घर पर आंखों की देखभाल कैसे करें? अपनाएं ये टिप्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जून 16, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

आंखों की देखभाल करना मुश्किल कामों में से एक होता है। ज्यादा देर तक ऑफिस में काम करने की वजह से आजकल लोगों की आंख में परेशानी होने लगी है। हर कोई कंप्यूटर और मोबाईल का इस्तेमाल अधिक से अधिक कर रहा है जिसकी वजह से आंखों में जलन और खुजली की समस्या भी बहुत आम हो गई है। ऐसे में आंखों की देखभाल कैसे करनी चाहिए हर कोई इसके लिए फिकरमंद दिखाई देता है। अगर आपकी आंखों में परेशानी है तो आंखों की देखभाल के लिए आप इन टिप्स को फॉलों कर सकते हैं।

यह भी पढ़ेंः आंखों के लिए बेस्ट हैं योगासन, फायदे जानकर हैरान रह जाएंगे

सवाल

आंख कमजोर होने पर घर में आंखों की देखभाल कैसे कर सकते हैं?

जवाब

आंख हमारे शरीर का एक महत्तवपूर्ण हिस्सा है जिसकी वजह से हम दुनिया देख सकते हैं। बढ़ती उम्र के कारण या कुछ मेडिकल कंडिशन की वजह से आपकी आंखों की रोशनी कमजोर हो जाती है। अगर आप इन बातों पर ध्यान दें, तो आप अपनी आंखों की देखभाल कर आंखों की रोशनी को ठीक कर सकते हैंः

1.विटामिन्स और मिनरल्स का अधिक से अधिक सेवन

यह भी पढ़ें: Desloratadine + Montelukast : डेसोरलाटाडाइन + मोंटेलुकास्ट क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

2.आंखों की देखभाल के लिए धूप के चश्में का इस्तेमाल करें

  • धूप में बाहर जा रहे हैं, तो हमेशा अच्छी क्वालिटी के धूप के चश्में का इस्तेमाल करें। खराब क्वालिटी के धूप के चश्में आंखों के लिए हानिकारक हो सकते हैं और आंखों से जुड़ें जोखिम भी बढ़ा सकते हैं। धूप के चश्में का इस्तेमाल करने से आपकी आंखों को सुरक्षा मिलती है और आप आंखों की देखभाल कर सकते हैं।

3.स्वास्थ्य स्थिति होने पर मेनटेन करें

4.आंखों की देखभाल के लिए साफ-सफाई का ध्यान रखें

  • अगर आंखों की देखभाल करना चाहते हैं, तो शरीर की साफ-सफाई का खास ध्यान रखना भी बेहद है। साफ-सफाई न रखने से भी आपकी आंखों में इंफेक्शन के चांसेस बढ़ सकते है। इसलिए कुछ जरूरी बातों का ध्यान रखें। जैसे, आंखों को छूने से पहले हाथ धोएं।

यह भी पढ़ेंः Ascorbic Acid (Vitamin C) : विटामिन सी क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

नंबर के चश्में की देखभाल कैसे करें?

अगर आपको आंखों पर नंबर का चश्मा लगाना पड़ता है, तो आंखों की देखभाल करने की जिम्मेदारी आपकी और भी ज्यादा बढ़ जाती है।

  • कंप्यूटर पर काम करते, टीवी देखते या फोन का इस्तेमाल करते हुए हमेशा चश्मा पहनें।
  • सोते समय या पानी वाले काम करते समय चश्मा आंखों से उतार कर किसी सुरक्षित और सूखे स्थान पर रखें।
  • चश्में के शीशे को साफ करने के लिए हमेशा सॉफ्ट कॉटन के कपड़े का इस्तेमाल करें।
  • चश्में पर खरोंच न आए इसके लिए अपना चश्मा हमेशा चश्मे के बॉक्स में रखें।

ये भी पढ़े Diabetic Retinopathy: डायबिटिक रेटिनोपैथी क्या है?

लेंस की देखभाल कैसे करें?

अगर आप आंखों की रोशनी बढ़ाने के लिए नंबर वाले नॉर्मल लेंस या कलरफुल लेंस का इस्तेमाल करते हैं, तो इसकी देखभाल करते समय उचित सावधानी बरतें:

  • हर बार लेंस का इस्तेमाल करने से पहले वॉटर सॉल्यूशन को बदलें।
  • आंखों में लेंस लगाते समय आंखों को साफ कर सूख कर लें।
  • लेंस लगाने से पहले आंखों को साफ और नॉर्मल पानी से धोएं।
  • दिनभर में आंखों में लेंस का लगातार इस्तेमाल 8 से 10 घंटे तक के लिए ही करें।
  • ध्यान रखें कि आंखों में किसी तरह के इंफेक्शन होने या आंखों में दर्द होने पर लेंस का इस्तेमाल न करें।
  • अगर लेंस पहने हुए आंखों में कुछ चला जाता है, तो पहले साफ हाथों से लेंस को बाहर निकालें और फिर आंखों को साफ और ठंडे पानी से धोएं। अगर इसके बाद भी आंखों में जलन, चुभन, दर्द या लालिमा होती है, तो अपने जल्द से जल्द अपने डॉक्टर से परामर्श करें।
  • ध्यान रखें कि इस तरह की स्थिति में जब तक आंख की स्थिति सामान्य नहीं होती है, तब तक लेंस का इस्तेमाल न करें।
  • कभी भी अपना लेंस किसी अन्य व्यक्ति के साथ शेयर न करें।

आंखों की लेंस की देखभाल और आंखों की देखभाल के लिए अधिक जानकारी के लिए कृपया अपने डॉक्टर से बात करें।

यह भी पढ़ेंः कंप्यूटर पर काम करने से पड़ता है आंख पर प्रेशर, आजमाएं ये टिप्स

ट्रांजीशन चश्में यानी फोटोक्रोमेक लेंस क्या है?

इसके अलावा कई लोगों का सवाल रहता है कि वो आंखों की देखभाल और आंखो की रोशनी बढ़ाने के लिए नंबर के चश्में का इस्तेमाल करते हैं, तो ऐसे में उनके लिए धूप के चश्में का विकल्प कितना सुरक्षित हो सकता है। तो आपको बता दें कि आजकल आप बड़ी ही आसानी से धूप में इस्तेमाल करने के लिए ट्रांजीशन चश्में यानी फोटोक्रोमेक लेंस खरीद सकते हैं। आमतौर पर यह धूप में इस्तेमाल करने के लिए नंबर के चश्में होते हैं। तो अगर आप आंखों की देखभाल के लिए नंबर का चश्मा पहनते हैं, तो आप भी फोटोक्रोमेक लेंस वाले ट्रांजीशन चश्में का इस्तेमाल कर सकते हैं। ट्रांजीशन चश्में के कांच छांव वाले स्थान में सफेद रंग के होते हैं, हालांकि, धूप के प्रभाव में आते ही इनके कांच का रंग गहरा काला या भूरा हो जाता है।

यह भी पढ़ें : Keratoconus : केराटोकोनस क्या है? जानिए इसके कारण, लक्षण और इलाज

क्लिप ऑन सनग्लासेस से करें आंखों की देखभाल

फोटोक्रोमेक लेंस के अलावा आप क्लिप ऑन सनग्लासेस का इस्तेमाल कर सकते हैं। यह नॉर्मल चश्में की ही तरह सफेद कांच में होता है। हालांकि, इनके फ्रेंम के ऊपरी हिस्से में धूप के लिए बने हुए चश्में की एक लेयर लगाने के लिए एक खास स्पेस बना हुआ होता है। तो आप भी क्लिप ऑन सनग्लास की मदद से अपनी आंखों की देखभाल कर सकते हैं।

कई लोगों को आंख में परेशानी पारिवारिक तौर पर मिलती है। अगर आपके घर में भी ऐसी ही स्थिति है, तो आप पहले से ही अपनी आंखों की देखभाल शुरु कर देनी चाहिए। अगर आप स्मोकिंग करते हैं तो आंखों की देखभाल करने के लिए आपको स्मोकिंग छोड़नी चाहिए। स्मोकिंग करने से आंखें खराब हो जाती है जिस वजह से मोतियाबिंद का खतरा भी बढ़ सकता है। आप घर पर खुद से ये चीजें फॉलों करके अपनी आंखों की देखभाल कर सकते हैं। उसके साथ ये भी जरुरी है कि अगर आपको कोई भी परेशानी होती है तो आंखों की देखभाल के लिए डॉक्टर से बात करना जरूरी होता है। एक हेल्दी लाइफस्टाईल और एक्सरसाइज या आंखों को फिट रखने के लिए योग करें। इससे आप अपनी आंखों की देखभाल कर सकते हैं।

ऊपर दी गई सलाह किसी भी चिकित्सा को प्रदान नहीं करती है। इसका इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर से जरूर सलाह लें।

और पढ़ेंः

कंप्यूटर पर काम करने से पड़ता है आंखों पर प्रेशर, आजमाएं ये टिप्स

आंखों की रोशनी बढ़ाने के लिए अपनाएँ ये घरेलू उपाय

डब्लूएचओ : एक बिलियन लोग हैं आंखों की समस्या से पीड़ित

आंखों में खुजली/जलन (Eye Irritation) कम करने के घरेलू उपाय

जानें, चश्में के प्रकार क्या हैं, आपके लिए कौन सा बेस्ट है?

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

इन वजहों से आ जाते हैं टॉवेल में कीटाणु, शरीर में प्रवेश कर पहुंचा सकते हैं बड़ा नुकसान

टॉवेल में कीटाणु कहां से आते हैं? टॉवेल की अच्छे से सफाई न किया जाए तो हमारे मल में पाए जाने वाला बैक्टीरिया भी टॉवेल में उत्पन्न हो जाता है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish Singh
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन मई 7, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Biceps Rupture: बाइसेप्स रप्चर क्या है?

भारी वेटलिफ्टिंग या ऐसा कोई मूवमेंट करते हैं जिसकी वजह से उस क्षेत्र पर अत्यधिक दबाव पड़ता हैं, तो बहुत अधिक संभावना बढ़ जाती है कि आप टूटे हुए बाइसेप्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Siddharth Srivastav
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z अप्रैल 16, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

आंखों का टेढ़ापन क्या है? जानिए इससे बचाव के उपाय

आंखों का टेढ़ापन क्यों होता है। आंखों का टेढ़ापन कैसे दूर किया जा सकता है। फोन और कंप्यूटर के इस्तेमाल के कारण ये समस्या हो सकती है। कम उम्र में जांच कराए तो इसका इलाज संभव है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish Singh
आंखों की देखभाल, स्वस्थ जीवन अप्रैल 15, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

REM sleep behavior disorder : रैपिड आई मूवमेंट स्लीप बिहेवियर डिसऑर्डर

रैपिड आई मूवमेंट(REM) स्लीप बिहेवियर डिसऑर्डर एक नींद की बीमारी है, जिसमें हम शारीरिक रूप से अप्रिय सपने या दुःस्वप्न में तेज आवाज़,बाते करना, या शारीरिक गत

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Siddharth Srivastav
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z अप्रैल 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

बच्चों में आंखों की देखभाल के बारे में मिथक

बच्चों की आंखो की देखभाल को लेकर कुछ ऐसे मिथक, जिन पर आपको कभी विश्वास नहीं करना चाहिए

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu Sharma
प्रकाशित हुआ जुलाई 22, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
घर की सफाई

घर के कोने-कोने की सफाई बेहद जरूरी, नहीं तो पड़ेंगे बीमार

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish Singh
प्रकाशित हुआ मई 15, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
आंखों पर स्क्रीन का असर

आंखों पर स्क्रीन का असर हाेता है बहुत खतरनाक, हो सकती हैं कई बड़ी बीमारियां

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish Singh
प्रकाशित हुआ मई 8, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
दोबारा पलकें आना

क्या पलकें झड़ रही हैं? दोबारा पलकें आना है आसान, अपनाएं टिप्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ मई 7, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें