हर समय रहने वाली चिंता को दूर करने के लिए अपनाएं एंग्जायटी के घरेलू उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट November 17, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

रोजमर्रा की लाइफ में तनाव, टेंशन, अवसाद, चिंता फ्रिक जैसे शब्द आम हो गए हैं क्योंकि आजकल हर कोई खुद को इन समस्याओं से घिरा हुआ पता है। जिंदगी आसान किस्तों मे आजकल कहां चलती है। खासकर महानगरों में तो लोगों का और बुरा हाल है। लोग दिन-रात काम के साथ-साथ कई तरह की मानसिक लड़ाईयां अपने भीतर ही भीतर लड़ रहे होते हैं। क्या आप भी अपने जीवन में चिंता, एंजायटी से ग्रस्त हैं।

आज इस लेख में हम एंग्जायटी के घरेलू उपाय बताएंगे जो आपको अपनी लाइफ को बैलेंस और रिलैक्स करने में मदद कर सकते हैं। अत्यधिक चिंता जल्द ही आपकी मानसिक आदत में तब्दील हो सकती है। इसलिए अपने दिमाग को शांत रखें और हमेशा ही ज्यादा चिंता करने से बचें।

और पढ़ें: तनाव और चिंता से राहत दिलाने में औषधियों के फायदे

चिंता का कारण क्या है?

एंग्जायटी के घरेलू उपाय जानने से पहले जरूरी है कि इसके पीछे के कारण को समझा जाए। चिंता होने के कई कारण हो सकते हैं, जो इस प्रकार हैं :

  • अपनों से दूर होना
  • घरेलू लड़ाई-झगड़ा
  • फाइनेंशियल समस्याएं
  • महिलाओं में पीरियड्स के समय हाॅर्मोनल बदलाव
  • किसी डरावनी घटना को याद करना
  • अनुवांशिक

और पढ़ें: पार्टनर को डिप्रेशन से निकालने के लिए जरूरी है पहले अवसाद के लक्षणों को समझना

एंंजायटी (चिंता) के लक्षण क्या हैं?

थोड़ी बहुत चिंता होना तो आम बात है और इसके कोई लक्षण दिखाई भी नहीं देते हैं, लेकिन जब एंजायटी की समस्या गंभीर हो जाती है तो इसके लक्षण को छुपाया नहीं जा सकता है। यह आसपास के लोगों को भी दिखने लगता है। एंग्जायटी के लक्षण इस प्रकार हैं :

  • कमजोरी
  • सांस लेने में समस्या
  • ह्रदय गति का तेज होना
  • सिर चकराना
  • भूख न लगना
  • नींद न आना
  • किसी काम को लेकर ठीक से ध्यान न लगना
  • ज्यादा पसीना आना
  • जी मिचलना

और पढ़ें: डिप्रेशन की वजह से रंगहीन हो गई है जिंदगी? इन 3 तरीकों से अपनी और दूसरों की करें मदद

एंग्जायटी के घरेलू उपाय

यहां एंजायटी को शांत करने के उपाय दिए हैं –

1.हेल्दी फूड है एंग्जायटी के घरेलू उपाय में बेस्ट

चिंता का घरेलू उपाय

स्वस्थ आहार का प्रभाव सिर्फ शरीर पर ही नहीं होता, बल्कि यह आपके मानसिक स्वास्थ्य को भी अच्छा करता है। साथ ही चिंता और तनाव को भी दूर करने का काम करता है। एक अध्ययन में कहा गया है कि कच्चे फलों और सब्जियों का अधिक सेवन मानसिक स्वास्थ्य को लाभ पहुंचाता है।

2. एंग्जायटी के घरेलू उपाय में शामिल है संगीत सुनना

रिसर्च में पता चला है कि संगीत सुनने से दिमाग शांत होता है इसलिए एंग्जायटी के घरेलू उपाय उपाय के रूप में आप मधुर संगीत सुन सकते हैं। जरूरी नहीं कि आप दिमाग को उत्तेजित करने वाला संगीत सुनें। आप बांसुरी की धुन, कुछ लोक संगीत, ट्रांस, नेचर साउंड जैसे पानी का बहना, चिड़ियों का चहकना जैसे साउंड या बैकग्राउंड साउंड को सुन के खुद को रिलैक्स कर सकते हैं।

और पढ़ें: डिप्रेशन (Depression) होने पर दिखाई ​देते हैं ये 7 लक्षण

3.शराब और कैफीन से दूर रहें

शराब और कैफीन युक्त पेय भी चिंता को बढ़ाने का काम कर सकते हैं। शराब या कैफीन पीने से शुरू में कुछ समय के लिए चिंता से राहत मिल सकती है, लेकिन बाद में यह लंबे समय तक चिंता का कारण बन सकता है। इसलिए शराब और कैफीन के सेवन से बचें।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

4.चिंता दूर होगी मेडिटेशन से

भुजंगासन-Bhujangasan

मेडिटेशन के सहारे दिमाग को किसी वस्तु या विचार पर फोकस किया जाता है। इससे मानसिक और भावनात्मक रूप से शांति प्राप्त हो सकती है। योगा की तरह ही ध्यान लगाने से भी न्यूरोट्रांसमीटर एक्टिव होते हैं, जो चिंता के लक्षणों को नियंत्रित करने में सहायता पहुंचाते हैं।

और पढ़ें: क्या गुस्से में आकर कुछ गलत करना एंगर एंजायटी है?

5.गहरी सांस लेना एंजायटी के घरेलू उपाय में से एक

जब भी आपको बहुत ज्यादा चिंता या एंजायटी हो रही हो तो गहरी सांस लें। इससे आपका मन और दिमाग दोनों शांत होंगे। गहरी सांस लेने से आपका आत्मविश्वास भी बढ़ता है और कई बार ध्यान केंद्रित करने में भी मदद मिलती है।

6. एंग्जायटी के घरेलू उपाय में शामिल है खुलकर हंसना

एंग्जायटी के घरेलू उपाय ढूंढ रहे हैं तो जोर-जोर से हंसना उनमें से एक है। तनाव या चिंता का कारण कुछ भी हो सकता है, लेकिन इससे बचने के लिए आपको हमेशा खुश रहना चाहिए। खुलकर हंसने से किसी भी चीज को लेकर चिंता कम हो जाती है। इसका मानसिक स्वास्थ्य पर भी अच्छा असर देखा जा सकता है।

और पढ़ें: Generalized Anxiety Disorder : जेनरलाइज्ड एंजायटी डिसऑर्डर क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

7.एंग्जायटी के घरेलू उपाय में से एक पर्याप्त नींद

अच्छी नींद लेने से चिड़चिड़ापन और तनाव आपसे दूर रहता है। साथ ही चिंता को खत्म करने में भी मदद मिलती है। इसलिए, पर्याप्त नींद लेनी चाहिए।

8.एक्सरसाइज करें

चिंता के घरेलू उपाय

अपने दिमाग को दूसरी तरफ फोकस करने के लिए आप एक्सरसाइज भी कर सकते हैं। इससे आपके दिमाग में चल रही चिंता से आपका ध्यान आपके शारीरिक व्यायाम की तरफ मुड़ जाएगा। एक्सरसाइज आपको इंगेज रखती है और मन में चल रही हलचलों को शांत करने में भी आपकी मदद करती है। एक्सरसाइज वह कुंजी है जहां आपके तन के साथ आपका मन भी शक्तिशाली बनता है।

9.एंग्जायटी के घरेलू उपाय में शामिल करें रोजमेरी तेल

एक अध्ययन से यह साबित हो गया है कि रोजमेरी तेल का उपयोग चिंता से मुक्त होने के लिए किया जा सकता है। रोजमेरी व पेपरमिंट ऑयल अरोमा थेरिपी की तरह काम करता है, जो आपको चिंता से मुक्त करने के साथ-साथ सुकून की नींद प्रदान करने का भी काम कर सकता है।

और पढ़ें: चिंताग्रस्त होने के लक्षण क्या हैं और जानिये उसके उपाय

10.चिंता का घरेलू उपाय है मेडिटेशन

मेडिटेशन की मदद से दिमाग को आराम मिलता है। इसकी मदद से स्ट्रेस और एंग्जायटी कम होने लगती है। मेडिटेशन में कई प्रकार की प्रक्रियाएं शामिल होती हैं, जिनमें योग सबसे महत्वपूर्ण और प्रभावशाली माना जाता है।

माइंडफुलनेस-बेस्ड मेडिटेशन लोगों के बीच बेहद लोकप्रिय होने लगी है। 2010 में किए गए एक अध्ययन में यह पाया गया था कि जिन लोगों में एंग्जायटी और मूड को लेकर डिसऑर्डर होते हैं, उनके लिए यह प्रक्रियाएं बेहद प्रभावशाली होती हैं।

11.एंग्जायटी का घरेलू उपाय है राइटिंग (लिखना)

एंग्जायटी को कहीं बाहर निकालने से उसे कम या काबू करने में मदद मिलती है। कुछ शोध की मानें, तो जर्नल या सामान्य लेख लिखने से एंग्जायटी से लड़ने में मदद मिलती है।

2016 के शोध के अनुसार बच्चों में क्रिएटिव राइटिंग की मदद से एंग्जायटी को मैनेज किया जा सकता है।

और पढ़ें: Anxiety Attack VS Panic Attack: समझें एंग्जायटी अटैक और पैनिक अटैक में अंतर

12.एरोमाथेरिपी की मदद से पाएं एंग्जायटी से छुटकारा

सुंगध वाले पौधों के तेल को सूंघने से स्ट्रेस और एंग्जायटी को कम करने में मदद मिलती है। कुछ विशेष प्रकार की सुंगध कुछ लोगों के लिए विभिन्न तरह से प्रभाव दिखाती हैं। ऐसे में कई प्रकार की सुंगध के साथ एक्सपेरिमेंट कर के देखें कि आपको किस सुंगध से आराम मिलता है।

13.हर्बल टी से करें एंग्जायटी को कम

हर्बल टी एंग्जायटी को कम कर के एक आरामदायक नींद प्रदान करती है। कुछ लोगों का मानना है कि चाय को बनाकर पीना बेहद आरामदायक होता है। लेकिन कुछ ऐसी चाय की पत्तियां भी होती हैं, जो सीधे मस्तिष्क पर प्रभाव डालती हैं और एंग्जायटी कम करने में मदद करती हैं।

2018 में किए गए एक छोटे से अध्ययन में यह सामने आया कि कैमोमाइल टी स्ट्रेस हॉर्मोन कॉर्टिसोल को कम करने में मदद करती है।

और पढ़ें: Acute Stress Reaction: एक्यूट स्ट्रेस रिएक्शन क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

चिंता को दूर करने के लिए सुझाव

एंग्जायटी के घरेलू उपाय को अपनाने के साथ-साथ निम्नलिखित टिप्स भी अपनाएं। जैसे:

  • जरूरत से ज्यादा चिंता ना करें और अपने दिमाग को शांत रखें।
  • अपने आपको हर मुश्किल से लड़ने के काबिल समझें और दिमाग में कमजोर विचारों का ना आने दें। जिससे आपको बुरे और नेगेटिव ख्याल नहीं आएंगे और मन शांत रहेगा।
  • आपको यह तय करना होगा कि जिस भी बात को लेकर आप चिंतित हैं उसका कोई समाधान है या नहीं है। यदि है तो उसके बारे में सोचना सही है अन्यथा व्यर्थ है।
  • अपनी चिंताओं के बारे में अपने करीबी से बात करें जिससे आप के भीतर की एंजायटी कम होगी।

यह थे कुछ टिप्स आपकी एंजायटी को कम करने के लिए। इन्हें अपने जीवन में जरूर इस्तेमाल करें। अपने रोजमर्रा के कामों को लेकर जीवन में थोड़ी बहुत चिंता, एंजायटी हर इंसान को होती है, लेकिन यदि कोई व्यक्ति अधिक चिंतित रहने लगे और हर छोटी बात पर गहनता से विचार करें जिससे उसके मन में भविष्य के लिए डर और तनाव होने लगे तो यह सोच का विषय है।

और पढ़ें: आइसोलेशन के दौरान स्ट्रेस से निजात चाहिए तो बनिए आशावादी, दूर हो जाएंगी आपकी समस्याएं

एंग्जायटी ट्रीटमेंट के अन्य विकल्प

anxiety ke gharelu upay

यदि एंग्जायटी पुरानी हो या व्यक्ति के रोजाना जीवन में समस्या डालती हो तो उसे एंजायटी के ट्रीटमेंट की आवश्यकता पड़ती है। जब कोई अन्य मेडिकल कंडीशन जैसे थायरॉइड नहीं होता है, तो एंग्जायटी के लिए सबसे अच्छा उपाय थेरिपी होता है।

थेरिपी व्यक्ति दर व्यक्ति निर्भर करती है। इसमें वह खुद से चीजों को शामिल और निकाल सकता है। जैसे कि एंग्जायटी होने पर वह ट्रिगर करने वाले कार्य को छोड़कर अच्छा महसूस होने वाले विचार सोचने की कोशिश कर सकता है। इससे जीवनशैली पर भी सकारात्मक प्रभाव पड़ता है और साथ ही यह ट्रॉमा और पैनिक अटैक की आशंका को भी कम करता है।

और पढ़ें: डिप्रेशन ही नहीं ये भी बन सकते हैं आत्महत्या के कारण, ऐसे बचाएं किसी को आत्महत्या करने से

एंग्जायटी के लिए सबसे अच्छी थेरिपी कॉग्निटिव बिहेवियरल थेरपी (सीबीटी) को माना जाता है। इस प्रक्रिया में व्यक्ति को यह जानने में मदद मिलती है कि एंग्जायटी के पीछे क्या कारण हैं। इसके बाद व्यक्ति की उन भावनाओं को कंट्रोल करने की कोशिश की जाती है।

सीबीटी की मदद से जनरलाइज्ड एंग्जायटी और किसी विशेष प्रकार से जुड़ी एंग्जायटी को ठीक करने में मदद मिलती है, जैसे कि अचानक ट्रॉमा पड़ना।

दवाओं की मदद से भी क्रॉनिक एंग्जायटी को कम किया जा सकता है। डॉक्टर आपको निम्न प्रकार की दवाओं का सेवन करने की सलाह दे सकते हैं –

  • एंटीएंग्जायटी ड्रग जैसे कि बेंजोडायजीपाइन, जैसे जैनेक्स और वैलियम
  • एंटीडिप्रेसेंट, जैसे सेरोटोनिन रिअपटेक इन्हिबिटर और प्रोजैक
  • अगर एंग्जायटी के कारण स्लीप पैटर्न प्रभावित होते हैं, तो डॉक्टर नींद की गोली की सलाह दे सकते हैं।

प्राकृतिक चिंता के उपायों से एंग्जायटी के जटिल उपचार को बदला जा सकता है। हालांकि, इन दोनों ही उपचार में से कौन-सा आपके लिए बेहतर होगा, इसकी जानकरी के लिए डॉक्टर से परामर्श लें।

इस लेख को पढ़ने के बाद आप समझ ही गए होंगे कि एंग्जायटी के घरेलू उपाय को कैसे अपनाना है। हम आशा करते हैं कि यह लेख आपको चिंता मुक्त करने में मदद करेगा। अगर आप इस लेख से संबंधित कोई अन्य जानकारी चाहते हैं, तो कमेंट बॉक्स में हमारे साथ साझा कर सकते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

क्या आपकी लाइफ में रूकावट डाल रहे ये हैप्पीनेस बैरियर?

हैप्पीनेस बैरियर (Happiness barriers) आपकी खुशियों के बीच रोड़ा अटकाते हैं और आपको पता ही नहीं चलता। पहचानिए ऐसे 10 हैप्पीनेस बैरियर्स को इस लेख में।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
स्ट्रेस मैनेजमेंट, मेंटल हेल्थ February 11, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें

उम्र बढ़ने के साथ घबराएं नहीं, आपका दृढ़ निश्चय एजिंग माइंड को देगा मात

एजिंग माइंड के कारण महिलाओं और पुरुषों को मानसिक समस्याओं का सामना करना पड़ता है। उम्र बढ़ने के साथ ही महिलाओं और पुरुषों में भूलने की बीमारी, डिप्रेशन, चिंता आदि विकार नजर आने लगते हैं। Ageing mind

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi

लॉकडाउन के असर के बाद इस नए साल पर अपने मानसिक स्वास्थ्य को कैसे फिट रखें?

इस लॉकडाउन में लोगों की मेंटल हेल्थ पर काफी प्रभाव पड़ा है। जिससे अभी तक लोग ठीक से निकल नहीं पाए हैं। लेकिन लोगों को अपने अच्छे मानसिक स्वास्थ्य के लिए इन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Niharika Jaiswal

ऑनलाइन स्कूलिंग से बच्चों की मेंटल हेल्थ पर पड़ता है पॉजिटिव इफेक्ट, जानिए कैसे

ऑनलाइन स्कूलिंग या क्लासेस करने से शरीर को असुविधा महसूस हो सकती है लेकिन ऑनस्कूल के कारण बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। Child’s Mental Health

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi

Recommended for you

महिलाओं में होने वाली बीमारी (Women illnesses)

Women illnesses: इन 10 बीमारियों को इग्नोर ना करें महिलाएं

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ March 4, 2021 . 8 मिनट में पढ़ें
स्वास्थ्य

स्वास्थ्य को जानें, स्वास्थ्य को पहचानें – क्योंकि स्वास्थ्य से ही सब कुछ है!

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया AnuSharma
प्रकाशित हुआ February 22, 2021 . 8 मिनट में पढ़ें
पुरुषों की मेंटल हेल्थ बिगाड़ने वाले कारण/ Men's Mental Health

पुरुषों के मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित करने वाले कारणों के बारे में जान लें, ताकि देखभाल करना हो जाए आसान

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ February 15, 2021 . 6 मिनट में पढ़ें
एंग्जायटी और इंसोम्निया का क्या है संबंध Anxiety and insomnia

एंग्जायटी और इंसोम्निया, क्या दोनों में है कुछ संबंध?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ February 12, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें