आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

null

ईटिंग डिसऑर्डर के लिए थेरिपी, बचा सकती है और आपको गंभीर स्थिति से....

    ईटिंग डिसऑर्डर के लिए थेरिपी, बचा सकती है और आपको गंभीर स्थिति से....

    ईटिंग डिसऑर्डर एक मानसिक स्वास्थ्य स्थिति है, जो आपके आहार और आपके भोजन के प्रति इच्छाओं को प्रभावित करती है। तो ऐसे में ईटिंग डिसऑर्डर के लिए थेरिपी (Therapy for eating disorder) , एक प्रभावी उपचार हो सकता है। मनोवैज्ञानिक स्थितियां हैं, जो अव्यवस्थित खाने के पैटर्न का कारण बनती हैं। जो लोग अपने बॉडी शेप को लेकर चिंतित रहते हैं, उनमें यह डिसऑर्डर सबसे ज्यादा देखा जाता है। हम यह भी कह सकते हैं कि ईटिंग डिसऑर्डर (आहार संबंधी विकार) एक मानसिक स्वास्थ्य समस्या है जिसमें बहुत अधिक खाना या बहुत ही कम खाना जैसी आदतें शामिल हैं। ईटिंग डिसऑर्डर के लिए थेरिपी (Therapy for eating disorder) क्या है, यह जानने पहले इसके प्रकार के बारे में भी जानें:

    एनोरेक्सिया नर्वोसा (Anorexia nervosa)
    बुलिमिया नर्वोसा (Bulimia nervosa)
    बिंग ईटिंग डिसऑर्डर (Binge eating disorder)

    जिन लोगों को ईटिंग डिसऑर्डर है वे बहुत अधिक खाना खा सकते हैं, बहुत कम खाना खा सकते हैं, या अपने शरीर के आकार या वजन के साथ व्यस्त हो सकते हैं। उपचार के बिना, इटिंग डिसऑर्डर का संभावित रूप आपके जीवन के लिए खतरा बन सकता है। हालांकि, उपचार से इस डिसऑर्डर से उबरना संभव है।

    और पढ़ें: अनहेल्दी ईटिंग को कहें ना, थकावट को छूमंतर करने के लिए अपनाएं ये प्रोटीन बार

    ईटिंग डिसऑर्डर की जटिलताएं क्या हैं?

    ईटिंग डिसऑर्डर दूसरा सबसे घातक मानसिक विकार है। कैलोरी को अत्यधिक सीमित करना, अत्यधिक व्यायाम करना आपके संपूर्ण स्वास्थ्य पर भारी पड़ सकता है। एक अनुपचारित ईटिंग डिसऑर्डर आपको गंभीर समस्याओं के जोखिम में डालता है, जैसे:

    • अतालता, हृदय की विफलता और हृदय की अन्य समस्याएं।
    • एसिड रिफ्लेक्स
    • गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्याएं
    • लो ब्लड प्रेशर
    • अंग विफलता और मस्तिष्क क्षति
    • ऑस्टियोपोरोसिस और दांतों को नुकसान
    • कब्ज

    और पढ़ें: क्या हैं ईटिंग डिसऑर्डर या भोजन विकार क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और इलाज

    ईटिंग डिसऑर्डर का उपचार

    ईटिंग डिसऑर्डर का उपचार आपके विकार के प्रकार और उसके लक्षणों पर निर्भर करता है। इसमें आमतौर पर मनोवैज्ञानिक चिकित्सा (मनोचिकित्सा), न्यूट्रिशन एज्यूकेशन और कभी-कभी दवाओं का संयोजन शामिल होता है। ईटिंग डिसऑर्डर के उपचार में ईटिंग डिसऑर्डर के कारण होने वाली अन्य स्वास्थ्य समस्याओं का समाधान भी शामिल है, जो बहुत लंबे समय तक अनुपचारित रहने पर गंभीर रूप ले सकती है। यदि मानक उपचार से ईटिंग डिसऑर्डर में सुधार नहीं होता है या स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बनता है, तो आपको अस्पताल में भर्ती होने या किसी अन्य प्रकार के इनपेशेंट कार्यक्रम की आवश्यकता हो सकती है।

    और पढ़ें: खाने में आनाकानी करना हो सकता है बच्चों में ईटिंग डिसऑर्डर का लक्षण

    ईटिंग डिसऑर्डर में थेरिपी ट्रीटमेंट

    साइकोलॉजिकल थेरिपी

    मनोवैज्ञानिक चिकित्सा इस ईटिंग डिसऑर्डर के उपचार सबसे महत्वपूर्ण थेरिपी है। इसमें नियमित रूप से एक मनोवैज्ञानिक या किसी अन्य मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर द्वारा आपके विचारों के प्रॉसेज पर नजर रखी जाती है। यह थेरिपी कुछ महीनों से लेकर सालों तक चल सकती है। यह आपकी मदद कर सकता है:

    • अपने खाने के पैटर्न को सामान्य करें
    • सही ईटिंग हैबिट्स अपनाएं
    • अपने खाने और अपने मूड पर नजर रखें
    • तनावपूर्ण स्थितियों से निपटने के लिए स्वस्थ तरीके तलाशें
    • अपने रिश्तों में सुधार करें
    • तनाव से बचें

    और पढ़ें : लो कैलोरी डाइट प्लान (Low Calorie Diet Plan) क्या होता है?

    इटिंग डिसऑर्डर के उपचार में विभिन्न प्रकार की चिकित्सा का उपयोग किया जा सकता है, जिनमें शामिल हैं:

    कॉग्निटिव बिहेवियरल थेरिपी (सीबीटी) और एन्हांस्ड कॉग्निटिव बिहेवियरल थेरिपी (सीबीटी-ई)

    सीबीटी का उद्देश्य आपके विचारों को समझना है, जो आपमें ईटिंग डिसऑर्डर का कारण बनती है। इनमें ऐसे विचार शामिल हो सकते हैं जो चीजों से जुड़े हों जैसे:

    • भोजन
    • वजन
    • शरीर का आकार
    • दिखावट

    इसमें मरीज के विचारों को जानने के बाद, आपको उसपर मैनेजमेंट करने में मदद करने के लिए रणनीतियां सिखाई जाती हैं। सीबीटी का उपयोग विभिन्न मानसिक स्वास्थ्य स्थितियों के लिए किया जाता है, और खाने के विकारों के लिए सीबीटी प्राप्त करने वाले लोग अवसाद और चिंता जैसे अन्य संबंधित लक्षणों में सुधार का अनुभव करते हैं।

    और पढ़ें : वजन घटाने के लिए फॉलो कर सकते हैं डिटॉक्स डाइट प्लान

    फैमिली बेस्ड ट्रीटमेंट

    आप इस प्रकार की चिकित्सा को मौडस्ले विधि के रूप में भी देख सकते हैं। यह अक्सर उन बच्चों या किशोरों के लिए उपयोग किया जाता है, जिन्हें खाने की बीमारी है। FBT में, आपके परिवार के सदस्य आपकी आदत को कंट्रोल करने में मदद कर सकते हैं। वे आपकी इन बातों का ध्यान रख सकते हैं:

    • आपके ईटिंग हेल्द पैटर्न को बनाए रखने में
    • स्वस्थ वजन बनाए रखने में
    • अन्हेल्दी इटिंग बिहेविरय को राेकने में

    और पढ़ें : बच्चों के लिए पिलाटे एक्सरसाइज हो सकती है फायदेमंद, बढ़ाती है एकाग्रता

    डायलेक्टल बिहेवियर थेरिपी (डीबीटी)

    डीबीटी, खाने को लेकर कठिन भावनाओं को मैनेजमेंट करने पर केंद्रित है। डीबीटी के साथ, आप अपने ईटिंग डिसऑर्डर से जुड़े व्यवहारों को बदलने के लिए कौशल सीखेंगे। इनमें शामिल हैं:

    • इंटरपर्सनल स्किल
    • इमोशनल प्रतिक्रिया
    • लचीलापन
    • तनाव की भावनाओं से निपटना

    और पढ़ें : Bulimia Nervosa: बुलीमिया नेर्वोसा क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

    एक्सेप्टेंस थेरिपी

    एक्सेप्टेंस थेरिपी में अपने विचारों या भावनाओं के विपरीत अपने कार्यों को बदलने पर ध्यान केंद्रित करने के लिए कहता है। यह मानसिक स्वास्थ्य स्थितियों से जुड़े बिहेवियर, चिंता या दर्द जैसी तनाव की भावनाओं की प्रतिक्रिया से उत्पन्न होते हैं। एसीटी से गुजरने वाले लोगों को खुद की जांच करने के लिए कहा जाता है। एसीटी इटिंग डिसऑर्डर के लिए एक बिहेवियर ट्रीटमेंट प्रभावी है, लेकिन यह देखने के लिए और अधिक शोध की आवश्यकता है कि क्या यह एक स्टैंडअलोन थेरेपी के रूप में प्रभावी है।

    और पढ़ें : बच्चों का झूठ बोलना बन जाता है पेरेंट्स का सिरदर्द, डांटें नहीं समझाएं

    न्यूट्रिशन एज्यूकेशन

    आपके उपचार में शामिल न्यूट्रिशन एज्यूकेशन आपको ईटिंग डिसॉर्डर को बेहतर ढंग से समझने में मदद कर सकते हैं और स्वस्थ खाने की आदतों को प्राप्त करने और बनाए रखने के लिए एक योजना विकसित करने में आपकी सहायता कर सकते हैं। न्यूट्रिशन एज्यूकेशन के लक्ष्य हो सकते हैं:

    • स्वस्थ वजन
    • फिटनेस कितनी जरूरी है
    • समझें कि पोषण आपके शरीर को कैसे प्रभावित करता है, जिसमें यह पहचानना भी शामिल है कि आपका खाने का विकार पोषण संबंधी मुद्दों और शारीरिक
    • समस्याओं का कारण कैसे बनता है
    • नियमित खाने के पैटर्न स्थापित करें – आम तौर पर, नियमित नाश्ते के साथ दिन में तीन बार भोजन करें

    और पढ़ें :बच्चों में ईटिंग डिसऑर्डर में सुधार के लिए जानें एक्सपर्ट टिप्स!

    ईटिंग डिसऑर्डर के लिए मेडिकेशन

    दवाएं अकेले ईटिंग डिसऑर्डर का इलाज नहीं कर सकती हैं। मनोवैज्ञानिक चिकित्सा के साथ संयुक्त होने पर दवाओं का असर प्रभावी होता है। एंटीडिप्रेसेंट सबसे आम दवाएं हैं, जिनका उपयोग ईटिंग डिसऑर्डर के इलाज के लिए किया जाता है, लेकिन स्थिति के आधार पर, अन्य दवाएं कभी-कभी निर्धारित की जाती हैं।

    यदि आपको बुलिमिया ईटिंग डिसऑर्डर है, तो एंटीडिप्रेसेंट लेना विशेष रूप से सहायक हो सकता है। एंटीडिप्रेसेंट अवसाद या चिंता के लक्षणों को कम करने में भी मदद कर सकते हैं, जो अक्सर ईटिंग डिसऑर्डर के साथ लक्षण के रूप में देखे जाते हैं। आपको अपने ईटिंग डिसऑर्डर के कारण होने वाली शारीरिक स्वास्थ्य समस्याओं के लिए दवाएं लेने की भी आवश्यकता हो सकती है।

    और पढ़ें : पेरेंट्स का बच्चों के साथ सोना बढाता है उनकी इम्यूनिटी

    यदि आपको गंभीर शारीरिक या मानसिक स्वास्थ्य समस्याएं हैं या यदि आपको एनोरेक्सिया है और आप खाने या वजन बढ़ाने में असमर्थ हैं, तो आपको ऐसी स्थिति में अस्पताल में भर्ती होना आवश्यक हो सकती है। एनोरेक्सिया के साथ होने वाली गंभीर या जानलेवा शारीरिक स्वास्थ्य समस्याएं एक मेडिकल इमरजेंसी हो सकती हैं। ईटिंग डिसऑर्डर के उपचार के बारे में अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से बात करें।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    लेखक की तस्वीर badge
    Niharika Jaiswal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 07/07/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड