आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

null

3 साल के बच्चे का डायट प्लान फॉलो करते समय किन बातों का रखना चाहिए ध्यान

    3 साल के बच्चे का डायट प्लान फॉलो करते समय किन बातों का रखना चाहिए ध्यान

    छोटे बच्चे के घर में होने से घर का माहौल खुशनुमा हो जाता है। छोटे बच्चे की हर एक चीज को लेकर माता-पिता चिंतित रहते हैं, खासतौर पर उसका भोजन। छोटे बच्चों को खाना खिलाना बहुत ही मुश्किल है। कभी उनका मूड अच्छा हो तो वो अपना पूरा खाना आराम से खा लेते हैं और न हो तो पूरा दिन कुछ नहीं खाते। उन्हें कभी कोई चीज इतनी पसंद आती है कि वो कई दिनों तक उसे लगातार खाने की जिद्द करते हैं। लेकिन, अचानक उन्हें वो चीज बेकार लगने लगती है। यह समस्या हर एक माता-पिता की होती है कि उनका बच्चा ठीक से कुछ भी नहीं खाता। अगर आपका बच्चा 3 साल का है तो आपको उनकी डायट को लेकर कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए। जानिए, 3 साल के बच्चे का डायट प्लान किस तरह का होना चाहिए।

    और पढ़ें: जान लें छोटे बच्चों को पढ़ाने के तरीके, खेल के साथ ही हो जाएगी पढ़ाई

    3 साल के बच्चे के आहार में पोषक तत्व (kids nutrition)

    3 साल के बच्चे का डायट प्लान इस तरह से बनाएं कि उसके आहार में पर्याप्त मात्रा में पोषक तत्व होने चाहिए। बच्चों के विकास के लिए यह बहुत आवश्यक है। बच्चों को विटामिन, मिनरल, कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन और वसा भी अवश्य दें। बच्चों के आहार में कैलोरी और प्रोटीन की मात्रा कितनी होनी चाहिए यह उनकी उम्र और वजन (Weight) पर निर्भर करता है। जानिए 3 साल के बच्चे के आहार में आप क्या-क्या शामिल आवश्यक है:

    • प्रोटीन : प्रोटीन के लिए बच्चे के आहार में सीफूड, अंडे, बीन, सोया, मेवे आदि शामिल करें।
    • फल : बच्चे के आहार में फलों को शामिल करना न भूलें। आप ऐसे ही उन्हें खाने को दें या फिर उनका जूस निकाल कर भी उन्हें पिला सकते हैं। ध्यान रखें इसमें चीनी न डालें।
    • सब्जियां: बच्चे को सब्जियां जैसे बीन, पालक, मटर आदि भी खाने को दें। अगर बच्चा सब्जियां नहीं खाता, तो उसकी पसंद की डिशेस में छोटे-छोटे टुकड़े कर के सब्जियां डालें।
    • अनाज: बच्चे को साबुत अनाज खाने को दें जैसे, दलिया, ब्राउन राइस, व्होल वीट ब्रेड आदि।
    • दूध और दूध से बने पदार्थ : बच्चों की हड्डियों और दांतों के विकास के लिए दूध और दूध से बने पदार्थ आवश्यक हैं, जैसे पनीर, दही, मक्खन आदि। जब भी 3 साल के बच्चे का डायट प्लान बनाएं, इन्हें भी अवश्य उसमे शामिल करें।

    3 साल के बच्चे का डायट प्लान ( Diet Plan): पोषक तत्वों की मात्रा

    3 साल के बच्चे का डायट प्लान बनाते हुए उस मात्रा में पोषक तत्वों को उसमें शामिल करें:

    उम्र 3: लड़कियों और लड़कों के लिए दैनिक दिशानिर्देश

    • कैलोरीज- 1,000-1,400 (बच्चे के विकास और एक्टिविटी पर निर्भर करता है)
    • प्रोटीन- 55g से 115g रोजाना
    • फ्रूट्स- 1-1.5 कप रोजाना
    • सब्जियां 1-1.5 कप रोजाना
    • अनाज 85g से 140g रोजाना
    • दूध और दूध से बने पदार्थ 2 कप रोजाना

    और पढ़ें: शिशु में हिमोरॉइड्स : क्या अपने बच्चे को बचाया जा सकता है इस गंभीर स्थिति से?

    3 साल के बच्चे का डायट प्लान (Diet Plan for 3 year Kid)

    3 साल के बच्चे का डायट प्लान आप इस तरह से बना सकते हैं

    • सुबह नाश्ते से पहले – एक कप दूध और सूखे मेवे
    • नाश्ता – नाश्ते में आप अपने बच्चे को दलिया उपमा/ सैंडविच/ पनीर का परांठा/ चीला/ इडली आदि दे सकते हैं। उसके साथ जूस या नारियल पानी आदि दें।
    • दोपहर का नाश्ता – फलों का जूस/ छाछ/ नारियल पानी/ फल/ नींबू पानी
    • दोपहर का भोजन – दोपहर के भोजन में कोई भी मौसमी सब्जी+ दाल+ चावल+ रोटी+ रायता+ सलाद आदि उसे खाने को दें।
    • शाम का नाश्ता-सूप/ स्प्राउटस/ दूध/ कॉर्नफ्लैक्स/ कॉर्न की चाट/ पोहा आदि आप उसे दे सकते हैं।
    • शाम का भोजन – कोई भी मौसमी सब्जी+ रोटी
    • सोने से पहले – गर्म दूध

    [mc4wp_form id=”183492″]

    नोट (Note)

    • यह डायट प्लान शाकाहारी बच्चों के लिए है। लेकिन, अगर आपका बच्चा अंडे, मांस या मछली आदि खाता है तो उन्हें आप इस लिस्ट में शामिल कर सकते हैं।
    • आप इस लिस्ट में कभी-कभी पिज्जा, पास्ता, नूडल आदि भी शामिल कर सकते हैं। लेकिन, ध्यान रहे कि आप इन्हे हफ्ते में एक बार ही बच्चे को खाने को दें।
    • अपने डायट चार्ट को बनाते हुए बच्चे को भी इसमें शामिल कर सकते हैं। इससे बच्चे को इसमें रूचि पैदा होगी और वो खाने में भी दिलचस्पी दिखायेगा।

    और पढ़ें: शैतान बच्चा है तो करें कुछ इस तरह से डील, नहीं होगी परेशानी

    कुछ आसान टिप्स

    3 साल के बच्चे का डायट प्लान करना आसान है लेकिन जरूरी यह भी है कि आपका बच्चा इसका पालन करें। इसके लिए आप इन कुछ आसान टिप्स को ध्यान में रख सकते हैं-

    विकल्प दें

    आपका तीन साल का बच्चा खाने को लेकर उत्साही हो सकता है। इसके साथ ही उसे कुछ चीजें खाने में अच्छी लगती होंगी और कुछ नहीं। हालांकि, इस उम्र में बच्चे की प्राथमिताएं हर दिन बदलती हैं और इस उम्र की यही खासियत है। लेकिन, बच्चे की इस आदत ने परेशान न हों बल्कि उसे लगातार नयी-नयी चीजें खिलाएं। लेकिन ऐसी चीजें जो पौष्टिक हों। अपने बच्चे को पौष्टिक आहार में से विकल्प दें और अपनी पसंद की खाने की चीज चुनने दें।

    प्रोत्साहित करें

    अपने बच्चे को खाने के लिए प्रोत्साहित करें। लेकिन नए खाद्य पदार्थो को खाने के लिए उससे जबरदस्ती न करें। बच्चे को खाने के लिए मनाने के लिए अन्य चीजों का लालच भी न दें।

    इस बारे में डफरिन हॉस्पिटल के चाइल्ड स्पेशलिस्ट डॉक्टर सलमान का कहना है बच्चे के अच्छे विकास के लिए उनकी डायट पर भी विशेष ध्यान दें। इस उम्र में आहार फैंसी नहीं होना चाहिए। क्योंकि अधिकतर तीन साल के बच्चे सादे भोजन को खाना चाहते हैं। अगर आप बच्चे के लिए कुछ बना रहे हैं। तो ऐसे आहार को चुनें जिनमें प्रोटीन, साबुत आनाज, सब्जियां, फल और दूध या दूध से बने खाद्य पदार्थ हों। जैसे वेजिटेबल सैंडविच, सेब, दूध आदि। यह सब चीजें सादी भी हैं, पौष्टिक भी और बच्चों को पसंद भी आती हैं।

    और पढ़ें: 5 जेनिटल समस्याएं (जननांग समस्याएं) जो छोटे बच्चों में होती हैं

    3 साल के बच्चे का डायट प्लान: खाने में विविधता लाएं

    रोजाना एक ही आहार खाने से बच्चे बोर हो सकते हैं। इसलिए, अपने खाने में विविधता लाएं। रोजाना बच्चे को अलग-अलग चीज खाने को दें ताकि उसकी रूचि खाने में कम न हो। इसके साथ ही अगर आपके बच्चे का खाना रंग-बिरंगा होगा तो बच्चे को पसंद आएगा। बच्चे के लिए खास प्लेटें, कप, कांटे और चम्मच का उपयोग करें।

    स्वयं बनें उदाहरण

    हेल्दी ईटिंग के लिए सबसे पहले स्वयं अपने बच्चे के लिए उदाहरण बनें। मतलब खुद भी हमेशा पौष्टिक आहार ही खाएं, क्योंकि बच्चे अपने माता-पिता से ही कई बातें सिखते हैं। इसके साथ ही बच्चे की एक रूटीन बनाएं ताकि बच्चा उसी समय पर खाएं। चीजों को मजेदार बनाएं, इससे आपका बच्चा न केवल आपकी बातों को जल्दी समझेगा बल्कि उन पर अमल भी करेगा। स्वस्थ और पौष्टिक आहार खाने की उसकी यह आदत पूरी उम्र उसके साथ रहेगी। अपने बच्चे के लिए सही डायट और खान-पान का चुनाव करते समय बाल विशेषज्ञ से परामर्श लेना अनिवार्य होता है।

    health-tool-icon

    बेबी वैक्सीन शेड्यूलर

    इम्यूनाइजेशन शेड्यूल का इस्तेमाल यह जानने के लिए करें कि आपके बच्चे को कब और किन टीकों की आवश्यकता है

    आपके बेबी का जेंडर क्या है?

    पुरुष

    महिला

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    लेखक की तस्वीर badge
    Anu sharma द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 20/09/2021 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड