home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

प्रेग्नेंसी में नुकसान से बचने के लिए अपनाएं ये टिप्स

प्रेग्नेंसी में नुकसान से बचने के लिए अपनाएं ये टिप्स

किसी भी महिला के लिए गर्भवती होना जीवन के सबसे महत्वपूर्ण अनुभवों में से एक होता है। प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं में शारीरिक और मानसिक बदलाव होते हैं। साथ ही इस दौरान महिलाओं को खास सावधानियां बरतने की भी जरूरत होती है। इस समय थोड़ी सी भी लापरवाही प्रेग्नेंसी में नुकसान पहुंचा सकती है। गर्भवती महिलाओं के लिए गर्भावस्था में एक्साइटमेंट और शारीरिक परेशानी दोनों होती है। ऐसे में आज जानेंगे प्रेग्नेंसी के दौरान किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिए, जिससे प्रेग्नेंसी में नुकसान से बचा जा सके। इसमें खुद से दवा लेने से लेकर वर्कआउट से जुड़े टिप्स शामिल हैं।

प्रेग्नेंसी में नुकसान से बचने के लिए टिप्स

खुद से दवा न लें

प्रेग्नेंसी में महिलाओं में होने वाले शारीरिक बदलाव साफ दिखते हैं। वहीं इस दौरान कुछ महिलाओं में कुछ ऐसे भी बदलाव होते हैं, जो सामने से नहीं दिखते जैसे महिलाओं में हॉर्मोनल बदलाव भी होते हैं, जो बाहरी तौर पर नहीं देखे जा सकते, लेकिन इससे महिलाओं के शरीर में आंतरिक बदलाव के साथ-साथ उनके स्वभाव में बदलाव दिखते हैं। इन सारे बदलावों के बीच महिलाओं को कई परेशानियां भी होती हैं और कई मामलों में देखा जाता है कि महिलाएं इनसे बचने के लिए अपनी मर्जी से दवाएं लेने लगती है या ऐसे में महिलाएं कई बार उन्हीं दवाओं का प्रयोग कर लेती हैं, जिन्हें वे प्रेग्नेंसी न होने के अलावा भी लेती हैं। लेकिन, प्रेग्नेंसी में उन्हीं दवाओं को लेना हानिकारक साबित हो सकता है। ऐसे में प्रेग्नेंसी में खुद से कोई भी दवा न खाएं। कोई भी परेशानी महसूस होने पर डॉक्टर से सलाह लेकर ही दवाओं का सेवन करें।

और पढ़ें : गर्भावस्था के दौरान बच्चे के वजन को बढ़ाने में कौन-से खाद्य पदार्थ हैं फायदेमंद?

प्रेग्नेंसी में नुकसान से बचने के लिए डायट का भी ध्यान रखें

प्रेग्नेंसी के दौरान डायट का ख्याल रखना भी बहुत जरूरी होता है। ऐसे में महिलाओं को सिर्फ अपनी ही नहीं अपने अंदर पल रहे बच्चे की सेहत का भी ख्याल रखना भी जरूरी होता है। गर्भावस्था को एंजॉय करने के लिए जरूरी है कि गर्भवती महिला पौष्टिक आहार का सेवन करें। साथ ही प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं को कुछ फूड आयटम्स से भी बचने की जरूरत होती है। ऐसे में गर्भवती महिलाओं को हाई-मरक्यूरी फिश, कच्चे अंडे, स्प्राउट्स, सोडा, ट्रांस फैट, लो-फैट डेयरी प्रोडक्ट, कैफीन आदि का सेवन करने से बचना चाहिए।

स्टिलेटोस से भी हो सकता है प्रेग्नेंसी में नुकसान

प्रेग्नेंसी के दौरान आपको अपनी लाइफस्टाइल में भी बदलाव करने की जरूरत होती है और साथ ही यह भी देखना होता है कि आप जो कपड़े या जूते आमतौर पर पहनती हैं उन्हें गर्भावस्था के दौरान नहीं पहना जा सकता है। इस दौरान कपड़ों के साथ खास तौर पर आपको अपने जूतों का खास ख्याल रखना चाहिए। प्रेग्नेंसी में नुकसान से बचने के लिए महिलाओं को हाई हील्स सैंडल, वेजस या प्लेटफॉर्म हील्स नहीं पहनने चाहिए। गर्भावस्था के दौरान इससे परेशानी हो सकती है और बढ़ते वजन के साथ-साथ पेट का उभार (बेबी बम्प) भी बढ़ने लगता है, जिस कारण चलने के दौरान गिरने का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए हील्स न पहन कर फ्लैट जूते या सैंडल पहनें।

और पढ़ें : क्या पुदीना स्पर्म काउंट को प्रभावित करता है? जानें मिथ्स और फैक्ट्स

गर्भावस्था में न करें ये काम : ज्यादा देर हॉट टब में न बैठें

प्रेग्नेंसी के शुरुआती लक्षणों में से एक बैक पेन। ऐसे में माना जाता है कि हॉट टब में बैठना एक बेहतर विकल्प हो सकता है। आमतौर पर देखा भी जाता है कि महिलाएं प्रेग्नेंसी में होने वाले बैक पेन से बचने के लिए हॉट टब का सहारा लेती हैं। वहीं हेल्थ एक्सपर्ट की मानें, तो हॉट टब में बैठना वो भी प्रेग्नेंसी के पहले ट्राइमेस्टर में शिशु को जन्म दोष जैसी परेशानी में डाल सकता है। इसलिए हल्के गुनगुने पानी से स्नान करना बेहतर होगा।

प्रेग्नेंसी में नुकसान से बचने के लिए स्मोकिंग से रहें दूर

गर्भावस्था के दौरान स्मोकिंग न करें और इतना ही नहीं आप इस दौरान स्मोकिंग जोन में भी न जाएं, तो बेहतर होगा। प्रेग्नेंट लेडी को किसी भी सिगरेट पीते हुए व्यक्ति के पास नहीं रहना चाहिए क्योंकि इससे आप पैसिव स्मोकिंग करते हैं और पैसिव स्मोकिंग भी उतनी ही नुकसानदायक होती है

एल्कोहॉल का सेवन न करें

यूं तो एल्कोहॉल के सेवन से होने वाले नुकसानों के बारे में सभी जानते हैं। एल्कोहॉल के अत्यधिक सेवन से इसका नकारात्मक प्रभाव फर्टिलिटी पर पड़ता है और व्यक्ति इनफर्टिलिटी का शिकार हो सकता है। खास तौर पर गर्भावस्था में एल्कोहॉल के सेवन से मिसकैरिज की समस्या, समय से पहले शिशु का जन्म या स्टिलबर्थ का खतरा बढ़ जाता है। प्रेग्नेंसी में नुकसान से बचने के लिए जरूरी है कि प्रेग्नेंट महिलाएं एल्कोहॉल से दूरी ही बनाकर रखें।

और पढ़ें: महिला को बिना पिए होता है नशा, शरीर ही बनाता है एल्कोहॉल

गर्भावस्था में न करें ये काम : ज्यादा देर तक एक पुजिशन में न रहें

अगर गर्भवती महिलाएं ज्यादा समय तक एक ही पुजिशन में रहें, तो प्रेग्नेंसी में नुकसान पहुंच सकता है। ऐसे में ज्यादा देर तक खड़े रहने या बैठे रहने से बचना चाहिए। गर्भवती महिलाओं को चाहिए कि वे समय-समय पर अपनी पुजिशन बदलते रहें। एक ही पुजिशन में ज्यादा समय तक रहने से सूजन की समस्या हो सकती है।

अगर आपको कमर में दर्द की अधिक समस्या महसूस हो रही हो तो आप प्रेग्नेंसी के दौरान यूज की जाने वाली पिलो यानी तकिया का इस्तेमाल भी कर सकती हैं। आप प्रेग्नेंसी वेज पिलो (Pregnancy Wedge Pillow) या मैटरनिटी कुशन का इस्तेमाल भी कर सकते हैं। पेट के नीचे या फिर पेट के पीछे पूरी तरह से सपोर्ट मिलेगा। प्रेग्नेंसी पिलो का यूज करने से स्पाइन पेन में भी राहत मिलती है। अगर आप डॉक्टर की सलाह से रेगुलर प्रेग्नेंसी पिलो का यूज करेंगे तो आपका ब्लड प्रेशर कंट्रोल रहने के साथ ही कमर दर्द की समस्या से भी राहत मिलेगी।

गर्भावस्था में न करें ये काम : प्रेग्नेंसी में नुकसान से बचने के लिए हेयर डाय न करें

गर्भावस्था के दौरान हेयर डाय न करें क्योंकि इनमें कैमिकल्स होने के कारण ये आपके लिए हानिकारक साबित हो सकती है। यही नहीं प्रेग्नेंसी में कोई भी हेयर ट्रीटमेंट करवाने से पहले उस ट्रीटमेंट से जुड़ी उचित जानकारी अवश्य ले लें क्योंकि इसके भी प्रेग्नेंसी में नुकसान हो सकते हैं। कुछ केमिलकल से महिलाओं को एलर्जी हो सकती है, इसलिए प्रेग्नेंसी के दौरान ऐसे किसी भी केमिलकल का उपयोग करने से बचे, जो आपने पहले कभी भी यूज नहीं किए हो।

और पढ़ें: प्रेग्नेंसी में हायपोथायरॉइडिज्म डायट चार्ट, हेल्दी प्रेग्नेंसी के लिए करें इसे फॉलो

गर्भावस्था में न करें ये काम : भारी वजन न उठाएं

गर्भावस्था के दौरान भारी वजन उठाने से बचने की जरूरत होती है। इसके अलावा प्रेग्नेंसी के दौरान वर्कआउट करते समय भी कुछ बातों का खास ख्याल रखने की जरूरत हो सकती है। साथ ही प्रेग्नेंसी में वर्कआउट के दौरान अपनी शारीरिक क्षमता को ध्यान में रखें, लेकिन प्रेग्नेंसी में नुकसान से बचने के लिए क्या-क्या न करें या इससे जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो डॉक्टर सलाह लेना बेहतर होगा।

गर्भावस्था में न करें ये काम : खानपान पर दें ध्यान

गर्भावस्था में खानपान पर विशेष तौर पर ख्याल रखना चाहिए। वैसो तो गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को पौष्टिक आहार खाने की सलाह दी जाती है, लेकिन इस दौरान कुछ ऐसे भी फूड होते हैं, जो महिलाओं को नहीं खाने चाहिए। गर्भावस्था के शुरुआती दौर में महिलाओं को कच्चा पपीता न खाने की सलाह दी जाती है, क्योंकि ये गर्भपात का कारण भी बन सकता है। गर्भावस्था के दौरान एलोवेरा का सेवन भी न करने की सलाह दी जाती है। गर्भावस्था के शुरूआती दौर में एलोवेरा का सेवन करने से इसलिए मना किया जाता है क्योंकि ये यूट्रश में संकुचन यानी कॉन्ट्रेक्शन पैदा कर सकता है। गर्भावस्था में मछलियों का सेवन भी न करने की सलाह दी जाती है क्योंकि मछलियों में मरकरी पाई जाती है जो प्रेग्नेंसी के दौरान हानिकारक सिद्ध हो सकती है।

और पढ़ें: ‘इलेक्टिव सी-सेक्शन’ से अपनी मनपसंद डेट पर करवा सकते हैं बच्चे का जन्म!

इस कारण से महिला को ब्लीडिंग हो सकती है जो गर्भपात का कारण भी बन सकती है। बेहतर होगा कि आप इस बारे में डॉक्टर से भी जानकारी जरूर लें।महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान खानपान के दौरान अधिक सजग रहने की जरूरत होती है। अगर महिलाएं ऐसे समय में शुद्ध खानपान का सेवन नहीं करती हैं तो उन्हें पेट में समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं। ऐसे में दूध का सेवन करने से पहले दूध को उबाल लेना चाहिए क्योंकि कच्चे दूध में सूक्ष्म जीव हो सकते हैं, जो शरीर के लिए हानिकारक सिद्द हो सकते हैं।

उम्मीद करते हैं कि आपको इस आर्टिकल की जानकारी पसंद आई होगी और आपको प्रेग्नेंसी में नुकसान संबंधी बातों से जुड़ी सभी जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। आप स्वास्थ्य से संबंधित अधिक जानकारी के लिए हैलो स्वास्थ्य की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं। अगर आपको गर्भावस्था के दौरान किसी भी प्रकार की समस्या महसूस हो रही है या फिर आपके मन में कोई प्रश्न है तो बेहतर होगा कि आप तुरंत अपने डॉक्टर से जानकारी लें।

 

health-tool-icon

ड्यू डेट कैलक्युलेटर

अपनी नियत तारीख का पता लगाने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें। यह सिर्फ एक अनुमान है - इसकी गैरेंटी नहीं है! अधिकांश महिलाएं, लेकिन सभी नहीं, इस तिथि सीमा से पहले या बाद में एक सप्ताह के भीतर अपने शिशुओं को डिलीवर करेंगी।

सायकल लेंथ

28 दिन

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Caffeine intake during pregnancy americanpregnancy.org/pregnancy-health/caffeine-during-pregnancy/ – Accessed on 15/11/2019

Foods to avoid during pregnancy americanpregnancy.org/pregnancy-health/foods-to-avoid-during-pregnancy/– Accessed on 15/11/2019

What causes ankle swelling during pregnancy – and what can I do about it?mayoclinic.org/healthy-lifestyle/pregnancy-week-by-week/expert-answers/swelling-during-pregnancy/faq-20058467 – Accessed on 15/11/2019

Second hand smoke and pregnancy. americanpregnancy.org/pregnancy-complications/second-hand-smoke-and-pregnancy/Accessed on 15/11/2019

 

लेखक की तस्वीर badge
Nidhi Sinha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 27/08/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड