home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

Vocal Cord Polyps: वोकल कॉर्ड पॉलीप्स क्या है?

परिचय|लक्षण|कारण|जांच|इलाज
Vocal Cord Polyps: वोकल कॉर्ड पॉलीप्स क्या है?

परिचय

वोकल कॉर्ड पॉलीप्स क्या है? (What is Vocal Cord Polyps?)

वोकल कॉर्ड लचीले मांसपेशी ऊतक के दो तार होते हैं, जिससे स्वर या ध्वनि उत्पन्न होती है। वोकल कॉर्ड सांस नली के ऊपर की ओर लेरिंक्स के अगल-बगल स्थित होते है। वोकल कॉर्ड भी शरीर के अन्य अंगों की तरह क्षतिग्रस्त या बीमारी का शिकार हो सकते है। वोकल कॉर्ड पॉलीप्स (Vocal Cord Polyp) झिल्लीदार कोर्ड्स के बीच के तीसरे भाग में हो सकते हैं और ज्यादातर एक तरफ होते हैं। एनाटॉमी में पॉलीप श्लेष्म झिल्ली से ऊतक की असामान्य वृद्धि को कहते है। जब यह असामान्य वृद्धि वोकल कॉर्ड में होती है तो उसे वोकल कॉर्ड पॉलीप्स कहते है। पॉलीप्स नोड्यूल की तुलना में बड़े और ज्यादा फुले हुए होते हैं और इसमें ज्यादातर एक सतह वाली ब्लड वेसल्स होती है। ये ज्यादातर ध्वनि (Phonatory) संबंधित गंभीर चोट की वजह से होते हैं।

लक्षण

वोकल कॉर्ड पॉलीप्स के लक्षण क्या है? (Symptoms of Vocal Cord Polyps)

वोकल कॉर्ड पॉलीप और वोकल कॉर्ड नोड्यूल में एक जैसे लक्षण दिखाई देते हैं। इसमें निम्न लक्षण शामिल है:

  • आवाज बैठना।
  • सांस फूलना
  • आवाज रफ हो जाना।
  • आवाज में खरोंच (Scratchy) जैसा महसूस होना।
  • आवाज कठोर होना।
  • एक कान से दूसरे कान तक दर्द फैलना
  • गले में गांठ जैसा महसूस होना
  • गर्दन में दर्द
  • आवाज की पिच बदलने की क्षमता कम हो जाना
  • आवाज और शरीर में थकान होना

[mc4wp_form id=”183492″]

कारण

वोकल कॉर्ड पॉलीप्स के कारण क्या है? (Cause of Vocal Cord Polyps)

वोकल कॉर्ड पॉलीप्स ज्यादातर वोकल एब्यूज नोड्यूल होने के कारण होता है। वोकल एब्यूज में गला साफ करना, खांसना, सांस की जलन, स्मोकिंग (Smoking), चीखना या चिल्लाना जैसी चीजें शामिल है। वोकल एब्यूज लंबे समय तक रहने से पॉलीप्स (Vocal cord polyps) हो सकती है। लेकिन पॉलीप्स वोकल एब्यूज होने के बाद कुछ ऐसी एक्टिविटी जैसे कि प्रोग्राम में चिल्लाने के कारण हो सकती है। लंबे समय तक सिगरेट पीने से थायरॉइड (Thyroid) की समस्या और रिफ्लक्स के कारण भी पॉलीप हो सकती है।

और पढ़ें : गले में कफ की समस्या क्या है? जानिए इसके उपाय

वोकल कॉर्ड पॉलीप्स (Vocal cord polyps) होने के कई कारण हैं जैसे:

  • एलर्जी
  • स्मोकिंग
  • तनी हुई मसल्स (Tense muscles)
  • गायन
  • ज्यादा देर तक चिल्लाकर बात करना
  • जोर से बात करना
  • कैफीन और शराब पीना, जो गले और वोकल फोल्ड को सूखा कर देती है।
और पढ़ें : Roseola: रोग रास्योला?

जांच

वोकल कॉर्ड पॉलीप्स की जांच क्या है?

डॉक्टर को दिखाना तब बहुत जरूरी हो जाता है जब आवाज 2 से 3 हफ्ते से ज्यादा समय से कर्कश है। आप ओटोलैरिंगोलॉजिस्ट (Otolaryngologist) या कान, नाक और गले के डॉक्टर से सलाह ले सकते हैं, जो आवाज की समस्याओं के बारे में जानता हो। डॉक्टर एसएलपी टेस्ट (Speech-Language Pathology Test ) कर आपकी आवाज की जांच कर सकते हैं। कुछ केस में जरूरत पड़ने पर न्यूरोलॉजिस्ट, एलर्जिस्ट को भी दिखाना पड़ता है।

  • एसएलपी टेस्ट (SLP Test )- एसएलपी टेस्ट में आपकी आवाज सुनी जाएगी। इसमें डॉक्टर आपको अपनी पिच को बदलने और जोर से और धीरे बात करने की कोशिश करने के लिए कहेंगे। इससे यह पता चलेगा कि आवाज का पिच बदलने में पहली वाली पिच कितनी देर तक बरकरार रहती है। डॉक्टर गले में देख सकते हैं कि वोकल फोल्ड कैसे स्थानांतरित हो रहे हैं। इसमें वोकल फोल्ड्स पर नोड्यूल या पॉलीप्स (Vocal cord polyps) हैं या नहीं।
  • एंडोस्कोपी (Endoscopy)- इसके साथ ही डॉक्टर जांच करने के लिए मुंह में एक लंबी ट्यूब, जिसे एंडोस्कोप कहते हैं, डाल सकते हैं। स्ट्रोबोस्कोप (चमकती रोशनी) के जरिए वोकल फोल्ड्स को अंदर से देखा जाता है।

और पढ़ें : Sore Throat: गले में दर्द से छुटकारा दिलाएंगे ये घरेलू उपाय

इलाज

वोकल कॉर्ड पॉलीप्स का इलाज कैसे किया जाता है? (Treatment for Vocal cord polyps)

वोकल कॉर्ड पॉलीप्स की समस्या होने लक्षणों के आधार पर जांच करके इलाज किया जाता है। सामान्यतौर पर डॉक्टर वोकल कॉर्ड पॉलीप्स का इलाज निम्न तरह से करते है-

  • वोकल कॉर्ड पॉलीप्स इलाज इस बात पर निर्भर करता है कि पॉलीप्स होने के क्या कारण है, वे कितने बड़े हैं और आपको क्या-क्या परेशानियां हैं। बता दें कि डॉक्टर पॉलीप्स (Vocal cord polyps) को हटाने के लिए सर्जरी भी कर सकते हैं। सर्जरी वैसे तो तब की जाती है, जब वोकल कॉर्ड पॉलिप्स साइज में बड़े होते हैं या लंबे समय से होते हैं। ऐसे केस में बच्चों की सर्जरी नहीं होती है।
  • आवाज से जुड़ी किसी भी परेशानी जो मेडिकल कारणों से होती हैं, उसका इलाज कराना जरूरी है।
  • पॉलीप्स को खत्म करने से पहले रिफ्लक्स, एलर्जी और थायरॉइड की परेशानियों का इलाज करने की जरूरत होती है। स्मोकिंग रोकने, स्ट्रेस को कंट्रोल करने के लिए मेडिकल सहायता की जरूरत हो सकती है।
  • वॉइस थेरिपी के जरिए इलाज के लिए एसएलपी (Speech Language Pathologists) देख सकते हैं। स्पीच लैंगवेज पैथोलॉजिस्ट (एसएलपी) आपको अपनी आवाज़ की देखभाल से जुड़ी चीजें सीखा सकता है जिसे वोकल हाइजीन भी कहते है।
  • इसके साथ ही आप अपनी आवाज को वोकल एब्यूज कैसे करते हैं और रोकने के लिए क्या करना है, इसके बारे में जान सकते हैं। इस थैरेपी में आप अपनी आवाज का साउंड कैसे बदलें, ये भी जान सकते हैं, इसके साथ ही बात करते समय पर्याप्त सांस लें, इसकी ट्रेनिंग भी मिल जाती है। एसएलपी आपको आराम करने और तनाव कम महसूस करने के तरीके खोजने में भी मदद कर सकते है।

और पढ़ें : Throat cancer: गले (थ्रोट) का कैंसर क्या होता है?

अगर आप वोकल कॉर्ड पॉलीप्स (Vocal cord polyps) से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं, तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
sudhir Ginnore द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 23/02/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड