Drum Stick : सहजन क्या है?

By Medically reviewed by Dr. Radhika apte

सहजन का परिचय (Uses of Drum Stick In Hindi)

सहजन क्या है? 

सहजन (Drum Stick) लम्बी फलियों वाली एक सब्जी का पेड़ है जो  मेडिसनल गुणों से भरपूर है। 

उपयोग 

इसके अलग-अलग हिस्सों में 300 से अधिक रोगों के रोकथाम के गुण हैं। इसमें 92 तरह के मल्टीविटामिन्स, 46 तरह के एंटी आक्सीडेंट गुण, 36 तरह के दर्द निवारक और 18 तरह के एमिनो एसिड मिलते हैं।

सहजन का उपयोग किस लिए किया जाता है?

सहजन कैसे काम करता है?

भोजन के रूप में अत्यंत पौष्टिक है और इसमें बहुत ज्यादा मेडिसनल गुण होते हैं। इसमें पानी को शुद्ध करने के गुण भी मौजूद हैं। इसके बीज से तेल निकाला जाता है और छाल पत्ती, गोंद, जड़ आदि से दवाएं तैयार की जाती हैं। सहजन में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, कैल्शियम, पोटेशियम, आयरन, मैग्नीशियम, विटामिन ए, सी और बी कॉम्पलैक्स प्रचुर मात्रा में है। 

सहजन का उपयोग करने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए? (What should I know before using Drum Stick In Hindi)

सहजन निम्नलिखित हेल्थ कंडिसन और बीमारियों में उपयोग किया जाता है:

  • सहजन की फली वात व उदरशूल में 
  • पत्ती नेत्ररोग, मोच ,शियाटिका ,गठिया में । 
  • जड़ दमा, जलोधर, पथरी,प्लीहा रोग के लिए उपयोगी है। 
  • छाल का उपयोग शियाटिका ,गठिया, लिवर आदि रोगों के इलाज में
  • सहजन के रस को पाचक रूप में जाना जाता है 
  • सहजन के छाल से कफ और जुखाम दूर होता है
  • पत्तों का रस कान में डालने से दर्द ठीक हो जाता है। 
  • गुर्दे और मूत्राशय की पथरी में
  • पत्तों का रस बच्चों के पेट के कीड़े निकालता है 
  • उलटी दस्त भी रोकता है
  • उच्च रक्तचाप में लाभ होता है। 
  • सहजन से मोटापा धीरे धीरे कम होने लगता है।
  • सहजन की छाल से दांतों के कीड़ें नष्ट होते है 
  • पत्तियों को पीसकर लगाने से घाव और सुजन ठीक होते है। 
  • पानी में घुल कर नेचुरल क्लैरीफिकेशन एजेंट बन जाता है
  • डिलवरी में होने वाली समस्या से राहत मिलती है 

सावधानियाँ और चेतावनी (Caution and Warning Using Drum Stick In Hindi)

सहजन का उपयोग करने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए? 

अपने चिकित्सक या फार्मासिस्ट या हर्बलिस्ट से परामर्श करें, यदि:

  • अगर आप प्रेगनेंट है या उसके बारे में सोच रही है, या फिर बच्चे को दूध पिला रही है, तो इस दौरान आपको डॉक्टर से बात करनी चाहिए क्योंकि इस अवस्था मे आपको डॉक्टर की बताई दवाओं का ही सेवन करना चाहिए।
  • आप डॉक्टरी सलाह या बिना किसी सलाह वाली दवाओं का सेवन कर रही है 
  • आपको सहजन या उसके किसी सबटेंस, दवा या किसी अन्य जुड़ी बूटी से कोई एलर्जी तो नहीं
  • आपको किसी दूसरी चीजों से एलर्जी तो नहीं जैसे, खाने,रंग, खाने को सुरक्षित रखने वाले पदार्थ या जानवरों से।

किसी भी हर्बल के सेवन करने के नियम उतने ही सख्त होते है जितने कि अंग्रेजी दावा के । सुरक्षा के लिहाज से अभी इसमें और अध्ययन की जरूरत है । हर्बल के सेवन से होने वाले फायदे से पहले आपको इसके खतरों को समझ लेना चाहिए। ज्यादा जानकारी के लिए अपने हर्बल एक्सपर्ट से बात कीजिये।

सहजन कितना सुरक्षित है? 

गर्भावस्था और स्तनपान:

  • प्रेगनेंट महिलाओं को सहजन का सेवन करने से बचना चाहिए क्योंकि इससे गर्भपात का खतरा बना रहता है।
  • गर्भवती स्त्रियों को सहजन की छाल और जड़ से बने पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए.

अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर या हर्बलिस्ट से बात करे ।

सहजन के साइड इफेक्ट (Side effect of Drum Stick In Hindi)

  • सहजन की पत्तियों में लैक्जेटिव गुण होता है जिसकी वजह से पेट गड़बड़ हो सकता है और अधिक सेवन करने पर सीने में जलन और डायरिया हो सकता है।
  • जिन लोगों का रक्त अधिक पतला है और वे किसी दवा का सेवन कर रहे हों उन्हें सहजन का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि यह खून को अत्यधिक पतला कर देता है।

सहभागिता/इंटरेक्शन (Interaction of Drum Stick In Hindi)

सहजन के साथ मेरे क्या इंटरेक्शन हो सकते  है?

सहजन आपकी मौजूदा दवाओं या मेडिकल कंडिसन्स में फेरबदल कर सकता है।  उपयोग करने से पहले अपने हर्बल एक्सपर्ट, वैद या डॉक्टर से परामर्श करें। 

मात्रा/ डोज (Doses Of Drum Stick In Hindi)

सामान्य खुराक क्या है? 

सहजन की खुराक हर मरीज के लिए अलग अलग हो सकती है।  आपके द्वारा ली जाने वाली खुराक आपकी उम्र, स्वास्थ्य और कई अन्य स्थितियों पर निर्भर करती है। हर्बल हमेशा सुरक्षित नहीं होते है।  कृपया अपने उचित खुराक के लिए अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से चर्चा करें।

सहजन किस रूप में आता है? 

रस, जड़, गोंद, तेल और सब्जी के रूप में सहजन उपलब्ध है

हेलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है।

रिव्यू की तारीख जुलाई 9, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया सितम्बर 20, 2019