home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

Spinal cord injury : स्पाइनल कॉर्ड इंजरी क्या है?

परिचय|लक्षण|कारण|कारण|उपचार| घरेलू उपाय
Spinal cord injury : स्पाइनल कॉर्ड इंजरी क्या है?

परिचय

स्पाइनल कॉर्ड इंजरी क्या है?

रीढ़ की हड्डी में लगने वाली चोट को स्पाइनल कॉर्ड इंजरी कहते हैं। ये चोट गंभीर होती है। रीढ़ की हड्डी चार भागों में बंटी होती है। हर भाग नसों के उन समूहों की सुरक्षा करता है जो शरीर को नियंत्रित करती हैं। रीढ़ की हड्डी की चोट की गंभीरता इस बात पर निर्भर करती है कि चोट किस भाग में लगी है। रीढ़ की हड्डी द्वारा ही दिमाग शरीर के अन्य भागों तक संदेश भेजने का काम करता है। साथ ही रीढ़ की हड्डी शरीर द्वारा दिमाग तक संदेश भी भेजती है।

रीढ़ की हड्डी के माध्यम से दिमाग तक संदेश भेजने के कारण हम शरीर में दर्द का अनुभव कर पाते हैं। इसी के द्वारा शरीर के अंगों को हिला पाते हैं। अगर चोट गर्दन के करीब लगती है तो इससे शरीर के निचले हिस्से में लकवा भी मार सकता है।

कितनी आम है स्पाइनल कॉर्ड इंजरी?

स्पाइनल कॉर्ड इंजरी होना कोई आम बीमारी नहीं है। कहीं गिरने या एक्सीडेंट से ऐसा हो सकता है। स्पाइनल कॉर्ड इंजरी होने के कई कारण हो सकते हैं, जैसे गठिया, कैंसर, सूजन, संक्रमण या रीढ़ की हड्डी की डिस्क का समय के साथ घिसना। इसके अलावा पूरी जानकारी के लिए डॉक्टर की

सलाह लें

और पढ़ें: Scurvy : स्कर्वी रोग क्या है?

लक्षण

स्पाइनल कॉर्ड इंजरी के सामान्य लक्षण क्या हैं ?

स्पाइनल कॉर्ड इंजरी के सामान्य लक्षण कुछ इस तरह हैं-

डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?

यदि आपको लगता है कि किसी अन्य को स्पाइनल कॉर्ड इंजरी है, तो नीचे दी गई प्रक्रिया का पालन करें:

  • तुरंत डॉक्टर को कॉल करें। जितनी जल्दी इलाज होगा उतना मरीज के लिए अच्छा है।
  • जब तक बहुत जरूरी न हो, व्यक्ति को स्थानांतरित न करें या उन्हें किसी भी तरह से परेशान न करें। व्यक्ति के सिर को न हिलाएं या हेलमेट निकालने की कोशिश न करें।
  • हो सके तो व्यक्ति को प्रोत्साहित करें, भले ही उन्हें लगे कि वे खुद उठने और चलने में सक्षम हैं।
  • अस्पताल पहुंचने के बाद डॉक्टर खुद ही उनकी पूरी जांच करेंगे। वो ये पता लगाएंगे कि रीढ़ की हड्डी में कहां पर चोट लगी है।

और पढ़ें: Skin Disorders : चर्म रोग (त्वचा विकार) क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

कारण

रीढ़ की हड्डी की चोट के कारण क्या हैं?

रीढ़ की हड्डी की चोट अक्सर दुर्घटना या हिंसक घटना का परिणाम होती है। निम्नलिखित चीजें रीढ़ की हड्डी को नुकसान पहुंचा सकती हैं:

  • अचानक हमला होना, जैसे चाकू या बंदूक की गोली लग जाना
  • उथले पानी में गोता लगाते वक्त जमीन से टकरा जाना
  • कार दुर्घटना के दौरान चेहरे, सिर, गर्दन, पीठ या छाती पर चोट लगना
  • ऊंचाई से गिरना
  • खेल के दौरान रीढ़ की हड्डी में चोट लगना
  • बिजली का झटका लगना

और पढ़ें: सरोगेट मदर का चुनाव कैसे करें?

कारण

क्या चीजें हैं जो स्पाइन कॉर्ड इंजरी की संभावना को बढ़ा सकती हैं?

स्पाइन कॉर्ड इंजरी के कई जोखिम कारक हो सकते हैं, जैसे:

  • स्पाइनल कॉर्ड इंजरी महिलाओं के मुकाबले पुरुषों के लिए ज्यादा घातक होती है। संयुक्त राज्य अमेरिका में लगभग 20 प्रतिशत महिलाओं को रीढ़ की हड्डी में चोट की समस्या है।
  • 16 और 30 वर्ष की उम्र के बीच आपको स्पाइनल कॉर्ड इंजरी होने की सबसे अधिक संभावना होती है।
  • 65 वर्ष से अधिक होने पर गिरने से वयस्कों में स्पाइनल कॉर्ड इंजरी होने की समस्या सबसे अधिक होती है।
  • जोखिम भरे काम करना। खेलते समय अच्छे से प्रोटेक्शन न लेने पर भी रीढ़ की हड्डी में चोट लग सकती है। कार या मोटर साइकिल से गिरने पर भी ऐसा हो सकता है।
  • मामूली चोट भी स्पाइनल कॉर्ड इंजरी का कारण बन सकती है यदि आपको गठिया जैसी बीमारी है तो भी रीढ़ की हड्डी की चोट हो सकती है।

उपचार

स्पाइनल कॉर्ड इंजरी का परीक्षण कैसे किया जा सकता है?

  • कोई भी चीज महसूस करने में और चलने-फिरने में दिक्कत हो तो डॉक्टर रीढ़ की हड्डी की चोट की जांच करते हैं।
  • गर्दन में चोट होने पर डॉक्टर परीक्षण कर सकते हैं।
  • कहीं तेजी से गिर जाने पर स्पाइनल कॉर्ड इंजरी का परीक्षण किया जाता है। डॉक्टर सीएसएफ टेस्ट कराने की सलाह दे सकते हैं।

इसके अलावा डॉक्टर कुछ टेस्ट भी करते हैं

  • एक्स-रे करने से स्पाइनल कॉर्ड इंजरी का पता चल सकता है।
  • इस चोट का पता लगाने का अच्छा तरीका सीटी स्कैन भी है।
  • एमआरआई— स्पाइनल कॉर्ड पर दबाव डालने वाली समस्याओं के बारे में एमआरआई के जरिए पता लग सकता है।

स्पाइनल कॉर्ड इंजरी का इलाज कैसे करें?

  • स्पाइनल कॉर्ड इंजरी को पूरी तरह ठीक करने के लिए कोई उपचार उपलब्ध नहीं है।
  • नए उपचार की खोज करने के लिए लगातार शोध किए जा रहे हैं, जिसमें प्रोसथेसेस और दवाइयां शामिल हैं।
  • ये दवाएं तंत्रिकाओं की कार्य करने की क्षमता को बढ़ा सकती हैं।
  • स्पाइनल कॉर्ड इंजरी के उपचार में इस बात पर भी ध्यान दिया जाता है

    कि इसे और अधिक नुकसान न पहुंचे। अब स्टेम सेल की मदद से इसका इलाज किया जा रहा है।

आपातकालीन चिकित्सा

  • तुरंत चिकित्सा मिलने पर रीढ़ की हड्डी की चोट का इलाज किया जा सकता है।
  • चोट लगने पर गर्दन को न हिलाएं। इसी के साथ ही खून के बहाव को रोकने की कोशिश करें।
  • डॉक्टर आपको बेहोश कर सकता है। जिससे आपका शरीर स्थिर रहे।

पुनर्वास

  • शुरुआती चरण में डॉक्टर आपकी मांसपेशियों की कार्य क्षमता में सुधार करने की कोशिश करता है। साथ ही आपके काम करने के तरीकों पर भी गौर करता है।
  • इसमें आपको स्पाइन कॉर्ड इंजरी निर्भर बनाने की कोशिश की जाती है।
  • चोट ठीक होने में 6 महीने का समय लग सकता है। चोट गहरी है तो ज्यादा समय भी ले सकती है।

घरेलू उपाय

जीवनशैली में होने वाले बदलाव क्या हैं, जो मुझे स्पाइन कॉर्ड इंजरी को ठीक करने में मदद कर सकते हैं?

  • सुरक्षित तरीके से वाहन चलाएं। कार या मोटरसाइकिल की भिड़ंत से शरीर को नुकसान पहुंच सकता है। इसमें स्पाइनल कॉर्ड इंजरी
    होने की संभावना सबसे ज्यादा होती है।
  • पानी में कूदते समय उसकी गहराई का पता होना जरूरी है। पानी की गहराई कम से कम 9 फीट होनी चाहिए।
  • अचानक गिरने से भी स्पाइनल कॉर्ड इंजरी हो सकती है।
  • कोई खेल खेलते समय सुरक्षा जरूरी है। ऐसे में हेलमेट का उपयोग जरूर करें। जिमनास्टिक के खेल में भी इंजरी हो सकती है।
  • शराब पीकर गाड़ी न चलाएं
यदि आप स्पाइन कॉर्ड इंजरी का अनुभव कर रहे हैं, तो तुरंत अपने डाॅक्टर से संपर्क करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Sharma द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 01/09/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड