home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

डेंगू ही नहीं इन 5 बीमारियों में भी हैं कीवी के फायदे

डेंगू ही नहीं इन 5 बीमारियों में भी हैं कीवी के फायदे

जानिए कीवी के फायदे क्या हैं?

कीवी एक ऐसा फल है जिसके औषधीय गुण बहुत है साथ ही कई बीमारियों में भी कीवी के फायदे देखें जाते हैं।। स्वाद में थोड़ा खट्टा-मीठा ये फल कई बीमारियों में असरदार तरीके से काम करता है। कीवी फल का इस्तेमाल ना सिर्फ बीमारियों से लड़ने के लिये बल्कि खाना पकाते समय गोश्त को नरम करने के लिये भी होता है। कई स्पोर्ट्स ड्रिंक में भी कीवी को एक सामग्री के रूप में प्रयोग किया जाता है। इतना ही नहीं कीवी के औषधीय गुण कई बड़ी बीमारियों को भी दूर भगाने में मदद करते हैं। आज हम आपको ऐसी ही कुछ बीमारियों के बारे में बताएँगे जिसे ठीक करने के लिए किसी बड़े डॉक्टर या महँगी दवाइयों की जरूरत नहीं बल्कि वो सब कीवी के सेवन से ठीक हो सकते हैं।

कीवी में मौजूद विटामिन-सी, विटामिन-के, विटामिन-ई, फोलेट, फाइबर और पोटेशियम जैसे पोषक तत्व के साथ-साथ एंटीऑक्सिडेंट होता है। इस फल में मौजूद छोटे काले बीज को आसानी से खाया जाता है। इसके सेवन शरीर में खून की कमी दूर होती है।

और पढ़ें : Rosemary : रोजमेरी क्या है?

1.अस्थमा से पड़ता है हांफना, तो कीवी से करो सामना :

अस्थमा के रोग में कीवी के फायदे देखें जाते हैं। कीवी के फल में विटामिन-सी और ऐंटीआक्सिडंट प्रचुर मात्रा में पाये जाते हैं। एक अध्ययन के अनुसार इन काम्पाउंडस की वजह से अस्थमा के रोगियों को लाभ पहुंच सकता है। एक अध्ययन में ये पाया गया है कि अगर नियमित रूप से प्रतिदिन, ताजे कीवी फल का सेवन रोगी सही मात्रा में करे तो उसके फेफड़ों की कार्य क्षमता में वृद्धि होगी। बहुत ही संवेदनशील बच्चों में कीवी खाने से घबराहट भी कम होने कि बात रिसर्च में की गई है।

2.कीवी के फायदे ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने में :

कीवी फल ना सिर्फ हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है बल्कि रक्तचाप को भी बढ़ने से रोकता है। 2014 में किए गए एक शोध से हमें ये पता चलता है कि कीवी फल में उपस्थित बायो-एक्टिव पदार्थ रक्तचाप को नियंत्रित करने में बहुत ही उपयोगी होते हैं। दिन में एक सेब खाने से होने वाले फायदे की अपेक्षा तीन कीवी खाने से ब्लड प्रेशर ज्यादा नियंत्रण में रहता है। लम्बे समय तक कीवी के सेवन से उच्च रक्तचाप, दिल का दौरा और स्ट्रोक की सम्भावना कम हो जाती हैं।

3.कीवी के फायदे- ब्लड क्लॉट होने का खतरा होता है कम:

ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने के साथ-साथ कीवी के फायदे ब्लड क्लॉट की संभावना को भी कम करने में है। यूनिवर्सिटी ऑफ ओस्लो के द्वारा किये गये रिसर्च के अनुसार दो से तीन कीवी रोजाना खाने से ब्लड क्लॉट नहीं होता है। यही नहीं इसके सेवन से ब्लड में मौजूद फैट भी कम होता है। ब्लड क्लॉट की समस्या होने पर डॉक्टर स्प्रिन दवा लेने की सलाह देते हैं। अगर आप ब्लड क्लॉट की समस्या से बचना चाहते हैं तो कीवी का सेवन नियमित करें। इसके सेवन से दिल भी स्वस्थ रहता है।

और पढ़ें : Royal Jelly: रॉयल जेली क्या है?

4.कीवी के फायदे – नजर को न लगे नजर :

मैक्यूलर डिजेनरेशन खराब नजर का प्रमुख कारण है। इस कारण की वजह से दिखाई देने में परेशानी हो सकती है। हालांकि आप इससे बच सकते हैं और इसका उपाय है कीवी। एक अध्ययन के अनुसार कीवी के सेवन से मैक्यूलर डिजेनरेशन में 36% तक की कमी आती है। किवी फल में जीजैंथीन और ल्युटिन का उच्च स्तर मैक्यूलर डिजेनरेशन को कम करने में सहयोग करता है।

5.कीवी के फायदे – पथरी पर असर :

कीवी फल में पोटेशियम की मात्रा बहुत होती है। उच्च पोटेशियम इंटेक स्ट्रोक, मांसपेशियों की परेशनियाँ, बोन मिनरल डेन्सिटी के नुकसान और गुर्दे में पथरी होने से रोकता है।

6.कीवी के फायदे कब्ज की पकड़े नब्ज :

कई अध्ययनों ने बताया है कि कीवी का उपयोग आहार पूरक के रूप में किया जा सकता है, विशेष रूप से कब्ज का अनुभव करने वाले व्यक्तियों के लिए यह बहुत ही लाभकारी होता है । किवी फल के नियमित सेवन से मल त्याग करने में काफी आसानी रहती है।

7.कीवी के फायदे- इम्यून सिस्टम होता है स्ट्रॉन्ग:

कीवी के फायदे में शामिल है स्ट्रॉन्ग इम्यून सिस्टम। कीवी में न्यूट्रिशन और विटामिन-सी की मौजूदगी आपके इम्यून सिस्टम को सट्रॉन्ग करने में मददगार होता है। इम्यून सिस्टम स्ट्रॉन्ग होने की वजह से किसी भी बीमारी का खतरा टल सकता है और बीमारियों से लड़ने की क्षमता भी बढ़ सकती है। एक रिसर्च के अनुसार कीवी के नियमित सेवन से सर्दी-जुकाम या फ्लू जैसी अन्य परेशानी या बीमारी का भी खतरा टल सकता है। इसका सेवन बच्चों के साथ-साथ बुजुर्गों को भी करना चाहिए।

कीवी फल विटामिन-सी का भरपूर स्रोत है। यह एक लो-कैलोरी फल है।इसमें वसा की मात्रा भी कम है। परंतु इसके अधिक सेवन से शरीर में विभिन्न प्रकार की जटिलता और उलझने शुरू हो सकती हैं। यूँ तो कीवी फल कितनी मात्रा में लेना चाहिए इसके बारे कही वैज्ञानिक रूप बताया नहीं गया है परंतु इसे आप अपने विवेक और समझदारी से एक संतुलित मात्रा में ले सकते हैं।

और पढ़ें : सेहत के लिए शुगर या शहद के फायदे?

हेल्थ एक्सपर्ट के अनुसार वयस्क लोगों को एक दिन में दो से तीन कीवी का सेवन करना चाहिए। अगर आप ऐसा नहीं कर पा रहें हैं, तो इससे बने रेसिपी का भी विकल्प अपना सकते हैं। आप इसे अपने ब्रेकफास्ट के दौरान खा सकते हैं या फिर दही के ऊपर इसके कटे हुए स्लाइस का सेवन कर सकते हैं। आप चाहें तो स्ट्रॉबेरी कीवी स्मूदी, बनाना कीवी फ्रूट सलाद या कीवी और लाइम से बने सूप या फिर आप अपने फ्लेवर के अनुसार इसका सेवन कर सकते हैं।

वैसे तो कीवी के फायदे होते हैं लेकिन, कभी-कभी किसी-किसी व्यक्ति को इसका सेवन नहीं करना चाहिए। क्योंकि कुछ लोगों को इससे एलर्जी भी हो सकती है। वैसे लोग जिन्हें गले में खरास या खुजली, जीभ में सूजन की समस्या, खाना निगलने में परेशानी या उल्टी जैसी परेशानी होती है, तो इसका सेवन नहीं करना चाहिए। जिन लोगों को इसके सेवन से एलर्जी होती है उन्हें हेजलनट, एवोकैडो, लैटेक्स या पॉपे सीड का सेवन नहीं करना चाहिए। यह भी ध्यान रखें की अगर आपको ब्लीडिंग डिसऑर्डर की समस्या है तो कीवी का सेवन न करें।

अगर आप कीवी के फायदे या सेवन से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा। हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

7 Health Benefits of Kiwi/https://www.healthline.com/Accessed on 20/01/2020

What are the health benefits of kiwifruit?/https://www.medicalnewstoday.com/articles/271232.php/Accessed on 20/01/2020

KIWI/https://www.webmd.com/vitamins/ai/ingredientmono-944/kiwi/Accessed on 20/01/2020

Kiwi/https://www.betterhealth.vic.gov.au/health/ingredientsprofiles/Kiwi/Accessed on 20/01/2020

Effects of kiwi fruit consumption on platelet aggregation and plasma lipids in healthy human volunteers./https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/15370099/Accessed on 20/01/2020

लेखक की तस्वीर
Pawan Upadhyaya द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 12/04/2021 को
Dr. Pooja Bhardwaj के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड