नींद पूरी न होने से बढ़ सकता है इन बीमारियों का खतरा

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट September 18, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

‘अर्ली टू बेड एंड अर्ली टू राइज, मेक्स ए मैन हेल्दी, वेल्थी एंड वाइज’! सालों पुरानी यह कहावत आज भी सच साबित होती है। दरअसल, स्वस्थ जीवन के लिए स्वस्थ रहना बहुत जरूरी है और स्वस्थ रहने के लिए नियमित समय पर सोना बहुत जरूरी है। सात से आठ घंटे की अच्छी नींद दिमाग को तरोताजा करने के लिए और शरीर के दूसरे अंगों को आराम देने के लिए बहुत जरूरी है। 

लेकिन, बदलती लाइफस्टाइल और इस भाग-दौड़ भरी जिंदगी की वजह से सोने के समय में भी काफी बदलाव आ गया है। एक रिसर्च के अनुसार, 90 प्रतिशत लोग इंसोम्निया यानी कम नींद आने की समस्या से परेशान हैं। वहीं, हर कोई नींद पूरी न होने के कारण काफी परेशान होने लगते हैं। जिसके चलते कई बार कुछ बुरे परिणाम भी देखें जा सकते हैं। 

और पढ़ें : Ampicillin and salbactam : एम्पीसिलिन और सलबैक्टम क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

नियमित समय पर सोना क्यों जरूरी है

सही समय पर ना सोने से मानसिक संतुलन पर पड़ता है बुरा असर :

आपका सेंट्रल नर्वस सिस्टम आपके शरीर का सूचना राजमार्ग है। नियमित समय पर सोना काम करने के लिए जरूरी है लेकिन पुरानी अनिद्रा की परेशानी आपके शरीर को आमतौर पर जानकारी कैसे भेजती है, इसे बाधित कर सकती है।

नींद के दौरान आपके दिमाग में नर्व सेल्स (न्यूरॉन्स) के बीच रास्ते बनते हैं, जो आपको सीखी गई नई जानकारी को याद रखने में मदद करते हैं। नींद की कमी आपके मस्तिष्क को थका हुआ छोड़ देती है जिसकी वजह से यह अपने काम ठीक से नहीं कर पाता है। आपको नई चीजों पर ध्यान केंद्रित करने या सीखने में और भी मुश्किल हो सकती है। आपके द्वारा भेजे जाने वाले संकेतों में देरी हो सकती है, आपके समन्वय में कमी और दुर्घटनाओं के लिए आपका जोखिम बढ़ सकता है।

नींद की कमी भी आपकी मानसिक क्षमताओं और भावनात्मक स्थिति को नकारात्मक रूप से प्रभावित करती है। आप अधिक अधीर महसूस कर सकते हैं या मिजाज का खतरा हो सकता है। यह निर्णय लेने की प्रक्रियाओं और रचनात्मकता से भी समझौता कर सकता है।

और पढ़ें : जानें क्या है गहरी नींद की परिभाषा, इस तरह से पाएं गहरी नींद और रहें हेल्दी 

हार्ट अटैक :

सामान्य नींद के दौरान, आपका ब्लड प्रेशर कम हो जाता है। अगर आपको नींद की समस्या होने लगती है, तो इसका मतलब है कि आपका ब्लड प्रेशर हाई रहता है। हाई ब्लड प्रेशर हार्ट डिजीज और स्ट्रोक के खतरे को बढ़ा सकता है। नियमित समय पर सोना इसलिए भी जरूरी है क्योंकि ऐसा ना करने से हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है। हार्ट अटैक की परेशानी को कम करना है तो नियमित समय पर सोना जरूरी है।

डायबिटीज :

माहोवाल्ड के अनुसार, स्लीप लॉस के कारण इंसुलिन के स्तर में भी असंतुलन आता है, जिससे डायबिटीज का कारण बनता है। नियमित समय पर सोना आपको डायबिटीज के खतरे से भी बचा सकता है। डायबिटीज आजकल एक ऐसी परेशानी है जिससे अधिक से अधिक लोग पीड़ित है ऐसे में लाइफस्टाइल में बदलाव करके आप इसके खतरे को कम कर सकते हैं। 

और पढ़ें : जानिए महिलाओं में हार्ट अटैक के लक्षण पुरुषों की तुलना में कैसे अलग होते हैं

डिप्रेशन :

लंबे वक्त से नींद की कमी और नींद की गड़बड़ी डिप्रेशन के लक्षणों में योगदान कर सकती है। साल 2005 में अमेरिका में हुई एक रिसर्च में जिन लोगों को डिप्रेशन या चिंता जैसे परेशानी देखी गई, वह लोग छह घंटे से कम सोते थे। नियमित समय पर सोना आपको डिप्रेशन से भी बचा सकता है।  डिप्रेशन का एक बहुत बड़ा कारण है नींद न आना। आपका डॉक्टर इसलिए भी आपको सलाह देता है कि नियमित समय पर सोना चाहिए।

भूलने की परेशानी :

कम सोने की वजह से याद रखने में कठिनाई होती है और धीरे-धीरे  याद्दाश्त कमजोर हो जाती है। नियमित समय पर सोना आपके अंदर भूलने की परेशानी को खत्म कर सकता है। ऐसा माना जाता है कि जो लोग कम सोते है उनके अंदर भूलने की परेशानी होती है। नियमित समय पर सोना आपको इस तरह की परेशानी से बचा सकता है।

और पढ़ें : दिमाग नहीं दिल पर भी होता है डिप्रेशन का असर

वजन बढ़ना :

नींद की कमी होने पर भूख ज्यादा लगती है, जिससे वजन बढ़ने की संभावना बढ़ सकती है। नियमत सनय पर सोने से आप मोटापा भी कम कर सकते हैं। जी हां, जिन लोगों को सोने में परेशानी होती है उन्हें भूख ज्यादा लगती है। भूख ज्यादा लगने का मतलब है वजन बढ़ना। इसलिए नियमित समय पर सोना आपका मोटापा कम कर सकता है।

त्वचा की परेशानी :

ज्यादातर देखा गया है कि नींद की कमी से आंखों के नीचे काले घेरे, त्वचा बेजान, रूखी त्वचा जैसी समस्या हो सकती है। नियमित समय पर सोना आपकी त्वचा निखार सकता है। डॉक्टर कहते हैं कि नियमित समय पर सोना आपके त्वचा की परेशानियों को बाय-बाय कह सकता है। इसलिए चेहरे पर झुर्रिया और पिंपल से बचना है तो नियमित समय पर सोना शुरू करें।

और पढ़ें : अच्छी नींद के लिए सोने से पहले न करें इलेक्ट्रॉनिक्स का यूज

सेक्स पर बुरा असर :

ठीक से और पूरी नींद नहीं लेने से महिला हो या पुरुष, दोनों को ही सेक्स में रुचि कम होने लगती है। नियमित समय पर सोना आपकी सेक्स लाइफ को चार चांद लगा सकता है। जिन लोगों को नींद की परेशानी होती है उनकी शादी-शुदा जिंदगी पर इसका प्रभाव पड़ता है। ये परेशानी लेकर जब आप अपने डॉक्टर के पास जाते हैं तो डॉक्टर आपको नियमति समय पर सोने की सलाह देते हैं।

इम्युनिटी पावरः

सम्पूर्ण नींद से बॉडी का इम्युनिटी पावर बढ़ सकता है। रिसर्च के अनुसार कम सोने से शरीर में थकावट आ सकती है जिसके परिणाम स्‍वरूप यह प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर कर सकता है। नियमित समय पर सोना आपकी इम्यूनिटी पॉवर को स्ट्रांग बनाता है। नियमित समय पर सोना आपको एक नहीं बहुत सी परेशानियों से बचा सकता है। अगर आप स्वस्थ रहना चाहते हैं तो इसका सबसे आसान इलाज है नियमित समय पर सोना। अच्छी सेहत के लिए ठीक तरह से सोना बहुत जरुरी है लेकिन, अगर नींद आने में समस्या हो रही है तो ऐसे में डॉक्टर से मिलना जरूरी होता है। इम्युनिटी पावर ठीक करने के लिए नियमित समय पर सोना, सही डायट, एक्सरसाइज तीनों जरूरी है। अगर इसके बाद भी कोई परेशानी होती है तो अपने डॉक्टर से बात करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

इंसोम्निया में मददगार साबित हो सकती हैं नींद की गोली!

नींद की गोली के फायदे और नुकसान क्या हैं? कौन सी नींद की गोली लेनी चाहिए? स्लीपिंग पिल्स(Sleeping Pills) से क्या-क्या खतरा हो सकता है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Hema Dhoulakhandi
स्लीप, अनिद्रा May 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

महिला और पुरुषों के स्लीप पैटर्न क्यों होते हैं अलग?

महिला और पुरुषों के स्लीप पैटर्न इन हिंदी, महिला और पुरुषों के स्लीप पैटर्न कैसे अलग है? woman man sleeping pattern in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha

क्या सच में स्लीप हिप्नोसिस से आती है गहरी नींद?

स्लीप हिप्नोसिस क्या है, स्लीप हिप्नोसिस कैसे किया जाता है, गहरी नींद के लिए हिप्नोसिस कैसे करें, deep sleep hypnosis in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
पर्याप्त नींद, स्लीप April 28, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

डिप्रेशन से बचने के उपाय, आसानी से लड़ सकेंगे इस परेशानी से

डिप्रेशन से बचने के उपाय क्या है, डिप्रेशन से बचने के उपाय in Hindi, अवसाद में कैसे करें किसी की मदद, Depression se bachane ke upay

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन April 17, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

हार्ट डिजीज, Heart Disease

Heart Disease: हार्ट डिजीज बन सकती हैं मौत का कारण, रखें ये सावधानियां

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ March 1, 2021 . 6 मिनट में पढ़ें
सेंट्रल स्लीप एपनिया (Central Sleep Apnea)

Central Sleep Apnea: क्या है सेंट्रल स्लीप एप्निया?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ January 22, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
पेडिक्लोरील

Pedicloryl : पेडिक्लोरील क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ June 16, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
बच्चों को नींद न आना-bacho-ko-neend-na-aana

बच्चों को नींद न आना नहीं है मामूली, उनकी अच्छी नींद के लिए अपनाएं ये टिप्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ May 14, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें