home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

आइसोलेशन के दौरान स्ट्रेस से निजात चाहिए तो बनिए आशावादी, दूर हो जाएंगी आपकी समस्याएं

आइसोलेशन के दौरान स्ट्रेस से निजात चाहिए तो बनिए आशावादी, दूर हो जाएंगी आपकी समस्याएं

कोरोना वायरस को महामारी का नाम दिया जा चुका है। जब कोरोना का संक्रमण फैला था, उस समय किसी ने भी नहीं सोचा था कि कोरोना महामारी के हर व्यक्ति का जीवन प्रभावित होगा। अब दुनिया भर में फैल चुकी इस महामारी ने लोगों के मन में दहशत फैला दी है। भारत में तो अब भी कई लोगों को कोरोना वायरस के बारे में सही जानकारी नहीं है और लोग फेक न्यूज एक-दूसरे को फॉरवर्ड कर रहे हैं। कोरोना महामारी का कहर दुनिया भर में फैला हुआ है तो ऐसे में लोगों का संक्रमण के प्रति डर और आइसोलेशन के दौरान स्ट्रेस भी बढ़ता जा रहा है। ऐसा नहीं है कि आइसोलेशन के दौरान स्ट्रेस किसी खास वर्ग को परेशान कर रहा हो।

और पढ़ें: कोरोना के दौरान सोशल डिस्टेंस ही सबसे पहला बचाव का तरीका

आइसोलेशन के दौरान स्ट्रेस की समस्या

आइसोलेशन में तनाव कई लोगों की समस्या का कारण बन चुका है। फिलहाल कोरोना वायरस की वैक्सीन अभी तक नहीं बन पाई है। कोरोना वायरस की दवा को लेकर भी तेजी से काम चल रहा है। लोगों के पास सिर्फ एक ही विकल्प है और वो है आइसोलेशन में रखना। घरों के अंदर रहकर ही लोग खुद को सुरक्षित रख सकते हैं। आपको आइसोलेशन के दौरान स्ट्रेस न हो, उसके लिए आशावादी विचार बहुत जरूरी है। अगर आप नेगेटिव थॉट ही दिनभर सोचेंगे, तो आपकी तबियत खराब हो सकती है। इस आर्टिकल के माध्यम से जानिए कि किस तरह से आइसोलेशन के दौरान स्ट्रेस से बचा जा सकता है।

और पढ़ें: कोरोना वायरस फैक्ट चेक: कोरोना वायरस की इन खबरों पर भूलकर भी यकीन न करना, जानें हकीकत

आइसोलेशन के दौरान स्ट्रेस : चेक करें फैक्ट

कोरोना वायरस की जानकारी आपको फिलहाल टीवी, इंटरनेट और सोशल मीडिया के माध्यम से मिल रही है। एक बात ध्यान रखें कि आसपास के माहौल के कारण ही स्ट्रेस बढ़ता है। अगर आपके पास कोई फेक न्यूज आ रही है तो अचानक से आप परेशान हो सकते हैं। बेहतर रहेगा कि सोर्स ऑफ इंफॉर्मेशन विश्वस्त (credible) हो। अगर आपको कोई चैनल या फिर कोई व्यक्ति फेक न्यूज भेज रहा हो, तो उसे तुरंत अपने ग्रुप से हटा दें। इस तरह से आप काफी हद तक आइसोलेशन के दौरान स्ट्रेस से बच सकते हैं। आपको अपनी पर्सनल स्ट्रेंथ पर फोकस्ड रहना होगा।

और पढ़ें: अगर आपके आसपास मिला है कोरोना वायरस का संक्रमित मरीज, तो तुरंत करें ये काम

आइसोलेशन के दौरान स्ट्रेस से बचने के लिए कम्युनिटी कॉन्टैक्ट जरूरी

आइसोलेशन में तनाव से बचने के लिए अकेलापन दूर करना भी बहुत जरूरी है। अकेलेपन में लोगों में नकारात्मक भाव ज्यादा आते हैं। लंबे समय तक ऐसी ही स्थिति बनी रहने के कारण लोग आइसोलेशन में तनाव का शिकार हो सकते हैं। अगर आप घर में अकेले रह रहे हैं तो बेहतर होगा कि हेल्थ कम्युनिटी के साथ ही अपने दोस्तों से रोजाना संपर्क करें और सभी स्थानों के हालात के बारे में जानकारी लेते रहे। एक बात ध्यान रखें कि बुरे हालात इस वक्त सिर्फ एक व्यक्ति के लिए नहीं बल्कि सभी लोगों के लिए हैं। सकारात्मक भाव के साथ अपनी डेली हेल्दी रूटीन को जरूर फॉलो करें। अगर अकेले हैं तो आप रोजाना वीडियों कॉल के जरिए अपने परिवालवालों और दोस्तों से जरूर बात करें।

आइसोलेशन में तनाव से बचने के लिए करें ये काम

फिलहाल आप कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए क्या कर सकते हैं ? अगर आप ये सवाल खुद से पूछेंगे तो आपको कुछ ही उत्तर मिल पाएंगे। कुछ बातें जैसे कि साफ-सफाई का ख्याल रखना, घर से बाहर जाते वक्त मास्क का यूज करना, घर वापस आने पर हाथों के साथ ही लाए गए सामान को सैनिटाइज करना और लोगों से दूरी बनाकर रखना। यानी आपके हाथों में केवल सावधानी रखना ही मात्र उपाय है। आप सिर्फ इस बात पर ध्यान दें कि जो काम मैं संक्रमण से बचाव के लिए कर सकता हूं, उसमे चूक नहीं होनी चाहिए। अगर आप ऐसा सोचेंगे तो स्ट्रेस वाकई में अपने आप कम हो जाएगा। आपका सकारात्मक रवैया ही आपको आइसोलेशन के दौरान स्ट्रेस से बचा सकता है।

और पढ़ें : कोरोना पर जीत हासिल करने वाली कोलकाता की एक महिला ने बताया अपना अनुभव

आइसोलेशन के दौरान स्ट्रेस से बचने के लिए हॉबी का न छोड़े साथ

हमे जो करना पसंद होता है, हम उसे हॉबी का नाम देते हैं। फिलहाल ऐसा वक्त चल रहा है जिसमे आप ये नहीं कह सकते हैं कि जिंदगी भागदौड़ भरी है। आप ये सोच सकते हैं कि आपको कुछ पल के लिए रिलेक्स दिया गया है, ताकि आप अपनी हॉबी को एंजॉय कर सके। अगर आप किताबें पढ़ने, पेंटिंग करने, गिटार बजाने या फिर किसी भी तरह की हॉबी को एंजॉय करने के लिए अपना पूरा समय दे सकते हैं। किसी भी प्रकार की टेंशन होने पर गहरी सांस लें। फिर स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज करें। आप चाहे तो कुछ समय के लिए मेडिटेशन भी कर सकते हैं।

परेशान होने पर एल्कोहॉल या फिर अधिक कैफीन का सेवन भूल कर भी न करें, वरना आपका तनाव अधिक बढ़ सकता है। इसकी बजाय खुद को अपनी पसंदीदा एक्टिविटीज में बिजी रखें। यदि आपको पेंटिंग बनाना पसंद है तो आइसोलेशन के दौरान खुद को पेंटिंग बनाने में व्यस्त रखें। आपको गिटार, पियानो, बांसुरी आदि म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट बजाने का शोक है तो इस समय का फायदा उठाएं ओर प्रेक्टिस करें। कुछ लोगों को गार्डिनिंग का शौक होता है, वे लोग पौधे उगाएं व उनकी देख रेख करें। रोजाना की दफ्तर वाली बिजी लाइफ में लौटने से पहले आपको उस समय जो काम करने के लिए समय नहीं मिलता था आप उन सभी कामों को अभी करें। इससे आपका आइसोलेशन का यह समय कैसे व्यतीत हो जाएगा, आपको भी मालूम नहीं चलेगा।

और पढ़ें: कोरोना वायरस के 80 प्रतिशत मरीजों को पता भी नहीं चलता, वो कब संक्रमित हुए और कब ठीक हो गए

इन बातों का भी रखें ध्यान

अगर आपको आइसोलेशन के दौरान स्ट्रेस ज्यादा महसूस हो रहा है तो बेहतर होगा कि एक बार डॉक्टर से संपर्क करें। अगर आप परिवार के साथ एक ही घर में अलग कमरे में रह रहे हैं तो बेहतर होगा कि सभी से कुछ दिनों के लिए दूर रहे। अपना सामान परिवार वालों के साथ शेयर न करें। न ही एक बाथरूम यूज करें और अगर करें भी तो तुरंत डिसइंफेक्ट करें। आपकी एक चूक कई लोगों को संक्रमित कर सकती है। सरकार की ओर से जारी किए गए दिशानिर्देशों का पालन करें। कुछ बातों का ध्यान रखकर ही कोरोना वायरस के संक्रमण को खत्म किया जा सकता है।

और पढ़ें: कोविड-19 है जानलेवा बीमारी लेकिन मरीज के रहते हैं बचने के चांसेज, खेलें क्विज

उम्मीद करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। हैलो हेल्थ के इस लेख में आइसोलेशन के दौरान होने वाले स्ट्रेस से जुड़ी हर मुमकिन जानकारी देने का प्रयास किया है। यदि आपका इस लेख से जुड़ा कोई प्रश्न है तो आप कमेंट सेक्शन में पूछ सकते हैं। हम अपने एक्सपर्ट्स द्वारा आपके सवालों का उत्तर दिलाने का पूरा प्रयास करेंगे। यदि आप इस संदर्भ में अन्य कोई जानकारी पाना चाहते हैं तो इसके लिए विशेषज्ञ से संपर्क करना बेहतर होगा।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Coping With Stress and Social Distancing During the Coronavirus (COVID-19) Outbreak: https://www1.nyc.gov/assets/doh/downloads/pdf/imm/coping-with-stress-disease-outbreak.pdf Accessed on 7/4/2020

Stress and Coping: https://www.cdc.gov/coronavirus/2019-ncov/daily-life-coping/managing-stress-anxiety.html Accessed on 7/4/2020

Outbreaks can be stressful: https://www.cdc.gov/coronavirus/2019-ncov/daily-life-coping/managing-stress-anxiety.html Accessed on 7/4/2020

Coronavirus Anxiety: Coping with Stress and Fear: https://www.helpguide.org/articles/anxiety/coronavirus-anxiety.htm  Accessed on 7/4/2020

Coping with Stress During Infectious Disease Outbreaks: http://publichealth.lacounty.gov/media/Coronavirus/CommunicableDisease-StrategiesForCoping.pdf Accessed on 7/4/2020

लेखक की तस्वीर badge
Bhawana Awasthi द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 10/09/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x