आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

इनर थाईज में रैशेज (Rashes On The Inner Thighs) के इन 9 कारणों के बारे में जान लें

    इनर थाईज में रैशेज (Rashes On The Inner Thighs) के इन 9 कारणों के बारे में जान लें

    इनर थाईज में रैशेज (Rashes On The Inner Thighs) होना ये समस्या काफी देखी जाती है। गर्मी की कमी और इनर थाईज के आसपास का एयरफ्लो बैक्टीरिया और दूसरे जर्म्स को वृद्धि करने में मदद करता है। इस एरिया पर फ्रिक्शन भी बहुत आसानी से होता है। जिसकी वजह से भी स्किन पर रैशेज आ जाते हैं। इस आर्टिकल में इनर थाईज पर रैशेज के कारण और उसके संभावित इलाज के बारे में बताया जा रहा है।

    इनर थाईज में रैशेज होने के कारण (Causes of rash in inner thighs)

    इनर थाईज में रैशेज (Rashes On The Inner Thighs) होने के कई संभावित कारण हो सकते हैं। महिला और पुरुष दोनों इनर थाईज में रैशेज के प्रति संवेदनशील होते हैं। हालांकि, दोनों के कारण अलग-अलग हो सकते हैं।

    1.एटोपिक डर्मेटाइटिस (Atopic dermatitis)

    एटोपिक डर्मेटाइटिस, जिसे आमतौर पर एक्जिमा के रूप में जाना जाता है, लाल, खुजली और शुष्क त्वचा का कारण बनती है। यह स्थिति बच्चों में अधिक आम है, हालांकि यह किसी भी उम्र में हो सकती है। एक्जिमा कोहनी या घुटनों से शुरू हो सकता है, लेकिन यह अक्सर शरीर के अन्य क्षेत्रों में फैलता है, जिसमें इनर थाईज भी शामिल है।

    समय के साथ, यह त्वचा की स्थिति पैदा कर सकती है:

    • स्किन का मोटा होना
    • शुष्क त्वचा
    • त्वचा का हल्का या काला पड़ना
    • परमानेंट बंप्स

    2.चैफिंग (Chafing)

    इनर थाईज में रैशेज (Rashes On The Inner Thighs) के कारणों में चैफिंग भी शामिल है क्योंकि थाईज आपस में रगड़ती हैं या कपड़े की वजह से इर्रिटेड होती हैं। फिजिकल एक्टिविटी जैसे कि रनिंग भी चैफिंग का कारण बनती है। इसमें लालिमा, ब्लिस्टर्स जैसी समस्याएं भी होती हैं। यह सभी लक्षण कम हो सकते हैं अगर चैफिंग का निदान किया जा सके।

    और पढ़ें: आईलिड डर्मेटाइटिस (Eyelid Dermatitis) : पलकों को प्रभावित करने वाली इस कंडिशन के बारे में जानें

    3.कॉन्टैक्ट डर्मेटाइटिस (Contact dermatitis)

    इनर थाईज में रैशेज (Rashes On The Inner Thighs) के कारणों में कॉन्टैक्ट डर्मेटाइटिस भी है। कॉन्टैक्ट डर्मेटाइटिस किसी एलर्जन के स्किन के संपर्क में आने पर होती है। कॉन्टैक्ट डर्मेटाइटिस कई प्रकार के सब्सटेंस के संपर्क आने के कारण हो सकती है। जिसमें ब्लीच, डिर्टजेंट, साबुन और सुगंधित प्रोडक्ट्स शामिल हैं। एलर्जिक कॉन्टैक्ट डर्मेटाइटिस आम नहीं है और यह निम्न तरह के पदार्थों के संपर्क में आने का परिणाम हो सकता है:

    • लैटेक्स
    • निकल
    • पॉइजन आईवी

    इनर थाईज में कॉन्टैक्ट डर्मेटाइटिस होना आम है क्योंकि ये नियमित रूप से कपड़ों और डिटर्जेंट के निकट संपर्क में आते हैं।

    4.हीट रैश (Heat rash)

    हीट रैश को प्रिकली हीट के नाम से भी जाना जाता है। इनर थाईज रैशेज होने का एक कारण ये भी हो सकता है। ये तब होता है जब पोर्स ब्लॉक हो जाते हैं और पसीना स्किन में जमा हो जाता है। इसकी वजह से खुजली और जलन हो सकती है, लेकिन यह स्थिति खतरनाक नहीं है।

    यह त्वचा पर छोटे दानों के रूप में प्रकट होते है और शरीर के किसी भी क्षेत्र को प्रभावित कर सकते हैं, पीठ और छाती से लेकर कमर और इनर थाईज तक। त्वचा के ठंडा होने के बाद लक्षण आमतौर पर ठीक हो जाते हैं। हीट रैश गर्म और नमी वाले वातावरण में होते हैं और यह आमतौर पर शिशुओं, बच्चों और बेडरेस्ट करने वाले लोगों को प्रभावित करते हैं।

    और पढ़ें: स्किन में खुजलीदार बम्प्स के क्या हो सकते हैं कारण?

    5.जॉक इच (Jock itch)

    यह स्किन कंडिशन सिर्फ एथलीट्स के साथ ही नहीं किसी को भी हो सकती है। हालांकि महिलाओं की तुलना पुरुष इससे अधिक प्रभावित होते हैं। क्योंकि पुरुषों को कमर के आसपास के एरिया में अधिक पसीना आता है। एथलीट्स फुट का कारण बनने वाले फंगस के कारण ही जॉक इच होती है। यह खुजली, जलन और फ्लैकी और स्केली स्किन और जेनिटल और इनर थाईज में रैशेज (Rashes On The Inner Thighs) का कारण बनती है। ये रैशेज संक्रामक होते हैं। खासतौर पर टॉवेल या दूसरे आइटम्स शेयर करने पर ये आसानी से फैल सकता है।

    6.पिटिरायसिस रोसिया (Pityriasis rosea)

    ये रैशेज अक्सर वसंत और पतझड़ के मौसम होते हैं, जिसमें थाईज, गर्दन, ऊपरी बांहों, पीठ या सीने पर छोटे, पपड़ीदार पैच सहित अन्य लक्षण दिखाई देते हैं पिटिरायसिस रोसिया के सभी मामलों में से लगभग 75 प्रतिशत एक “हेराल्ड पैच” से शुरू होते हैं, जो एक एकल अंडाकार, पपड़ीदार पैच होता है, जिसके बाद 2 सप्ताह के भीतर और अधिक पैच हो जाते हैं।

    यह स्थिति पुरुषों की तुलना में महिलाओं को अधिक प्रभावित करती है और युवा लोगों में अधिक आम है। यह शायद ही कभी 60 से अधिक उम्र के लोगों को प्रभावित करती है। इस बीमारी का कारण ज्ञात नहीं है, लेकिन दाने आमतौर पर कुछ महीनों के भीतर पूरी तरह से गायब हो जाते हैं।

    7. रेजर बर्न (Razor burn)

    रेजर बर्न शेविंग के कारण होता है, विशेष रूप से गंदे रेजर ब्लेड का उपयोग या अनुचित शेविंग तकनीकों का उपयोग करने से। रेजर बर्न शरीर के किसी भी हिस्से पर हो सकता है जिसको शेव किया गया हो। इनर थाईज में रैशेज (Rashes On The Inner Thighs) का कारण यह भी हो सकता है। कई बार महिलाएं जल्दबाजी में रेजर का उपयोग वैक्सिंग के विकल्प के रूप में कर लेती हैं।

    और पढ़ें: Itchy Scalp: खोपड़ी में खुजली की समस्या क्यों होती हैं, जानिए इससे जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी!

    8. स्विमर्स इच (Swimmers itch)

    स्विमर, जिसे चिकित्सकीय रूप से सेर्केरियल डर्मेटाइटिस के रूप में जाना जाता है, कुछ परजीवियों से एलर्जी की प्रतिक्रिया है जो कुछ झीलों, तालाबों और महासागरों में रहते हैं। इसके लक्षणों में झुनझुनी या जलती हुई त्वचा, लाल रंग के दानें और छोटे छाले शामिल हैं जो संक्रमित पानी में तैरने के दिनों के भीतर उत्पन्न होते हैं। अधिकांश मामलों में चिकित्सा ध्यान देने की आवश्यकता नहीं होती है जब तक कि लक्षण बने रहें या खराब न हों।

    यह परेशानी कहीं भी हो सकती है, लेकिन गर्मी के महीनों में अधिक बार होती है। हालांकि, ठीक से क्लोरीनयुक्त पूल से तैराक की खुजली होने का कोई खतरा नहीं रहता है।

    9. एसटीआईएस (STIs)

    सेक्शुअल ट्रांसमिटेड इंफेक्शन भी इनर थाईज में रैशेज (Rashes On The Inner Thighs) का कारण बन सकते हैं। जिसमें से जेनिटल हर्पीस (Genital herpes) और सेकेंडरी सिफलिस (Secondary syphilis) प्रमुख हैं। जेनिटल हर्पीस का कोई इलाज नहीं। कई लोगों के इसके लक्षण भी दिखाई नहीं देते। इसके लक्षणों जेनिटल्स के आसपास खुजली वाले दर्दनाक दाने दिखाई देते हैं। जिसमें थाईज भी शामिल है।

    वहीं सिफलिस का इलाज अर्ली स्टेज पर किया जा सकता है। अगर इसका इलाज ना किया जाए तो कॉप्लिकेशन हो सकते हैं। प्रारंभिक लक्षणों में जननांगों या एनस के आसपास घाव शामिल हैं। दूसरे स्टेज के लक्षणों में बुखार और त्वचा पर लाल चकत्ते शामिल हैं जो शरीर के किसी भी हिस्से पर दिखाई दे सकते हैं, जिसमें इनर थाईज भी शामिल है।

    और पढ़ें: खुजली का आयुर्वेदिक इलाज क्या है? खुजली होने पर क्या करें, क्या न करें?

    इनर थाईज में रैशेज का इलाज कैसे संभव है? (How is it possible to treat rashes in inner thighs?)

    अनुशंसित उपचार दाने के कारण पर निर्भर करेगा। सभी चकत्ते को हस्तक्षेप की आवश्यकता नहीं होगी, क्योंकि वे अपने आप साफ हो सकते हैं। जब उपचार आवश्यक हो तो निम्न विकल्प अपनाएं जा सकते हैं:

    दवाएं (Medication)

    • इनर थाईज में रैशेज (Rashes On The Inner Thighs) के इलाज के लिए कई दवाएं उपलब्ध हैं, जिनमें शामिल हैं:
    • कुछ एसटीडी और अन्य संक्रमणों के लिए एंटीबायोटिक्स
    • जॉक खुजली के मामलों के लिए एंटीफंगल दवाएं
    • खुजली के लिए एंटीहिस्टामइन्स
    • सूजन को कम करने के लिए टॉपिकल या ओरल स्टेरॉयड
    • इनमें से कुछ दवाएं काउंटर पर या ऑनलाइन खरीदने के लिए उपलब्ध हैं, जिनमें एंटीफंगल और एंटीहिस्टामाइन शामिल हैं।

    उम्मीद करते हैं कि आपको इनर थाईज में रैशेज (Rashes On The Inner Thighs) के कारण और इलाज से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    Genital herpes/https://www.cdc.gov/std/herpes/stdfact-herpes.htm/ Accessed on 02/06/2022

    Tea tree oil attenuates experimental contact dermatitis/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/20865268/Accessed on 02/06/2022

    Skin rashes in children/https://www.nidirect.gov.uk/conditions/skin-rashes-children/Accessed on 02/06/2022

    Skin rashes/https://www.mayoclinic.org/skin-rash/sls-20077087#:~:text=Skin%20rashes%20can%20occur%20from,)%2C%20also%20known%20as%20eczema/Accessed on 02/06/2022

    rashes/ https://medlineplus.gov/rashes.html/Accessed on 02/06/2022

    लेखक की तस्वीर badge
    Manjari Khare द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 06/06/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
    Next article: