home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

डेंगू से बचाव ही है उसका सबसे अच्छा इलाज

डेंगू से बचाव ही है उसका सबसे अच्छा इलाज
ऐसे करें डेंगू जैसी जानलेवा बीमारी से बचाव|बचाव के तरीके|मच्छरों के काटने से बचाव|घरेलू नुस्खे|ध्यान दें

ऐसे करें डेंगू जैसी जानलेवा बीमारी से बचाव

बारिश का मौसम आना वाला है। इसके साथ ही डेंगू जैसी बीमारी अपने पैर पसारने लग जाएगी। अगर ऐसे वक्त में आपको अचानक तेज बुखार, शरीर में लाल रैशेस, बदन दर्द, सिर दर्द, मांसपेशियों व जोड़ों में जबरदस्त दर्द होने लगे तो बिना देर किए डॉक्टर को दिखाएं क्योंकि ये लक्षण डेंगू के हो सकते हैं। यूं तो डेंगू जैसी बीमारी को कोई खास इलाज है नहीं और डॉक्टर्स हमेशा इसके लक्षणों को कम करने की दवाई देते हैं। डब्ल्यूएचओ (WHO) की रिपोर्ट के मुताबिक डेंगू से बचाव ही इसका सबसे अच्छा इलाज है। ऐसे में इससे बचाव के लिए कदम उठाना बेहद जरूरी है।

डेंगू जैसे वायरस जनित रोगों का वातावरण परविर्तन से गहरा रिश्ता है। कुछ मौसम में ये बीमारी तेजी से फैलती है और मौसम अनुसार खुद-ब-खुद फैलना बंद हो जाती है। यह बीमारी ब्राजील जैसे देश में सर्वाधिक होती है, जहां तापमान और उमस की अधिकता होती है। भारत में भी कई राज्यों में डेंगू तेजी से फैलता है।

बचाव के तरीके

नोट- यह जानकारी किसी भी स्वास्थ परामर्श का विकल्प नहीं हैं। हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

डब्लयूएचओ की रिपोर्ट के मुताबिक डेंगू से बचाव के दो ही उपाय हैं। एडीज मच्छरों को पैदा होने से रोकना। एडीज मच्छरों के काटने से बचाव करना।

मच्छरों को पैदा होने से रोकने के उपाय

– अपने ऑफिस, घर या काम की जगह के आसपास पानी जमा न होने दें, गड्ढों को मिट्टी से भर दें, रुकी हुई नालियों को साफ करें। क्योंकि रूका हुआ पानी डेंगू के मच्छरों का घर बनता है।

– अगर पानी जमा होने से रोकना मुमकिन नहीं है, तो उसमें पेट्रोल या केरोसिन (मिट्टी तेल) ऑयल डालें।

– अपने घरों में लगे कूलरों, पानी की खुली टंकियों का सारा पानी हफ्ते में एक बार पूरी तरह से खाली करें, उन्हें सुखाएं और फिर भरें। घर में टूटे-फूटे डिब्बे, टायर, बर्तन, बोतलें आदि न रखें। अगर रखें तो उलटा करके रखें, क्योंकि इनमें पानी भर सकता है।

– डेंगू के मच्छर साफ पानी में पनपते हैं, इसलिए पानी की टंकी को अच्छी तरह बंद करके रखें।

– अगर मुमकिन हो तो खिड़कियों और दरवाजों पर जाली लगवाकर मच्छरों को घर में आने से रोकें।

– मच्छरों को भगाने और मारने के लिए मच्छरनाशक क्रीम, स्प्रे, मैट्स, कॉइल्स आदि इस्तेमाल करें।

– घर के अंदर सभी जगहों में हफ्ते में एक बार मच्छरनाशक दवा का छिड़काव जरूर करें। यह दवाई बेड, सोफा, टेबल आदि के नीचे और घर के कोनों पर जरूर छिड़कें। दवाई छिड़कते वक्त अपने मुंह और नाक पर कोई कपड़ा जरूर बांधें। साथ ही, खाने-पीने की सभी चीजों को ढककर रखें।

यह भी पढ़ें : Green Coffee : ग्रीन कॉफी क्या है?

मच्छरों के काटने से बचाव

– मच्छरों की रोकथाम के बाद दूसरा बचाव है उनके काटने से, क्योंकि कई सावधानियों के बावजूद डेंगू के मच्छर कहीं न कहीं पनप जाते हैं। इसलिए ऐसे कपड़े पहने, जिससे शरीर का ज्यादा-से-ज्यादा हिस्सा ढका रहे। खासकर बच्चों के लिए यह सावधानी बहुत जरूरी है। बच्चों को बरसात के सीजन में फुल कपड़े पहनाएं

  • बच्चों को मच्छर भगाने की क्रीम लगाएं।
  • रात को सोते समय मच्छरदानी लगाएं।

डेंगू से बचाव के लिए इन टिप्स को करें फॉलो

  • ठंडा पानी न पिएं
  • मैदा और बासी खाने का सेवन न करें
  • डेंगू से बचाव के लिए जरूरी है कि फिजिकली फिट रहें
  • अच्छा खाना व पानी पिएं
  • विटामिन सी युक्त चीजों जैसे आंवला, संतरा या मौसमी का सेवन करें। यह आपके इम्यून सिस्टम को दुरुस्त रखने में मदद करते हैं।
  • भरपूर नींद लें
  • खाने में हल्दी, अदरक, हींग, अजवाइन को शामिल करें
  • ऐसा खाने का सेवन करें जो आसानी से पच सके
  • पानी को उबालकर पीना अच्छा होता है
  • मिर्च मसाले वाले खाने से दूर रहें
  • जितनी भूख हो उससे कम खाएं
  • छाछ, नारियल पानी, नीबू पानी पिएं

यह भी पढ़ें : Green Tea : ग्रीन टी क्या है ?

घरेलू नुस्खे

डेंगू से बचाव के लिए घरेलू नुस्खे

  • खाने में हल्दी का इस्तेमाल करें। कोशिश करें सुबह आधा चम्मच हल्दी को पानी के साथ रात को आधा चम्मच हल्दी दूध के साथ लें। यदि आपको जुकाम या कफ है तो हल्दी को पानी के साथ ही लें।
  • नाक के अंदर की तरफ सरसों का तेल लगाकर रखें। इससे तेल की चिकनाहट बाहर से बैक्टीरिया को नाक के अंदर जाने से रोकती है।
  • आठ-दस तुलसी के पत्तों का रस शहद के साथ मिलाकर लें या तुलसी के 10 पत्तों को पौने गिलास पानी में उबालें, जब वह आधा रह जाए तब उस पानी को पीएं।
  • तुलसी और शहद का प्रयोग करने से भी डेंगू से बचाव किया जा सकता है। इसके लिए तुलसी को पानी में उबालकर इसमें शहद मिलाकर पिया जाता है। तुलसी में एंटी बैक्टीरियल गुण कई बीमारियों से बचाव में सहायक है।
  • मेथी का सेवन करें। डेंगू से बचाव में यह भी काफी मददगार हैं। इसका इस्तेमाल करने से शरीर से सभी विषाक्त पदार्थ बाहर निकल आते हैं। इसके अलावा मेथीदाने का प्रयोग भी किया जा सकता है।
  • डेंगू के इलाज के लिए पपीते के पत्तों को काफी फायदेमंद माना जाता है। इसके लिए सबसे पहले पत्तों का रस निकाला जाता है। इस रस को दिन में दो बार दो चम्मच लेकर डेंगू से बचाव किया जाता है।

यह भी पढ़ें:यूपी के 11 जिले जानलेवा मलेरिया की चपेट में, जानें मलेरिया के लक्षण

ध्यान दें

इन दिनों बुखार होने पर सिर्फ पैरासिटामोल (क्रोसिन, कैलपोल आदि) लें। एस्प्रिन (डिस्प्रिन, इकोस्प्रिन) या एनॉलजेसिक (ब्रूफिन, कॉम्बिफ्लेम आदि) बिल्कुल न लें। क्योंकि अगर डेंगू है तो एस्प्रिन या ब्रूफिन आदि लेने से प्लेटलेट्स कम हो सकती हैं और शरीर से ब्लीडिंग शुरू हो सकती है। अगर किसी को डेंगू हो गया है तो उसे मच्छरदानी के अंदर रखें, ताकि मच्छर उसे काटकर दूसरों में बीमारी न फैलाएं।

निष्कर्ष- डेंगू का मेडिकल साइंस में कोई खास इलाज नहीं है। इसके लक्षणों कम किया जा सकता है और यह समय के साथ ठीक होता है। कई मामलों में ये बीमारी जानलेवा साबित होती है। ऐसे में सबसे बेहतर इलाज है इस बीमारी को होने से रोकना। ना इसके मच्छरों को पनपने दें और ना इसकी चपेट में आएं।

हम आशा करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। हैलो हेल्थ के इस आर्टिकल में डेंगू से बचाव के तरीके बताए गए हैं। यदि आपका इससे जुड़ा कोई सावाल है तो आप हमसे कमेंट कर पूछ सकते हैं। हम आपने एक्सपर्ट से आपके प्रश्न का उत्तर पूछकर जरूर बताएंगे। अगर आपकी या आपके किसी करीबी को डेंगू हुआ है , तो कृपया अपने डॉक्टर से परामर्श लेने में देरी न करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप Hello Health Group किसी भी तरह के चिकित्सा परामर्श और इलाज नहीं देता है।

और पढ़ें :

Guava: अमरूद क्या है?

Anorexia : एनोरेक्सिया क्या है? इसके लक्षण और इलाज

Bay: तेज पत्ता क्या है?

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
Dr. Pooja Bhardwaj के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Piyush Singh Rajput द्वारा लिखित
अपडेटेड 10/07/2019
x