, पिस्सू और जूं शामिल हैं

    पैरासाइट इंफेक्शन के लक्षण (Parasite infection symptoms)

    जैसा कि आप जान ही चुके हैं कि कई प्रकार के पैरासाइट्स होते हैं तो पैरासाइट इंफेक्शन के लक्षण अलग-अलग हो सकते हैं। कई बार ये दूसरी कंडिशन जैसे कि निमोनिया या फूड पॉइजनिंग की तरह लग सकते हैं। संभावित लक्षणों में निम्न शामिल हैं।

    • त्वचा पर दानें या चकत्ते
    • वजन कम होना, भूख बढ़ना या दोनों
    • एब्डोमिनल पेन
    • उल्टी, दस्त
    • सोने में परेशानी
    • एनीमिया
    • दर्द
    • एजर्लीज
    • कमजोरी और सामान्य तौर पर अच्छा ना लगने का एहसास
    • बुखार

    हालांकि पैरासाइट कई विभिन्न प्रकार की कंडिशन का कारण बन सकते हैं इसलिए लक्षणों को प्रिडिक्ट करना बहुत मुश्किल है। पैरासाइट इंफेक्शन (Parasites infection) के बाद अक्सर कोई लक्षण नहीं होते हैं, या लक्षण संक्रमण के लंबे समय बाद दिखाई देते हैं, लेकिन पैरासाइट अभी भी किसी अन्य व्यक्ति को संक्रमित कर सकता है, जो लक्षण विकसित कर सकता है।

    पैरासाइट इंफेक्शन को डायग्नोस कैसे किया जाता है? (Parasite infection diagnosis)

    पैरासाइट इंफेक्शन (Parasites infection) को डायग्नोस करने के लिए डॉक्टर व्यक्ति की स्थिति, लक्षण और दूसरी मेडिकल कंडिशन के आधार पर टेस्ट लिखते हैं। पैरासाइट इंफेक्शन के लिए निम्न टेस्ट आमतौर पर उपयोग किए जाते हैं।

    मल परीक्षण (Stool test)

    यदि किसी व्यक्ति को दस्त, गैस या पेट के अन्य लक्षण हैं, और डॉक्टर को पैरासाइट इंफेक्शन का खतरा लगता है तो तीन या अधिक स्टूल के सैम्पल अलग-अलग दिनों में एकत्र किए जा सकते हैं और पैरासाइट या पैरासाइट एग्स की जांच की जा सकती है।

    एंडोस्कोपी (Endoscopy)

    यदि स्टूल सैम्पल में पैरासाइट नहीं पाए जाते हैं, डॉक्टर पैरासाइट इंफेक्शन (Parasites infection) का पता लगाने के लिए एंडोस्कोप नामक एक पतली ट्यूब को मुंह के माध्यम से आंतों में डाल सकते हैं। इसे एंडोस्कोपी कहा जाता है।

    और पढ़ें: कीड़ों से होने वाला अर्बोवायरस (Arbovirus) इंफेक्शन हो सकता है जानलेवा!

    कोलोनोस्कोपी (Colonoscopy)

    एंडोस्कोपी के विकल्प के रूप में, पैरासाइट का पता लगाने के लिए मलाशय के माध्यम से आंतों में एक ट्यूब डाली जा सकती है।

    रक्त परीक्षण (Blood test)

    एक विशिष्ट पैरासाइट इंफेक्शन (Parasites infection) का पता लगाने के लिए डॉक्टर ब्लड टेस्ट कर सकता है। सीरोलॉजी (Serology) एक रक्त परीक्षण (Blood test) है जो एंटीबॉडी या परजीवी एंटीजन को इंगित करता है। एक अन्य परीक्षण है ब्लड स्मियर है, जहां एक माइक्रोस्कोप के जरिए पैरासाइट का पता लगाने के लिए ब्लड ड्रॉप की जांच की जाती है।

    इमेजिंग टेस्ट (Imaging test)

    एक एक्स-रे किसी व्यक्ति के अंगों में परजीवी से जुड़े घावों का पता लगाने में मदद कर सकता है। अंगों की अधिक विस्तृत छवियों के लिए, एक डॉक्टर मेग्नेटिक रेजोनेंस इमेजिंग (एमआरआई) स्कैन या कंप्युटराइज्ड एग्जियल टोमोग्राफी (Computerized axial tomography) कराने के लिए कह सकते हैं।

    पैरासाइट इंफेक्शन का इलाज कैसे किया जाता है? (Parasite infection treatment)

    पैरासाइट इंफेक्शन का इलाज पैरासाइट के प्रकार पर निर्भर करता है। डॉक्टर्स ऐसी दवा को प्रिस्क्राइब कर सकते हैं जो पैरासाइट को मार सके या फिर वे लक्षणों से राहत दिलाने वाली दवाएं भी लिख सकते हैं जैसे कि डायरिया के लिए दवा। नीचे कुछ मेडिकेशन की जानकारी दी जा रही है जो कई प्रकार के पैरासाइट इंफेक्शन में यूज की जाती हैं, लेकिन किसी भी दवा का उपयोग डॉक्टर की सलाह के बिना ना करें।

    और पढ़ें: KOH Exam For Fungal Infections: फंगल इंफेक्शन के लिए केओएच एक्जाम कैसे किया जाता है?

    मेट्रोनिडाजोल (Metronidazole)

    यह एंटीबायोटिक गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट या प्रजनन प्रणाली में होने वाले पैरासाइट इंफेक्शन (Parasites infection) को खत्म कर सकती है, जिसमें अमीबियासिस (Amebiasis), गियार्डियासिस (Giardiasis), ट्राइकोमोनिएसिस (Trichomoniasis) और योनि संक्रमण (Vaginal infections) शामिल हैं।

    आईवरमेक्टिन (Ivermectin)

    यह एक ओरल टैबलेट, क्रीम या लोशन के रूप में उपलब्ध है और आंतों के मार्ग, आंखों या त्वचा में होने वाले पैरासाइट इंफेक्शन का इलाज करती है, जिसमें खुजली और कई प्रकार के कीड़े शामिल हैं।

    प्राजीक्वांटेल (Praziquantel)

    यह दवा टेपवॉर्म को पैरालाइज करके डिजॉल्व कर देती है। जिससे वे आंतों की दीवार से अलग हो जाते हैं और बॉवेल मूवमेंट के जरिए शरीर छोड़ देते हैं।

    क्लोरोक्वीन (Chloroquine)

    यह मलेरिया के इलाज के लिए इस्तेमाल की जाने वाली मुख्य दवाओं में से एक है।

    निटजऑक्सिनाइड (Nitazoxanide)

    यह गैस्ट्रोइंस्टेनाइनल ट्रैक्ट में पैरासाइट इंफेक्शन के कारण होने वाले डायरिया के लक्षणों का इलाज करता है, जिसमें क्रिप्टोस्पोरिडिओसिस (Cryptosporidiosis) और गियार्डियासिस (Giardiasis) शामिल हैं।

    और पढ़ें: मलेरिया से जुड़े मिथ पर कभी न करें विश्वास, जानें फैक्ट्स

    पैरासाइट इंफेक्शन (Parasites infection) के रिस्क को कैसे कम किया जा सकता है?

    पैरासाइट इंफेक्शन का रिस्क कुछ बातों का ध्यान में रखकर कम किया जा सकता है जो निम्न प्रकार हैं।

    • जिन स्थानों या क्षेत्रों में यात्रा कर रहे हैं, उनके बारे में पता लगाए कि वहां पर कौन सा पैरासाइट फैला हुआ है हैं
    • सावधानी बरतना, जैसे कि उन जगहों पर इंसेक्ट रेपेलेंट का उपयोग करना जहां मच्छर आम हैं
    • अच्छी तरह से पकी हुई मछली और मांस खाने के लिए सावधान रहना
    • यात्रा के दौरान सीलबंद टॉप वाली बोतलों से ही पानी पीना
    • मीठे पानी की झीलों या नदियों में स्नान करते समय ध्यान रखना
    • मच्छरदानी का उपयोग करना
    • सुरक्षात्मक कपड़े पहनना जिससे इंसेक्ट बाइट से बचा जा सके
    • पानी को रुकने ना देना और रूके हुए पानी को बहाना
    • सेफ सेक्शुअल प्रैक्टिस फॉलो करना

    पैरासाइट कोई बीमारी नहीं है, लेकिन वे ऐसी बीमारियां फैला सकते हैं जो घातक हो सकती हैं। हालांकि, कई पैरासाइट इंफेक्शन्स (Parasites infection) का इलाज और रोकथाम की जा सकती है। यदि किसी व्यक्ति को त्वचा पर लाल चकत्ते, पेट में दर्द, दस्त या पैरासाइट इंफेक्शन के अन्य लक्षणों का अनुभव हो रहा है, तो उन्हें अपने डॉक्टर से बात करनी चाहिए।

    उम्मीद करते हैं कि आपको पैरासाइट इंफेक्शन (Parasites infection) से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    About parasites/https://www.cdc.gov/parasites/about.html/ Accessed on 14/06/2022

    Antiparasitic drugs/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/books/NBK544251/Accessed on 14/06/2022

    Ascariasis : https://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/ascariasis/symptoms-causes/syc-20369593/Accessed on 14/06/2022

    Maleria/ https://www.who.int/news-room/fact-sheets/detail/malaria/Accessed on 14/06/2022

    Parasitic Diseases/
    https://medlineplus.gov/parasiticdiseases.html/Accessed on 14/06/2022

    लेखक की तस्वीर badge
    Manjari Khare द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 14/06/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
    Next article: