home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

हाथ धोना कितना है जरूरी, बच्चों को सिखाएं हाथ धोने के टिप्स

हाथ धोना कितना है जरूरी, बच्चों को सिखाएं हाथ धोने के टिप्स

अक्सर ही पेरेंट्स बच्चों को हाथ धोने (हैंड वॉश) के लिए कहते हैं। बच्‍चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता व्‍यस्‍कों के मुकाबले कमजोर होती है, इसलिए उनको खास देखभाल की जरुरत होती है। हाथ धोने के फायदे बहुत से हैं लेकिन बच्चे इस बात को नहीं समझते हैं। कभी-कभार यह उनकी आदत में शामिल हो जाता है लेकिन कई बार वह इसके आदी नहीं होते हैं। हाथ धोने के फायदे केवल बच्चों के लिए नहीं है बल्कि ये करना हर उम्र के लोगों के लिए फायदेमंद है। हाथ धोने के फायदे के बारे में लोग केवल बच्चों को बताते हैं लेकिन, जान लिजिए हाथ धोना बच्चों के लिए ही नहीं बल्कि हर उम्र के लोगों के लिए बेहद जरूरी है। आपको बता दें कि हाथ धोना बीमारियों और खासकर संक्रमण से फैलने वाली बीमारियों से बचने का एक अच्छा तरीका है।

यूं सिखाएं बच्चों को हाथ धोने के फायदे

  • पेरेंट्स बच्चों को बार-बार हाथ धोने के लिए प्रोत्साहित करके उन्हें स्वस्थ रहने में मदद कर सकते हैं।
  • पेरेंट्स बच्चों के साथ अपने हाथ धोकर उनको सीखा सकते हैं कि हाथ कैसे धोने चाहिए।
  • वहीं बच्चों को जल्दबाजी करने से रोकने के लिए उन्हें कहें कि वे हाथ धोते वक्त अपनी पसंदीदा राइम (कविता) गाएं।
  • अगर आपका बच्चा खुद सिंक तक नहीं पहुंचता है, तो एक स्टूल को सिंक के पास रखें ताकि वह आसानी से खुद ही सिंक तक पहुंच सके और हाथ धो सके।
  • इसके अलावा पेरेंट्स बच्चों के एलकोहॉल बेस्ड हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल करते वक्त निगरानी जरूर रखें। गलती से सैनिटाइजर को निगलना काफी खतरनाक साबित हो सकता है।

और पढ़ें : डेंगू और स्वाइन फ्लू के लक्षणों को ऐसे समझें

हाथ धोने के फायदे में कब और कैसे हाथ धोना है सही जानिएः

कब धोने चाहिए हाथ

हम लोग दिन भर की दिनचर्या के दौरान कई लोगों से हाथ मिलाते हैं और यहां-वहां कई चीजों को छूते हैं। ऐसे में हम अपने हाथों पर कीटाणु को जमा करते हैं। ये कीटाणु आपकी आंखों, नाक या मुंह के संपर्क में आने पर आपको बीमार कर सकते हैं। हालांकि, अपने हाथों को कीटाणु मुक्त रखना भी नामुमकिन है। लेकिन, आप अपने हाथों को बार-बार धोकर बैक्टीरिया, वायरस और अन्य रोगाणुओं को सीमित कर सकते हैं और बीमार होने के जोखिम को कम कर सकते हैं। हाथ धोने के फायदे के बारे में जानने के लिए आपको पता होना चाहिए कि कब हाथ धोना है। साथ ही हाथ धोने का फायदा इस बात पर भी निर्भर करता है कि आप किस चीज से हाथ धोते हैं।

हाथ धोने के फायदे में किन कामों को करने से पहले हाथ धोएं?

  • खाना बनाने या खाने से पहले
  • किसी बीमार व्यक्ति की देखभाल करने से पहले
  • कॉन्टेक्ट लेंस लगाने या हटाने से पहले

किन कामों के बाद हाथ धोना जरूरी?

– टॉयलेट का इस्तेमाल करने के बाद
बच्चों के डायपर बदलने के बाद
– किसी जानवर को छुने या उसे खाना खिलाने के बाद
-अपनी नाक साफ करने, खांसने या छींकने के बाद
– किसी बीमार व्यक्ति की देखभाल के बाद
– कचरा फेंकने या इकट्ठा करने के बाद
– इसके अलावा जब आपके हाथ गंदे दिखे तब भी धोलें।

और पढ़ें : इस तरह नवजात शिशु को बचा सकते हैं इंफेक्शन से, फॉलो करें ये टिप्स

हाथ धोने के फायदे और इसका सही तरीका

आमतौर पर हाथों को साबुन या हैंड वॉश और पानी से धोना सबसे अच्छा होता है। सबसे पहले अपने हाथों को साफ और बहते पानी से गीला कर लें। इसके बाद हाथों पर साबुन या हैंड वॉश से झाग बना लें। दोनों हाथों को लगभग 20 सेकंड तक ठीक से रगड़ें। अपने हाथों की कलाई, अपनी उंगलियों के बीच और अपने नाखूनों के नीचे भी झाग को रगड़ना न भूलें। इसके बाद साबुन को पानी से अच्छे से धो लें। कई बार लोग सूखे हाथ पर साबुन लगा लेते हैं जो गलत होता है। हाथ धोने के लिए पानी और साबुन का सही माप होना चाहिए।

एल्कोहॉल बेस्ड हैंड सैनिटाइजर भी है ऑप्शन

एलकोहॉल बेस्ड हैंड सैनिटाइजर आज काफी प्रचलित हो रहे हैं। इनसे हाथ साफ करने के लिए आपको पानी की जरुरत नहीं होती। अगर आप हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल करते हैं, तो ध्यान रखें कि सैनिटाइजर में कम से कम 60% एलकोहॉल हो। हाथ धोने के फायदे आप कई बार हाथ धोए बगैर भी ले सकते हैं। जैसे अगर आपके पास साबुन और पानी का विकल्प नहीं है तो आप सैनिटाइजर का इस्तेमाल कर सकते हैं। सैनिटाइजर बिना पानी आपके हाथ के कीटाणु को साफ कर सकता है।

इस तरह करें सैनिटाइजर का इस्तेमाल

सबसे पहले सैनिटाइजर जेल को एक हाथ की हथेली पर निकाल लें। इसके बाद अपने हाथों को आपस में रगड़ें। अपने हाथों और उंगलियों की सभी सतहों पर इसे तब तक रगड़ें जब तक कि आपके हाथ सूख न जाएं।

हाथ धोने के फायदे में से एक है स्वस्थ रहना

बीमारियों को रोकने के लिहाज से हाथ धोना अहम भूमिका निभाता है। नियमित रूप से हाथ धोने की आदत को अपनाना आपको स्वस्थ जीवन जीने में मदद करता है।

और पढ़ें : बच्चों को सर्दी- जुकाम से बचाने के लिए अपनाएं ये 5 डेली हेल्थ केयर टिप्स

हाथों को साफ न रखने से फैलने वाली बीमारियां

डायरिया या दस्त
गैस्ट्रोएंट्राइटिस
हैजा
टाइफॉइड
हेपेटाइटिस ए और ई
पीलिया
एच 1 एन 1 (H1N1)

रोगाणु कैसे फैलते हैं?

रोगाणु कई तरह से फैल सकते हैं, जिनमें शामिल हैं:

  • गंदे हाथों को छूना
  • गंदे डायपर बदलना
  • दूषित पानी और भोजन के माध्यम से
  • खांसी या छींक के दौरान निकलने वाली हवा में बूंदों के माध्यम से
  • दूषित सतहों पर
  • बीमार व्यक्ति के शरीर के तरल पदार्थ के संपर्क में आने से
  • जब बच्चे कीटाणुओं के संपर्क में आते हैं, तो वे अपनी आँखों, नाक या मुंह को छूने से संक्रमित हो सकते हैं। और एक बार जब वे संक्रमित हो जाते हैं, तो आमतौर पर यह एक ही बीमारी के साथ पूरे परिवार के आने से पहले का समय होता है।

तो हाथ धोने की पावर को कम मत समझे, हाथ धोने के फायदे बहुत है। जितना समय आप अपने सिंक में बिताते है उतना ही समय आप खुद को डॉक्टर के क्लिनिक जाने से बचाते हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र
लेखक की तस्वीर
Dr. Shruthi Shridhar के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Lucky Singh द्वारा लिखित
अपडेटेड 11/10/2019
x