home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

इन आसान तरीकों से करें डेंगू से बचाव

इन आसान तरीकों से करें डेंगू से बचाव

ऐसे होता है डेंगू

शुरुआत में सामान्य सा लगने वाला डेंगू का बुखार देरी या गलत इलाज से जानलेवा साबित हो सकता है। वक्त पर सही इलाज हो तो हालात कंट्रोल में रहते हैं। डेंगू मादा एडीज इजिप्टी मच्छर के काटने से होता है। इन मच्छरों के शरीर पर चीते जैसी धारियां होती हैं। डेंगू बुखार से पीड़ित मरीज के खून में डेंगू वायरस बहुत ज्यादा मात्रा में होता है। जब कोई एडीज मच्छर डेंगू के किसी मरीज को काटता है तो वह उस मरीज का खून चूसता है। खून के साथ डेंगू वायरस भी मच्छर के शरीर में चला जाता है। जब डेंगू वायरस वाला वह मच्छर किसी और इंसान को काटता है तो उससे वह वायरस उस इंसान के शरीर में पहुंच जाता है, जिससे वह डेंगू वायरस से पीड़ित हो जाता है।

कब दिखती है बीमारी

काटे जाने के करीब 3-5 दिनों के बाद मरीज में डेंगू बुखार के लक्षण दिखने लगते हैं। शरीर में बीमारी पनपने का समय 3 से 10 दिनों की भी हो सकती है।

और पढ़ें : Lymph node biopsy: लिम्फ नोड बायोप्सी क्या है?

डेंगू से बचाव कैसे करें?

डेंगू से बचाव के दो ही उपाय हैं। एडीज मच्छरों को पैदा होने से रोकना और एडीज मच्छरों के काटने से बचाव करना।

मच्छरों को पैदा होने से रोकने के उपायDengue prevention and control

  • घर को साफ सुथरा रखें। घर या ऑफिस के आसपास पानी जमा न होने दें, गड्ढों को मिट्टी से भर दें, रुकी हुई नालियों को साफ करें।
  • अगर पानी जमा होने से रोकना मुमकिन नहीं है तो उसमें पेट्रोल या केरोसिन ऑयल डालें।
  • गीले और सुखे कचरे को अलग रखें। गीले कूड़ेदान को हमेशा कवर करके रखें।
  • रूम कूलरों, फूलदानों का सारा पानी हफ्ते में एक बार और पक्षियों को दाना-पानी देने के बर्तन को रोज पूरी तरह से खाली करें, उन्हें सुखाएं और फिर भरें। घर में टूटे-फूटे डिब्बे, टायर, बर्तन, बोतलें आदि न रखें। अगर रखें तो उलटा करके रखें।
  • सुबह और शाम के दौरान घर के दरवाजे और खिड़कियां बंद रखें।
  • डेंगू के मच्छर साफ पानी में पनपते हैं, इसलिए पानी की टंकी को अच्छी तरह बंद करके रखें।
  • अगर मुमकिन हो तो खिड़कियों और दरवाजों पर महीन जाली लगवाकर मच्छरों को घर में आने से रोकें।
  • मच्छरों को भगाने और मारने के लिए मच्छरनाशक क्रीम, स्प्रे, मैट्स, कॉइल्स आदि इस्तेमाल करें। गुग्गुल के धुएं से मच्छर भगाना अच्छा देसी उपाय है।
  • घर के अंदर सभी जगहों में हफ्ते में एक बार मच्छरनाशक दवा का छिड़काव जरूर करें। यह दवाई फोटो-फ्रेम्स, पर्दों, कैलेंडरों आदि के पीछे और घर के स्टोर-रूम और सभी कोनों में जरूर छिड़कें। दवाई छिड़कते वक्त अपने मुंह और नाक पर कोई कपड़ा जरूर बांधें। साथ ही, खाने-पीने की सभी चीजों को ढककर रखें।

मच्छरों के काटने से बचावDengue prevention and control

  • ऐसे कपड़े पहने, जिससे शरीर का ज्यादा-से-ज्यादा हिस्सा ढका रहे। खासकर बच्चों के लिए यह सावधानी बहुत जरूरी है। बच्चों को मलेरिया सीजन में निक्कर व टी-शर्ट न पहनाएं।
  • बच्चों को मच्छर भगाने की क्रीम लगाएं।
  • डेंगू से बचाव के लिए रात को सोते समय मच्छरदानी लगाएं।

और पढ़ें : प्याज के फायदे जो शायद आप भी नहीं जानते होंगे

नोट- यह जानकारी किसी भी स्वास्थ परामर्श का विकल्प नहीं हैं। हमेशा अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

इलाजdengue prevention and control

  • अगर मरीज को साधारण डेंगू बुखार है तो उसका इलाज व देखभाल घर पर की जा सकती है।
  • डॉक्टर की सलाह लेकर पैरासिटामोल (क्रोसिन आदि) ले सकते हैं।
  • एस्प्रिन (डिस्प्रिन आदि) बिल्कुल न लें। इनसे प्लेटलेट्स कम हो सकते हैं।
  • अगर बुखार 102 डिग्री फॉरेनहाइट से ज्यादा है तो मरीज के शरीर पर पानी की पट्टियां रखें।
  • सामान्य रूप से खाना देना जारी रखें। बुखार की हालत में शरीर को और ज्यादा खाने की जरूरत होती है।
  • मरीज को आराम करने दें। शरीर को किसी भी तरह का स्ट्रेस न दें।

खानपान में बरतें ये सावधानियांDengue prevention and control

  • ठंडा पानी न पीएं: ऐसा इसलिए क्योंकि ठंडे पानी का शरीर के बाकी द्रव्यों से कम तापमान होता है, इसी वजह से यह डेंगू के बुखार के दौरान शरीर में डिस्टर्बेंस पैदा हो सकता है।
  • खाने में हल्दी, अजवाइन, अदरक, हींग का ज्यादा-से-ज्यादा इस्तेमाल करें। इसे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता और बुखार से लड़ने की ताकत मिलेगी।
  • डेंगू से बचाव के लिए हल्का खाना खाएं, जो आसानी से पच सके। कब्ज बुखार के दौरान आपको और बीमार कर सकती है।
  • पूरी नींद लें, खूब पानी पीएं और पानी को उबालकर पीएं।
  • मिर्च मसाले और तला हुआ खाना न खाएं, भूख से कम खाएं, पेट भर न खाएं।
  • खूब पानी पीएं। छाछ, नारियल पानी, नीबू पानी आदि खूब पिएं।

और पढ़ें : क्या रात में होता है यूटीआई पेन? जानें इलाज

बचाव भी इलाजDengue prevention and control

  • बीमारी से बचने के लिए फिजिकली फिट, मेंटली स्ट्रॉन्ग और इमोशनली बैलेंस रहें।
  • अच्छा खाएं, अच्छा पीएं और अच्छी नींद ले।
  • नाक के अंदर की तरफ सरसों का तेल लगाकर रखें। इससे तेल की चिकनाहट बाहर से बैक्टीरिया को नाक के अंदर जाने से रोकती है।
  • आठ-दस तुलसी के पत्तों का रस शहद के साथ मिलाकर लें या तुलसी के 10 पत्तों को पौने गिलास पानी में उबालें, जब वह आधा रह जाए तब उस पानी को पीएं।
  • विटामिन-सी से भरपूर चीजों का ज्यादा सेवन करें जैसे : डेंगू से बचाव के लिए एक दिन में दो आंवले, संतरे या मौसमी ले सकते हैं। यह हमारे इम्यून सिस्टम को सही रखता है।
  • डेंगू से बचाव के लिए खाने में हल्दी का इस्तेमाल जरूर करें। आप चाहे तो सुबह आधा चम्मच हल्दी पानी के साथ या रात को आधा चम्मच हल्दी एक गिलास दूध या के साथ ले सकते हैं।

मनमर्जी से कुछ न करें

  • अपनी मर्जी से कोई भी एंटी-बायोटिक या कोई और दवा न लें। अगर बुखार ज्यादा है तो डॉक्टर के पास जाएं और उसकी सलाह से ही दवाई लें और डेंगू से बचाव करें।
  • डेंगू से बचाव के लिए जरुरी है कि आप मामूली खांसी आदि होने पर भी अपने आप कोई दवाई न लें।

निष्कर्ष- डेंगू मच्छरों द्वारा फैलता है। इसलिए सबसे पहले डेंगू से बचाव पर ध्यान दें और साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दिया जाना चाहिए। अन्यथा डेंगू जानलेवा साबित हो सकता है।

अगर आपको अपनी समस्या को लेकर कोई सवाल है, तो कृपया अपने डॉक्टर से परामर्श लेना ना भूलें। हम आशा करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। हैलो हेल्थ के इस आर्टिकल में डेंगू से बचाव से जुड़ी हर जरूरी जानकारी दी गई है। यदि आप डेंगू से बचाव से जुड़ी अन्य कोई जानकारी पाना चाहते हैं तो आप अपना सवाल हमसे कमेंट सेक्शन में कर सकते हैं। आपको हमारा यह लेख कैसा लगा यह भी आप हमें कमेंट कर बता सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
Piyush Singh Rajput द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 12/04/2021 को
Dr. Pooja Bhardwaj के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड
x