कहीं नींद न आने का कारण स्लीप डिहाइड्रेशन (Sleep Dehydration) तो नहीं?

Medically reviewed by | By

Update Date जुलाई 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

पानी और नींद का रिश्ता बहुत गहरा है। यह सुनने में बहुत अजीब लग सकता है लेकिन यह सच है। पानी की कमी न सिर्फ आपके सेहत पर और स्किन पर असर डालती है, बल्कि इससे नींद भी काफी प्रभावित होती है। इस समस्या को स्लीप डिहाइड्रेशन (Sleep Dehydration) कहते हैं। स्लीप डिहाइड्रेशन होने से आपको नींद लेने में परेशानी हो सकती है, जिससे आपकी सेहत पर बुरा असर पड़ता है। यही नहीं, यदि स्लीप डिहाइड्रेशन हो तो आपको इंसोम्निया का सामना करना पड़ सकता है। पानी और नींद का क्या रिश्ता है जानने के लिए यह आर्टिकल जरूर पढ़ें। आइए पहले जानते हैं कि स्लीप डिहाइड्रेशन की समस्या क्या है।

स्लीप डिहाइड्रेशन (Sleep Dehydration) की समस्या क्या है?

  • सोने से पहले बहुत सारा पानी पीने के कारण आप बार-बार उठते हैं। चूंकि इससे आपको पेशाब जाना पड़ता है पर कम पानी पीने से भी समस्या हो सकती है। यह आपके शरीर को डिहाइड्रेट कर सकता है। इसके कारण नींद में कई बार आपको उठना पड़ता है। यदि आप थोड़े भी प्यासे हैं तो यह आपके नींद में खलल डाल सकता है यानी स्लीप डिहाइड्रेशन के कारण इंसोम्निया की समस्या बढ़ सकती है। इंसोम्निया के कारण व्यक्ति को तमाम तरह की शारीरिक समस्याएं हो सकती हैं।
  • रात भर सोते समय डिहाइड्रेट रहने के कारण भी रात को आपको खर्राटों आ सकते हैं। वहीं सुबह उठते ही आपका गला सूखा और शरीर आलस और थकान से भरा हुआ हो सकता है।
  • स्लीप डिहाइड्रेशन के कारण मुंह और नाक की नली ड्राय हो जाता है, जिसके कारण कई समस्या हो सकती है।
  • स्लीप डिहाइड्रेशन के कारण नोक्टर्नल लैग क्रैंप (nocturnal leg cramps) का कारण बन सकता है। (nocturnal leg cramps) में पैरों में बहुत दर्द या खिंचाव होता है। यह दर्द रात को सोते हुए ज्यादा होता है।
  • स्लीप एप्निया व जो लोग सोते समय नाक के बजाए मुंह से सांस लेते हैं उन लोगों में भी स्लीप डिहाइड्रेशन का खतरा बढ़ जाता है।
  • यदि आप एसी में सोते हैं तो यह रूम के मॉइस्चर के साथ ही आपके शरीर से भी नमी को चुरा लेता है। इसलिए एसी वाले रूम में सोते हुए भी खुद को हाइड्रेट रखना जरूरी है।
  • ज्यादा गर्म या ड्राई कमरे में भी डिहाइड्रेशन की दिक्कत हो सकती है।
  • यदि आपको बहुत शराब या कैफीन पीने की आदत है तो याद रखें कि यह रात भर आपको डिहाइड्रेट करता है और सुबह आप थकान भरा महसूस करते हैं।

यह भी पढ़ें : पार्टनर को डिप्रेशन से निकालने के लिए जरूरी है पहले अवसाद के लक्षणों को समझना

क्या कहती है शोध?

कम सोने वालों में स्लीप डिहाइड्रेशन ज्यादा होता है

पेन्न स्टेट यूनिवर्सिटी, पेन्नसिल्वेनिया (Penn State University, Pennsylvania) की स्लीप जर्नल में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार छह घंटे सोने वालों में स्लीप डिहाइड्रेशन की समस्या ज्यादा होती है। स्टडी के मुताबिक जो लोग आठ घंटे की नींद पूरी करते हैं उनके मुकाबले छह घंटे यानी निर्धारित समय से दो घंटे कम सोने वालों में पानी की कमी ज्यादा देखी जा सकती है। नींद के दौरान दिमाग किडनी को सिग्नल भेजकर बॉडी का अतिरिक्त तरल रोकने को कहता है। ऐसे में जिनकी नींद टूट जाती है या जल्दी खुल जाती है उनमें सिग्नल ठीक तरह से किडनी तक नहीं पहुंच पाते और ज्यादातर पानी पेशाब के जरिए शरीर से निकल जाता है। इसकी वजह से ही स्लीप डिहाइड्रेशन होता है।

डिहाइड्रेशन क्या है?

शरीर में पानी की कमी को डिहाइड्रेशन कहते हैं। यदि आप जितना पानी रहे हैं उससे ज्यादा पानी शरीर से निकल रहा हो तो शरीर में डिहाइड्रेशन हो जाता है। डिहाइड्रेशन के कारण शरीर सामान्य तरह से काम नहीं कर पाता। डिहाइड्रेशन की कोई उम्र नहीं होती है। छोटे बच्चों में दस्त और उल्टियां इसकी वजह हो सकती है। वहीं बड़ों में दस्त, उल्टी के साथ स्वास्थ्य संबंधी बीमारियां और दवाएं भी कारण हो सकती हैं।

स्लीप डिहाइड्रेशन से क्या खतरा हो सकता है?

  • यदि आप कम पानी पी रहे हो और ऐसा काम या एक्सरसाइज करें जिसमें ज्यादा पसीना आए तो आप हीट स्ट्रोक, थकान आदि के शिकार हो सकते हैं।
  • यदि डिहाइड्रेशन की समस्या लंबे समय से चली आ रही हो तो आप यूरिनरी और किडनी की समस्या से जूझने पर मजबूर हो सकते हैं।
  • लो ब्लड वॉल्यूम शॉक (Low blood volume shock (hypovolemic shock)) आपको मौत के करीब पहुंचा देता है। इसमें ब्लड प्रेशर और ऑक्सिजन में कमी आ जाती है जिसके कारण आपकी जान भी जा सकती है।

यह भी पढ़ें : स्लीपिंग सिकनेस (Sleeping Sickness) क्या है? जानें इसके लक्षण और बचाव उपाय

स्लीप डिहाइड्रेशन के उपाय क्या हैं?

इस समस्या का इलाज आप खुद पर ध्यान देकर कर सकते हैं। इसके लिए जरूरी है कि आप खुद को पूरी तरह से हाइड्रेट रखें। नीचे हम बताने जा रहे हैं कि आप खुद को कैसे इस समस्या से बचा सकते हैं :

  • ओरल रिहाइड्रेशन और जूस, सूप आदि लेना चाहिए।
  • गर्मियों में और उमस वाले मौसम में ही नहीं सर्दियों में भी पानी की इंटेक ज्यादा कर दें। चूंकि सर्दियों में खुस्क वातावरण के कारण भी शरीर में नमी की कमी आ जाती है।
  • बुजुर्गों में पानी की कमी ज्यादा होती है। यदि उनमें ब्लैडर इंफेक्शन, ब्रोंकाइटिस हो तो यह समस्या और भी गंभीर हो जाती है। इसलिए उन्हें भी पर्याप्त मात्रा में पानी लेना चाहिए।
  • कैफीन और शराब के कारण भी स्लीप डिहाइड्रेशन होता है। इसलिए इनसे दूरी बनाने की कोशिश करें या कम सेवन करें।
  • महिलाओं को खान-पान से करीब दो से तीन लीटर और पुरुषों को करीब चार से पांच लीटर पानी लेना चाहिए।
  • यदि आप सोते वक्त कई बार उठकर पेशाब जाते हैं तो हो सकता है कि आपको नोक्टूरिया की दिक्कत हो। इसके कारण नींद में बार-बार खलल पड़ता है। इसलिए रात को सोने से पहले ही दिनभर के पानी पीने का कोटा पूरा न करें, बल्कि दिन में अलग-अलग समय पर खुद को हाइड्रेट करें।
  • पेशाब करने के बाद ही बिस्तर में सोएं।

यह भी पढ़ेंसाउंड थेरिपी (Sound Therapy) क्या है?

स्लीप डिहाइड्रेशन के कारण आप रात भर या तो सो नहीं पाते हैं या दिन भर आलस और बेहोशी सा महसूस करते हैं। इसलिए दिन भर खुद को हाइड्रेट रखने के साथ ही रात में भी हाइड्रेशन का पूरा ख्याल रखें।

उम्मीद है इस आर्टिकल में आपको स्लीप डिहाइड्रेशन से जुड़ी जरूरी बातों के बारे में जानकारी मिल गई होगी। अगर आपको ऐसी कुछ समस्या है, तो आप भी ऊपर बताए गए तरीके अपना सकते हैं। आपको ये आर्टिकल कैसा लगा हमारे साथ अपनी प्रतिक्रिया जरूर शेयर करें, ताकि हम आपके लिए इसी तरह नई-नई जानकारियां लाते रहें।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी प्रकार की चिकित्सा और उपचार प्रदान नहीं करता है।

और पढ़ें :-

क्या है पॉलिफेसिक स्लीप (Polyphasic Sleep)?

डायरी लिखने से स्ट्रेस कम होने के साथ बढ़ती है क्रिएटिविटी

इस दिमागी बीमारी से बचने में मदद करता है नींद का ये चरण (रेम स्लीप)

अच्छी नींद के जरूरी है जानना ये बातें, खेलें और जानें

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    Quiz : बच्चों की नींद के लिए क्या है जरूरी?

    बच्चों को अच्छी नींद ऐसे में माता-पिता क्या करें?

    Written by Nidhi Sinha
    क्विज फ़रवरी 10, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

    सोनिया गांधी की बिगड़ी तबियत, श्री गंगा राम हॉस्पिटल में हुईं भर्ती

    सोनिया गांधी को पेट में दर्द के चलते हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। उनकी बीमारी के बारे में अभी ज्यादा जानकारी नहीं मिली है। डॉक्टर्स का कहना है कि चेकअप के बाद ही जानकारी दी जाएगी।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Bhawana Awasthi
    स्वास्थ्य बुलेटिन, लोकल खबरें फ़रवरी 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    ज्यादा सोने के नुकसान से बचें, जानिए कितने घंटे की नींद है आपके लिए जरूरी

    ज्यादा सोने के नुकसान (Oversleeping) क्या हैं, क्या आपको भी है ज्यादा सोने की आदत? ज्यादा सोने से हो सकते हैं ये नुकसान, जिन्हें जानकर आप हैरान रह जाएंगे। ज्यादा सोने के नुकसान in hindi

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Bhawana Awasthi
    स्लीप, स्वस्थ जीवन दिसम्बर 18, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

    दाढ़ी से जुड़े रोचक तथ्य क्या हैं?

    दाढ़ी-मूंछ के बारे में हैरा कर देने वाले फैक्ट्स यहां पढ़ें। आदमी अपने पूरे जीवनकाल में कभी भी शेव (shaving) न करे तो उसकी दाढ़ी बढ़ते-बढ़ते लगभग 27.5 फीट लंबी हो सकती है। दुनिया में सबसे लंबी दाढ़ी पंजाब में रहने वाले शमशेर..

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Shikha Patel
    फन फैक्ट्स, स्वस्थ जीवन दिसम्बर 12, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

    Recommended for you

    बुजुर्गों में डिहाइड्रेशन-bujurgo me dehydration

    बुजुर्गों में डिहाइड्रेशन होने पर करें ये उपाय

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Shilpa Khopade
    Published on मई 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    प्रेग्नेंसी में संतरा- pregnancy-me-santra

    प्रेग्नेंसी में संतरा खाना कितना सुरक्षित है?

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Ankita Mishra
    Published on अप्रैल 28, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    सेकंड में नींद/10/60/ 120 second mein nind

    जानें कैसे पा सकते हैं 10, 60 और 120 सेकंड में नींद

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by shalu
    Published on अप्रैल 27, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
    बच्चों में टॉन्सिलाइटिस

    बच्चों में टॉन्सिलाइटिस की परेशानी को दूर करना है आसान

    Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
    Written by Nidhi Sinha
    Published on अप्रैल 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें