थोड़ी हिम्मत और सूझबूझ के साथ यूं करें बच्चों की चोट का इलाज

Medically reviewed by | By

Update Date मई 26, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

बच्चों में बहुत ज्यादा उत्सुकता होती है और इसी कारण कई बार उनके साथ दुर्घटनाएं हो जाती हैं। बच्चों को खरोंच, घाव और चोट लगना बहुत सामान्य बात है। बच्चों की चोट का इलाज पेरेंट्स के लिए सिरदर्द बन सकता है। वहीं, कभी-कभी चोट की गंभीरता और उनके स्किन टाइप के लिहाज से बच्चों की त्वचा को थोड़ी अधिक देखभाल की जरुरत हो सकती है।

बच्चों की चोट का इलाज अलग-अलग तरह से किया जा सकता है और इसे कैसे करना है, यह जानना भी पेरेंट्स के लिए जरूरी है। इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि कैसे बच्चों की चोट का इलाज कम दर्द और असुविधा के बिना किया जा सकता है।

ये भी पढ़ेंः बच्चों के मुंह के अंदर हो रहे दाने हो सकते हैं ‘हैंड-फुट-माउथ डिसीज’ के लक्षण

बच्चों के घाव का इलाज

बच्चों के घाव

आम बोल चाल की भाषा में घाव को शरीर पर किसी चोट के रूप में जाना जाता है। आमतौर पर स्किन की एक झिल्ली के फटने या टूटने को चोट लगना कहा जाता है। बच्चों की चोट का इलाज करने के लिए पहले डॉक्टर माता-पिता ही होते हैं।

जितना आप अपने बच्चे को चोट लगने से बचाना चाहते है, उतना ही आपके बच्चे को अलग-अलग तरह की चोटें लगती रहती हैं। लेकिन, ऐसे में घबराएं नहीं और चोट के बेसिक फर्स्ट एड के बारे में जान लें।

इलाज
अगर आप ब्लीडिंग को रोकना और ड्रेसिंग करना जानते हैं, तो आप घर पर अपने बच्चों की चोट का इलाज कर सकते हैं।

इसके लिए घाव छूने से पहले अपने हाथ धो लें और घाव पर एक साफ पट्टी या कपड़े से दबाव डालें और इसे तब कर जारी रखें, जब तक ब्लीडिंग बंद न हो जाए। ब्लीडिंग वाले एरिया को ऊपर की तरफ रखें, जिससे ब्लीडिंग की स्पीड कम हो जाए। खून रुकने के बाद:

  • गंदगी को हटाने तक घाव को साफ पानी से धोएं।
  • घाव को गर्म पानी (Luke warm) से धोएं ।
  • बच्चे की चोट को माइश्चर रखने के लिए एंटीसेप्टिक (Antiseptic) क्रीम लगाएं।
  • घाव पर पट्टी लगाए अगर जलने का घाव है, तो पट्टी ना लगाएं

ये भी पढ़ेंः बच्चों के लिए इनडोर एक्टिविटीज हैं जरूरी, रखती हैं उन्हें फिजीकली एक्टिव

 बच्चे को इलाज के लिए डॉक्टर के पास कब ले जाएं

बच्चों को कट लगने का इलाज

आपके बच्चे को कट कहीं से भी लग सकता है। कभी-कभी जब कोई चीज त्वचा की पहली परत को नुकसान पहुंचाती है, तो इसे कट लगना कहा जाता है। गहरे कटों के लिए टांके लगाने पड़ते हैं। बच्चे को टांके लगाने की जरूरत कब होती है पढ़ेंः

  • अगर कट गहरा है और एक लेयर से दूसरे लेयर तक पहुंच गया है
  • अगर चोट की वजह से मांस दिखने लगा है
  • अगर आधा इंच से अधिक गहरा हो कट
  • ब्लीडिंग न रुकने पर

इलाज

ब्लीडिंग को रोकने के लिए गॉज का उपयोग करें और पांच से 10 मिनट के लिए चोट को दबाएं। फिर साबुन से चोट वाली जगह को ठीक से साफ करें।

अगर आपका बच्चा चोट को ना साफ करने दें, तो उसकी चोट वाली जगह को बाथटब में डालें। अपने बच्चे के कट को साफ करने के बाद मॉइस्चर रिकवरी क्रीम लगाएं। यह त्वचा की रिकवरी को बढ़ाता है और आपके बच्चे की नाजुक त्वचा को पोषण देने में मदद करता है। यह क्रीम त्वचा-चिकित्सा गुणों को बढ़ाती है इसलिए इससे इंफेक्शन को कम किया जा सकता है।

ये भी पढ़ेंः गाल या बाल कहीं भी दिख सकते है बच्चों में टिनिया के लक्षण

बेबी स्क्रैप का इलाज

स्क्रैप स्किन का घाव हैं, जो त्वचा के ज्यादा अंदर तक नहीं पहुंच पाता। आप अक्सर अपने बच्चे की कोहनी, घुटनों और हथेलियों पर खरोंच पाते हैं। चलने की कोशिश करने पर बच्चे गिरते रहते हैं, जिससे उन्हें इन हिस्सों में चोटें दिखती हैं। बच्चों की चोट का इलाज आप पहले खुद करने की कोशिश करें। लेकिन अगर चोट गहरी है, तो डॉक्टर को बुलाएं।

इलाज

  • पहला कदम अपने बच्चे को शांत करने की कोशिश करना है
  • बच्चे की चोट को 10 मिनट तक दबाएं और खून रुकने तक दबा कर रखें
  • साबुन और पानी से साफ करके धोएं। प्रभावी रूप से अपने बच्चे की त्वचा को साफ और मॉश्चराइज करने के लिए क्रीम लगाएं।
  • किसी भी गंदगी को धीरे से साफ करने के लिए वॉशक्लॉथ का उपयोग करें।
  • इंफेक्शन से बचाने के लिए चोट को बांध कर रखें

ये भी पढ़ेंः साबुन और लोशन से हो सकती है बच्चों में ‘हाइव्स’ की समस्या

बच्चे की स्किन पर निशान

जब आपके बच्चे का घाव ठीक होने लगता है, तो त्वचा भी स्वाभाविक रूप से अपने आप ठीक होने लगती हैं। त्वचा के ऊपर का घाव एक पपड़ी में बदल जाता है। जख्म पूरी तरह ठीक हो जाने पर पपड़ी उतर जाती है।

आपके बच्चे की त्वचा बिना किसी निशान के पहले जैसी हो सकती है या कई बार यह घाव एक निशान भी छोड़ सकता है।

इलाज

चोट के निशान को कम करने के लिए इन प्राकृतिक घरेलू उपचारों को आजमाएं:

  • एलो वेरा: इसमें एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-फंगल गुण होते हैं। एलो वेरा को अपने बच्चे के निशान पर लगाएं और इसे 30 मिनट के लिए छोड़ दें। दिन में दो बार इसे जरूर लगाएं।
  • नारियल तेलः जब बच्चे की स्किन ठीक होने लगती है, तो नारियल तेल एक माश्चराइजर की तरह काम करता है। जब आपके बच्चे की त्वचा ठीक होने लगती है, तो इसको लगाएं। तेल को गर्म करें और धीरे से अपने बच्चे के निशान पर लगभग तीन मिनट तक मालिश करें। दिन में तीन बार इसे दोहराएं, ये निशान को साफ करता है।

ये भी पढ़ेंः बच्चों के नाखून काटना नहीं है आसान, डिस्ट्रैक्ट करने से बनेगा काम

खरोंच लगने का इलाज

जब आपका बच्चा कुछ काम कर रहा होता है या चलना सीखते समय गिर जाता है, तो कई बार उसे खरोंच लग जाती है। यह आपके बच्चे के सेल्स, स्मॉल ब्लड वैसेल को तोड़ने और ब्लड क्लॉट का कारण बन सकता है।

प्रभावित क्षेत्र लाल, बैंगनी या नीला दिखाई देता और फिर धीरे-धीरे रंग बदलता है। स्किन पर चोट लगने के तुरंत बाद कई बार खरोंच दिखने लगते हैं और कई बार ये अगले दिन दिखते हैं।

इलाज

एक पेरेंट के रूप में अपने बच्चे को दर्द में देखना आपके लिए बुरा अनुभव हो सकता है। लेकिन बच्चों की चोट का इलाज करने के तरीकों को जानना जैसे कि शिशु के घाव, बच्चे के कटने, बच्चे के खरोंच लगने पर बेसिक फर्स्ट एड के बारे में पता होने से आपको काफी हद तक मदद मिल सकती है। साथ ही स्थिति थोड़ी भी खराब लगे या कोई भी शंका हो तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

बच्चों में नर्समेड एल्बो का इलाज

चार साल से कम बच्चों में कई बार नर्समेड एल्बो की परेशानी देखने को मिलती है। यह कोहनी में लगने वाली एक तरह की चोट है। यह तब होती है, जब कलाई की हड्डी (रेडियस) उस स्थान से खिसक जाती है, जहां से वह सामान्य रूप से कोहनी के जोड़ से जुड़ती है। मेडिकल भाषा में इस चोट को रेडियल हेड डिस्लोकेशन भी कहा जाता है।

नर्समेड एल्बो का उपचार बच्चे की उम्र, स्वास्थ्य या लक्षणों पर निर्भर करता है। यह इसकी गंभीर स्थिति पर भी निर्भर करता है। नर्समेड एल्बो के अधिकतर मामलों में डॉक्टर धीरे-धीरे हड्डियों को वापस सामान्य स्थिति में लाएंगे। इस प्रक्रिया को मेडिकल में रिडक्शन कहा जाता है।

और पढ़ेंः

ज्यादा कपड़े पहनाने से भी हो सकती है बच्चों में घमौरियों की समस्या

बच्चों में एक्जिमा के शुरुआती लक्षण है लाल धब्बे और ड्राइनेस

बच्चों में स्किन की बीमारियां, जो बन जाती हैं पेरेंट्स का सिरदर्द

बच्चों में डर्मेटाइटिस के क्या होते है कारण और जानें इसके लक्षण

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Written by Manjari Khare
Uncategorized जुलाई 13, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

जानिए क्या है, मस्से हटाने के घरेलू उपाय

मस्से हटाने के घरेलू उपाय , मस्से को लेकर न करें टेंशन ट्राई करे ये होम रेमेडीज। मस्सा क्या है, rid of warts from these home remedies in Hindi.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by shalu
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन जुलाई 13, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

जानें टाइफाइड के घरेलू उपाय और पायें इस बीमारी के कष्ट से राहत

टाइफाइड के घरेलू उपाय आजमाकर आप इस बीमारी से पा सकते हैं निजात, जानने के लिए पढ़ें। टाइफाइड बुखार होने पर क्या करें और क्या न करें यह भी जानें।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन जुलाई 13, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

Okacet cold : ओकासेट कोल्ड क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

ओकासेट कोल्ड की जानकारी in hindi, साइड इफेक्ट क्या है, सिट्राजिन, पैरासिटामोल, एसिटामिनोफेन और फेनिलफ्रिनदवा किस काम में आती है, रिएक्शन, उपयोग, Okacet cold

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shayali Rekha
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जुलाई 13, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

सुखासन करने का तरीका

सुखासन: इस आसान पोज को करने के तरीके और इसके फायदों के बारे में जानिए

Written by Anu Sharma
Published on जुलाई 13, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
ब्लड शुगर

ब्लड शुगर कैसे डायबिटीज को प्रभावित करती है? जानिए क्या हैं इसे संतुलित रखने के तरीके

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Anu Sharma
Published on जुलाई 13, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
लिंग मोटा, लंबा और बड़ा करने का तरीका

लिंग मोटा, लंबा और बड़ा करने का तरीका जानें

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh
Published on जुलाई 13, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
सफेद दाग डाइट प्लान/vitiligo diet plan

विटिलिगो: सफेद दाग के रोगियों के लिए डाइट प्लान

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by shalu
Published on जुलाई 13, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें