क्यों आता है चक्कर? जानिए कारण और चक्कर के घरेलू उपाय

Medically reviewed by | By

Update Date जनवरी 21, 2020
Share now

बहुत-से लोगों को चक्कर आने की समस्या होती है। कभी ज्यादा लंबे समय तक न खाने पर चक्कर आने लगते हैं, तो कभी धूप में ज्यादा देर रहने से भी चक्कर आते हैं। कभी-कभी कोई मेडिकल कंडिशन होने पर भी लोगों में चक्कर आने की समस्या हो सकती है। ऐसे में तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। लेकिन, कई बार छोटी-मोटी समस्याओं के चलते भी चक्कर आने लगते हैं, जिसके लिए आप कुछ घरेलू उपाय अपना सकते है। जानिए चक्कर के घरेलू उपाय क्या हैं। लेकिन, उससे पहले जानें कि चक्कर आने के पीछ क्या-क्या कारण हो सकते हैं।

ये भी पढ़ें: जानिए किस तरह हमारी ये 9 आदतें कर रही हैं सेहत के साथ खिलवाड़

चक्कर आने के कारण क्या हैं?

1. माइग्रेन : यह एक ऐसी बीमारी है, जिसमें गंभीर रूप से सिर दर्द होता है। माइग्रेन में सिर दर्द के बाद या पहले भी चक्कर आ सकते हैं। दरअसल माइग्रेन न्यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर होता है। माइग्रेन की स्थिति में तेज सिरदर्द, मतली, उलटी, तेज रौशनी से तकलीफ (फोटोफोबिया), तेज आवाज से तकलीफ (फोनोफोबिया) माइग्रेन के लक्षण हैं। अक्सर लोगों को माइग्रेन की तकलीफ महीने में 3-4 बार हो सकती है। पुरषों की तुलना में माइग्रेन की समस्या से महिलाएं ज्यादा पीड़ित होती हैं। ऐसी स्थिति में पीड़ित को बार-बार चक्कर आने की परेशानी शुरू हो जाती है। 

2. चिंता या तनाव : चिंता और ज्यादा तनाव लेने से भी चक्कर आ सकते हैं। जब आपको बहुत ज्यादा चिंता सताने लगे या आप तनाव महसूस करें, तब आप लंबी-लंबी सांस लें। चिंता और तनाव से कोई भी पीड़ित हो सकता है। कुछ लोग इससे आसानी से बाहर आ जाते हैं लेकिन,  कुछ लोग खुद को चिंता और तनाव से उभार नहीं पाते हैं। ऐसे में कई बार ऐसे लोगों की सेहत बिगड़ भी जाती है। ऐसा इसलिए भी है कि कुछ लोग चिंता में खाना कम कर देते हैं। वहीं, कुछ लोग इसके विपरीत हैं। एंजायटी और स्ट्रेस में खूब खाते हैं। इन दोनों ही स्थिति में चक्कर आने की परेशानी शुरू हो जाती है। 

3. लो ब्लड शुगर : शुगर के मरीजों को कभी भी चक्कर आ सकते हैं। जब लो ब्लड शुगर हो जाए, तब चक्कर आ सकता है। वैसे ब्लड शुगर लेवल बढ़ना डायबिटज से पीड़ित तो करता ही है लेकिन,  डायबिटीज होने का मतलब है कि आपको दिल की बीमारी, दौरा पड़ना या स्ट्रोक जैसी समस्या हो सकती है। हालांकि ऐसा नहीं है की इन बीमारियों से बचा नहीं जा सके। अगर आपको डायबिटीज है, तो आप ब्लड शुगर लेवल और साथ ही ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करके दिल की बीमारी और स्वास्थ्य की रक्षा कर सकते हैं।

4. लो ब्लड प्रेशर : लो ब्लड प्रेशर होने से भी चक्कर आ सकता है। लो ब्लड प्रेशर होने से मस्तिष्क तक ऑक्सिजन नहीं पहुंच पाती है, जिस कारण चक्कर आने लगता है।

5. अचानक से ब्लड सर्क्यूलेशन होना : कुर्सी पर काफी देर तक बैठे रहने से ब्लड सर्क्यूलेशन स्लो रहता है। जैसे ही हम कुर्सी से अचानक उठते हैं, ब्लड तेजी से सर्क्यूलेट होने लगता है, जिस कारण कभी-कभी चक्कर आने लगता है।

6. डिहाइड्रेशन, गर्मी या थकान : तेज गर्मी में शरीर में पानी की कमी होने पर चक्कर आना स्वभाविक है। इसके अलावा, बिना कुछ खाए काफी देर तक काम करने, थकान के बाद भी चक्कर आना स्वभाविक है। इसके अलावा, चक्कर कुछ इन कारणों से भी आ सकता है। जैसे, जैसे सिर और कान पर चोट लगना, शरीर में आयरन की कमी होना, मस्तिष्क के पिछले भाग में कम ब्लड सर्क्यूलेट होना।

ये भी पढ़ें: आसानी से बनाएं ये पांच हेल्दी ब्रेकफास्ट; करेगा आपकी सेहत को काफी अपलिफ्ट

चक्कर के घरेलू उपाय क्या हैं?

समस्या होने पर आप चक्कर के घरेलू उपाय अपना कर इस परेशानी से बच सकते हैं, जो नीचे बताए गए हैं :

चक्कर के घरेलू उपाय में शामिल है अदरक 

चक्कर आने पर अदरक का सेवन करने से राहत मिलती है। यह मस्तिष्क के साथ-साथ शरीर के अन्य हिस्से तक ब्लड सर्क्यूलेशन को मजबूत करता है, जिससे चक्कर आने में राहत मिलती है।

तरीका

  • सबसे पहले ताजे अदरक को छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लें।
  • अब इन टुकड़ों को चबाएं।
  • आप इसके अलावा, दिन में दो से तीन बार अदरक की चाय पी सकते हैं।
  • इससे चक्कर आने वाली समस्या से आपको निजात मिल सकता है

चक्कर के घरेलू उपाय में शामिल है आंवला

आंवले में विटामिन-ए और विटामिन-सी होता है। इससे शरीर में इम्युनिटी पावर बढ़ती है। इसके अलावा, आंवला से ब्लड सर्क्यूलेशन भी ठीक होता है, जिससे चक्कर आने वाली समस्या से काफी हद तक निजात मिलती है।

तरीका

  • सबसे पहले आप 10 ग्राम आंवला लें।
  • उसमें तीन काली मिर्च और बताशे मिलाकर पीस लें। इस पेस्ट का आप लगातार 15 दिन तक सेवन करें।
  • इस पेस्ट का इस्तेमाल करने से धीरे-धीरे आपको चक्कर आने वाली समस्या से राहत मिलने लगेगी।
  • इसके अलावा, आप आंवले का मुरब्बा और आंवला कैंडी भी खा सकते हैं।

चक्कर के घरेलू उपाय में शामिल है नींबू

नींबू के फायदे अनेक हैं। चक्कर आने पर नींबू का सेवन अक्सर लोग किया करते हैं। इसमें काफी मात्रा में विटामिन-सी होता है, जो इम्युनिटी पावर को बढ़ाता है। इसके अलावा, नींबू शरीर को हाइड्रेट रखता है, जिससे चक्कर आने के दौरान राहत मिलती है।

तरीका

  • चक्कर आने पर एक गिलास पानी में नींबू निचोड़ लें
  • इस पानी में एक चम्मच चीनी डालें, और अच्छी तरह मिलाकर पी लें।
  • इसके अलावा, आप सलाद में भी नींबू का इस्तेमाल करें।

चक्कर के घरेलू उपाय में शामिल है शहद 

चक्कर आने पर शहद एक दवा की तरह कारगर है। जिन लोगों को शुगर की शिकायत है, उनका शुगर लेवल काफी कम हो जाने पर शहद का उपयोग किया जा सकता है। शहद में प्राकृतिक शर्करा होती है। शहद से शरीर को ऊर्जा मिलती है। इससे ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल में रहता है।

चक्कर के घरेलू उपाय में शामिल है स्वस्थ आहार लें

अगर आपको चक्कर आने की समस्या है और चक्कर की दवा से बचना चाहते हैं, तो जरूरी है कि आप स्वस्थ खानपान लें। एक स्वस्थ खानपान आपको कई समस्याओं से दूर रखने में मदद करता है। खाना ऐसा खाएं, जो जरूरी पोषक तत्वों से भरपूर हो। अपने आहार में आयरन, विटामिन-ए, फाइबर व फोलेट से भरपूर खाद्य पदार्थ लें।

चक्कर के घरेलू उपाय में शामिल है गहरी सांस लें

चक्कर आने पर लंबी और गहरी सांस लेने से चमत्कारी असर होता है। इससे आपके दिमाग तक पर्याप्त ऑक्सिजन पहुंचती है, जिससे चक्कर आने पर आराम मिलता है। चक्कर के घरेलू उपाय अपना कर इस परेशानी से बचा जा सकता है।

आप ऊपर बताए गए  घरेलू नुस्खे अपनाकर चक्कर आने की परेशानी से बच सकते हैं। लेकिन, अगर आपको लगे कि समस्या लगातार हो रही है और बढ़ रही है, तो ऐसी स्थिति में अपने डॉक्टर से संपर्क जरूर करें। हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

और पढ़ें:

Kidney Stones : गुर्दे की पथरी क्या है?जाने इसके कारण लक्षण और उपाय

यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन (UTIs) होने पर क्या करें, क्या न करें?

Bladder-stone: ब्लैडर स्टोन क्या है?

जानें पुरुषों में यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन (UTIs) के बारे में

हेल्दी स्किन के लिए नए साल में नए टिप्स, इन्हें जरूर आजमाएं

ब्लड प्रेशर की समस्या है तो अपनाएं डैश डायट (DASH Diet), जानें इसके चमत्कारी फायदे

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    Guaifenesin+Ambroxol+Chlorpheniramine Maleate : गुआइफेनेसिन+एम्ब्रोक्सोल+क्लोरफेनेरमाइन मैलीएट है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

    जानिए गुआइफेनेसिन+एम्ब्रोक्सोल+क्लोरफेनेरमाइन की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, गुआइफेनेसिन+एम्ब्रोक्सोल+क्लोरफेनेरमाइन उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Guaifenesin+Ambroxol+Chlorpheniramine Maleate डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Sunil Kumar

    Acitrom : एसिट्रोम क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

    जानिए एसिट्रोम की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, एसिट्रोम उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Acitrom डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Anu Sharma

    Sitagliptin + Metformin :सीटाग्लिप्टिन + मेटफोर्मिन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

    जानिए सीटाग्लिप्टिन + मेटफोर्मिन जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, सीटाग्लिप्टिन + मेटफोर्मिन उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Sitagliptin-Metformin डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Anu Sharma

    बेहोशी छाने पर क्या प्राथमिक उपचार करना चाहिए?

    बेहोशी के प्राथमिक उपचार की जानकारी in hindi. बेहोशी के दौरान इंसान को कुछ सुनाई या दिखाई नहीं देता है। व्यक्ति कुछ सेकेंड के लिए चक्कर खाकर गिर जाता है। Behoshi

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Bhawana Awasthi