backup og meta
खोज
स्वास्थ्य उपकरण
बचाना

पुरुष हार्ट हेल्थ को लेकर अक्सर करते हैं ये गलतियां

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड डॉ. प्रणाली पाटील · फार्मेसी · Hello Swasthya


Bhawana Awasthi द्वारा लिखित · अपडेटेड 25/11/2021

पुरुष हार्ट हेल्थ को लेकर अक्सर करते हैं ये गलतियां

हमारे शरीर के सभी ऑर्गन का बॉडी फंक्शन में महत्वपूर्ण किरदार होता है। अगर शरीर का कोई भी ऑर्गन सही से काम नहीं करता है, तो पूरे शरीर पर उसका असर देखने को मिलता है। शरीर के किसी भी पार्ट में खराबी आने पर कुछ सिम्टम्स यानी लक्षण दिखाई पड़ने लगते हैं। अगर लक्षण दिखने पर बीमारी का इलाज करा लिया जाए, तो बड़े खतरे से निपटा जा सकता है। हार्ट का हमारे शरीर में अहम रोल अदा करता है। महिलाओं और पुरुषों, दोनों को अपने दिल का पूरा ख्याल रखना चाहिए लेकिन कुछ पुरुष अक्सर हार्ट हेल्थ को लेकर लापरवाही कर जाते हैं। ये हार्ट हेल्थ मिस्टेक उन्हें भारी भी पड़ती हैं। आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से मेंस हार्ट हेल्थ से जुड़ी मिस्टेक के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं। जानिए अक्सर पुरुष हार्ट हेल्थ को लेकर कौन-सी मिस्टेक करते हैं?

और पढ़ें: हार्ट अटैक (Heart Attack): जानिए इसके कारण, लक्षण और उपाय

पुरुष हार्ट हेल्थ को लेकर अक्सर करते हैं ये गलतियां

हावर्ड में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार, ‘ कम उम्र के पुरुषों को महिलाओं की अपेक्षा हार्ट डिजीज का अधिक खतरा रहता है। जहां पुरुषों में पहले हार्ट अटैक की एवरेज एज 65 साल है, वहीं महिलाओं में हार्ट अटैक की एवरेज एज 72 साल होती है। हार्ट संबंधी समस्याओं के कारण पुरुषों की अधिक मौत होती हैं। मेंस हार्ट हेल्थ पर महिलाओं की अपेक्षा कम ध्यान देते हैं। जानिए पुरुष हार्ट हेल्थ को लेकर कौन सी गलतियां करते हैं।

मुझे कभी हार्ट अटैक (Heart Attack) नहीं हो सकता

हार्ट से संबंधित समस्याएं किसी भी उम्र में हो सकती हैं। आज का लाइफस्टाइल बदल चुका है और इसके कारण कम उम्र में दिल की बीमारियां आम हो चुकी हैं। अगर आपकी फैमिली में किसी को भी हार्ट संबंधी समस्या नहीं है, तो इसका मतलब ये बिल्कुल नहीं है कि आपको भी दिल की बीमारी नहीं हो सकती है। अगर आप ये सोच रहे हैं कि मुझे तो हार्ट अटैक आ ही नहीं सकता है, तो आपको इस भ्रम से बाहर निकलने की जरूरत है। आपको हेल्दी डायट के साथ ही एक्सरसाइज, योगा आदि जरूर करना चाहिए। हेल्दी हार्ट के लिए हेल्दी लाइफस्टाइल बहुत जरूरी है।

और पढ़ें: जानें हृदय स्वास्थ्य से जुड़े मिथक को लेकर क्या कहते हैं एक्सपर्ट

रूटीन टेस्ट को लेकर लापरवाही

महिलाओं की अपेक्षा पुरुष कम ही एनुअल चेकअप के लिए डॉक्टर के पास जाते हैं। रूटीन टेस्ट जैसे कि कोलेस्ट्रॉल टेस्ट, ब्लड शुगर, ब्लड प्रेशर आदि का चेकअप कराने से हार्ट हेल्थ की समस्याओं से बचा जा सकता है लेकिन मेंस हार्ट हेल्थ को लेकर जागरूक नहीं होते हैं। वहीं हार्ट अटैक के लक्षणों को भी कई बार मेंस इग्नोर कर देते हैं। इन्हीं कारणों से हार्ट अटैक की समस्या का खतरा अधिक बढ़ जाता है। बेहतर होगा कि मेंस हार्ट हेल्थ का ख्याल रखें और रूटीन टेस्ट को इग्नोर न करें।

इरेक्टाइल डिस्फंक्शन (Erectile dysfunction) का मामला सिर्फ दिमाग से नहीं है जुड़ा

जिन पुरषों को इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की समस्या होती है, वो मानसिक रूप से बहुत परेशान रहते हैं और अपनी समस्या के बारे में न तो पार्टनर को बताना चाहते हैं और न ही डॉक्टर से परामर्श करना चाहते हैं। आपको जानकर हैरानी हो सकती है कि इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की समस्या कहीं न कहीं हार्ट की समस्या के बारे में संकेत दे सकता है। इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की समस्या पेनिस में ब्लड फ्लो प्रॉब्लम के कारण पैदा होती है। ऐसा डैमेज्ड ब्लड वैसल्स के कारण होता है, तो कि हार्ट की डैमेज्ड ब्लड वैसल्स के बारे में भी जानकारी देती हैं। पुरुषों को शर्मिंदिगी महसूस करने के बजाय डॉक्टर से तुरंत जांच करानी चाहिए। बीमारी का कारण पता कर कई समस्याओं को दूर किया जा सकता है।

और पढ़ें: सीने में दर्द, पैरों में सूजन और थकावट कहीं आपको दिल से बीमार न बना दे!

मेंस हार्ट हेल्थ: स्ट्रेस (Stress) दूर करने के लिए बैड हैबिट्स

लंबे समय तक काम करने या फिर स्ट्रेसफुल लाइफ के कारण मेंस एल्कोहॉल या स्मोकिंग को जरूरी आदतों में शामिल कर लेते हैं। उन्हें लगता हैं कि रोजाना थोड़ी मात्रा में ली गई शराब और स्मोकिंग शरीर को नुकसान नहीं पहुंचाती है। जबकि ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। कई बार लोग बीमारी के दर्द से छुटकारा पाने के लिए ड्रिंक करते हैं, जो हार्ट हेल्थ के लिए बहुत खतरनाक है। अगर आपको किसी कारण से स्ट्रेस है या फिर डिप्रेशन की समस्या है, तो बेहतर होगा कि बैड हैबिट्स अपनाने के बजाय आप डॉक्टर से ट्रीटमेंट कराएं। एल्कोहॉल और स्मोकिंग हार्ट के साथ ही शरीर के अन्य भागों को भी नुकसान पहुंचाने का काम करती है।

फैमिली हेल्थ प्रॉब्लम को करते हैं इग्नोर

अगर आपकी फैमिली में किसी को हार्ट से संबंधित बीमारी नहीं है, तो ये अच्छी बात लेकिन हार्ट डिजीज की हिस्ट्री वाले लोगों को अधिक सावधान रहने की जरूरत है। आप ये बिल्कुल भी न सोचें कि फैमिली हेल्थ प्रॉब्लम से बचा नहीं जा सकता है। अगर आप अपनी लाइफस्टाइल में सुधार करेंगे, तो आप हार्ट से संबंधित बीमारियों से बच सकते हैं। आप डॉक्टर से बात करें और उन्हें फैमिली हिस्ट्री के बारे में बताएं। ऐसा करने से आप हार्ट संबंधी रिस्क से खुद का बचाव कर सकते हैं। आपको एक निश्चित समय के बाद टेस्ट भी कराना चाहिए।

मेंस हार्ट हेल्थ के लिए खर्राटे लेना है खतरा

अगर हम आपसे ये प्रश्न करेंगे तो हो सकता है कि आप कहेंगे कि मेरे पापा या बाबा तो अक्सर खर्राटे लेते है और मेरे लिए ये आम बात है। आपको अब सावधान हो जाना चाहिए क्योंकि खर्राटों का संबंध हार्ट डिजीज और हाई ब्लड प्रेशर से भी हो सकता है। अक्सर पुरुष इस बात को इग्नोर करते हैं और कभी भी इस समस्या की जांच नहीं कराते हैं।

और पढ़ें: हृदय रोग के लिए डायट प्लान क्या है, जानें किन नियमों का करना चाहिए पालन?

हाई-डायट प्रोटीन के सिवा कुछ भी नहीं!

पुरुषों में हाई-डायट प्रोटीन का क्रेज अधिक रहता है। प्रोटीन का सेवन करना शरीर के लिए लाभकारी होता है लेकिन अधिक मात्रा में प्रोटीन डायट लेने से शरीर में सैचुरेटेड और ट्रांस फैट बढ़ने के भी चांसेज रहते हैं, जो हार्ट हेल्थ के लिए अच्छा नहीं होता है। अगर आप एक ही तरह की डायट लेते रहेगें, तो हो सकता है कि आप अन्य पौष्टिक आहार तो इग्नोर कर दें। ये आपकी सेहत के लिए सही नहीं होगा।

मेंस हार्ट हेल्थ के लिए टिप्स 

  1. मेंस हार्ट हेल्थ के लिए फ्रूट्स और वेजीटेबल बहुत जरूरी है। अगर आप किसी खास डायट को फॉलो कर रहे हैं, तो ये अच्छी बात है लेकिन फलों और सब्जियों को सेवन जरूर करें। फलों और सब्जियों में प्रचुर मात्रा में पोटैशियम और मिनिरल्स पाएं जाते हैं, जो ब्लड प्रेशर को मेंटेन करने का काम करते हैं। अगर ब्लड प्रेशर की समस्या रहेगी, तो आपको हार्ट को भी खतरा रहेगा। एडल्ट मेन को एक दिन में 3,400 मिलीग्राम पोटैशियम की जरूरत होती है। 
  2. मेंस हार्ट हेल्थ के लिए ट्रांस फैट और हाइड्रोजेनेटेड ऑयल अच्छे नहीं होते हैं। हार्ट के लिए अनसैचुरेटेड फैट अच्छे होते हैं। आलमंड ऑयल, ऑलिव ऑयल, वॉलनट ऑयल आदि में अनसैचुरेटेड फैट (Unsaturated fat) होता है। ये बैड कोलेस्ट्रॉल के लेवल को भी कम करते हैं। आपको खाते समय फैट के बारे में जरूर ख्याल रखना चाहिए।
  3. सप्ताह में करीब दो से तीन घंटे एरोबिक एक्सरसाइज जरूर करें। आप रोजाना वॉकिंग, जॉगिंग, डांसिंग या साइकलिंग कर सकते हैं। अगर आपको कोई दिक्कत न हो, तो स्ट्रेंथ ट्रेनिंग जैसे कि वेट लिफ्टिंग भी कर सकते हैं। बैलेंस और फ्लेक्सिबिलिटी एक्सरसाइज भी हार्ट हेल्थ के लिए अच्छी रहती हैं।
  4. भले ही लोग तनाव को इग्नोर करें लेकिन अधिक तनाव और डिप्रेशन हार्ट हेल्थ के लिए बहुत खतरनाक होता है। अगर आप हेल्दी फूड ले रहे हैं और एक्सरसाइज कर रहे हैं लेकिन तनाव के कारण अच्छी नींद नहीं ले पा रहे हैं, तो आपका हार्ट हमेशा खतरे में रहेगा। बेहतर होगा कि आप खानपान के साथ ही सात से आठ घंटे नींद भी लें। स्ट्रेस को दूर करने के लिए मेडिटेशन का सहारा लें।
  5. हम उम्मीद करते हैं कि आपको इस आर्टिकल के माध्यम से मेंस हार्ट हेल्थ के संबंध में जानकारी मिल गई होगी। अगर आप 30 साल के बाद रूटीन चेकअप कराते रहेंगे, तो आप कई बीमारियों से बच सकते हैं। हेल्दी लाइफस्टाइल न सिर्फ हार्ट हेल्थ को दुरस्त रखती है बल्कि ओवरऑल हेल्थ के लिए वरदान होती है। आप इस बारे में अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से परामर्श कर सकते हैं। उपरोक्त जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। आप स्वास्थ्य संबंधी अधिक जानकारी के लिए हैलो स्वास्थ्य की वेबसाइट विजिट कर सकते हैं। अगर आपके मन में कोई प्रश्न है, तो हैलो स्वास्थ्य के फेसबुक पेज में आप कमेंट बॉक्स में प्रश्न पूछ सकते हैं और अन्य लोगों के साथ साझा कर सकते हैं।

    डिस्क्लेमर

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

    डॉ. प्रणाली पाटील

    फार्मेसी · Hello Swasthya


    Bhawana Awasthi द्वारा लिखित · अपडेटेड 25/11/2021

    ad iconadvertisement

    Was this article helpful?

    ad iconadvertisement
    ad iconadvertisement