आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

हर वक्त खाते रहने की आदत हो सकती हैं बिंज ईटिंग डिसऑर्डर की समस्या, जानें यहां...

हर वक्त खाते रहने की आदत हो सकती हैं बिंज ईटिंग डिसऑर्डर की समस्या, जानें यहां...

बिंज ईटिंग डिसऑर्डर (Binge eating disorder), एक गंभीर खाने का विकार है, जिसमें आप अक्सर असामान्य रूप से बड़ी मात्रा में भोजन करते हैं, यानि कि अधिकतर समय आप खाते ही रहते हैं और अपनी भूंख को कंट्रोल करने में असमर्थ महसूस करते हैं। ऐसा लागातार बना हुआ है, तो यह बिंज ईटिंग डिसऑर्डर की गंभीर रूप हाे सकता है। अगर ऐसा किसी ऑकेजनली, कभी-कदार हो रहा है, तब यह दिक्कत की बात नहीं है। लेकिन कुछ लोगों के लिए, अत्यधिक भोजन करना, जो नियंत्रण से बाहर हो जाता है और एक नियमित घटना बन जाती है, बिंज ईटिंग डिसऑर्डर की रेखा को पार कर जाती है। आप अधिक खाने की अपनी आदत से शर्मिंदा भी महसूस कर सकते हैं। यदि आपको अत्यधिक खाना खाने की समसया है, तो आपको उपचार की आवश्यकता है, जानिए बिंज ईटिंग डिसऑर्डर (Binge eating disorder) के बारे में यहां:

और पढ़ें: एंजायटी और ईटिंग डिसऑर्डर (Anxiety and eating disorders) क्या है दोनों के बीच कनेक्शन?

बिंज ईटिंग डिसऑर्डर क्या है (What is Binge Eating Disorder)?

ज्यादातर लोगों के साथ कई बार ऐसा भी होता है, जब उन्होंने बहुत ज्यादा खा लिया होता है, खासकर किसी विशेष अवसर या छुट्टी के दौरान। बिंज ईटिंग डिसऑर्डर इससे अलग है। इसमें आपके साथ रोज यानि कि लगातार ही ऐसा होता है। आप अपनी डायट को रोक ही नहीं पाते हैं, भले ही आप पहले से ही असहज रूप से आपका पेट भरा हो। इसमें लोग बहुत जल्दी-जल्दी यानि कम समय में ही दोबारा कुछ खाने लगते हैं, भले ही भूखे न हों। आपको इसमें शर्म आती है। बिंज ईटिंग डिसऑर्डर के शिकार लोग बहुत अधिक व्यायाम करने की कोशिश नहीं करते हैं। खाने के विकार वाले लोगों का इलाज करने वाले विशेषज्ञ (जैसे मनोचिकित्सक या मनोवैज्ञानिक) से बात करना महत्वपूर्ण है। कुछ लोगों में, दवा लेने से भी मदद मिल सकती है।

और पढ़ें: सेपरेशन एंजायटी डिसऑर्डर : जिसमें हर वक्त सताता है पेरेंट्स से बिछड़ने का डर

इस बारे में डफरिन हॉस्पिटल के बाल विशेषज्ञ डॉक्टर सलाम का कहना है कि बच्चों में ईटिंग डिसऑर्डर क्या है, यह जानने के लिए आपको यह भी जानना होगा कि बच्चे के शरीर में सभी पोषक तत्व की क्या भूमिका है। अगर बच्चे को सभी आवश्यक पोषक तत्व और सही मात्रा में नहीं मिल रहा है, तो इससे उसके हेल्थ पर प्रभाव पड़ने लगेगा। बच्चा अपने बढ़ती उम्र के साथ कई शारीरिक परेशानियों की चपेट में आ सकता है। बच्चे का ठीक से डायट न लेने का प्रभाव उनकी हाइट से समझौता करने जैसा हो सकता है, क्योंकि बच्चों के अच्छी हाइट, उनके शरीर में मिलने वाले पोषक तत्वों पर निर्भर करता है। इसलिए पेरेंट्स को शुरूआत से ही बच्चे की डायट और उनकी इस आदत पर ध्यान देना आवश्यक है। बच्चों में ईटिंग डिसऑर्डर होने पर वो खाना खाने में आना-कानी करने लगता है। खाने से भागता है।

बिंज ईटिंग डिसऑर्डर के लक्षण (Symptoms of Binge Eating Disorder)

बिंज ईटिंग डिसऑर्डर वाले अधिकांश लोग अधिक वजन वाले या अत्धिक मोटे होते हैं, लेकिन आपका वजन सामान्य हो सकता है। बिंज ईटिंग डिसऑर्डर के संकेतों और लक्षणों में शामिल हैं:

  • एक विशिष्ट समय में असामान्य रूप से बड़ी मात्रा में भोजन करना, जैसे कि दो घंटे की अवधि में
  • यह महसूस करना कि आपका खाने की इच्छा को कंट्रोल करना आपके व्यवहार नियंत्रण से बाहर है
  • जब आपका पेट भरा हुआ हो या भूखे न हों तब भी भोजन करना
  • जब तक आप असहज रूप से पूर्ण नहीं हो जाते, तब तक भोजन करना
  • अक्सर अकेले या गुप्त रूप से भोजन करना
  • अपने खाने के बारे में उदास, निराश, शर्मिंदा या परेशान महसूस करना
  • बार-बार परहेज़ करना, संभवतः बिना वज़न घटाए

बिंज ईटिंग डिसऑर्डर के शिकार रोगी में अत्यधिक खाने के बाद उल्टी, दस्त की समस्या भी देखने को मिल सकती है। आप आहार लेने या सामान्य भोजन खाने की कोशिश कर सकते हैं। लेकिन अपने आहार को सीमित करने से अधिक बिंज ईटिंग का कारण बन सकता है। खाने के विकार की गंभीरता इस बात से निर्धारित होती है कि एक सप्ताह के दौरान बिंज ईटिंग कितनी बार करते हैं।

और पढ़ें: भीड़ से डर लगना है सोशल एंजायटी डिसऑर्डर का लक्षण

डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए (When to see a doctor)

यदि आपमें बिंज ईटिंग डिसऑर्डर के कोई लक्षण हैं, तो जल्द से जल्द चिकित्सा सहायता लें। खाने के विकार की समस्याएं उनके पाठ्यक्रम में अल्पकालिक से भिन्न हो सकती हैं या यदि अनुपचारित छोड़ दिया जाए, तो वे वर्षों तक बनी रह सकती हैं।अपने बिंज ईटिंग डिसऑर्डर के लक्षणों और भावनाओं के बारे में अपने चिकित्सा देखभाल प्रदाता या मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर से बात करें। यदि आप उपचार लेने के लिए अनिच्छुक हैं, तो किसी ऐसे व्यक्ति से बात करें जिस पर आप भरोसा करते हैं और वो समझ सकें कि आप किस दौर से गुजर रहे हैं।

और पढ़ें: रैपिड मूड स्विंग्स: हल्के में ना लें इस कंडिशन को, किसी बड़ी बीमारी की हो सकती है दस्तक

बिंज ईटिंग डिसऑर्डर के जोखिम (Risks of Binge Eating Disorder)

बिंज ईटिंग डिसऑर्डर, पुरुषों की तुलना में महिलाओं में अधिक आम है। हालांकि यह विकार किसी भी उम्र के लोग को अपना शिकार बना सकता है। यह अक्सर किशोरावस्था के अंत या 20 के उम्र की शुरुआत में शुरू होता है। बिंज ईटिंग डिसऑर्डरके विकास के जोखिम को बढ़ाने वाले कारकों में शामिल हैं:

  • फैमिली हिस्ट्री: यदि आपके माता-पिता या भाई-बहनों को ईटिंग डिसऑर्डर है (या था), तो आपमें भी इसके होने संभावना अधिक है। हम यह कह सकते हैं कि विरासत में मिले जीन खाने के विकार के विकास के जोखिम को बढ़ाते हैं।
  • मनोवैज्ञानिक कारण: द्वि घातुमान खाने के विकार वाले बहुत से लोग अपने और अपने कौशल और उपलब्धियों के बारे में नकारात्मक महसूस करते हैं। बिंज ईटिंग डिसऑर्डर के लिए ट्रिगर में तनाव, बॉडी शेमिंग की भावना से तनाव और पसंदीदा खाद्य पदार्थों की उपलब्धता शामिल हो सकती है।
  • आप बिंज ईटिंग डिसऑर्डर से संबंधित मनोवैज्ञानिक और शारीरिक समस्याओं का विकास कर सकते हैं।

और पढ़ें: Nervous Stomach: कहीं नर्वस स्टमक का कारण तनाव तो नहीं? क्यों हो सकता स्टमक नर्वस?

द्वि घातुमान खाने के विकार के कारण होने वाली जटिलताओं में शामिल हैं:

  • जीवन की खराब गुणवत्ता
  • काम पर, आपके निजी जीवन में या सामाजिक स्थितियों में काम करने में समस्याएं
  • सामाजिक एकांत
  • मोटापा
  • मोटापे से संबंधित चिकित्सा स्थितियां, जैसे जोड़ों की समस्याएं, हृदय रोग, टाइप 2 मधुमेह, गैस्ट्रोएसोफेगल रिफ्लक्स रोग, नींद की समस्या या श्वास संबंधी विकार आदि।

और पढ़ें: आज ही नोट कर लें ये डाउन सिंड्रोम ईटिंग टिप्स, क्या पता ये आपका काम आसान बना दे!

मनोरोग विकार जो अक्सर बिंज ईटिंग डिसऑर्डर से जुड़े होते हैं, उनमें शामिल हैं:

और पढ़ें: क्या हैं ईटिंग डिसऑर्डर या भोजन विकार क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और इलाज

हालांकि बिंज ईटिंग डिसऑर्डरको रोकने का कोई निश्चित तरीका नहीं है, लेकिन इसका इलाज बहुज जरूरी है। यदि आपमें बिंज ईटिंग डिसऑर्डर के लक्षण हैं, तो डॉक्टर की मदद लें। आपके डॉक्टर आपको इस समस्या से निकलने में सहायता कर सकते हैं। यदि आपको लगता है कि किसी मित्र या प्रियजन को भी अत्यधिक खाने की समस्या है, तो स्थिति बिगड़ने से पहले उसे स्वस्थ व्यवहार और पेशेवर उपचार की ओर ले जाएं। अत्यधिक खाना आपके हेल्थ के लिए अच्छा नहीं है। बिंज ईटिंग डिसऑर्डर के बारे में अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से बात करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Niharika Jaiswal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 07/07/2022 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड