क्या डिलिवरी के बाद मां को अपना प्लासेंटा खाना चाहिए?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जनवरी 14, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

क्या आपने कभी सुना है कि प्लासेंटा को खाया भी जाता है। जानवर अक्सर बच्चे को जन्म देने के बाद प्लासेंटा को खा जाते हैं। सेलीब्रिटी किम कर्दाशियन ने भी बच्चे को जन्म देने के बाद प्लासेंटा को खाने की बात कबूल की थी। आप ये सब सुनकर सोच में न पड़े क्योंकि ये कोई नई बात नहीं है। सालों पहले से ये प्रक्रिया विभिन्न कल्चर में अपनाई जाती रही है। हो सकता है कि आप इसके बारे में पहली बार सुन रही हो।

प्लासेंटा को सुखाकर इसे गोली के रूप में खाया जा सकता है। प्लासेंटा में प्रोटीन और फैट होता है। बच्चे को जन्म देने के बाद प्लासेंटा खाने की प्रक्रिया को प्लासेंटॉफजी (Placentophagy) कहते हैं। जानवरों के साथ ही ट्राईबल महिलाओं में ये चलन प्रचिलित है। अपने देश में इस चलन के बारे में अब तक जानकारी नहीं मिली है। अगर आप प्लासेंटा के बारे में नहीं जानती हैं, या फिर प्लासेंटा खाने के महत्व की जानकारी चाहती हैं तो ये आर्टिकल पढ़ें।

यह भी पढ़ें : डिलिवरी के वक्त दिया जाता एपिड्यूरल एनेस्थिसिया, जानें क्या हो सकते हैं इसके साइड इफेक्ट्स?

आखिर क्या होता है प्लासेंटा?

कंसीव करने के बाद जो अंग सबसे पहले बनता है, उसे प्लासेंटा कहते हैं। इसे गर्भनाल भी कहते हैं। नाल बच्चे को मां से जोड़ने का काम करती है। पूरी प्रेग्नेंसी के दौरान प्लासेंटा बच्चे को ऑक्सिजन, न्यूट्रिएंट्स और जरूरी हाॅर्मोन पहुंचाने का काम करता है। साथ ही ये गंदगी को बाहर करने का भी काम करता है।

वजायनल डिलिवरी  के बाद डॉक्टर नाल को बच्चे से अलग कर देते हैं, वहीं सी-सेक्शन के दौरान भी डॉक्टर प्लासेंटा को काट देते हैं। डिलिवरी के समय प्लासैंटा का वजन एक पाउंड होता है। ये गोल और फ्लैट आकार का होता है।

जो लोग चाइल्ड बर्थ के बाद नाल खाने को सपोर्ट करते हैं, उनका मानना है कि इसे खाने के बाद मां को एनर्जी मिलती है। साथ ही इसे खाने से ब्रेस्ट मिल्क में भी वृद्धि होती है। ये डिप्रेशन को कम करने के साथ ही अनिद्रा को भी दूर करने का काम करता है।

यह भी पढ़ें :डिलिवरी के बाद बॉडी को शेप में लाने के लिए महिलाएं करती हैं ये गलतियां

क्या इस बारे में अध्ययन हुआ है?

बच्चे के जन्म के बाद प्लासेंटा को खाने से महिला को लाभ होता है या नहीं, अभी तक इस बारे में कोई भी प्रमाण नहीं मिले हैं। इस बारे में अभी अध्ययन जारी है। ये बात कितनी सही है या कितनी गलत है, इस बारे में बता पाना संभव नहीं है। चाइल्ड बर्थ के बाद नाल को खाने की बात कई बार सामने आ चुकी है। ये बात भी उतनी ही सच है कि अगर आप नाल को खाते हैं तो हो सकता है कि आपको इंफेक्शन हो जाए। कैप्सूल के रूप में लेने पर भी संक्रमण का खतरा रहता है। अधिक जानकारी के लिए आप डॉक्टर से इस बारे में संपर्क कर सकती हैं।

यह भी पढ़ें : जानिए क्या है प्रीटर्म डिलिवरी? क्या हैं इसके कारण?

क्या आपने देखा है प्लासेंटा?

अगर एक मां से पूछा जाए कि क्या उसने बच्चे के जन्म के समय प्लासेंटा देखा था, तो शायद उसका जवाब ना होगा। बच्चे के जन्म के बाद वजायना से ही प्लासेंटा भी डिलिवर होता है। कई बार जब प्लासेंटा नहीं निकल पाता है तो महिला को अधिक ब्लीडिंग होने लगती है। गर्भनाल काट देने के बाद प्लासेंटा का कोई काम नहीं रहता है। डॉक्टर इसे फेंक देते हैं।

प्रेग्नेंसी में किन कारणों से प्रभावित होती है नाल?

मैटरनल एज – कई बार अधिक उम्र में मां बनने के कारण नाल में बुरा प्रभाव पड़ता है। 40 के बाद मां बनने में समस्या हो सकती है।

प्रीमैच्योर मेंबरेन रप्चर – प्रेग्नेंसी के दौरान बेबी एक तरल पदार्थ से भरी मेंबरेन में घिरा रहता है। इसे एम्निऑटिक सेक कहते हैं। लेबर के पहले ही अगर सेक ब्रेक हो जाती है तो प्लासेंटल प्रॉब्लम के चांस बढ़ जाते हैं।

हाई ब्लड प्रेशरहाई ब्लड प्रेशर भी नाल को प्रभावित करता है।

मल्टिपल प्रेग्नेंसी -मल्टिपल प्रेग्नेंसी के कारण प्लासेंटल प्रॉब्लम का रिस्क बढ़ जाता है।

पहले की समस्या के कारण – अगर आपको प्रेग्नेंसी के पहले से ही प्लासेंटल प्रॉब्लम रह चुकी है तो प्रेग्नेंसी के दौरान इसके बढ़ने की संभावना है।

सर्जरी के कारण – अगर किसी वजह से आपकी प्रेग्नेंसी के पहले सर्जरी हो चुकी है तो नाल समस्या होने की संभावना बढ़ सकती है।

यह भी पढ़ें : डिलिवरी के वक्त होती हैं ऐसी 10 चीजें, जान लें इनके बारे में

प्रेग्नेंसी के दौरान नाल का क्या होता है?

  • नाल का विकास सबसे पहले होता है। नाल की सही स्थिति का पता 18वें सप्ताह के दौरान अल्ट्रासाउंड के माध्यम से लगाया जा सकता है।
  • नाल को बच्चे के बर्थ के बाद हटा दिया जाता है। ये काम बच्चे के जन्म के पांच मिनट से लेकर 30 मिनट तक के अंतर में कर दिया जाता है। इसे थर्ड स्टेज ऑफ लेबर कहा जाता है।
  • बच्चे की नॉर्मल डिलिवरी के बाद महिला को हल्का सा संकुचन हो सकता है और उसे पुश करने के लिए कहा जाता है। पुश करने के बाद नाल बाहर आ जाती है। ऐसा न होने पर मेडिसिन का सहारा भी लिया जाता है।
  • सी-सेक्शन होने पर डॉक्टर उसी दौरान नाल निकाल देता है।
  • अगर डिलिवरी के दौरान पूरी नाल नहीं निकलती है तो उसे सर्जिकल तरीके से निकाला जाता है। ऐसा न करने पर ब्लीडिंग और इंफेक्शन की समस्या हो सकती है।

कैसा होता है प्लासेंटा का स्ट्रक्चर?

प्लासेंटा एब्रियॉनिक और मैटरनल टिशू का कंपोजिशन स्ट्रक्टर होता है। ये पेट में पल रहे बच्चे को पोषण देने का काम करता है। प्लासेंटा गर्भाशय की दीवार के साथ जुड़ा हुआ होता है। साथ ही ये फीटस को न्यूट्रिएंट्स देने का काम करता है। साथ ही प्लासेंटा फीटस के वेस्ट प्रोडक्ट को बाहर करने का भी काम करता है। कोरियॉनिक विली फिंगर की तरह संरचना होती है जो कि एब्रियो ट्रोफोब्लास्ट से बनी होती है। प्लासेंटा में इंटरविलस स्पेस भी होता है जो कि कोरियॉनिक विली से घिरा रहता है और साथ ही इसमें मैटरनल ब्लड भी होता है। मैटरनल ब्लड में न्यूट्रिएंट्स और ऑक्सीजन होती है।

प्लासेंटा का प्रेग्नेंसी के दौरान महत्वपूर्ण कार्य होता है। नाल को डिलिवरी के बाद खाना चाहिए या फिर नहीं, इस बारे में अभी तक कोई साक्ष्य नहीं मिले हैं। कई देशों में इसे प्रथा के रूप में भी अपनाया जाता है। भारत देश में इसका चलन है या नहीं, कहना मुश्किल है। क्योंकि इस बारे में किसी तरह की खबरें या जानकारी बाहर नहीं आती है। अगर आपको प्लासेंटा के बारे में जानकारी नहीं है तो डॉक्टर से भी इसके महत्व के बारे में जान सकते हैं। अगर आपको प्लासेंटा खाने संबंधी जानकारी की आवश्यकता हो तो भी बेहतर होगा कि आप एक बार डॉक्टर से बात करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

और पढ़ें

 म्यूजिक से दूर हो सकती है कोई भी परेशानी?

बॉडी पार्ट जैसे दिखने वाले फूड, उन्हीं अंगों के लिए होते हैं फायदेमंद भी

बढ़ती उम्र सिर्फ जिंदगी ही नहीं हाइट भी घटा सकती है

स्ट्रेस कहीं सेक्स लाइफ खराब न करे दे, जानें किस वजह से 89 प्रतिशत भारतीय जूझ रहे हैं तनाव से

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    प्रेग्नेंसी के दौरान अल्फा फिटोप्रोटीन टेस्ट(अल्फा भ्रूणप्रोटीन परीक्षण) करने की जरूरत क्यों होती है?

    अल्फा भ्रूणप्रोटीन परीक्षण करना क्यों है जरूरी? जानिए अल्फा फिटोप्रोटीन टेस्ट अगर पोजिटिव आए तो क्या है निदान। Alpha fetoprotein test in Hindi.

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Mousumi Dutta

    प्रेगनेंसी में कॉफी पीना फायदेमंद या नुकसानदेह?

    प्रेग्नेंसी में कॉफी का सेवन करना चाहिए या नहीं, जाने कॉफी की सही मात्रा कितनी होती है। Intake of coffee during pregnancy in Hindi.

    के द्वारा लिखा गया Shivam Rohatgi
    आहार और पोषण, स्वस्थ जीवन मई 19, 2020 . 3 मिनट में पढ़ें

    इंट्रायूटेराइन इंफेक्शन क्या है? क्या गर्भ में पल रहे बच्चे के लिए हो सकता है हानिकारक

    इंट्रायूटेराइन इंफेक्शन क्या है, इंट्रायूटेराइन इंफेक्शन के लक्षण और कॉरियोएम्नियॉनिटिस का इलाज क्या है, intrauterine infection chorioamnionitis in Hindi.

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
    डिलिवरी केयर, प्रेग्नेंसी मई 13, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

    क्या कम उम्र में गर्भवती होना सही है?

    20 से 30 साल की उम्र में गर्भवती होना सही है? कम उम्र में गर्भवती होना क्या सही है? कम उम्र में गर्भवती होना क्यों है अच्छा सेहत के लिए?

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Shruthi Shridhar
    के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha

    Recommended for you

    प्रेग्नेंसी के दौरान रागी के सेवन से से लाभ होता है

    प्रेग्नेंसी में रागी को बनाएं आहार का हिस्सा, पाएं स्वास्थ्य संबंधी ढेरों लाभ

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Anu Sharma
    प्रकाशित हुआ जुलाई 28, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
    सेक्स के बाद गर्भावस्था के लक्षण

    सेक्स के बाद कितनी जल्दी हो सकती हैं प्रेग्नेंट? जानें यहां

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
    प्रकाशित हुआ जून 25, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
    ऑट्रिन

    Autrin: ऑट्रिन क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Satish Singh
    प्रकाशित हुआ जून 24, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
    ओवरल एल

    Ovral L: ओवरल एल क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

    चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
    के द्वारा लिखा गया Satish Singh
    प्रकाशित हुआ जून 12, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें