Head Injury : हेड इंजरी या सिर की चोट क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जुलाई 14, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

परिचय

हेड इंजरी (Head Injury) क्या है?

आपके मस्तिष्क या स्कल पर लगने वाली किसी भी तरह की चोट को हेड इंजरी कहते हैं। यह हल्के निशान से लेकर मस्तिष्क की गहरी चोट तक हो सकती है। सामान्य सिर की चोटों में स्कल फ्रैक्चर और स्कल के घाव शामिल होते हैं। ऐसी चोटों के परिणाम और इलाज बहुत अलग होते हैं। यह इस बात पर निर्भर करता है कि आपके सिर में लगी चोट कितनी गंभीर है।

सिर की चोटें या तो बंद हो सकती हैं या खुली हो सकती हैं। बंद सिर की चोट ऐसी चोट है जो आपके सिर में घाव नहीं करती है। खुली चोट वो होती हैं जिसमें सिर फट जाता और मस्तिष्क तक को असर करती है।

और पढ़ें: Repetitive motion injuries : रिपिटेटिव मोशन इंजरी क्या है?

दूर से देखने पर यह पता करना कठिन हो सकता है कि सिर की चोट कितनी गंभीर है। कुछ मामूली चोटों से बहुत खून बहता है, जबकि कुछ बड़ी चोटों से बिल्कुल भी नहीं बहता है। सभी सिर की चोटों का गंभीरता से इलाज करना और डॉक्टर द्वारा उनका आंकलन करना जरूरी है।

कितना सामान्य है हेड इंजरी?

  • सिर की चोट किसी को भी लग सकती है। यह एक आम चोट में गिनी जा सकती है।
  • किसी दुर्घटना के वक्त सिर पर चोट लगती है।
  •  सिर की चोट का तुरंत इलाज करवाना जरूरी होता है।
  • इस चोट के कई घातक प्रभाव हो सकते हैं।

और पढ़ेंः Cri du chat syndrome : क्री दू शात सिंड्रोम क्या है?

लक्षण

हेड इंजरी के लक्षण क्या हैं?

मामूली सिर की चोट के सामान्य लक्षण हैं:-

मुझे डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?

  • दिए गए लक्षणों में से अगर कोई भी नजर आए तो तुरंत डॉक्टर को दिखाना
    चाहिए।
  • हर किसी का शरीर अलग तरह से काम करता है, इसलिए सिर पर चोट लगने पर तुरंत डॉक्टर के पास जाएं।
  •  कभी भी सिर पर लगी चोट को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए।

और पढ़ेंः एमनियॉटिक फ्लूइड क्या है? गर्भ में पल रहे शिशु के लिए के लिए ये कितना जरूरी है?

कारण

हेड इंजरी के कारण क्या हैं?

सामान्य तौर पर, सिर की चोटों को दो श्रेणियों में विभाजित किया जा सकता है। एक किसी दुर्घटना के दौरान सिर में लगी चोट और दूसरी झटकों की वजह से सिर में लगी चोट। हिलने-डुलने से होने वाली हेड इंजरी शिशुओं और छोटे बच्चों में सबसे आम होती है। सिर पर चोट इन वजहों से लग सकती है-

  • रोड एक्सीडेंट
  • गिरने से
  • लड़ाई झगड़ों में लगी चोट
  • खेल-संबंधी दुर्घटनाएं
  • ज्यादातर मामलों में आपकी  आपके मस्तिष्क को गंभीर नुकसान से बचाएगी। हालांकि, सिर में चोट लगने की गंभीर चोटें रीढ़ की चोटों से भी जुड़ी हो सकती हैं।

और पढ़ेंः शिशु की देखभाल करते वक्त इन छोटी-छोटी बातों को न करें इग्नोर

जोखिम

कैसी स्थितियां हेड इंजरी के जोखिम को बढ़ा सकती हैं?

समय पर इलाज न कराने से सिर की चोट आपके लिए हानिकारक साबित हो सकती है। ज्यादा जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

और पढ़ेंः नवजात शिशु के लिए 6 जरूरी हेल्थ चेकअप

उपचार

यहां प्रदान की गई जानकारी को किसी भी मेडिकल सलाह के रूप न समझें। अधिक जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

हेड इंजरी का निदान कैसे किया जाता है?

डॉक्टर सिर की चोट का परीक्षण करने वाले तरीकों में से सबसे पहले ग्लासगो कोमा स्केल (जीसीएस) का इस्तेमाल करते हैं। जीसीएस आपकी मानसिक स्थिति का परीक्षण करता है। जीसीएस स्कोर ज्यादा है तो आपकी चोट ज्यादा गंभीर नहीं है।

डॉक्टर को आपकी चोट को अच्छी तरह से जांचना होगा। चोट किस तरह लगी, अगर आपको ये पता नहीं है तो डॉक्टर के लिए थोड़ी मुश्किल हो सकती है। यदि संभव है, तो आपको अपने साथ किसी ऐसे व्यक्ति को लाना चाहिए जिसने दुर्घटना देखी हो।

आपको एक न्यूरोलॉजिकल परीक्षण भी करवाने की जरूरत पड़ सकती है। इसमें आपका डॉक्टर आपकी शरीरिक क्षमता, आंखों की गति और अन्य टेस्ट करेंगे।

सिर की चोटों के इलाज के लिए आमतौर पर इमेजिंग परीक्षण का उपयोग किया जाता है।  सीटी स्कैन की सहायता से आपके डॉक्टर को फ्रैक्चर, रक्तस्राव, थक्के, मस्तिष्क की सूजन, और अन्य चोटों का परीक्षण करने में मदद मिलेंगी। सीटी स्कैन तेज और सटीक होता है। आपको एमआरआई स्कैन भी करवाना पड़ सकता है, जो दिमाग को और करीब से दिखाने में मदद करेगा। एक MRI स्कैन आमतौर पर केवल तब ही किया जाएगा जब आप स्थिर स्थिति में होंगे।

हेड इंजरी का इलाज कैसे होता है?

सिर की चोटों का इलाज चोट की गंभीरता पर निर्भर करता है। अक्सर सिर की मामूली चोटों में दर्द के अलावा कोई लक्षण नहीं होता है। इन मामलों में, आपको दर्द के लिए एसिटामिनोफेन (टाइलेनॉल) लेने के लिए कहा जा सकता है। यदि सिर फट गया है तो डॉक्टर टांके लगाकर उसे पट्टी के साथ कवर कर देंगे।

यहां तक ​​कि अगर आपकी चोट मामूली लगती है, तो भी आपको अपना अच्छे से इलाज करवाना चाहिए। सिर पर चोट लगने के बाद सोने नहीं जाना चाहिए। अगर नींद आ जाती है तो हर दो घंटे में जागना चाहिए और किसी भी नए लक्षणों की जांच करनी चाहिए।

यदि आपको कोई नया या बिगड़ता लक्षण दिखाई दे तो डॉक्टर के पास वापस जाना चाहिए।

सिर में गंभीर चोट लगने पर आपको अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता हो सकती है।

इलाज

  • यदि आपकी चोट के कारण आपके मस्तिष्क में दबाव पड़ता है तो आपको मूत्रवर्धक दिया जा सकता है। मूत्रवर्धक आपको अधिक तरल पदार्थ उत्सर्जित करने का कारण बनता है। यह दबाव को कम कर सकता है।
  • यदि आपकी चोट बहुत गंभीर है तो आपको कोमा में डालने के लिए दवा दी जा सकती है। यदि आपकी रक्त वाहिकाएं क्षतिग्रस्त हैं तो कोमा में जाना एक अच्छा उपचार हो सकता है।
  • जब आप कोमा में होते हैं, तो आपके मस्तिष्क को उतनी ऑक्सीजन और पोषक तत्वों की आवश्यकता नहीं होती जितनी कि आम इलाज में होती है।

सर्जरी

  • आपके मस्तिष्क को और नुकसान से बचाने के लिए आपातकालीन सर्जरी करना आवश्यक हो सकता है।
  • पुनर्वास (Rehabilitation)
  • यदि आपको मस्तिष्क की गंभीर चोट लगी है, तो आपको इसे ठीक करने के लिए पुनर्वास की सबसे अधिक आवश्यकता होगी। Rehabilitation में उस चीज का इलाज होगा जिसे आप भूल गए हैं।
  • जिन लोगों को मस्तिष्क की चोट थी, उन्हें अक्सर बोलने और आत्मविश्वास वापस पाने के लिए सहायता की आवश्यकता होगी।

यह भी पढ़ेंः पेरेंट्स की बुरी आदतों का खामियाजा भुगतते हैं बच्चे

घरेलू उपाय

जीवनशैली में होने वाले बदलाव क्या हैं, जो मुझे हेड इंजरी को रोकने में मदद कर सकते हैं?

· वाहन चलाते समय स्पीड का ध्यान रखना चाहिए।

· खेल-कूद के समय भी सावाधानी बरतना जरूरी है।

· सिर की चोट कभी-कभी बाहर से मामूली दिखती है लेकिन अंदर से गहरी हो
सकती है।

· सिर की चोट में कभी भी लापरवाही नहीं बरतनी चाहिए।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी की तबीयत बिगड़ी, अस्पताल में भर्ती

अरुण शौरी अस्पताल में भर्ती, अरुण शौरी बीमार, Arun Shourie Admitted, सर में लगी चोट से अस्पताल में भर्ती, क्या है कारण, जानें

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Govind Kumar
लोकल खबरें, स्वास्थ्य बुलेटिन दिसम्बर 2, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

वर्ल्ड ट्रॉमा डे: हैरान करने वाले हैं ट्रॉमा से जुड़ी मौतों के ये आंकड़ें

ट्रॉमा से मौत के आंकड़ें, भारत में ट्रॉमा से होने वाली मौत के आंकड़ें, भारत में हर 1.9 मिनट में आघात संबधित बीमारियां, trauma deaths in india

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Shruthi Shridhar
के द्वारा लिखा गया Govind Kumar
स्वास्थ्य बुलेटिन, इंटरनेशनल खबरें अक्टूबर 16, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

Abrasion : खरोंच क्या है?

जानिए अब्रेशन की जानकारी in hindi,निदान और उपचार, अब्रेशन के क्या कारण हैं, लक्षण क्या हैं, घरेलू उपचार, जोखिम फैक्टर, Abrasion का खतरा, जानिए जरूरी बातें |

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Suniti Tripathy
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z सितम्बर 14, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

कांच लगने पर उपाय

कांच लगने पर उपाय क्या करें?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ मार्च 25, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
वेंटिलेटर-Ventilator

वेंटिलेटर पर कब रखा जाता है? इसे लगाने के बाद जीवित रहने की उम्मीद कितनी रहती है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Ankita mishra
प्रकाशित हुआ मार्च 2, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
Insurance: इंश्योरेंस

Insurance: इंश्योरेंस ले डाला, तो लाइफ झिंगालाला, जानें हेल्थ इंश्योरेंस के फायदे

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Surender aggarwal
प्रकाशित हुआ जनवरी 13, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
मैलेट फिंगर-Mallet finger

Mallet Finger: मैलेट फिंगर क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Sharma
प्रकाशित हुआ दिसम्बर 16, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें