White Lily: व्हाइट लिली क्या है?

By Medically reviewed by Dr. Shruthi Shridhar

परिचय

व्हाइट लिली क्या है?

व्हाइट लिली एक बारहमासी फूल वाला पौधा है। इसका वैज्ञानिक नाम लिलियम कैंडिडम (lilium candidum) है। पौराणिक समय से इसके फूल, पत्तियों और जड़ों का प्रयोग दवाओं में किया जाता आ रहा है। इसमें कई ऐसे तत्व पाए जाते हैं जो हमारे स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होते हैं। सर्दी, खांसी, ब्रोंकाइटिस और फेफड़ों की बीमारियों में ये राहत पहुंचाता है।

व्हाइट लिली का उपयोग किस लिए किया जाता है?

एंटी-बैक्टीरियल:

व्हाइट लिली में एंटी-बैक्टीरियल प्रॉपर्टीस होती है जो स्किन पर जलन और घावों के उपचार में मददगार है। इसके लिए लिली के फूलों और पत्तियों का पाउडर इस्तेमाल किया जाता है। अल्सर के लिए भी ये बेहद फायदेमंद है। 

कोल्ड और कफ:

सर्दी-खांसी में लिली की रूट लाभदायक होती है। इसमें एक्सपेक्टोरेंट प्रॉपर्टीस होती हैं जो श्वसन रोगों को ठीक करने में मदद करता है। को साफ करता है और कफ को बाहर निकालता है।

सूजन को करे दूर:

इसमें सैपोनिन होता है जो सूजन को कम करता है। इसके साथ ही ये मेटाबॉलिज्म को बढ़ाता है।

फ्लेवोनॉयड:

इसमें मौजूद फ्लेवोनॉयड रक्त वाहिकाओं को मजबूत बनाते हैं और कैंसर जैसी घातक बीमारी के ऊतकों को बढ़ने से रोकते हैं। इसके अलावा, ये शरीर की रोध प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है।

विटामिन सी:

व्हाइट लिली में विटामिन-सी होता है जो हड्डियों की वृद्धि को बढ़ावा देने के साथ हार्मोन के विकास में मदद करता है। शरीर से विषैले तत्‍व बाहर निकालने में मदद करता है।

इन परेशानियों में भी है मददगार:

कैसे काम करती है व्हाइट लिली?

व्हाइट लिली कैसे काम करती है इस पर पर्याप्त अध्ययन होना अभी बाकी है। अधिक जानकारी के लिए कृपया अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से चर्चा करें। हालांकि, इसपर हुए ताजा शोध में यह बात सामने आई है कि इसमें कुछ ऐसे तत्व पाए जाते हैं जो कैंसर जैसी घातक बीमारी के होने की संभावना को कम करती है।

ये भी पढ़ें- कैफीन क्या है?

उपयोग

कितना सुरक्षित है व्हाइट लिली का उपयोग ?

वैसे तो व्हाइट लिली ज्यादातर सभी लोगों के लिए सीमित है, लेकिन ये लोग इसे लेने से पहले अपने डॉक्टर, फार्मासिस्ट या हर्बलिस्ट से परामर्श करें, यदि:

  • प्रेग्नेंट और ब्रेस्ट फीडिंग कराने वाली महिलाएं इसका सेवन न करें। ऐसा इसलिए क्योंकि इस दौरान गर्भवती मां की इम्यूनिटी काफी कमजोर होती है, ऐसे में  किसी भी तरह की दवाई लेने से पहले अपने डॉक्टर से जरूर सलाह लेनी चाहिए।
  • यदि आप पहले से ही दूसरी दवाइयां ले रहे हैं तो भी इसका सेवन डॉक्टर की परामर्श के बिना न करें।
  • आपको किसी दवा या फिर हर्ब से एलर्जी है।
  • आपको कोई दूसरी तरह की बीमारी, डिसऑर्डर, या मेडिकल कंडीशन है। 
  • आपको किसी तरह की एलर्जी है, जैसे किसी खास तरह के खाने से, डाय से, प्रिजर्वेटिव या फिर जानवर से।

दवाइयों की तुलना में हर्ब्स लेने के लिए नियम ज्यादा सख्त नहीं हैं। बहरहाल यह कितना सुरक्षित है इस बात की जानकारी के लिए अभी और भी रिसर्च की जरूरत है। इस हर्ब को इस्तेमाल करने से पहले इसके रिस्क और फायदे को अच्छी तरह से समझ लें। हो सके तो अपने हर्बल स्पेशलिस्ट या डॉक्टर से सलाह लेकर ही इसे यूज करें।

ये भी पढ़ें- नारियल तेल क्या है?

साइड इफेक्ट्स

व्हाइट लिली से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

सीमित मात्रा में इसका सेवन सुरक्षित है। अधिक मात्रा में इसका सेवन करना नुकसानदायक साबित हो सकता है। अगर आपको इसका सेवन करने के बाद कोई भी साइड इफेक्ट महसूस हो या आप इनके बारे में और जानना चाहते हैं तो नजदीकी डॉक्टर से संपर्क करें।

ये भी पढ़ें- सहजन क्या है? 

डोजेज

व्हाइट लिली को लेने की सही खुराक क्या है?

व्हाइट लिली की खुराक हर मरीज के लिए अलग हो सकती है। आपके द्वारा ली जाने वाली खुराक आपकी उम्र, स्वास्थ्य और कई अन्य स्थितियों पर निर्भर करती है। अपनी उचित खुराक के लिए अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से चर्चा करें।

ये भी पढ़ें- धनिया क्या है?

उपलब्ध

किन रूपों में उपलब्ध है?

  • रॉ व्हाइट लिली
  • व्हाइट लिली रूट एक्सट्रेक्ट
  • व्हाइट लिली एक्सट्रेक्ट कैप्सूल

ये भी पढ़ें- बर्गमोट क्या है?

सूत्र

रिव्यू की तारीख सितम्बर 28, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया सितम्बर 30, 2019