Hawthorn: हॉथॉन क्या है?

By Medically reviewed by Dr. Shruthi Shridhar

परिचय

हॉथॉन क्या है?

हॉथॉन (Hawthorn) एक पौधा है जिसकी पत्तियां, फूल, छाल और बेरी का प्रयोग दवाइयों में किया जाता है। इसका इस्तेमाल बीमारियों, स्थितियों और लक्षणों के उपचार, रोकथाम और नियंत्रण के लिए किया जाता है। यह शारीरिक और भावनात्मक दोनों तरह से ह्दय को मजबूत बनाते हैं। सालों से इसका इस्तेमाल डाइजेस्टिव, किडनी और एंटी-एंग्जायटी संबंधित परेशानियों के लिए हर्बल औषधि के रूप में किया जाता आरहा है।

हॉथॉन का उपयोग किस लिए किया जाता है?

एंटी-ऑक्सीडेंट्स से भरपूर:

हॉथॉन पॉलीफेनोल्स (polyphenols) का अच्छा स्त्रोत है जो, पौधों में पाए जाने वाले एक दमदार कंपाउंड्स में से एक है। ये एंटी-ऑक्सीडेंट्स हमारे शरीर में अनस्टेबल मॉलिक्यूल्स (unstable molecules) जिसे फ्री रेडिकल्स भी कहते हैं को बेअसर करते हैं। इन फ्री रेडिकल्स की मात्रा जब हमारे शरीर में काफी बढ़ जाती है तो ये सेहत पर बुरा असर डालते हैं। ये मॉलिक्यूल हमारे शरीर में गलत खानपान, पर्यावरण में विषाक्त पदार्थों जैसे प्रदूषण और सिगरेट के धुएं से प्रवेश करते हैं।

एंटी इंफ्लेमेटरी प्रॉपर्टीज:

हॉथॉन में मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी प्रॉपर्टीज हमारी सेहत को सुधारने में मदद करती है। लंबे समय से हो रखी सूजन को कई बीमारियों सो जोड़ा जाता है। इसमें मधुमेह टाइप 2, अस्थमा और कैंसर शामिल हैं। चूहों पर किए गए एक शोध में पता चला कि हॉथॉन बेरी एक्सट्रेक्ट से अस्थमा के लक्षणों को कम करने के साथ सूजन में भी असर देखने को मिला। जानवरों पर किए गए अध्ययनों से आए परिणामों को देखते हुए वैज्ञानिकों का मानना है कि ये मनुष्यों में भी लाभ प्रदान कर सकता है। हालांकि, इस पर अभी अधिक शोध की आवश्यकता है।

ब्लड प्रेशर को करे कम:

चीनी दवाइयों में हाई ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने के लिए सबसे अधिक फायदेमंद इसे माना जाता है। कई जानवरों पर किए अध्ययन से पता चलता है कि हॉथॉन एक वैसोडिलेटर (vasodilator) के रूप में कार्य कर सकता है। इससे तात्पर्य है कि यह रक्त वाहिकाओं को रिलेक्स करता है जिससे, ब्लड प्रेशर अपने आप कम हो जाता है।

पाचन में करे सुधार:

पौराणिक समय से इसका इस्तेमाल पाचन संबंधित परेशानियों के लिए किया जा रहा है। हॉथॉन बेरी में फाइबर होता है जो कब्ज से निजात दिलाता है। 

बालों का झड़ना करे कम:

बालों की ग्रोथ के लिए इस्तेमाल होने वाले प्रोडक्ट्स में हॉथॉन बेरी का प्रयोग किया जाता है। 

एंग्जायटी को करे कम:

हॉथॉन में सिडेटिव एफेक्ट्स होते हैं जो, एंग्जायटी के लक्षणों को कम करने में मददगार है।

इन बीमारियों के इलाज में भी है कारगर:

गुर्दे से संबंधित परेशानियां:

  • अथिसोस्कलिरोसिस (Artherosclerosis)
  • हाई कोलेस्ट्रॉल
  • कंजेस्टिव हर्ट फेलियर (Congestive heart failure)
  • यूरीन अधिक होना
  • मेन
  • मेन्स्ट्रुअल प्रॉब्लम्स
  • टेपवॉर्म और दूसरे इंटेस्टाइन इन्फेक्शन के लिए
  • फोड़े, घाव और छाले पर इसे स्किन पर लगाया जा सकता है

कैसे काम करता है हॉथॉन?

हॉथॉन ह्दय द्वारा ब्लड को पंप आउट करने की क्रिया में सुधार करता है। इसके अलावा रक्‍त वाहिकाओं को चौड़ा करने और ब्लड सर्कुलेशन में सुधार में मदद करता है। रिसर्च में सामने आया कि ये कोलेस्ट्रॉल, लो डेंसिटी लिपोप्रोटीन (low density lipoprotein), ट्राइग्लिसराइड्स (triglycerides) को कम करता है। इससे लिवर में जमी चर्बी कम होती है। इसमें शामिल एंटी-ऑक्सीडेंट्स भी हमें बहुत सारी बीमारियों से दूर रखते हैं।

ये भी पढ़ें: Parsley : अजमोद क्या है?

उपयोग

कितना सुरक्षित है हॉथॉन का उपयोग ?

  • ह्दय पर इसके शक्तिशाली प्रभाव पड़ने के कारण इसका सेवन कई दवाइयों को प्रभावित कर सकता है। अगर आप दिल संबंधित कोई परेशानी, ब्लड प्रेशर या कोलेस्ट्रॉल की दवा ले रहे हैं जैसे डिगोक्सिन (digoxin), बीटा ब्लॉकर्स (beta blockers) यै कैल्शियम चैनल ब्लॉकर्स (calcium channel blockers) तो इसका सेवन न करें।
  • प्रेग्नेंट और ब्रेस्ट फीडिंग कराने वाली महिलाओं के लिए ये सुरक्षित है या नहीं इस बारे में कोई जानकारी नहीं। अपनी और बच्चे की सुरक्षा को देखते हुए इसका सेवन न करें।
  • इसके सेवन से सर्जरी के दौरान ब्लींडिग होने की संभावना ज्यादा रहती है। इसलिए सर्जरी होने से दो हफ्ते पहले इसका सेवन करना बंद कर दें।
  • अगर आप मेल सेक्सुअल डिसफंक्शन के लिए दवाइयां ले रहे हैं तो इसके साथ भी हौथोर्न नहीं लेना चाहिए
  • हौथोर्न ज्यादातर व्यस्कों के लिए सुरक्षित है। 4 महीने तक लगातार इसका उपयोग सेफ है। लंबे समय तक इसे लेना सेफ है या नहीं इसकी कोई वैज्ञानिक जानकारी नहीं है। इसका सेवन करने से पहले एक बार किसी चिकित्सक या हर्बलिस्ट से सलाह लेना न भूलें।

ये भी पढ़ें: Poppy Seed : खसखस के बीज क्या है?

साइड इफेक्ट्स

हौथोर्न से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

  • जी मिचलाना
  • पेट खराब
  • थकान होना
  • पसीना आना
  • सिर दर्द
  • चक्कर आना
  • अनिद्रा
  • घबराहट

हर किसी में ये ही साइड इफेक्ट्स ऐसा जरूरी नहीं हैं। इनसे अलग भी साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं। इसके लिए आप अपने डॉक्टर या हर्बलिस्ट से एक बार परामर्श लें।

ये भी पढ़ें: Royal Jelly: रॉयल जेली क्या है?

डोजेज

हौथोर्न को लेने की सही खुराक

एक रिपोर्ट के अनुसार, हार्ट फेल होने पर इसकी पूरे दिन की खुराक 160-1800 मिलिग्राम है जो दिन में 2-3 में बांटा जाता है।

हौथोर्न की खुराक कई कारकों पर निर्भर होती है। ये मरीज की उम्र, स्वास्थ्य और कई अन्य स्थितियों पर निर्भर करती है। फिलहाल इसकी निर्धारित खुराक को लेकर कोई वैज्ञानिक जानकारी नहीं है। एक बात का खास ख्याल रखें कि हर्बल सप्लीमेंट हमेशा सुरक्षित नहीं होते हैं। इसलिए बर्गमोट तेल का इस्तेमाल करने से पहले अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से एक बार जरूर संपर्क करें।

ये भी पढ़ें: Valerian : वेलेरियन क्या है?

उपलब्ध

किन रूपों में उपलब्ध है?

  • बेरी
  • टी
  • विनेगर
  • सप्लीमेंट्स
  • कैप्सूल्स
  • टिंचर

ये भी पढ़ें: Wheat Germ Oil: वीट जर्म ऑयल क्या है?

रिव्यू की तारीख सितम्बर 23, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया सितम्बर 24, 2019