चिंता और तनाव को करना है दूर तो कुछ अच्छा खाएं

    चिंता और तनाव को करना है दूर तो कुछ अच्छा खाएं

    अगर आपको पता चले कि आपकी जिंदगी का आधे से ज्यादा हिस्सा चिंता और तनाव में बीत रहा है तो आप और चिंतित हो जाएंगे। चिंता (Anxiety) और तनाव (Stress) सबको हो जाती है। लेकिन, कुछ लोग उससे उबर भी जाते हैं, पर कुछ लोग बहुत खुद को चिंता और तनाव से उभार नहीं पाते हैं। ऐसे में कई बार चिंतित लोगों की सेहत बिगड़ने लगती है। ऐसा इसलिए भी है कि कुछ लोग चिंता में खाना कम कर देते हैं। वहीं, कुछ लोग इसके विपरीत हैं। एंजायटी और स्ट्रेस में खूब खाते हैं, लेकिन क्या आप अच्छा खाते हैं?

    और पढ़ें : क्या गुस्से में आकर कुछ गलत करना एंगर एंजायटी है?

    चिंता और तनाव क्या है?

    हैलो स्वास्थ्य ने वाराणसी (उत्तर प्रदेश) के सर सुंदरलाल हॉस्पिटल के मनोचिकित्सक डॉ. जयसिंह यादव से बात की। डॉ. जयसिंह ने बताया कि चिंता और तनाव किसी भी घटना के कारण होने वाला मानसिक बदलाव है। ऐसे में मानसिक स्वास्थ्य शारीरिक स्वास्थ्य को हानि पहुंचाने लगता है। ऐसे में व्यक्ति को अपने खानपान पर ध्यान देना चाहिए। कुछ चीजें ऐसी होती हैं, जिन्हें खाने पर चिंता और तनाव कम होते हैं। इसलिए चिंता और तनाव की स्थिति में ऐसे फूड्स का सेवन करना सही है।”

    चिंता और तनाव में क्या खाएं?

    ज्यादातर लोग चिंता और तनाव में चाय या कॉफी का सहारा लेते हैं। लेकिन, उन्हें नहीं पता होता है कि वो गलती कर रहे हैं। चाय या कॉफी में मौजूद कैफिन शरीर में एड्रेनैलिन लेवल को बढ़ाता है। इसके अलावा ज्यादा भारी भोजन खाने से आप सुस्ती महसूस करते हैं। जो कि आपकी सेहत को प्रभावित करता है। इसलिए अपने चिंता और तनाव में कुछ अच्छा खाएं।

    और पढ़ें : स्ट्रेस का बॉडी पर असर होने पर दिखाई देने लगते हैं ये लक्षण

    मेडिटेरनियन डायट से दूर होगा एंजायटी और स्ट्रेस

    मेडिटेरनियन डायट में ऐसी कई सारी चीजें शामिल होती हैं जो आपके मानसिक स्थिति को बदल सकती हैं। इस डायट में चावल, आलू, छिलके जैसे स्टार्च से भरपूर होता है। साथ ही इसमें ओमेगा-3 फैटी एसिड, मछलियां, नट्स और बीज भी शामिल होते हैं। इन सभी में अनसैचुरेटेड फैट होते हैं, जो आपके दिमाग के साथ-साथ दिल के लिए भी अच्छा होता है। यूएसए के ओहियो स्टेट यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ मेडिसीन के रिसर्च के अनुसार ओमेगा-3 चिंता और तनाव को कम करता है। इसके साथ ही मेडिटेरनियन डायट मूड को बदलने में भी मददगार साबित होता है।

    और पढ़ें : चिंता और निराशा दूर करने का अचूक तरीका है गार्डनिंग

    चिंता और तनाव में शुगर का सहारा न लें

    कई बार देखा गया है कि चिंता और तनाव में लोग मीठा ज्यादा खाने लगते हैं। लेकिन, ऐसा करना ठीक नहीं है। ज्यादा शुगर के सेवन से पैनिक अटैक महसूस हो सकता है। इसलिए शुगर को न कहें। शुगर लेने की जगह पर आप प्रोटीन युक्त भोजन लें। इसके साथ ही कार्बोहाइड्रेट को भी ज्यादा तवज्जो दें। कोशिश करें कि नाश्ते के समय चीनी से बनी कोई भी ड्रिंक न पीएं। इससे आपके ब्लड में शुगर लेवल की मात्रा ज्यादा हो जाएगी।

    कैफिन की संतुलित मात्रा ही लें

    चिंता और तनाव में लोग चाय या कॉफी पीने की मात्रा ज्यादा कर देते हैं। इसलिए उनके शरीर में कैफिन की मात्रा ज्यादा हो जाती है। जो उन्हें सुस्त कर देता है। हालांकि कॉफी या चाय की एक निश्चित मात्रा आपकी एनर्जी को बूस्ट कर सकता है। कुछ समय के लिए आपको चिंता और तनाव से मुक्त कर सकता है। लेकिन इसकी ज्यादा मात्रा आपके सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है। कैफिन एडनोसिन हॉर्मोन के उत्पादन को कम कर देता है, जिससे आपको नींद नहीं आ पाती है। नींद नहीं आने से आप और ज्यादा परेशान हो जाते हैं। इसलिए चिंता में कैफिन नहीं बल्कि पानी पीएं। पानी पीने से आपका दिमाग तरोताजा महसूस करेगा और ये धीरे-धीरे चिंता को कम करेगा। आप चाहें तो पानी में स्ट्रॉबेरी, तरबूज या किवि जैसे फल काट कर डाल लें। ये आपके सेहत के लिए बहुत अच्छी ड्रिंक है।

    और पढ़ें : चिंता VS डिप्रेशन : इन तरीकों से इसके बीच के अंतर को समझें

    एंटीऑक्सीडेंट फूड्स हैं बेहतर विकल्प

    एंटीऑक्सीडेंट फूड खाने से चिंता और तनाव कम होता है। बेरी, अखरोट, फल और बीन्स एंटीऑक्सीडेंट का काम करते हैं। इसलिए चिंता और तनाव के दौरान अपने डायट में इन फलों को जरूर शामिल करें। एंटीऑक्सीडेंट मानसिक रूप से चिंता और तनाव को कम करने में मददगार होता है।

    चिंता सताए तो प्रोबायोटिक्स खाएं

    पेट में मौजूद बैक्टीरिया डिप्रेशन और चिंता बढ़ाने के लिए जिम्मेदार होते हैं। पेट के बैक्टीरिया केंद्रीय तंत्रिका तंत्र (Central Nervous System) तक चिंता का सिग्नल भेजते है। लेकिन, जब प्रोबायोटिक्स जैसे बैक्टीरिया पेट में जाते हैं तो वे ऐसे मैसेज को नर्वस सिस्टम तक नहीं पहुंचने देते हैं। इसलिए आप दही खाएं। दही में सबसे ज्यादा प्रोबायोटिक्स पाए जाते हैं। जो पेट के बोक्टीरिया द्वारा आपको टेंशन देने से बचाता है। इसके अलावा आप खमीर से बनी चीजें भी खा सकते हैं। जैसे – ब्रेड, इडली, जलेबी आदि।

    विटामिन-बी कहेगा बी पॉजिटीव

    विटामिन-बी का सेवन करने से आपकी चिंता कम होगी। विटामिन-बी आपके नर्वस सिस्टम के न्यूरोट्रांसमिटर्स को संश्लेषित करता है। विटामिन-बी6 की कमी से चिड़चिड़ापन, अनिद्रा और डिप्रेशन होता है। वहीं, विटामिन-बी5 हाई ब्लड प्रेशर के कारण चिंता और तनाव के लिए जिम्मेदार होता है। विटामिन-बी की कमी को पूरा करने के लिए आप साइट्रस फल, संपूर्ण अनाज और सब्जियों का सेवन करें। इससे आप अपने चिंता और तनाव पर जीत हासिल कर सकेंगे।

    डार्क चॉकलेट

    चिंता और तनाव की स्थिति में डार्क चॉकलेट आपकी मदद कर सकती है। डार्क चॉकलेट में फिनाइलेथाइलामाइन पाया जाता है, जो तनाव की स्थिति में दिमाग को शांत रखने में मदद करता है। इसके अलावा डार्क चॉकलेट आपकी स्किन और बालों के लिए अच्छा साबित होता है। डार्क चाॉकलेट स्किन का नमी बनाए रखने में मदद करती है। साथ ही चॉकलेच का सेवन करते समय इस बात का भी ख्याल रखें कि इसे एक निर्धारित मात्रा में ही खाना चाहिए क्योंकि 20 ग्राम चॉकलेट में लगभग 150 कैलोरीज हो सकती है।

    कुल मिला कर कहा जा सकता है कि चिंता और तनाव में अगर आपके खाने की आदत है तो कुछ अच्छा खाएं। अगर खाने की आदत नहीं है तो भी अच्छा खाने का प्रयास करें। क्योंकि खाने से भी आपके जीवन से चिंता और तनाव खत्म हो सकता है।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

    डॉ. प्रणाली पाटील

    फार्मेसी · Hello Swasthya


    Shayali Rekha द्वारा लिखित · अपडेटेड 19/01/2021

    advertisement
    advertisement
    advertisement
    advertisement