home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

ब्लड प्रेशर की है समस्या, ऐसे करें घर पर ही बीपी चेक

ब्लड प्रेशर की है समस्या, ऐसे करें घर पर ही बीपी चेक

ब्लड प्रेशर की बीमारी आज के समय में बहुत आम है। हाई ब्लड प्रेशर से हार्ट अटैक का खतरा भी हो सकता है। इस बीमारी से जूझते लोगों को हर थोड़ी देर में अपना ब्लड प्रेशर चेक करते रहने की जरूरत होती है। डॉक्टर भी हाई ब्लड प्रेशर वाले मरीजों निश्चित समय पर घर पर ही ब्लड प्रेशर जांचते रहने की सलाह देते हैं। ऐसा करते समय जरूरी कि आप अपने रक्तचाप के उतार-चढ़ाव का रिकॉर्ड रखें। यही डेटा आगे चलकर डॉक्टर को आप की हेल्थ कंडिशन को समझने में मददगार होगा। अगर आप अपने ब्लड प्रेशर को कंट्रोल में रखने के लिए कोई दवा ले रहे हैं, तो यह भी अंदाजा लगाना आसान हो जाएगा कि वह दवा कितनी असरदार है।

ब्लड प्रेशर हाई और लो ब्लड प्रेशर दोनों हो सकता है। ब्लड प्रेशर नॉर्मल 120/80 होता है लेकिन, इससे ज्यादा बढ़ना या कम होना शारीरिक परेशानी शुरू करने के साथ-साथ कई सारी बीमारियों को दस्तक देने के लिए भी काफी है।

और पढ़ें: वेट लॉस से लेकर जॉइंट पेन तक, जानिए क्रैब वॉकिंग के फायदे

ब्लड प्रेशर चेक करने के लिए किस उपकरण की होगी जरूरत

घर बैठे ब्लड प्रेशर चेक करने के दो तरीके है :

  1. मैन्युअल मॉनिटर
  2. डिजिटल

और पढ़ें: जानें कैसे स्वेट सेंसर (Sweat Sensor) करेगा डायबिटीज की पहचान

ऐसा मॉनिटर चुनें, जो आपकी जरूरतों पर सटीक बैठता हो। मॉनिटर खरीदते समय आप को इन विशेषताओं का ध्यान रखना जरूरी है:

  • आकर (Size) : मशीन खरीदते वक्त ध्यान रखें कि कफ साइज आपकी बाहों के नाप से मिलता जुलता हो। आप अपने डॉक्टर, नर्स या फार्मासिस्ट की मदद ले सकते हैं।अगर आप की मशीन का कफ साइज गलत होगा, तो आपको ब्लड प्रेशर की रीडिंग भी गलत मिलेगी।
  • कीमत : कीमत भी विशेष किरदार निभाती है। घरेलू ब्लड प्रेशर मापने की मशीनें अलग-अलग दाम पर बाजार में मौजूद हैं। आपको सही दाम में मशीन खरीदने के लिए कई मशीनों के दाम की तुलना करनी होगी। ध्यान रहे कि मशीन का बेहतर होना उसकी कीमत पर निर्भर नहीं करता।
  • डिस्प्ले : मॉनिटर पर दिखाए जाने वाले अंक आपको आसानी से समझ आने चाहिए।
  • साउंड : स्टेथोस्कोप के जरिए दिल की धड़कन सुनने में कोई परेशानी नहीं आनी चाहिए।

हायपरटेंशन के बारे में जानने के लिए देखें ये 3डी मॉडल:

और पढ़ें: खतरा! वजन नहीं किया कम तो हो सकते हैं हृदय रोग के शिकार

मैन्युअल मॉनिटर :

मैन्युअल मॉनिटर से आप रक्तचाप को मैन्युअल रूप से जांच सकते हैं। इसमें एक गेज होता है, जिसे आप डायल पर एक पॉइंटर को देखकर पढ़ते हैं। कफ आपके ऊपरी बांह के चारों ओर लपेटते हैं, एक रबर का बलून होता है, जिसे हाथ से दबाना होता है।

एनीरॉयड मॉनिटर डिजिटल मॉनिटर की तुलना में सस्ते होते हैं। कफ में एक स्टेथोस्कोप लगा होता है, जिसके कारण अलग से दूसरा स्टेथोस्कोप खरीदना जरूरी नहीं। कफ एक हाथ से भी लगाया जा सकता है। इसके अलावा, यह पोर्टेबल होता है और आसानी से एक जगह से दूसरी जगह ले जाया जा सकता है।

मैन्युअल मॉनिटर की कमियां

हालांकि, एनीरॉयड मॉनिटर में कुछ कमियां हैं। यह एक जटिल उपकरण है, जो जल्द ही खराब हो जाता है, जिसके बाद गलत रीडिंग बताता है। कफ ठीक से पहनने के लिए एक मेटल रिंग का होना बहुत जरूरी है। अगर वह रिंग न हो, तो डिवाइस का इस्तेमाल करना मुश्किल हो जाता है। इसके अलावा, अगर रबर बलून सख्त होता है, तो उसे दबाना भी मुश्किल हो जाता है। अगर किसी को सुनने में दिक्कत होती है, तो स्टेथोस्कोप के माध्यम से दिल की धड़कन सुनना भी मुश्किल हो सकता है।

और पढ़े Spironolactone : स्पिरोनोलैक्टोन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

डिजिटल मॉनिटर

ब्लड प्रेशर चेक करने के लिए डिजिटल मॉनिटर ज्यादा लोगों की पसंद है। यह मैन्युअल मॉनिटर की तुलना में आसानी से इस्तेमाल किए जा सकते हैं। इसमें एक एरर इंडिकेटर भी होता है। ब्लड प्रेशर रीडिंग स्क्रीन पर दिखाई देती है। कुछ डिवाइस में तो पेपर प्रिंटआउट के जरिए आप की रीडिंग बताई जाती है।

मॉडल के आधार पर, कफ की बनावट या तो स्वचालित या मैनुअल होती है। डिजिटल मॉनिटर श्रवण-बाधित (कम सुनने वाले) लोगों के लिए अच्छे हैं, क्योंकि ऐसी डिवाइस में स्टेथोस्कोप के माध्यम से दिल की धड़कन को सुनने की कोई आवश्यकता नहीं होती है।

डिजिटल मॉनिटर की कमियां

वहीं, डिजिटल मॉनिटर में भी कुछ कमियां हैं। शरीर की हलचल या अनियमित हृदय गति इसकी सटीकता को प्रभावित कर सकती है। कुछ मॉडल केवल बाएं हाथ पर काम करते हैं। इसके अलावा, डिजिटल मॉनिटर बहुत महंगे होते हैं और उन्हें बैटरी की भी आवश्यकता होती है।

घर पर ब्लड प्रेशर कैसे चेक करें?

अगर आप घर पर ही ब्लड प्रेशर जांचना चाहते हैं, तो इन निम्नलिखित स्टेप्स को फॉलो कर ब्लड प्रेशर चेक कर सकते हैं:

  • प्रेशर चेक करने के लिए सबसे पहले मरीज के बाएं हाथ पर BP चेक करने का कफ बांधें। कफ को इस तरह से बांधा जाना चाहिए कि कफ का नीचे का हिस्सा कोहनी के ऊपर खत्म हो। इसके अलावा, कफ पर लगी दोनों नली मरीज के हाथ के अंदर की ओर होनी चाहिए।
  • अब स्टेथोस्कोप को कान में लगाएं और रोगी की कोहनी पर डायाफ्राम को रखें।
  • मशीन पर मौजूद वॉल्व को घुमाकर टाइट करें। रबर बल्ब को दबाते हुए BP Machine के प्रेशर को बढ़ाएं। कोहनी में पल्स की आवाज, जिस प्रेशर पर स्टेथोस्कोप से सुनना बंद हो जाती है, उससे 10 अंक ज्यादा तक प्रेशर को बढ़ाएं।
  • वॉल्व को ढीला कर मशीन के प्रेशर को कम करें।
  • बीपी मशीन (BP Machine) में पारा जिस अंक पर पहली बार स्टेथोस्कोप से पल्स की जो आवाज सुनाई देगी उसे कहीं पर नोट कर लीजिए। इसे सिस्टोलिक ब्लड प्रेशर कहते हैं।
  • अब धीरे-धीरे वॉल्व को घुमाकर ढीला करें और जब पल्स की आवाज सुनाई देना बंद हो जाए तो, अंक को नोट कर लें। इसे डायास्टोलिक ब्लड प्रेशर कहते हैं।
  • आखिरी में पूरा वॉल्व खोल दें और कफ को दबाकर पूरी हवा निकाल लें।
  • ब्लड प्रेशर मशीन के इस्तेमाल के बाद फिर से इसके ठीक तरह से रख दें और बच्चों की पहुंच से दूर रखें।

ब्लड प्रेशर ज्यादा होना चिंता की बात हो सकती है?

अगर आपका ब्लड प्रेशर हमेशा ज्यादा आता है, तो यह हार्ट को तेज पंप करने और ज्यादा काम करने का कारण बनता है। जिसकी वजह से गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं जैसे कि स्ट्रोक, हार्ट फेलियर और किडनी डैमेज तक हो सकती है। ब्लड प्रेशर ज्यादा होने पर डॉक्टर ब्लड प्रेशर को नियमित रखने के लिए ट्रीटमेंट प्लान देते हैं। इसमें लाइफस्टाइल चेंजेंस भी शामिल होते हैं। जिसमें हेल्दी खाना और एक्सरसाइज करना शामिल है। ये काफी असरकारक साबित होते हैं, लेकिन अगर ये हाय ब्लडप्रेशर को कंट्रोल न कर पाए तो दवा की जरूरत हो सकती है। ब्लड प्रेशर मेडिसिन्स कई प्रकार की होती हैं। कुछ लोगों को डॉक्टर एक से अधिक प्रकार की मेडिसिन्स डॉक्टर रिकमंड करते हैं।

तो आप चाहें तो घर पर मैन्युअल मॉनिटर या डिजिटल मॉनिटर का इस्तेमाल कर ऊपर बताए गए स्टेप्स को फॉलो कर के ब्लड प्रेशर जांच सकते हैं। यह तरीके बेहद आसान हैं, जो आपको नियमित रूप से ब्लड प्रेशर जांचने में मदद करेंगे। अगर आप ब्लड प्रेशर से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

health-tool-icon

बीएमआई कैलक्युलेटर

अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Understanding Blood Pressure Readings/https://www.heart.org/en/health-topics/high-blood-pressure/understanding-blood-pressure-readings/Accessed on 07/01/2020

ICMR expands India Hypertension Control Initiative to 100 districts/https://www.downtoearth.org.in/Accessed on 07/01/2020

High Blood Pressure/https://medlineplus.gov/highbloodpressure.html/Accessed on 07/01/2020

Measure Your Blood Pressure. https://www.cdc.gov/bloodpressure/measure.htm. Accessed on 3 September, 2020.

Blood pressure. https://www.betterhealth.vic.gov.au/health/conditionsandtreatments/blood-pressure. Accessed on 3 September, 2020.

लेखक की तस्वीर
10/07/2019 पर Mubasshera Usmani के द्वारा लिखा
x