नॉर्मल डिलिवरी में कितना जोखिम है? जानिए नैचुरल बर्थ के बारे में क्या कहना है महिलाओं का?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जुलाई 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

किसी भी महिला के लिए बच्चे का जन्म आसान नहीं होता, लेकिन यह नैचुरल है, इसलिए इसमें होने वाले दर्द को बहुत बढ़ा-चढ़ाकर नहीं बताना चाहिए। दरअसल, बच्चे को जन्म देने के दौरान महिलाओं को असहनीय दर्द होता है इसलिए कुछ महिलाएं पेन किलर या अन्य दवाओं का सहारा लेती हैं, जबकि कुछ इस दर्द को सहन करके नैचुरल बर्थ को ही चुनती हैं। नॉर्मल डिलिवरी के जोखिम के बारे में सोचकर कुछ महिलाएं डर जाती हैं, लेकिन क्या सचमुच नॉर्मल डिलिवरी में जोखिम होता है? जानिए इस बारे में नैचुरल बर्थ देने वाली महिलाओं की क्या राय है।

यदि आप भी प्रेग्नेंट हैं और यह सोचकर परेशान है कि डिलिवरी के लिए कौन सा विकल्प चुनना है, तो चलिए हम आपको कुछ ऐसी महिलाओं के अनुभव बता रहे हैं जिनकी नॉर्मल डिलिवरी हुई है ताकि आप समझ सके कि नैचुरल बर्थ में जोखिम है या नहीं?

और पढ़ें- प्रेग्नेंसी में नुकसान से बचने के 9 टिप्स

नॉर्मल डिलिवरी के जोखिम है या नहीं आइए जानते हैं

योगा से नॉर्मल डिलिवरी में मिली मदद

पटना की रहने वाली हाउसवाइफ निकिता का कहना है, ” मैंने नैचुरल चाइल्ड बर्थ इसलिए चुना क्योंकि मेरे लिए यह महसूस करना अहम था कि मैं खुद के कंट्रोल में हूं। डिलिवरी का पूरा अनुभव मेरे लिए सुखद और आरामदायक रहा। मैं खुशकिस्मत थी कि पहले कॉन्ट्रैक्शन के बाद 10 घंटे के अंदर ही बच्चे का जन्म हो गया। मेरी मिडवाइफ मुझे देखकर काफी इंप्रेस थी। दरअसल, मैं पहले से ही उन चीजों पर ध्यान देती आई जो डिलिवरी में मेरी मदद कर सकते थे। मैं पैरेंटल योगा करती थी, हर हफ्ते एक्यूपंचर लेती थी और 10,000 कदम चलती थी। मेरी मिडवाइफ को लगता है कि मेरे 15 साल के योगा ने नैचुरल बर्थ में मेरी मदद की। मुझे सच में ऐसा लग रहा था कि मैं अपने बच्चे को दुनिया में आने में उसकी मदद कर सकती हूं। मुझे नहीं लगता कि नैचुरल बर्थ का किसी तरह का कोई जोखिम है। नॉर्मल डिलिवरी के जोखिम नहीं है।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

और पढ़ें- क्या नॉर्मल डिलिवरी सी-सेक्शन से बेहतर है?

बेटी को हाथों में लेकर खुद को मजबूत महसूस कर रही थी

34 साल की केरला की रहने वाली मैरी टीचर हैं, उन्होंने अपना अनुभव शेयर करते हुए कहा, “मरी कॉप्लिकेटेड प्रेग्नेंसी थी। बावजूद इसके मैंने अपने बच्चे को नैचुरल बर्थ दिया, जो बहुत खूबसूरत अनुभव रहा। पहली प्रेग्नेंसी के दूसरे चरण में अपने बच्चे को खोने के बाद दूसरी प्रेग्नेंसी के दौरान मैं बहुत तनावग्रस्त रहती थी। एक दिन डिनर के लिए बाहर जाते समय ही मुझे महसूस हुआ कि जैसे वॉटर ब्रेक हो चुका है। हमने पहले ही नैचुरल बर्थ से जुड़ी क्लास अटेंड की थी और इसे अपनाने का सोचा था, इसके लिए एक रूम तैयार करने के साथ ही दाई भी रखी थी। लेबर पेन के दौरान दाई और मेरे पति मेरे सिर और पीठ पर लगातार लैवेंडर की खुशबू वाला तौलिया रख रहे थे। हॉट बाथ टब में 10 घंटे दर्द झेलने के बाद मेरी बेटी मेरे हाथों में थी। दर्द असहनीय होता है, लेकिन जैसे ही बेटी को हाथों में लिया मैं खुद को बहुत ताकतवर समझने लगी। मुझे इस बात का कोई अफसोस नहीं है कि मैंने नैचुरल बर्थ को चुना, क्योंकि मेरे हिसाब से नॉर्मल डिलिवरी के जोखिम नहीं है।

और पढ़ें- नॉर्मल डिलिवरी में मदद कर सकती हैं ये एक्सरसाइज, जानें करने का तरीका

मेरा और बेटी का जन्म बिना किसी दवा के हुआ

प्रिया इलाबाद की रहने वाली हैं और पब्लिक हेल्थ से जुड़ा काम करती हैं उन्होंने अपना डिलिवरी अनुभव शेयर करते हुए बताया, “मुझे लगता था कि मेरी प्रेग्नेंसी में कोई जटिलताएं नहीं है, इसलिए मेरा शरीर नॉर्मल तरीके से बच्चे को जन्म देने के लिए तैयार है। मैंने पब्लिक हेल्थ में मास्टर डिग्री ली है और मुझे लगता है कि दवा या दर्द निवारण के अन्य तरीकों का इस्तेमाल बच्चे को हानि पहुंचा सकता है और मुझे नहीं लगता कि इनके इस्तेमाल से जन्म देने की प्रक्रिया बहुत आसान हो जाती है। मैंने कई बर्थिंग क्लास अटेंड की थी, इसलिए जानती थी कि एपिड्यूरल सेहत के लिए अच्छा नहीं है। बेटी के जन्म के दौरान जब नर्स ने मुझे एपिड्यूरल देने की बात कही तो मैंने इनकार कर दिया, हालांकि दर्द सहना आसान नहीं था, लेकिन फिर भी मैं मेडिसिन के साइड इफेक्ट से बच्चे को बचाना चाहती थी। अस्पताल में ऐसा करना आसान नहीं था, मगर मैंने बिना किसी दवा और दर्द निवारक के बेटी को जन्म दिया उसी अस्पताल में जहां मेरा जन्म हुआ था।”

और पढ़ें- प्रेग्नेंसी में खाएं ये फूड्स नहीं होगी कैल्शियम की कमी

बच्चे के जन्म के बाद दर्द तुरंत कम हो गया

डिलिवरी के बारे में कोलकाता की रहने वाली हाउसवाइफ तनिषा सेन का मानना है कि नॉर्मल डिलिवरी के जोखिम नहीं हैं। उन्होंने बताया, “मैंने नैचुरल बर्थ का विकल्प चुना नहीं था, लेकिन बस ये हो गया। दरअसल, मुझे अचानक दर्द हुआ और उस वक्त अस्पताल नहीं जा पाई और नजदीकी बर्थ सेंटर में गई। जहां कुछ मेरे अनुभव काम आए और प्रोफेशनल की मदद से साढ़े तीन घंटे में ही मेरे बच्चे का जन्म हो गया। यह देखकर मैं बहुत हैरत में थी, क्योंकि मेरी पिछली दोनों एपिड्यूरल प्रेग्नेंसी इससे ज्यादा दर्दनाक थी। मैंने महसूस किया कि पिछली प्रेग्नेंसी की तुलना में इस बार मेरा दर्द जल्दी कम हो गया और मैं बेहतर महसूस करने लगी, लेकिन उस दौरान जिस तरह का असहनीय दर्द होता है यदि मेरे पास एपिड्यूरल का विकल्प होता तो शायद मैं ले लेती, क्योंकि दर्द बर्दाशत करना मुश्किल होता है। यदि आप नैचुरल बर्थ कराना चाहती हैं तो आपको इसे लेकर प्रतिबद्ध होना पड़ेगा। नॉर्मल डिलिवरी में कोई जोखिम नहीं है।”

और पढ़ें- हनीमून के बाद बेबीमून, इन जरूरी बातों का ध्यान रखकर इसे बनाएं यादगार

दर्द के बावजूद दवा नहीं ली

दो बेटियों की मां आरती सिंह अहमदाबाद से हैं और जॉब करती हैं उन्होंने नॉर्मल डिलिवरी के जोखिम के बारे में अपना अनुभव शेयर करते हुए बताया, “जब मैं प्रेग्नेंट हुई तो मैंने निश्चय किया कि मैं किसी तरह का एपिड्यूरल नहीं लूंगी और नॉर्मल तरीके से ही अपने बच्चे को जन्म दूंगी। पहली बेटी के जन्म के दौरान में 8 घंटे लेबर में रही और दूसरी बेटी के समय 3 घंटे। मुझे लगता है कि एपिड्यूरल लेने वालों की तुलना में मेरा लेबर टाइम कम था। हालांकि दूसरी प्रेग्नेंसी में दर्द बहुत तीव्र था और मुझे याद है कि मैं दर्द में चिल्लाकर डॉक्टरों से दवा देने को कह रही थी, मगर वह मुझे मेरी ही बात याद दिलाते रहें। वैसे अगर मुझे दोबारा लेबर से गुजरना पड़े तो भी मैं नैचुरल बर्थ ही चुनूंगी।”

जब तक आपकी प्रेग्नेंसी में किसी तरह की कॉम्प्लिकेशन नहीं है और आपको कोई स्वास्थ्य समस्याएं नहीं हैं तो नॉर्मल डिलिवरी में किसी तरह का जोखिम नहीं होता है। नॉर्मल डिलिवरी के जोखिम से जुड़ा फिर भी अगर आपको किसी तरह का कोई कंफ्यूजन है तो एक बार डॉक्टर से जरूर कंसल्ट करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

पॉलिहाइड्रेमनियोस (गर्भ में एमनियोटिक फ्लूइड ज्यादा होना) के क्या हो सकते हैं खतरनाक परिणाम?

पॉलिहाइड्रेमनियोस (Polyhydramnios) क्या है? क्यों इसके बढ़ने से गर्भवती महिला के साथ-साथ शिशु की बढ़ सकती है परेशानी? कब और कैसे किया जाता है इसका इलाज?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
डिलिवरी केयर, प्रेग्नेंसी मई 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

‘इलेक्टिव सी-सेक्शन’ से अपनी मनपसंद डेट पर करवा सकते हैं बच्चे का जन्म!

क्या आसान है इलेक्टिव सी-सेक्शन (Elective C-section) से शिशु का जन्म? इलेक्टिव सिजेरियन डिलिवरी ले नुकसान क्या हैं?आप जानते हैं इससे होने वाले मां और शिशु को नुकसान? c-section birth plan in hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha

अपनी कुछ आदतें मां बनने के बाद न छोड़ें, नहीं तो पड़ सकता है पछताना

अपनी अच्छी आदतें मां बनने के बाद न छोड़ें? मां होगी फिट तभी तो रखेगी बच्चे का ख्याल? आपके क्या हैं शौक जिसे आप करना चाहती हैं पूरा? जानिए इस लेख में।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
डिलिवरी केयर, प्रेग्नेंसी अप्रैल 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

गर्भावस्था में कार्पल टनल सिंड्रोम की समस्या से कैसे बचें?

गर्भावस्था में कार्पल टनल सिंड्रोम के बचने के लिए क्या हैं उपाय? जानिए क्या है गर्भावस्था में कार्पल टनल सिंड्रोम in hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रेग्नेंसी स्टेजेस, प्रेग्नेंसी मार्च 31, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

एपिसीओटॉमी क्विज, episitomy quiz

डिलिवरी के दौरान की जाती है एपिसीओटॉमी की प्रोसेस, क्विज खेलकर आप बढ़ा सकते हैं नॉलेज

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ अक्टूबर 27, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
विभिन्न प्रसव प्रक्रिया का स्तनपान और रिश्ते पर प्रभाव - How do Different Birthing Practices Impact Breastfeeding and Bonding

विभिन्न प्रसव प्रक्रिया का स्तनपान और रिश्ते पर प्रभाव कैसा होता है

के द्वारा लिखा गया Sanket Pevekar
प्रकाशित हुआ अगस्त 2, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
डिलिवरी के वक्त दाई

डिलिवरी के वक्त दाई (Doula) के रहने से होते हैं 7 फायदे

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ मई 11, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
लोअर सेगमेंट सिजेरियन सेक्शन (LSCS)

लोअर सेगमेंट सिजेरियन सेक्शन (LSCS) के बाद नॉर्मल डिलिवरी के लिए ध्यान रखें इन बातों का

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ मई 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें