home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

बड़े ही नहीं तीन साल तक के बच्चों में भी हो सकता है डिप्रेशन

बड़े ही नहीं तीन साल तक के बच्चों में भी हो सकता है डिप्रेशन

यह बात सुनने में अजीब लग सकती है पर कई शोधों की मानें तो यह सच है कि छोटे बच्चों में डिप्रेशन हो सकता है। यानी दुनिया की समझ न रखने वाले बच्चे भी अवसादग्रस्त हो सकते हैं। कई रिसर्च और भी ज्यादा चौंकाने वाली हैं, जिनके मुताबिक जन्म के कुछ साल बाद एक छोटे बच्चे को भी डिप्रेशन हो सकता है। यह एक अलग किस्म का डिप्रेशन होता है, जो आगे चलकर मानसिक व शारीरिक विकास में बाधा डालता है।

छोटे बच्चों में डिप्रेशन ( Depression in Children) को लेकर क्या कहते हैं, शोध?

  • नेशनल एसोसिएशन ऑफ स्कूल साइकोलोजिस्ट (National Association of School Psychologists) के अनुसार डिप्रेशन एक मानसिक विकार है, जो छोटे से छोटे बच्चे को भी प्रभावित कर सकता है। डिप्रेशन या तनाव के कारण बच्चा थका हुआ या शक्तिहीन महसूस करता है। उसमें रोमांच की कमी आ जाती है। कई बार ऐसे बच्चे या तो बहुत शांत हो जाते हैं या बहुत चिड़चिड़े। कई बार बढ़ती उम्र के साथ ऐसे बच्चे खुद को नाकाबिल, बदसूरत, बददिमाग मानने लगते हैं। सबसे बड़ा डर यह है कि ऐसे बच्चे खुदकुशी तक करने की सोच सकते हैं। कई बार बेहद छोटे बच्चे भी खुद को नुकसान पहुंचाने के​ लिए खतरनाक कदम उठा सकते हैं। हालांकि, उन्हें मरने के बारे में जानकारी नहीं होती लेकिन, खुद को नुकसान जरूर पहुंचाने का सोच सकते हैं।
  • 2009 में डिप्रेशन इन प्रीस्कूलर के नाम के एक शोध में पाया गया कि तीन साल तक के बच्चे को भी तनाव हो सकता है।
  • अमेरीकन एकेडमी ऑफ चाइल्ड एंड एडोलेसेंट साइकियाट्री (American Academy of Child Adolescent Psychiatry ) के अनुसार पांच प्रतिशत बच्चे या किशोर कभी न कभी तनाव का शिकार हो सकते हैं।
  • नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ हेल्थ (National Institutes of Health) पर प्रकाशित एक शोध के मुताबिक बच्चों में डिप्रेशन का पता लगाना विशेषज्ञों के लिए भी मुश्किल हो सकता है। चूंकि बड़ों में तनाव उनके उदास होने से जुड़ा होता है। वहीं बच्चों में उदास होने जैसे लक्षण मौजूद हों या जरूरी नहीं है।

छोटे बच्चों में डिप्रेशन (Depression Symptoms in Children) के लक्षण क्या हैं?

छोटे बच्चों में डिप्रेशन के लक्षण निम्नलिखित हैं। जैसे:

  • बार-बार उदासी या बेवजह रोने को आतुर होना
  • अपने पसंदीदा मनोरंजन से दूरी बना लेना
  • चहल-पहल कम कर देना
  • लोगों से बातचीत/खेलकूद से दूरी
  • आत्मविश्वास की कमी और अपराधबोध महसूस करना
  • किसी नाकामयाबी पर बेहद संवेदनशील हो जाना
  • अत्यधिक गुस्सा और आक्रामक हो जाना
  • एकाग्रता की कमी
  • खान-पान और सोने के समय में अप्रत्याशित बदलाव
  • घर से भाग जाने की कोशिश करना

और पढ़ें: गुस्सा शांत करना है तो करें एक्सरसाइज, जानिए और ऐसे ही टिप्स

छोटे बच्चों में डिप्रेशन या तनाव (Stress) के कारण?

अलग होने का डर

मुंबई स्थित पेडियेट्रिक डॉ गौतम सप्रे ने हैलो स्वास्थ्य से बात करते हुए कहा कि बच्चों में मां-बाप या परिवार से अलग होने का डर पैदा होने के कुछ महीनों बाद ही आने लगता है। सबसे पहले दूध पीने वाले बच्चे को मां से दूर रहने का डर लगता है। इसलिए मां के आसपास न होने पर वह रोने लगता है और सबसे ज्यादा सुकून मां की गोद में ही महसूस करता है। धीरे-धीरे बच्चा जब बड़ा होने लगता है और अपने परिवार या आसपास के लोगों से घुलने मिलने लगता है। तब उसे इन लोगों से दूर होने का डर सताने लगता है। प्ले स्कूल में एडमिशन होने पर मां-बाप को स्कूल में रहने की सलाह इसलिए ही दी जाती है, क्योंकि बच्चे को नए लोगों के साथ मेलजोल करने में समय लगता है। कई बच्चे सप्ताह भर या महीने भर में मेलजोल कर लेते हैं लेकिन, कई बच्चे ऐसे होते हैं जो स्कूल के टीचर या बच्चों के साथ सुरक्षित महसूस नहीं कर पाते हैं। बच्चों में अपनों से बिछड़ने का यह डर उनके सिरदर्द, पेट दर्द या दस्त के रूप में जाहिर हो सकता है।

और पढ़ें: लॉकडाउन में ऑनलाइन चाइल्ड एब्यूज के मामलों में हो रही है बढ़ोतरी, जानिए

बाहरी दुनिया या भीड़ का डर यानी सोशल फोबिया (Social Phobia)

कई बच्चे अपने माता-पिता से बहुत बात करते हैं लेकिन, किसी भी तीसरे व्यक्ति के सामने जाने से भी कतराते हैं। किसी भी तीसरे व्यक्ति के साथ वह बात नहीं करते चाहे टीचर हो या दोस्त। ऐसे बच्चे बेहद चुप-चुप रहते हैं। ऐसे बच्चों को स्कूल जाना भी पसंद नहीं आता। वह किसी भी पार्टी में जाना भी पसंद नहीं करते। अगर पेरें​ट्स ले भी जाएं तो उन्हीं से चिपके रहते हैं।

मांग पूरी न होने का डर

बच्चे हर चीज के लिए जिद करने की आदत पैदा होने के साथ ही पाल लेते हैं। जो भी चीज वह सोच लें, वो उन्हें मिलनी ही चाहिए। इसके लिए या तो वह रोकर आसमान सिर पर उठा लेते हैं या माता—पिता के गुस्से से डर कर अंदर ही अंदर घुटते रहते हैं।

और पढ़ें: बच्चे को घर पर अकेला छोड़ने से पहले उसे सिखाएं सेफ्टी टिप्स

खिलौनों से तनाव (Stress)

छोटे बच्चों में डिप्रेशन का एक कारण खिलौना भी हो सकता है। यदि किसी बच्चे का खिलौना मां या बाप घर में आए किसी अन्य बच्चे को दे दें, तो यह भी उनके तनाव का कारण बन जाता है। या तो पहले ही वह खिलौना नहीं देने की पुरजोर कोशिश करते हैं। यदि किसी तरह दूसरे बच्चे को खिलौना दे दिया गया हो तो वह बच्चा जब तक खिलौना न लौटा दे तब तक उसी की टेंशन में रहते हैं। कई बच्चों में ​खुद के खिलौनों को इतना डर होता है कि वह उस खिलौने को हमेशा अपने पास रखने लगते हैं।

टीचर या स्कूल से डिप्रेशन

यदि स्कूल में टीचर या दूसरे बच्चे सही से पेश न आ रहे हो तो भी बच्चे में डिप्रेशन हो सकता है। यदि बच्चा स्कूल जाने से मना करे तो एक बार कारण जरूर पता कर लें।

और पढ़ें: जानें बच्चे के लिए होम स्कूलिंग के फायदे

छोटे बच्चों में डिप्रेशन (Depression in Children)से बचाने के लिए क्या कर सकते हैं माता—पिता?

छोटे बच्चों में डिप्रेशन की परेशानी न हो इसलिए पेरेंट्स निम्नलिखित टिप्स अपना सकते हैं। जैसे:

  • बच्चों को उनकी पसंद के अनुसार एक्टिविटी में हिस्सा लेने के लिए बढ़ावा दें। यदि वह ऐसा नहीं कर रहा तो वजह जानकर उसे सुलझाने की कोशिश करें।
  • योगासन या एक्सरसाइज से बच्चे को जोड़ें।
  • उठने—सोन से लेकर पढ़ने, खेलने व खाने का समय निर्धारित करें।
  • हो सके तो बच्चों को आउटडोर एक्टिविटी के लिए प्रोत्साहित करें।
  • बच्चे को समय चाहिए। उसे भरपूर समय दें और खेल-खेल में उसकी समस्याओं को भी जानें।
  • असफल होन पर उसे डांटे नहीं। इसके साथ ही सिर्फ नंबर वन बने रहने या आने के लिए उसपर प्रेशर न डालें।
  • अपने बच्चे की तुलना किसी अन्य बच्चे से न करें।

बचपन का तनाव आगे चलकर जिंदगी भर का तनाव बन जाए, इससे अच्छा है कि माता-पिता पहली ही उसकी रोकथाम कर दें। बच्चों को प्यार और साथ की जरूरत होती है। सिर्फ खिलौने उनके विकास का जरिया नहीं हैं। उन्हें समय दें और उनकी छोटी से छोटी बातों पर भी पूरा ध्यान रखें ताकि छोटे बच्चों में डिप्रेशन ना आ पाए। यदि आप अपने बच्चे पर ध्यान नहीं देंगे तो डिप्रेशन के कारण वह कुछ भी कदम उठा सकता है। छोटे बच्चों में डिप्रेशन से निकालने के लिए विशेषज्ञ की मदद जरूर लें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Can Preschoolers Be Depressed?/https://www.nytimes.com/Accessed on 13/12/2019

The Depressed Child/http://www.aacap.org/App_Themes/AACAP/docs/facts_for_families/04_the_depressed_child.pdf/Accessed on 13/12/2019

Recognizing Childhood Depression and Anxiety/https://www.webmd.com/depression/features/recognizing-childhood-depression-anxiety#1/Accessed on 13/12/2019

Kids can have depression, too, even toddlers. Here’s how to tell/https://www.washingtonpost.com/Accessed on 13/12/2019

Preschool Depression/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3184302/Accessed on 13/12/2019

लेखक की तस्वीर badge
Hema Dhoulakhandi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 25/02/2021 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड