कैसे हैंडल करें किशोरों का मूड स्विंग और सिबलिंग फाइटिंग?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट अगस्त 11, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

पेरेंट्स का बच्चों के जीवन और करियर को लेकर नजरिया आज बदला है। नए पेरेंट्स बच्चों के करियर को लेकर पहले की तुलना में कहीं ज्यादा अवेयर हुए हैं, लेकिन सभी पॉसिबल तरीकों को अपनाने के बावजूद भी बच्चों में मूड स्विंग की शिकायतें बढ़ी हैं। एक बच्चे का उदासी की भावनाओं को लगातार महसूस करना उसके शारीरिक और मानसिक विकास में बाधा बन सकता है।  

और पढ़ें: भाई और बहन का रिश्ता ऐसे होगा मजबूत, अपनाएं ये 11 टिप्स

कैसे पहचानें बच्चों के बदलते मिजाज को?

कई मनोवैज्ञानिकों के अनुसार जहां पहले बच्चों में हाॅर्मोनल बदलाव 13-14 वर्ष में होते थे, अब यह बदलाव 10-12 साल के बच्चों में देखा गया है। क्लिनिकल साइकोलॉजिस्ट सीमा हिंगोरानी कहती हैं : बच्चों को मशीन बना दिया गया है। बच्चे क्लास, और ट्यूशन में इतना उलझा हुआ है कि वह रुकने का नाम ही नहीं लेती। वह जान ही नहीं पाता कि, बॉडी और माइंड में किस तरह के बदलाव हो रहे हैं? गुस्सा करना इनकी आदत जैसी होने लगती है। फैमिली एक्टिविटीज में कमी के कारण बच्चों में मूड स्विंग करना आम हो गया है। 

और पढ़ें: जानें बच्चे में होने वाली आयरन की कमी को कैसे पूरा करें                                              

बच्चों में मूड स्विंग को कैसे पहचानें?

ज्यादातर सभी पेरेंट्स की जिंदगी में वो पल आता है जब उनका बच्चा मूडी और चिड़चिड़ा बिहेव करने लगता है। तब आप सोचते होंगे आपका बच्चा ऐसे क्यों कर रहा है? क्या हम एक अच्छे पेरेंट्स नहीं है जो अपने बच्चे को हैंडल नहीं कर पा रहे हैं? इसे कैसे ठीक करें? सबसे पहले आपको अपने बच्चे के बिहेवियर को लेकर परेशान होने की जरूरत नहीं है। बच्चों में मूड स्विंग्स होना नॉर्मल है। पेरेंट्स को इस बात को समझना चाहिए कि हर दिन बच्चे के पास कई सारे काम होते हैं। स्कूल जाना, ट्यूश्न जाना, होमवर्क करना, एग्जाम की तैयारी, दोस्तों के साथ लड़ाई आदि।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

जब बच्चे की ग्रोथ होती है तो उसमें मूड स्विंग्स होना आम बात है। इसका कोई इलाज नहीं है। आखिरकार वो बच्चे हैं। वह इमोश्नल भाषा को नहीं जानते हैं। उन्हें नहीं मालूम होता कि वे किन चीजों से गुजर रहे हैं और वे अपनी भावनाओं को कैसे वयक्त करें। आइए सबसे पहले जानते है बच्चे के मूड स्विंग को पहचानने के टिप्स…

ये हैं आसान तरीके :

सभी बच्चों में मूड स्विंग के दौरान अलग रिएक्शन होता है। कुछ बच्चे इसकी वजह से ज्यादा गुस्सा दिखाते हैं तो वहीं कुछ बच्चे पहले से ज्यादा चिड़चिड़े दिखते हैं। कई बच्चे खाना-पीना कम कर देते हैं, तो बहुत से बच्चे घंटों नहाने की आदत के शिकार हो जाते हैं। कई बच्चे लोगों से मिलना-जुलना छोड़ने लगते हैं। यह एक बहुत बड़े संकेत की ओर इशारा करता है कि बच्चों में मूड स्विंग ने जगह बनाना शुरू कर दिया है।

और पढ़ें- बच्चे की नाखून खाने की आदत कैसे छुड़ाएं

बच्चों में मूड स्विंग: ऐसे करें सामना 

  • अपने बच्चे को समझें: जब बच्चे मूड स्विंग को लेकर परेशान हों तब आपको अपने बच्चों के शरीर में आ रहे बदलाव को समझने की कोशिश करना चाहिए। बच्चे के स्वभाव में आ रहे बदलाव के कारण को समझें। कभी भी उनके मूड स्विंग्स के कारण उन पर चिल्लाए नहीं। उन्हें स्पोर्ट करें। अपने बच्चे से बात करें कि वो किन चीजों से गुजर रहे हैं। हालांकि उन पर ज्यादा दबाव न बनाएं। यदि वो अपनी परेशानी साझा नहीं करना चाहते तो उन्हें बताएं कि आप उनके लिए हमेशा हैं। उन्हें समझाएं कि वे कभी भी अपनी परेशानी आपके साथ साझा कर सकते हैं।
  • निराश न हों: बच्चे के मूड स्विंग और गुस्से को देखकर कई बार आप निराश हो सकते हैं। ऐसा होना लाजमी है। लेकिन आप अकेले ऐसे पेरेंट्स नहीं है जो इसका सामना कर रहे हैं। आप दूसरे पेरेंट्स से बात कर सकते हैं। उनके साथ अपने एक्सपीरिएंस शेयर कर सकते हैं। जब आप दूसरे पेरेंट्स के अनुभव जानंगें, तो इससे आप अच्छा महसूस करेंगे।
  • बच्चों पर अपनी आकांक्षाओं का बोझ अभी से न डालें, बच्चे हर चीज में उतने होशियार नहीं होते, जितना कि बड़े चीजों को समझते हैं। 
  • बच्चों में हो रहे हार्मोनल चेंज पर पैनी नजर बनाए रखें और उनसे बहुत सॉफ्ट्ली पेश आएं। ऐसी स्थिति होने पर जितनी ज्यादा हो सके उनसे बात करनी चाहिए।
  • कभी-कभी बच्चे आपसे बात नहीं करना चाहते तो उन्हें ज्यादा परेशान न करें। हर समय उन्हें कुछ सिखाने की कोशिश नहीं करनी चाहिए। जितना अधिक हो सके बच्चों से सहानभूति बनाए रखें, गुस्सा करने की जरूरत नहीं है। उन्हें डांटने की बजाए उनसे प्यार से ट्रीट करें।
  • आपके सवाल का जवाब दें, तो उन्हें बीच में टोकें भी न करें। जब बच्चा जवाब दे रहा हो तो उनको ध्यान से सुनें।
  • मूड स्विंग के दौरान बच्चे के डाइट से किसी तरह का समझौता नहीं करें। हेल्दी और पौष्टिक खाना खिलाएं। फल, और अंडे रेगुलर बेसिस पर खिलाने से उन्हें नेगेटिविटी से लड़ने की ताकत मिलेगी। एक बार में खिलाने से बेहतर है कि उनके खानों को बारी-बारी बांटकर खिलाएं।
  • जब आपके बच्चे को मूड स्विंग हो रहे हैं तो कई बार आप अपना आपा खो सकते हैं। आप उन पर गुस्सा कर सकती हैं, लेकिन इससे कोई हल नहीं निकलेगा। क्योकि आप उन पर गुस्सा करेंगी या सुनाएंगी तो आप उन्हें खुद से ओर दूर कर लेंगी। इसलिए खुद को शांत रखने की कोशिश करें और बच्चे को प्यार से हैंडल करें।
  • बच्चे के साथ खेलें: जब बच्चे का मूड खराब होता है तो उसके साथ उसके पसंदीदा गेम्स खेलें। ऐसा करके आप बच्चे को शांत कर पाएंगे। इसके साथ ही आप दोनों में बॉन्डिंग अच्छी होगी।
  • बच्चे के लिए घर पर अच्छा माहौल बनाकर रखें:
  • सबसे जरूरी घर के माहौल को पॉजिटिव बनाए रहना है। घर के अंदर और बाहर पॉजिटिविटी बनाए रखें। बच्चों के सामने ऐसी कोई चीज न करें, जिनसे उन्हें अकेलापन महसूस हो सकता है। किसी भी कीमत पर उन्हें अकेलापन नहीं महसूस होने दें। बच्चे के लिए घर में पॉजिटिव माहौल बनाएं। एक ऐसा कॉर्नर नाएं जहां जब वह किसी बात को लेकर परेशान हो तो खुद के साथ समय बिता सके। जैसे उनके रूम के एक कोने में चेयर टेबल, किताबें और इंडोर प्लांट्स लगा दें। इसके साथ ही आप म्यूजिक सिस्टम भी रख सकते हैं।

और पढ़ें: बच्चों के नैतिक मूल्यों के विकास के लिए बचपन से ही दें अच्छी सीख

बच्चे में मूड स्विंग का ध्यान रखते समय आपको अपनी सीमा मालूम होनी चाहिए। आपको बच्चे को समझने की जरूरत है, लेकिन आपको अपनी सीमा भी पता होनी चाहिए। कई बार बच्चे यह टेस्ट करने कि कोशिश करते हैं कि वें कितनी दूर जा सकते हैं। हमारी प्रतिक्रिया उन्हें इस बात का इशारा देती है कि उन्हें कितनी दूर जाना चाहिए। आपको खुद में यह स्पष्ट करने की आवश्यकता है कि आप किस तरह के व्यवहार को बर्दाश्त कर सकते हैं और अपने निर्णयों पर हमेशा टिके रहें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Pyloric Stenosis : पाइलोरिक स्टेनोसिस क्या है?

जानिए पाइलोरिक स्टेनोसिस की जानकारी in hindi,निदान और उपचार, पाइलोरिक स्टेनोसिस के क्या कारण हैं, लक्षण क्या हैं, घरेलू उपचार, जोखिम फ़ेक्टर, Pyloric Stenosis का खतरा, जानिए जरूरी बातें |

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z नवम्बर 28, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

बर्थ ऑर्डर का असरः बड़ा होगा परफेक्शनिस्ट तो छोटा होगा मस्त

बर्थ ऑर्डर का बच्चों पर पड़ता है असर। बड़ा बच्चों होगा परफेक्शनिस्ट तो छोटा होगा मौज मस्ती वाला। मिडिल ऑर्डर वाला फॉलो करता है बड़े को। और जानें

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Lucky Singh
पेरेंटिंग टिप्स, पेरेंटिंग नवम्बर 18, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

पीरियड्स मिस होने के पहले ही दिख जाते हैं प्रेग्नेंसी के शुरुआती लक्षण

इन लक्षणों से पीरियड्स मिस होने के पहले ही मिल जाती है प्रेग्नेंसी की जानकारी? पीरियड्स मिस होने के पहले प्रेग्नेंसी के शुरुआती लक्षण क्या हैं?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Shruthi Shridhar
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रेग्नेंसी स्टेजेस, प्रेग्नेंसी अक्टूबर 12, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

अब फेसबुक पर लगा इस ऐप के साथ मिलकर स्वास्थ्य से संबंधित पर्सनल इंफॉर्मेशन लीक करने का आरोप

माया ऐप पीरियड्स, प्रेग्नेंसी, मूड स्विंग और अन्य संबंधित जानकारियां देता है। इस ऐप के जरिए महिलाओं को उनके पूछे गए सवालों के जवाब आसानी से मिल जाते हैं।

के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
स्वास्थ्य बुलेटिन, लोकल खबरें सितम्बर 12, 2019 . 2 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

मायके में डिलिवरी

मायके में डिलिवरी के फायदे और नुकसान क्या हैं?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ अप्रैल 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Testosterone deficiency- टेस्टोस्टेरोन की कमी

Testosterone Deficiency: टेस्टोस्टेरोन क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
प्रकाशित हुआ मार्च 23, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
प्रेग्नेंसी की तीसरी तिमाही

प्रेग्नेंसी की तीसरी तिमाही में क्या हॉर्मोनल बदलाव होते हैं?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ जनवरी 16, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Oppositional Defiant Disorder/ओपोजिशनल डिफिएंट डिसऑर्डर

ओपोजिशनल डिफाइएंट डिसऑर्डर (ODD) के कारण भी हो जाते हैं बच्चे जिद्दी!

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Lucky Singh
प्रकाशित हुआ दिसम्बर 9, 2019 . 5 मिनट में पढ़ें