आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

लिम्फ नोड्स (Lymph Nodes) से जुड़ी ये जानकारी हो सकती है मददगार

    लिम्फ नोड्स (Lymph Nodes) से जुड़ी ये जानकारी हो सकती है मददगार

    लिम्फ नोड्स (Lymph Nodes) छोटी, बीन के आकार की ग्लैंड्स (Glands) होती हैं जो इम्यून सिस्टम (Immune system) में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। वे लिम्फेटिक फ्लूइड (Lymphatic fluid) को फिल्टर करती हैं जिससे बॉडी जर्म्स और वेस्ट मेटेरियल को बाहर निकालने में मदद करती है। बॉडी में हजारों प्रकार की लिम्फ नोड होती हैं। वे शरीर के चारों ओर समूह बनाती हैं और विशेष रूप से गर्दन, बगल और कमर और कान के पीछे जैसे क्षेत्रों में होती हैं।

    शरीर की कोशिकाएं और ऊतक लिम्फेटिक फ्लूइड में वेस्ट प्रोडक्ट्स को डिस्पोज करते हैं। जिसे लिम्फ नोड्स फिर फिल्टर करती हैं। इस प्रक्रिया के दौरान, वे बैक्टीरिया और वायरस को पकड़ती हैं जो शरीर के बाकी हिस्सों को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

    लिम्फ नोड बॉडी के इम्यून सिस्टम का जरूरी हिस्सा होती हैं। उनके कार्यों के चलते वे टॉक्सिन्स के संपर्क आती हैं जो उनकी सूजन का कारण बन जाते हैं। हालांकि, लिम्फ नोड्स का सूजन कॉमन है, कई बार वे लिम्फ नोड कैंसर या लिम्फोमा की तरफ इशारा कर सकती हैं। इस आर्टिकल में लिम्फ नोड से जुड़ी जानकारी दी जा रही है।

    लिम्फ नोड्स (Lymph Nodes) कहां होती हैं?

    लिम्फ नोड्स लिम्फेटिक सिस्टम का हिस्सा हैं, जो नोड्स और वाहिकाओं का एक जटिल नेटवर्क है। शरीर के कुछ क्षेत्रों में, जैसे कि गर्दन, बगल और कमर में, लिम्फ नोड्स त्वचा के करीब होते हैं। इसका मतलब है कि संक्रमण विकसित होने पर इनमें सूजन आ सकती है।

    लिम्फ नोड्स पेट में और फेफड़ों के बीच भी मौजूद होते हैं। हालांकि, ब्रेन और स्पाइनल कोर्ड में कोई लिम्फ नोड्स नहीं होती है। लिम्फ नोड का नाम शरीर में इसके स्थान पर निर्भर करता है। नेक में होने वाली लिम्फ नोड्स को सर्वाइकल (Cervical), आर्मपिट के लिम्फनोड को एक्जिलरी (Axillary) और ग्रोइन की लिम्फ नोड को इंग्युनल (Inguinal) कहा जाता है।

    और पढ़ें: Peripheral Cyanosis: पेरिफेरल सायनॉसिस क्या है? जानिए इसके लक्षण, कारण और इलाज

    लिम्फ नोड्स कैसे काम करती हैं? (How do Lymph Nodes work )

    लिम्फ नोड्स पूरे शरीर में क्लस्टर बनाती हैं। उनका मुख्य कार्य संभावित हानिकारक पदार्थों को फिल्टर करना है। अपशिष्ट उत्पादों को खत्म करने के लिए शरीर के सभी ऊतक और कोशिकाएं लिम्फेटिक फ्लूइड , या लिम्फ का उत्सर्जन करते हैं। लिम्फ लिम्फेटिक सिस्टम में वाहिकाओं के माध्यम से ट्रैवल करता है और फिल्टर होने के लिए लिम्फ नोड्स से गुजरता है।

    लिम्फ नोड में लिम्फोसाइट्स (Lymphocytes) होते हैं। ये एक प्रकार की श्वेत रक्त कोशिकाएं हैं जो बैक्टीरिया, वायरस और कवक जैसे रोगजनकों को नष्ट करने में मदद करती हैं। जब लिम्फ नोड लिम्फ में रोगजनक जैसे कि बैक्टीरिया, वायरस और फंगी का पता लगाते हैं, तो वे अधिक लिम्फोसाइट्स का उत्पादन करते हैं, जिससे वे सूज जाते हैं।

    बैक्टीरिया या क्षतिग्रस्त कोशिकाओं का सामना करने पर, लिम्फ नोड्स उन्हें नष्ट कर देती हैं और उन्हें अपशिष्ट उत्पाद में बदल देती हैं। जब लिम्फ ब्लडस्ट्रीम में फिर से एंटर करते हैं, वेस्ट प्रोडक्ट्स किडनी और लिवर में ट्रैवल करते हैं। शरीर तब वेस्ट मेटेरियल्स को यूरिन और स्टूल के रूप में बाहर निकालता है।

    लिम्फ नोड्स में सूजन के कॉमन कारण क्या हैं? (Common causes of swollen lymph nodes)

    सूजी हुई लिम्फ नोड्स हमेशा कैंसर की तरफ इशारा नहीं करती। कई ऐसी कंडिशन्स हैं जो लिम्फ नोड में सूजन का कारण बन सकती हैं।

    लिम्फेडिनाइटिस (Lymphadenitis)

    लिम्फेडिनाइटिस तब होता है जब लिम्फ में बैक्टीरिया, वायरस या कवक लिम्फ नोड को संक्रमित करते हैं। जब ऐसा होता है तो लिम्फ नोड सूज जाती हैं और उन्हें छूने पर दर्द होता है। यदि नोड्स के कई समूह संक्रमित हो जाते हैं, तो व्यक्ति को अपनी गर्दन और कमर दोनों में दर्द और सूजन महसूस हो सकती है।

    यदि नोड्स के कई समूह संक्रमित हो जाते हैं, तो व्यक्ति को अपनी गर्दन और कमर दोनों में दर्द और सूजन महसूस हो सकती है। लिम्फैडेनाइटिस का सबसे आम प्रकार लोकलाइज्ड लिम्फैडेनाइटिस (Localized lymphadenitis) है। इसका मतलब है कि स्थिति केवल कुछ नोड्स को प्रभावित करती है। यदि संक्रमण कई नोड क्लस्टर में होता है, तो डॉक्टर संभवतः जनरलाइज्ड लिम्फैडेनाइटिस का निदान करेगा।

    और पढ़ें: पेरिफेरल नर्वस सिस्टम के डैमेज होने के कारण होती है स्मॉल फाइबर न्यूरोपैथी की समस्या!

    लक्षण (Symptoms)

    लिम्फैडेनाइटिस के लक्षणों में शामिल हैं:

    • गले में खराश, सूजी हुई लिम्फ नोड्स
    • नरम या उलझी हुई नोड्स
    • नोड्स के आसपास फोड़े
    • त्वचा से तरल पदार्थ रिसना

    इलाज (Treatment)

    लिम्फैडेनाइटिस के उपचार में शामिल हैं:

    वायरल या बैक्टीरियल थ्रोट इंफेक्शन (Viral or bacterial throat infection)

    गले में लिम्फ नोड में सूजन वायरल या बैक्टीरियल थ्रोट इंफेक्शन के कारण हो सकती है, जैसे कि स्ट्रेप थ्रोट।

    वायरल इंफेक्शन (Viral infection)

    वायरल थ्रोट इंफेक्शन जैसे कि सर्दी, सूजी हुई लिम्फ नोड, बहती नाक और आंख का पिंक होना जैसे लक्षण दिखाई देते हैं। ये संक्रमण आमतौर पर अपने आप ठीक हो जाते हैं। हालांकि, एक व्यक्ति निगलते समय अनुभव होने वाले दर्द को कम करने के लिए ओवर-द-काउंटर दर्द निवारक ले सकता है।

    स्ट्रेप थ्रोट (Strep throat)

    लिम्फ नोड्स

    स्ट्रेप थ्रोट एक बैक्टीरियल इंफेक्शन है जो ग्रुप ए स्ट्रेप्टोकोकस के कारण गले और टॉन्सिल में विकसित होता है। अगर वे स्ट्रेप बैक्टीरिया युक्त ड्रॉप्लेट्स के संपर्क में आते हैं तो लोग स्ट्रेप थ्रोट से संक्रमित हो सकते हैं।

    स्ट्रेप थ्रोट वाला व्यक्ति गले के लिम्फ नोड में सूजन, गले में खराश, बुखार और मुंह में रेड स्पॉट का अनुभव कर सकते हैं। डॉक्टर स्ट्रेप थ्रोट का इलाज एंटीबायोटिक दवाओं से करते हैं।

    इम्पेटिगो (Impetigo)

    इम्पेटिगो एक संक्रमण है जो समूह ए स्ट्रेप्टोकोकस के कारण विकसित होता है और इसमें बगल और ग्रोइन में मौजूद लिम्फ नोड्स सूज सकती हैं। एक व्यक्ति इंपेटिगो का शिकार तब हो सकता है जब बैक्टीरिया त्वचा के छिलने या फटने परशरीर में प्रवेश करते हैं। यह एक तौलिया, रेजर या योगा मैट शेयर करने से भी हो सकता है।

    लक्षण

    इम्पेटिगो के लक्षणों में शामिल हैं:

    • त्वचा के रंग में बदलाव के साथ होने वाले नाक या मुंह के आसपास खुजली वाले धब्बे या घाव
    • सूजी हुई लिम्फ नोड्स
    • दर्दनाक घाव
    • फफोले

    और पढ़ें: न्यूरोलॉजिकल डिसीज क्या होती हैं? जानिए क्या हैं इसके लक्षण

    इलाज

    यदि किसी व्यक्ति को इम्पेटिगो है, तो उन्हें अपने लक्षणों को दूर करने और स्थिति को दूसरों तक फैलने से रोकने के लिए चिकित्सा सहायता लेनी चाहिए। उपचार में आमतौर पर एंटीबायोटिक्स शामिल होंगे।

    दाद (Ringworm)

    रिंगवॉर्म या जॉक ईच एक फंगल संक्रमण है जो शरीर के कई क्षेत्रों को प्रभावित कर सकता है। यदि फंगस ग्रोइन में विकसित हो जाता है, तो व्यक्ति को उस क्षेत्र के लिम्फ नोड में सूजन का अनुभव हो सकता है। दाद नम वातावरण में पनपता है, और इसलिए एक व्यक्ति को बॉडी को धोने के बाद अच्छी तरह से सूखने का ध्यान रखना चाहिए और कोशिश करनी चाहिए कि नम कपड़ों में न रहें।

    लक्षण

    सामान्य दाद के लक्षणों में शामिल हैं:

    • खुजली
    • चुभन
    • परतदार त्वचा
    • रिंग के आकार की पैची स्किन

    इलाज

    दाद को ठीक करने के लिए डॉक्टर एक एंटीफंगल उपचार रिकमंड करते हैं। दाद से बचाव का सबसे अच्छा तरीका है कि ब्रीदेबल क्लोथ पहनें, तौलिये और रेजर शेयर करने से बचें और नहाने के बाद बॉडी को अच्छी तरह से सुखा लें।

    लिम्फ नोड कैंसर (Lymph Node cancer)

    लिम्फोमा एक प्रकार का कैंसर है जो लिम्फेटिक सिस्टम को प्रभावित करता है। लिम्फोमा के दो प्रमुख प्रकार हॉजकिन लिम्फोमा और नॉन हॉजकिन लिम्फोमा है। हॉजकिन लिंफोमा तब होता है जब कैंसर कोशिकाएं लिम्फ नोड्स के एक समूह से दूसरे में फैलती हैं। इसके विपरीत, गैर-हॉजकिन लिंफोमा में, इस बात का कोई क्रम नहीं है कि कैंसर कोशिकाएं पूरे लिम्फेटिक सिस्टम में कैसे फैलती हैं।

    और पढ़ें: मिर्गी के दौरे सिर्फ दिमाग को ही नहीं बल्कि हृदय को भी करते हैं प्रभावित

    लक्षण

    लिम्फोमा के विशिष्ट लक्षणों में शामिल हैं:

    • सूजी हुई लिम्फ नोड्स
    • बुखार
    • रात को पसीना
    • थकान
    • अस्पष्टीकृत वजन घटाना

    व्यक्ति को डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए यदि वे लिम्फ नोड्स में लगातार सूजन का अनुभव कर रहे हैं। सूजन आमतौर पर संक्रमण का संकेत देती है, और इसलिए तुरंत लिम्फोमा के बारे में चिंता नहीं करनी चाहिए। निदान तक पहुंचने के बाद, डॉक्टर उचित उपचार की सिफारिश करेगा। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे।

    health-tool-icon

    बीएमआई कैलक्युलेटर

    अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

    पुरुष

    महिला

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    लेखक की तस्वीर badge
    Manjari Khare द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 12/04/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
    Next article: