मॉम के पास जरूर हो ये चाइल्ड इक्विप्मेंट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जनवरी 28, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

बच्चे देखते-देखते ही कब बड़ें हो जाते हैं पता नहीं चलता है। अगर आपका बच्चा एक साल से ऊपर होने वाला है तो आपके लिए ये लेख बहुत काम का साबित होने वाला है। बच्चे ने अब तक जो भी चाइल्ड इक्विप्मेंट्स (Child Equipment) इस्तेमाल की हैं शायद वह अब उसके लिए पर्याप्त ना पड़े। इसलिए बच्चे के पास कुछ चाइल्ड इक्विप्मेंट्स जरूर होनी चाहिए। इसके लिए एक बार फिर से शॉपिंग क्यों ना किया जाए। हैलो स्वास्थ्य आपको बताएगा कि बच्चे के पास क्या-क्या चीजे जरूर होनी चाहिए।

बच्चे के लिए जरूरी चाइल्ड इक्विप्मेंट्स (Child Equipment)

यह भी पढ़ें : न्यू मॉम के लिए 7 स्मार्ट बेबी एप्लायंसेज

बच्चे को खाना खिलाने के लिए जरूरी चाइल्ड इक्विप्मेंट्स

एक साल के ऊपर के बच्चे खाना खाने लगते हैं। अगर वह एक साल का है तो आप उसे खिलाएंगी और अगर वह दो साल से ऊपर का हो गया है तो वह खुद से खाना शुरू कर देता है। ऐसी स्थिति में बच्चे के पास कुछ जरूरी चाइल्ड इक्विप्मेंट्स होनी चाहिए।

  • ऊंची कुर्सी (High chair)
  • बेबी बिब्स (Plastic bibs)
  • बच्चे के लिए रंग-बिरंगे और आकर्षक कटोरी और चम्मच
  • बच्चे की कुर्सी पर बिछाने के लिए गद्दी (Mess mat)

स्तनपान के लिए जरूरी चाइल्ड इक्विप्मेंट्स

एक साल का बच्चा स्तनपान करता है। भारतीय मांएं बच्चों को लगभग डेढ़ से दो साल तक स्तनपान कराती रहती हैं। इसलिए स्तनपान कराने वाली मां के पास ये चाइल्ड इक्विप्मेंट्स जरूर होनी चाहिए।

  • स्तनपान कराने वाला तकिया (Nursing Pillow), जो स्तनपान के दौरान बच्चे के सिर के नीचे लगाया जाता है।
  • निप्पल क्रीम (Nipple cream), बच्चे के दांत आने के बाद स्तनपान के दौरान निप्पल कट जाते हैं।

यह भी पढ़ें :प्रेग्नेंसी की तीसरी तिमाही में क्या हॉर्मोनल बदलाव होते हैं?

डायपर की साइज हो गई है बड़ी

एक साल के ऊपर के बच्चों के वजन बढ़ने से उनके डायपर की साइज भी बढ़ जाती है। अगर आप अभी तक उसे Small ‘S’ साइज का डायपर पहना रही हैं तो उसे बदल दें। अब आपके बच्चे को Medium ‘M’ साइज का डायपर लगेगा। इसी तरह से जब बच्चा ढाई या तीन साल का होगा तो Large ‘L’ साइज का डायपर लें। डायपर के अलावा ये चाइल्ड इक्विप्मेंट्स भी रखें अपने पास…

  • वाइप्स (Wipes) 
  • डायपर रैश क्रीम (Diaper Rash Ointment)
  • बेबी क्रीम, अगर आपके बच्चे की त्वचा ड्राई है तो आप ये क्रीम उसे लगा सकती हैं।
  • नॉन-टैल्क पाउडर, ये पाउडर बच्चे के डायपर एरिया को सूखा रखने का काम करता है।

नहाने के लिए जरूरी चाइल्ड इक्विप्मेंट्स

बच्चे के शरीर की सफाई रखना बहुत जरूरी है। इसके लिए बच्चे को नहलाना जरूरी है। बच्चे के नहाने के अनुभव को आप मजेदार बना सकती है। बच्चे के पास नहाने के लिए कुछ चाइल्ड इक्विप्मेंट्स जरूर होने चाहिए। 

  • बच्चे के लिए तौलिएं
  • बाथ टब
  • बेबी शैंपू और साबुन
  • बाथ टॉयेज

फॉर्मूला  फीडिंग में भी जरूरी है बदलाव

एक साल से ऊपर का बच्चा दूध के साथ ठोस आहार लेता है। जिसके साथ अगर आप फॉर्मूला फूड दे रहे हैं तो उसमें बदलाव कर लें। साथ ही ये चाइल्ड इक्विप्मेंट्स जरूर होनी चाहिए…

बच्चे के साथ बाहर जाने के लिए जरूर रखें ये चाइल्ड इक्विप्मेंट्स

बच्चे को कहीं बाहर ले जाने के लिए पैरेंट्स को कई बार सोचना पड़ता है। इसलिए पैरेंट्स को अपने काम आसान करने के लिए कुछ चाइल्ड इक्विप्मेंट्स जरूर खरीदनी चाहिए। अक्सर बच्चे को कार से ले जाते समय सबसे बड़ी टेंशन ये रहती है कि बच्चे को कैसे ले कर जाएं। तो इसके लिए आप अपनी कार में बेबी कार सीट रख लें, जिसमें बच्चे को बैठा कर आराम से ले जा सकते हैं। इसके अलावा बाहर जाते समय बच्चे के दो जोड़ी कपड़े और डायपर आदि ले जाना न भूलें।

यह भी पढ़ें : बच्चे को स्तनपान कराना कब और कैसे छुड़ाएं? जानिए 7 आसान उपाय

बच्चे के स्वास्थ्य के लिए हमेशा रहें तैयार

बच्चे की तबीयत कभी बता कर नहीं बिगड़ेगी। इसलिए अपने पास कुछ चाइल्ड इक्विप्मेंट्स को जरूर ही रखनी चाहिए। 

बच्चे के लिए पैरेंट्स को हमेशा तैयार रहना चाहिए। सभी तैयारियों के साथ बच्चे की परवरिश पैरेंट्स के लिए ही आसान हो जाती है। इसलिए बच्चे की उम्र बढ़ने के साथ आप भी तैयारियों को दुरुस्त रखें।

बच्चा बड़ा होता है, तो उसके इन सारे चाइल्ड इक्विप्मेंट्स के साथ पेरेंट्स को उसके कपड़ों का भी ध्यान रखना चाहिए। आइए जानते हैं कि कपड़े खरीदते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

मौसम को ध्यान में रखते हुए कपड़ों का चुनाव करें

जब भी शिशु के लिए कपड़े खरीदें तो मौसम का जरूर ध्यान रखें। शिशु कब पैदा होने वाला है? अगर यह जानकारी आपको हो जाए, तो मौसम के अनुकूल कपड़े ही खरीदना सबसे बेहतर होता है। मान लें कि नियत तारीख अगस्त के आखिर में है, तो नवजात शिशु के लिए स्वेटर का उपयोग नहीं किया जाएगा। कुछ ऐसा खरीदें जो बच्चे को जनवरी में भी फिट हो जाए। हो सकता है कि आप ज्यादा मौसमी बदलाव वाली जगहों पर नहीं रहते हों, लेकिन अगर मौसम अचानक गर्म और ठंडी हो जाती हैं, तो विचार करें कि वर्ष के सबसे अधिक या कम तापमान के दौरान बच्चा कितना तैयार होगा।

बच्चे के वजन को ध्यान में रखें, उम्र नहीं

जब नवजात के कपड़े की बात आती है तो उम्र का ज्यादा मतलब नहीं होता है। अलग-अलग ब्रांड के कपड़े अलग-अलग आकार के होते हैं। वजन एक बेहतर उपाय है, और कई बच्चे कपड़े अपने लेबल पर उम्र के साथ इसे सूचीबद्ध करते हैं। इस लिए शिशु के जन्म के बाद उसके वजन के आधार पर कपड़े खरीदना ज्यादा उपयुक्त रहता है।

यह भी पढ़ें: नवजात शिशु के लिए 6 जरूरी हेल्थ चेकअप

पैसे और गुणवत्ता

यदि आपको अपने बच्चे के लिए महंगे कपड़ों को लेने का शौक है, तो विचार करें कि क्या यह पैसे की तुलना में कपडे की गुणवत्ता भी अच्छी है। नवजात के कपड़े उनके बहुत जल्दी बढ़ने से कपड़े अक्सर खराब हो जाते हैं। आप उन लोगों से जानकारी ले सकते हैं जिन्हें शिशु के कपड़े को बाहर फेंकना पड़ा है।

कपड़े धुलने में आसान हो

नवजात के कपड़े ऐसे खरीदना चाहिए जो आसानी से धुल जाए, क्योंकि बच्चा अपने कपड़ों को बार-बार गंदा कर सकता है। आप एक दिन में तीन-चार जोड़े कपड़ों का इस्तेमाल कर सकते हैं। जल्दी और आसानी से धुलने वाले कपड़े और जल्दी से सूखने वाले कपड़े होने पर शिशु का कपड़ा गंदा करने पर चेंज कर सकते हैं।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

और पढ़ें:

पिता के लिए ब्रेस्टफीडिंग की जानकारी है जरूरी, पेरेंटिंग में मां को मिलेगी राहत

वजायनल सीडिंग (Vaginal Seeding) क्या सुरक्षित है शिशु के लिए?

ब्रेस्ट कैंसर का जोखिम कम करता है स्तनपान, जानें कैसे

प्रेग्नेंसी के दौरान होता है टेलबोन पेन, जानिए इसके कारण और लक्षण

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    डिलिवरी के बाद अवसाद की समस्या से कैसे पाएं छुटकारा

    डिलिवरी के बाद अवसाद की समस्या का कई महिलाओं को सामना करना पड़ता है, जिसे मेडिकल भाषा में पोस्टपार्टम डिप्रेशन कहते हैं। यह क्यों होता है और इससे कैसे छुटकारा बताएं, इस बारे में बता रही हैं हमारी एक्सपर्ट। Postpartum depression

    के द्वारा लिखा गया Sanket Pevekar
    वीडियो अगस्त 2, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

    विभिन्न प्रसव प्रक्रिया का स्तनपान और रिश्ते पर प्रभाव कैसा होता है

    डिलिवरी का तरीका आपके स्तनपान की प्रक्रिया के साथ-साथ शिशु और मां के बीच के रिश्ते पर भी असर डालता है। इस बारे में विस्तार से चर्चा कर रही हैं हमारी चाइल्डबर्थ एजुकेटर Divya Deswal… How do Different Birthing Practices Impact Breastfeeding and Bonding

    के द्वारा लिखा गया Sanket Pevekar
    वीडियो अगस्त 2, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

    ब्रेस्टफीडिंग बनाम फॉर्मूला फीडिंग: क्या है बेहतर?

    शिशु के विकास के लिए स्तनपान और फॉर्मूला मिल्क में से क्या बेहतर है, जिससे उसे पर्याप्त पोषण मिल सके। जिंदगी के शुरुआती चरण में शिशु को अगर पर्याप्त पोषण मिलता है, तो वह जिंदगीभर कई बीमारियों व संक्रमणों से दूर रहता है। Breastfeeding vs Formula Feeding

    के द्वारा लिखा गया Sanket Pevekar
    वीडियो अगस्त 2, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

    स्तनपान से जुड़ी समस्याएं और रीलैक्टेशन इंड्यूस्ड लैक्टेशन

    जानिए कि ब्रेस्टफीडिंग करवा रही महिला को किन-किन समस्याओं का सामना करना पड़ता है और रीलैक्टेशन इंड्यूस्ड लैक्टेशन क्या है? इसके अलावा, बच्चे के जन्म के बाद स्किन टू स्किन कॉन्टेक्ट क्यों जरूरी है? Common Breastfeeding Problems and Relactation Induced Lactation

    के द्वारा लिखा गया Sanket Pevekar
    वीडियो अगस्त 1, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

    Recommended for you

    बाल अनुकूल अवकाश गंतव्य

    बाल अनुकूल अवकाश गंतव्य की प्लानिंग कर रहे हैं जो इन जगहों का बनाए प्लान

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Satish Singh
    प्रकाशित हुआ अगस्त 13, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
    स्तनपान

    कोरोना वायरस महामारी के दौरान न्यू मॉम के लिए ब्रेस्टफीडिंग कराने के टिप्स

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
    प्रकाशित हुआ अगस्त 6, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    ब्रेस्टफीडिंग के 1000 दिन

    जानें ब्रेस्टफीडिंग के 1000 दिन क्यों है बच्चे के जीवन के लिए जरूरी?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
    प्रकाशित हुआ अगस्त 2, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें
    स्तनपान है बिल्कुल आसान, मानसिक रूप से ऐसे रहें तैयार

    स्तनपान है बिल्कुल आसान, मानसिक रूप से ऐसे रहें तैयार

    के द्वारा लिखा गया Sanket Pevekar
    प्रकाशित हुआ अगस्त 2, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें