आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

Hyperkeratosis: जानिए स्किन से जुड़ी समस्या ‘हाइपरकेराटोसिस’ क्या है?

    Hyperkeratosis: जानिए स्किन से जुड़ी समस्या ‘हाइपरकेराटोसिस’ क्या है?

    त्वचा अगर सॉफ्ट, ग्लोइंग एवं स्कार फ्री हो तो बात ही क्या, लेकिन कई बार त्वचा जरूरत से ज्यादा सख्त और मोटी होने लगती है। यह परेशानी शरीर के किसी भी हिस्से पर हो सकती है। वैसे अगर आप सोच रहें हैं कि यह कौन सी नई परेशानी है, तो चलिए इसके बारे में समझते हैं। आज हम आपके साथ हाइपरकेराटोसिस (Hyperkeratosis) एवं हाइपरकेराटोसिस के कारण एवं अन्य सवालों का जवाब जानेंगे।

    और पढ़ें : Hyaluronic Acid For Skin: जानिए शरीर एवं त्वचा के लिए हाईऐल्युरोनिक एसिड के 10 फायदे!

    • हाइपरकेराटोसिस क्या है?
    • हाइपरकेराटोसिस के कारण क्या हैं?
    • हाइपरकेराटोसिस के लक्षण क्या हैं?
    • हाइपरकेराटोसिस का इलाज कैसे किया जाता है?
    • डॉक्टर से कब संपर्क करना जरूरी है?

    चलिए अब स्किन से जुड़ी समस्या हाइपरकेराटोसिस के बारे में समझेंगे।

    और पढ़ें : Facial Swelling: फेशियल स्वेलिंग क्या हैं? जानिए फेशियल स्वेलिंग के 15 कारण और बचाव!

    हाइपरकेराटोसिस क्या है? (About Hyperkeratosis)

    हाइपरकेराटोसिस (Hyperkeratosis)

    हाइपरकेराटोसिस एक ऐसी स्किन से जुड़ी समस्या है, जब स्किन अपने सामान्य मोटाई से ज्यादा अलग-अलग हिस्से में मोटी हो जाती है। वैसे इस समस्या को प्रायः पैर के तलवों में आसानी से नोटिस किया जा सकता है। हार्वर्ड हेल्थ पब्लिशिंग (Harvard Health Publishing) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार स्किन की सबसे ऊपरी लेयर है, जिसे केराटिन (Keratin) कहते हैं। हाइपरकेराटोसिस के कारण क्या हो सकते हैं, इसे समझने की कोशिश करते हैं, लेकिन सबसे पहले हाइपरकेराटोसिस के अलग-अलग प्रकारों को समझने की कोशिश करते हैं।

    और पढ़ें : हाइड्रोजन पेरोक्साइड और स्किन कंडिशन: क्यों स्किन के लिए हाइड्रोजन पेरोक्साइड का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए?

    हाइपरकेराटोसिस के प्रकार कौन-कौन से हैं? (Types of Hyperkeratosis)

    हाइपरकेराटोसिस के निम्नलिखित प्रकार हैं। जैसे:

    • क्रोनिक एग्जिमा (Chronic eczema)- त्वचा ड्राय (Dry skin) होना और त्वचा पर पैच (Skin patch) नजर आना। इसके कारणों की जानकारी नहीं है, लेकिन ऐसा माना जाता है कि यह समस्या जेनेटिक (Genetic) या वातावरण के कारण हो सकती है।
    • एक्टीनिक केराटोसिस (Actinic keratosis)- त्वचा पर छोटे-छोटे लाल उभार या पैच होना। ऐसा सूर्य की हानिकारक किरणों की वजह से होता है।
    • सीब्रो रहाइक कैरेटोसिस (Seborrheic keratosis)- चेहरे (Face), गर्दन (Neck) और कंधे (Shoulder) पर सीब्रोरहाइक कैरेटोसिस की समस्या देखी जाती है। कुछ लोगों का मानना है कि ये कैंसरस हो सकते हैं जबकि ऐसा नहीं होता है।
    • एपिडर्मोलिटिक हाइपरकेराटोसिस (Epidermolytic hyperkeratosis)- नवजात शिशुओं में एपिडर्मोलिटिक हाइपरकेराटोसिस की समस्या देखी जा सकती है। एपिडर्मोलिटिक हाइपरकेराटोसिस की समस्या हाथ और पैरों पर देखी जा सकती है।
    • केराटोसिस पिलारिस (Keratosis pilaris)- केराटोसिस पिलारिस की समस्या होने पर त्वचा छोटे-छोटे दाने नजर आने लगते हैं। यह समस्या हाथों के ऊपरी हिस्से पर होने के साथ-साथ पैर या कमर के नीचे की ओर भी देखी जा सकती है।
    • फॉलिक्युलर हाइपरकेराटोसिस (Follicular hyperkeratosis)- मिडिल एज या फिर बुजुर्गों में फॉलिक्युलर हाइपरकेराटोसिस की समस्या देखी जाती है। फॉलिक्युलर हाइपरकेराटोसिस त्वचा पर हल्का उभार लिए होता है।
    • सोरायसिस (Psoriasis)- सोरायसिस स्किन कंडिशन हाइपरकेराटोसिस के कारण होने वाली समस्या है और हाइपरकेराटोसिस का प्रकार (Types of Hyperkeratosis) भी। ऐसी स्थिति में स्किन पर धारियां या दरार नजर आने लगती है।

    ये हैं हाइपरकेराटोसिस के अलग-अलग प्रकार। वैसे तो हाइपरकेराटोसिस की समस्या (Hyperkeratosis problem) गंभीर नहीं होती है, लेकिन इसके शुरुआती स्टेज में इलाज करवा लिया जाए तो स्किन प्रॉब्लेम जल्द से जल्द दूर हो सकती है।

    और पढ़ें : सैलीसिलिक एसिड और ग्लाइकोलिक एसिड: ब्यूटी प्रोडक्टस में प्रयोग होने वाले यह एसिड किस तरह से हैं फायदेमंद, जानिए

    हाइपरकेराटोसिस के कारण क्या हैं? (Cause of Hyperkeratosis)

    हाइपरकेराटोसिस के कारण निम्नलिखित हो सकते हैं। जैसे:

    • स्किन पर अगर अत्यधिक प्रेशर (Pressure) पड़ना।
    • त्वचा पर सूजन (Inflammation) आना।
    • स्किन इरिटेशन (Skin irritation) होना।

    ऐसी स्थिति होने पर हाइपरकेराटोसिस की समस्या हो सकती है और स्किन पर स्किन के और भी लेयर आ सकते हैं।

    और पढ़ें : Best Toner For Oily Skin: महिलाओं और पुरुषों के ऑयली स्किन के लिए बेस्ट टोनर!

    हाइपरकेराटोसिस के लक्षण क्या हैं? (Symptoms of Hyperkeratosis)

    हाइपरकेराटोसिस के लक्षण निम्नलिखित हो सकते हैं। जैसे:

    • कॉलस (Calluses) की समस्या होना, जो पैर के तलवों एवं उंगलियों में देखी जा सकती है।
    • पैर के अंगूठों के पास कॉर्न्स (Corns) की समस्या देखी जा सकती है।
    • त्वचा पर लाल निशान या एग्जिमा (Eczema) की समस्या होना।
    • त्वचा पर ब्लिस्टर्स की समस्या होना, जिसे एपिडर्मोलिटिक हाइपरकेराटोसिस (Epidermolytic hyperkeratosis) कहते हैं।
    • ल्यूकोप्लाकिया (Leukoplakia) यानी मुंह के अंदर पैच नजर आना या त्वचा का मोटा होना।
    • प्लैक सोरायसिस (Plaque psoriasis) यानि त्वचा पर दरार एवं ड्रायनेस होना।

    ये लक्षण हाइपरकेराटोसिस के लक्षण की ओर इशारा करते हैं। अगर ऐसे लक्षण नजर आते हैं, तो डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

    हाइपरकेराटोसिस का इलाज कैसे किया जाता है? (Treatment of Hyperkeratosis)

    हाइपरकेराटोसिस का इलाज इसके कारणों को ध्यान में रखकर किया जाता है। जैसे अगर किसी व्यत्कि की त्वचा अत्यधिक मोटी है या किसी को कॉर्न की समस्या है तो बीमारी के अनुसार ही इसका इलाज किया जाता है।

    नोट: त्वचा से जुड़ी किसी भी परेशानी को दूर करने के लिए इलाज (Skin treatment) में काफी वक्त भी लग सकता है। इसलिए इलाज के दौरान सब्र रखें और डॉक्टर द्वारा दिए गए सलाह का पालन भी ठीक तरह से करें।

    वैसे तो हाइपरकेराटोसिस की समस्या गंभीर नहीं मानी जाती है, लेकिन अगर परेशानी ज्यादा महसूस हो तो डॉक्टर से कंसल्ट करना जरूरी है।

    और पढ़ें : Natural Ways To Increase Glutathione: जानिए ग्लूटाथियोन के लिए नैचुरल तरीका और इसके फायदे!

    डॉक्टर से कब संपर्क करना जरूरी है? (Consult Doctor if- )

    निम्नलिखित स्थितियों में डॉक्टर से कंसल्ट करना आवश्यक है। जैसे:

    • स्किन का अत्यधिक लाल (Red) होना।
    • त्वचा में सूजन (Swelling) लगातार बने रहना।
    • स्किन में इंफेक्शन (Skin infection) की समस्या होना।
    • परिवार में स्किन डिजीज (Skin disease) की समस्या होना।
    • सूर्य की तेज रोशनी के संपर्क में आना।
    • स्मोकिंग (Smoking) करना या तंबाकू का सेवन करना।

    ऐसी स्थितियों में इस तकलीफ को इग्नोर ना करें और जल्द से जल्द डॉक्टर से कंसल्ट करें। ध्यान रखें की किसी भी तरह के इंफेक्शन का इलाज जल्द से जल्द करना चाहिए, क्योंकि इंफेक्शन फैलने के साथ-साथ बीमारी और ज्यादा गंभीर होने लगती है।

    और पढ़ें : Skin Lesions: स्किन लीजन क्या है? जानिए स्किन लीजन का कारण, इलाज और घरेलू उपाय

    हमें उम्मीद है कि इस आर्टिकल में हाइपरकेराटोसिस (Hyperkeratosis) से जुड़ी जानकारी आपके लिए लाभकारी होंगी। इसलिए अगर आप लंबे वक्त से हाइपरकेराटोसिस (Hyperkeratosis) की समस्या के शिकार हैं और यह परेशानी दूर नहीं हो रही है, तो ऐसी स्थिति में डॉक्टर से कंसल्ट करें। डॉक्टर बीमरी की गंभीरता को ध्यान में रखते हुए मेडिसिन प्रिस्क्राइब कर सकते हैं। स्किन प्रॉब्लेम (Skin problem) से जुड़ी किसी भी जानकारी के लिए आप हैलो स्वास्थ्य के त्वचा संबंधी समस्याओं पर क्लीक करें।

    आयुर्वेदिक ब्यूटी रेमेडीज के बारे में जानें संपूर्ण जानकारी नीचे दिए इस वीडियो लिंक को क्लिक कर। आयुर्वेदिक ब्यूटी एक्सपर्ट पूजा नागदेव खास जानकारी साझा कर रहीं हैं आयुर्वेदिक ब्यूटी रेमेडीज की, जिससे आप आसानी से अपना सकती हैं और चेहरे पर एक्ने के दाने या अन्य दाग-धब्बों को दूर करने के उपाय।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    Epidermolytic hyperkeratosis/https://ghr.nlm.nih.gov/condition/epidermolytic-hyperkeratosis/Accessed on 06/05/2022
    Corns and calluses resulting from mechanical hyperkeratosis/https://www.aafp.org/afp/2002/0601/p2277.html/Accessed on 06/05/2022
    Hyperkeratosis/https://www.health.harvard.edu/diseases-and-conditions/hyperkeratosis/Accessed on 06/05/2022

    Leukoplakia and hyperkeratosis/http://entcolumbia.org/health-library-0/leukoplakia-and-hyperkeratosis/Accessed on 06/05/2022

    hyperkeratosis/https://www.cancer.gov/publications/dictionaries/cancer-terms/def/hyperkeratosis?redirect=true/Accessed on 06/05/2022

    लेखक की तस्वीर badge
    Nidhi Sinha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 09/05/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
    Next article: