हमारे ऑव्युलेशन कैलक्युलेटर (Ovulation Calculator) का उपयोग करके जानें अपने ऑव्युलेशन का सही समय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट July 10, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

ऑव्युलेशन (Ovulation) क्या है?

ऑव्युलेशन एक चरण है जो एक महिला के मासिक धर्म चक्र के दौरान होता है। जब एक अंडाशय उस अंडे का निर्माण करता है जो गर्भाशय की ओर फैलोपियन ट्यूब के माध्यम से बढ़ता है इसे ऑव्युलेशन कहा जाता है। ऑव्युलेशन महिलाओं के लिए प्रजनन का सबसे अच्छा समय माना जाता है।

ऑव्युलेशन एक महीने की अवधि में एक से अधिक बार हो सकता है। ऑव्युलेशन का सही समय निर्धारित करना मुश्किल है और यह अलग-अलग हो सकता है। जब आप अपने मासिक धर्म चक्र को सही तरीके से जानती हैं, तो आपके गर्भधारण की संभावना भी बेहतर हो जाती है।

गर्भ धारण के आपके प्रयास शरीर के वजन जैसे अन्य स्वास्थ्य पहलुओं से भी प्रभावित हो सकते हैं। स्वस्थ जीवन जीने और गर्भावस्था की तैयारी के लिए आपके शरीर की ऊंचाई के अनुसार स्वस्थ वजन होना महत्वपूर्ण है। अपने बीएमआई की जांच करें और पता करें कि आपका आदर्श वजन क्या होना चाहिए।

यह भी पढ़ें: यीस्ट इंफेक्शन कैसे फर्टिलिटी को कर सकता है प्रभावित?

ऑव्युलेशन (Ovulation) कब और कैसे होता है?

एक सामान्य मासिक धर्म चक्र 28- 35 दिनों के बीच होता है। ऑव्युलेशन की प्रक्रिया आमतौर पर आपके चक्र के 11 और 21 दिनों के बीच होती है। इस ऑव्युलेशन स्पैन के दौरान ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन (एलएच) नामक एक हार्मोन का अचानक उछाल होता है। यह उछाल अंडाशय से सबसे परिपक्व अंडे के निर्माण का कारण बनता है। जबकि अंडा पतली फैलोपियन ट्यूब से गर्भाशय की ओर जाता है, प्रोजेस्टेरोन नामक एक अन्य हार्मोन का स्तर बढ़ जाता है जो गर्भाशय को तैयार करने में मदद करता है।

हर महिला का सटीक 28-दिवसीय चक्र नहीं हो सकता है, इसलिए ऑव्युलेशन समय भिन्न हो सकता है। आमतौर पर, आपके चक्र के मध्य-बिंदु के 4 दिन पहले या 4 दिनों में ओवल्यूशन होता है।

यह भी पढ़ें : क्या इंट्राम्यूरल फाइब्रॉएड गर्भावस्था को प्रभावित करता है?

ऑव्युलेशन के लिए समय मायने रखता है

एक महिला का शरीर आमतौर पर हर महीने एक अंडा जारी करता है जिसे ओवल्यूशन कहा जाता है। अंडाशय छोड़ने के 24 घंटों के भीतर इस अंडे को जल्द ही निषेचित करने की आवश्यकता होती है, जिससे अंडा भंग हो जाता है। शुक्राणु गर्भाशय में 3-5 दिनों तक जीवित रह सकता है। इसलिए, यदि आप अपने ऑव्युलेशन शेड्यूल के बारे में अच्छी तरह से जानते हैं, तो आप और आपका पार्टनर गर्भधारण की संभावना के अनुसार सेक्स की योजना बना सकते हैं।

यह भी पढ़ें: क्या 50 की उम्र में भी महिलाएं कर सकती हैं गर्भधारण?

जानें अपने ऑव्युलेशन (Ovulation) का सही समय

आमतौर पर, आपको गर्भधारण की सबसे अच्छी संभावना होने के लिए अपने ऑव्युलेशन से 1-2 दिन पहले सेक्स करना चाहिए। यदि आपके पास 28-दिन का एक नियमित मासिक धर्म है, तो 14 दिन पीछे से गिनें जब अगली अवधि शुरू होने की उम्मीद हो। इस अवधि के दौरान हर दूसरे दिन सेक्स करने की कोशिश करें। इसे ‘फर्टाइल विंडो’ कहा जाता है। याद रखें, कि हर दूसरे दिन सेक्स करने से किसी पुरुष का स्पर्म काउंट कम हो सकता है।

जैसा कि ऊपर उल्लेख किया गया है, आपका चक्र शायद कम या लंबी अवधि का हो। इसलिए, संभावित दिन जानने के लिए एक ऑव्युलेशन कैलक्युलेटर उपयोगी हो सकता है।

ऑव्युलेशन (Ovulation) के लक्षण क्या हैं?

कुछ लक्षण जो आपको अपने ऑव्युलेशन चरण को महसूस करने में मदद करते हैं, वे हैं:

  • स्तन की कोमलता
  • सेक्सुअल ड्राइव में वृद्धि
  • पेट के एक तरफ दर्द या बेचैनी जिसे मितेलस्कमर (mittelschmerz) भी कहा जाता है।
  • हल्का रक्तस्राव
  • ऑव्युलेशन के दौरान, आपका सर्वाइकल म्यूकस अधिक खिंचाव और फिसलन वाला हो जाता है जो शुक्राणु को अंडे तक आसानी से पहुंचने में मदद करता है।

हमेशा अपने डॉक्टर से परामर्श करें

हर महिला की एक अलग चक्र और शरीर रचना होती है। कुछ में निश्चित तिथि या समय पर ऑव्युलेशन नहीं हो सकता है। कुछ को अनियमित मासिक चक्र का भी सामना करना पड़ता है जिससे सबसे अच्छा ऑव्युलेशन डेट का पता लगाना मुश्किल हो जाता है। ऐसे मामलों में, अपने चिकित्सक से परामर्श करें जो सही चिकित्सा या उपचार से आपकी सहायता कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: प्रेग्नेंसी के दौरान फोलिक एसिड लेना क्यों जरूरी है?

ऑव्युलेशन जानने के अन्य तरीके

ऑव्युलेशन जानने के लिए आप और भी तरीके आजमा सकते हैं। खास बात ये है कि इनके लिए ज्यादा मेहनत की जरूरत नहीं होती। आपको बस अपनी लास्ट पीरियड की तारीख याद रखने की जरूरत होगी। नीचे हम आपको कुछ ऐसे ही आसान तरीके बताने जा रहे हैं, जिनसे आप ऑव्युलेशन के बारे में पता लगा सकेंगी :

बेसल बॉडी टेंपरेचर : ऑव्युलेशन का समय जानने का एक तरीका है शरीर का तापमान। जब ऑव्युलेशन का समय होता है, तो बाकी दिनों के मुकाबले शरीर का तापमान कुछ बढ़ सकता है। इसके लिए आप हर महीने रोजाना अपना तापमान नोट करें और जब पूरे महीने में सबसे ज्यादा तापमान आए, तो ये ऑव्युलेशन का संकेत हो सकता है।

इस दौरान होता है दर्द

ऑव्युलेशन के समय कुछ महिलाओं को मरोड़ जैसे दर्द का अनुभव हो सकता है। आप इस दर्द से भी ऑव्युलेशन के समय का अंदाजा लगा सकती हैं।

योनि से अधिक डिस्चार्ज होना

योनि से अधिक डिस्चार्ज भी ऑव्युलेशन के समय का संकेत हो सकता है। अगर आपको ज्यादा डिस्चार्ज हो रहा हो, तो ये समय ऑव्युलेशन का समय हो सकता है।

सूंघने की क्षमता में वृद्धि

कुछ महिलाओं में सामान्य मासिक धर्म के बाद गंध के प्रति अधिक संवेदनशीलता ऑव्युलेशन का संकेत हो सकता है। इस दौरान आपके शरीर को पुरुष फेरोमोन एंड्रोस्टोन के प्रति अधिक आकर्षित होने का आभास होता है। इस दौरान सेक्स करने की इच्छा लगातार बनी रहती है।

ज्यादा थकान होना

चूंकि ऑव्युलेशन के समय शरीर में अधिक प्रोजेस्टेरोन हॉर्मोन बनता है, इसलिए आपको ज्यादा थकान महसूस हो सकती है। हो सकता है कि आपका उठने का मन न करे और आप हर समय थकी थकी महसूस करें। ज्यादा थकान होना भी ऑव्युलेशन का संकेत हो सकता है।

बनाएं अपना मेंस्ट्रुअल चार्ट

ऑव्युलेशन के संकेतों को पहचानने के लिए आप मेंस्ट्रुअल चार्ट भी बना सकती हैं। यह इसका एक सरल तरीका है। इसके लिए आप अपने पीरियड्स की डेट का रिकॉर्ड रखें। पीरियड्स कब शुरू होते हैं कब खत्म होते हैं इसे नोट कर लें। अगर आपका मेंस्ट्रुअल सर्कल नॉर्मल है, तो मासिक धर्म से लगभग 14 दिन पहले ऑव्युलेशन होने की संभावना हैं। जब भी ऑव्युलेशन के संभावित संकेतों का अनुभव हो तो उसका एक चार्ट बनाएं। ऑव्युलेशन के संकेत में ऐंठन, ग्रीवा में वृद्धि, स्तन कोमलता, फ्लूइड रिटेंशन, और भूख या मनोदशा में बदलाव शामिल हैं।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, परीक्षण या उपचार प्रदान नहीं करता है। नीचे दिए गए टूल्स भी सहायक हो सकते हैं।

और पढ़ें :-

गर्भावस्था में इंफेक्शन से कैसे बचें?

जानें कितने प्रकार के होते हैं वजायनल इंफेक्शन?

Strep-throat: स्ट्रेप थ्रोट/गले का संक्रमण क्या है?

 क्या बढ़ती उम्र में होने वाली ये बीमारी है आम ?

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

ऑव्युलेशन टेस्ट किट से जाने कंसीव करने का सही समय 

ऑव्युलेशन टेस्ट किट का उपयोग कैसे करें, ऑव्युलेशन किट का परिणाम, ऑव्युलेशन टेस्ट को क्या प्रभावित करता है, ओवुलेशन किट का प्रयोग?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Mayank Khandelwal
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel

ऑव्युलेशन टेस्‍ट किट के नतीजे कितने सही होते हैं?

ऑव्युलेशन टेस्ट क्या है, कैसे करें ऑव्युलेशन टेस्ट, क्यों निगेटिव होता है टेस्ट का रिजल्ट, किस समय टेस्ट करना है बेहतर, क्या करें कि टेस्ट हो पॉजिटिव

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Mayank Khandelwal
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel

ऑव्युलेशन पेन के लक्षण और उपचार क्या हैं?

ऑव्युलेशन के दौरान जब अंडाशय से अंडा बाहर निकलता है, उस समय महिला को ऑव्युलेशन पेन के लक्षण हो सकते हैं। ऑव्युलेशन पेन के लक्षण बुखार आना, उलटी महसूस होना आदि हैं...जानें ऑव्युलेशन पेन के कारण, ऑव्युलेशन पेन के उपचार, ovulation pain in hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Mayank Khandelwal
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel

जानें क्या है डिजिटल प्रेग्नेंसी टेस्ट किट से टेस्ट करने का सही समय?

डिजिटल प्रेग्नेंसी टेस्‍ट किट क्या है, डिजिटल प्रेग्नेंसी टेस्‍ट किट का इस्तेमाल कैसे करें, क्यों करते हैं लोग डिजिटल प्रेग्नेंसी किट का इस्तेमाल, जानें और

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Mayank Khandelwal
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel

Recommended for you

Follicular study: फॉलिक्युलर स्टडी क्या है और कैसे किया जाता है?

Follicular study: फॉलिक्युलर स्टडी क्या है और कैसे किया जाता है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया shalu
प्रकाशित हुआ May 13, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Signs of ovulation-ऑव्युलेशन के लक्षण

अगर आप गर्भवती होने की कोशिश कर रही हैं तो ऑव्युलेशन के लक्षण जरूर जान लें

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nikhil Kumar
प्रकाशित हुआ December 2, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें
IUI प्रेग्नेंसी के लक्षण, IUI pregnancy symptoms

IUI प्रेग्नेंसी क्या हैं? जानिए इसके लक्षण

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Shruthi Shridhar
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ November 3, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें
twins baby, जुड़वां बच्चे होने का कारण

जुड़वां बच्चे होने के क्या कारण हो सकते हैं?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Mayank Khandelwal
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ September 12, 2019 . 5 मिनट में पढ़ें