Olive Oil : ऑलिव ऑयल क्या है? जानिए इसके फायदे और साइड इफेक्ट्स

By Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar

परिचय

ऑलिव के पेड़ की पत्तियों और फलों से निकले लिक्विड को ऑलिव ऑयल कहा जाता है। इसका इस्तेमाल दवाईयां और खाना बनाने के लिए किया जाता है। ओलिव ऑयल का बोटेनिकल नाम ओलिया यूरोपा एल. (Olea europaea  L.) है, जो कि ओलियसी (Oleaceae) फैमिली का है। ओलिव ऑयल को हार्ट अटैक और स्ट्रोक (cardiovascular disease), ब्रैस्ट कैंसर, कोलोरेक्टल कैंसर, ओवेरियन कैंसर और माइग्रेन आदि से बचाव के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

यह भी पढ़ें : Oregano: ओरिगैनो क्या है?

उपयोग

ऑलिव ऑयल किस लिए उपयोग किया जाता है? (Uses of Olive Oil)

जैतून का तेल इस्तेमाल किया जाता है:

  • दिल के दौरे और स्ट्रोक, स्तन कैंसर, कोलोरेक्टल कैंसर, संधिशोथ और माइग्रेन सिरदर्द से आराम देने के लिए
  • कब्ज, हाई कोलेस्ट्रॉल, हाई ब्लड प्रेशर, मधुमेह, रक्त वाहिकाओं की समस्याओं और कान से जुड़े इंफैक्शन, गठिया और गॉलब्लेडर की बीमारी का इलाज करने के लिए।
  • पीलिया, आंतों की गैस , गैस के कारण पेट की सूजन का इलाज करने के लिए।
  • ईयरवैक्स या कान के खोट, कान बजने, टिनिटस (tinnitus) से निपटने के लिए, गर्भावस्था के कारण कान में दर्द, जूं, घाव, मामूली जलन, सोरायसिस, स्ट्रेच मार्क्स कम करने के लिए
  • त्वचा को अल्ट्रा वायलेट (यूवी) किरणों  के नुकसान से बचाने के लिए 
  • जैतून का तेल खाना पकाने और सलाद में भी प्रयोग किया जाता है।
  • मैनुफैक्चरिंग में जैतून का तेल साबुन, मलहम और लेप बनाने के लिए उपयोग किया जाता है और दंत सीमेंट की सेटिंग में रूकावट करने के लिए किया जाता है।

ऑलिव ऑयल कैसे काम करता है?

जैतून का तेल कैसे काम करता है, इस बारे में अभी पर्याप्त जानकारी नहीं हैं। अधिक जानकारी के लिए कृपया अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से बात करें। हालांकि, कुछ अध्ययन में ये बात सामने आई है कि जैतून के तेल में मौजूद फैटी एसिड, कोलेस्ट्रॉल के लेवल को कम करता है ।

यह भी पढ़ें :Eucalyptus: नीलगिरी क्या है?

सावधानियां और चेतावनी

ऑलिव ऑयल का उपयोग करने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

अपने डॉक्टर या फार्मसिस्ट से परामर्श करें, यदि:

  • आप गर्भवती हैं या स्तनपान करा रही हैं, तो ऐसे समय में केवल डॉक्टर द्वारा दी गई दवाएं लेनी चाहिए।
  • आप कोई अन्य दवा ले रहे हैं, जिसमें वो दवाई भी शामिल है, जो बिना डॉक्टर की पर्ची के भी खरीदी जा सकती है, जैसे कि हर्बल और डाइट्री सप्लीमेंट 
  • जैतून का तेल या उसमें पाए जाने वाले किसी भी तत्व और किसी दूसरी मेडिसिन से एलर्जी है।
  • आपको किसी अन्य प्रकार की एलर्जी है, जैसे कि खाने में इस्तेमाल होने वाले रंग, खाने पीने को सुरक्षित रखने वाले पदार्थ या जानवर।

किसी भी हर्बल सप्लीमेंट के सेवन के नियम उतने ही सख्त होते हैं, जितने कि अंग्रेजी दावा के। सुरक्षा के लिहाज से अभी इसमें और अध्ययन की जरूरत है। जैतून के तेल से होने वाले फायदे से पहले आपको इसके खतरों को समझ लेना चाहिए। ज्यादा जानकारी के लिए अपने हर्बलिस्ट से बात करें।

यह भी पढ़ें :Guggul: गुग्गल क्या है?

ऑलिव ऑयल कितना सुरक्षित है?

  • जैतून के तेल का सेवन करना या स्किन पर लगाना सुरक्षित है। हमारे शरीर में एक दिन की कैलोरी के लिए  हम जैतून का तेल 14 प्रतिशत  सुरक्षित रूप से इस्तेमाल कर सकते हैं। यह प्रतिदिन के हिसाब से लगभग दो बड़े चम्मच (28 ग्राम) के बराबर हैं।  
  • कॉन्टिनेंटल फूड खाने वालों के हिसाब से बात करें, तो जैतून का तेल लगभग 6 वर्षों तक एक लीटर / प्रति सप्ताह तक सुरक्षित रूप से इस्तेमाल किया जा सकता है।

ऑलिव ऑयल से जुड़ी विशेष सावधानी और चेतावनी

गर्भावस्था और स्तनपान: यदि आप गर्भवती हैं या स्तनपान करा रही हैं, तो ऐसे में जैतून के प्रोडक्ट आपके लिए कितने सुरक्षित है अभी इस बात की पर्याप्त विश्वसनीय जानकारी नहीं है। 

मधुमेह: जैतून का तेल ब्लड के शुगर लेवल को कम कर सकता है।  डायबिटीज से जूझ रहे लोगों को जैतून के तेल के इस्तेमाल से पहले अपने ब्लड शुगर की जांच करानी चाहिए।

सर्जरी: जैतून का तेल ब्लड शुगर लेवल पर असर डाल सकता है। सर्जरी के दौरान और उसके बाद ऑलिव ऑयल के इस्तेमाल से ब्लड शुगर के कंट्रोल पर असर पड़ सकता है।  सर्जरी से दो हफ्ते पहले ही जैतून का तेल लेना बंद कर दें।

यह भी पढ़ें : Fish Oil : फिश ऑयल क्या है?

दुष्प्रभाव/ साइड इफेक्ट

जैतून के तेल से मुझे किस तरह के दुष्प्रभाव हो सकते हैं?

ऑलिव ऑयल का सेवन करने परः बहुत ही कम मामलों में ऑलिव ऑयल सेवन करने पर जी मिचलाना जैसी समस्या का सामना करना पड़ सकता है।

सांस द्वारा लेने परः ऑलिव का पेड़ पोलेन का उत्पादन करता है, जो कि कुछ लोगों में सीजनल रेस्पेरेटरी एलर्जी का कारण बन सकता है।

त्वचा पर लगाने परः जैतून के तेल से आपको एलर्जी या त्वचा के संपर्क में आने से रिएक्शन जैसे सूजन या किसी चर्म रोग की समस्या हो सकती है।

सभी को इन लिस्टेड साइड इफेक्ट का अनुभव नहीं होता है। साइड इफेक्ट दूसरे तरीके के भी हो सकते हैं।  यदि आपको साइड इफेक्ट के बारे में कोई चिंता है, तो कृपया अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से परामर्श करें।

जैतून के तेल के साथ क्या इंटरैक्शन हो सकता है?

जैतून का तेल आपकी दवाओं और मेडिकल कंडिसन्स पर विपरीत प्रभाव डाल सकता है। इस्तेमाल से पहले अपने डॉक्टर से राय अवश्य ले लें।

जैतून का तेल ब्लड शुगर लेवल को कम कर सकता है। मधुमेह की दवाओं का इस्तेमाल ब्लड शुगर को कम करने के लिए भी किया जाता है।  मधुमेह की दवाओं के साथ जैतून का तेल लेने से आपका ब्लड शुगर बहुत ज्यादा कम हो सकता है। अपने ब्लड शुगर को बारीकी से मॉनिटर करें। ऐसे में आपको अपनी मधुमेह की दवा की डोज को बदलना पड़ सकता है।

हाई ब्लड प्रेशर के लिए दवाएं

कैप्ट्रिल (द कैटोटेन), एनालापिल (वासोटेक), लॉसर्टन (कोज़र), वल्सर्टन (डाइवन), डिल्टियाज़ेम (कार्डिज़म), अम्लोडिपिन (नॉर्वास), हाइड्रोक्लोरोथियाज़ाइड (हाइड्रोडिअरिल), फ्योरोसाइड (लासिक्स) और कई अन्य

यह भी पढ़ें : Jowar : ज्वार क्या है?

मात्रा / डोसेज

दी गई जानकारी को चिकित्सा सलाह के रूप में न देखें।  हमेशा ऑलिव ऑयल का उपयोग करने से पहले अपने हर्बलिस्ट या चिकित्सक से परामर्श करें।

जैतून के तेल की सामान्य खुराक क्या है?

 खाने में:

कब्ज के लिए: 30 एमएल जैतून का तेल।

उच्च रक्तचाप के लिए: आहार के रूप में एक्स्ट्रा वर्जिन जैतून का तेल प्रति दिन 30-40 ग्राम।  400 मिलीग्राम जैतून के पत्ते का अर्क, दिन में चार बार।

हाई कोलेस्ट्रॉल के लिए: खाने में प्रति दिन 23 ग्राम जैतून का तेल, (लगभग 2 चम्मच) सेचुरेटेड फैट के मुकाबले 17.5 ग्राम मोनो अनसेचुरेटेड फैटी एसिड प्रदान करता है ।

हृदय रोग और दिल के दौरे को रोकने के लिए: प्रति दिन 54 ग्राम (लगभग चार बड़े चम्मच) का इस्तेमाल। कॉन्टिनेंटल फूड खाने वालों के हिसाब से प्रति सप्ताह एक लीटर एक्स्ट्रा वर्जिन ऑलिव ऑयल या जैतून के तेल का इस्तेमाल किया जाता है।

उपलब्धता

जैतून का तेल (Olive Oil) किस रूप में आता है?

जैतून का तेल निम्नलिखित खुराक रूपों में उपलब्ध हो सकता है: 

  • शुद्ध  तेल

हेलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है।

और पढ़ें :

Kalonji : कलौंजी क्या है?

Hedge mustard: खूबकला क्या है?

Neem: नीम क्या है?

Oak: बलूत क्या है?

Bay: तेज पत्ता क्या है?

Share now :

रिव्यू की तारीख मार्च 9, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया जनवरी 27, 2020

सूत्र
शायद आपको यह भी अच्छा लगे