Skin Writing: स्किन राइटिंग क्या है? जानिए स्किन राइटिंग के लक्षण, कारण और इलाज!

    Skin Writing: स्किन राइटिंग क्या है? जानिए स्किन राइटिंग के लक्षण, कारण और इलाज!

    स्किन से जुड़ी कई तरह की परेशानी ना चाहते हुए भी त्वचा पर अपनी जगह बना ही लेती है। हम आपके साथ त्वचा संबंधी कई परेशानियों के बारे में जानकारी शेयर करते आ रहें हैं। ऐसी ही एक परेशानी है स्किन राइटिंग (Skin Writing)। स्किन राइटिंग के कारण एवं इससे जुड़े कई सवाल हैं जिसकी महत्वपूर्ण जानकारी आपके साथ शेयर करेंगे।

    • स्किन राइटिंग क्या है?
    • स्किन राइटिंग के कारण क्या हैं?
    • स्किन राइटिंग के लक्षण क्या हैं?
    • स्किन राइटिंग का निदान कैसे किया जाता है?
    • स्किन राइटिंग का इलाज कैसे किया जाता है?
    • स्किन राइटिंग से बचाव कैसे संभव है?

    चलिए अब स्किन राइटिंग से जुड़े इन सवालों का जवाब जानेंगे।

    और पढ़ें : Liquid Collagen: जानिए लिक्विड कोलेजन के 11 फायदे?

    स्किन राइटिंग (Skin Writing) क्या है?

    स्किन राइटिंग (Skin Writing)

    स्किन राइटिंग को मेडिकल टर्म में डर्मेटोग्राफिया (Dermatographia) भी कहा जाता है। डर्मेटोग्राफिया को अगर सामान्य शब्दों में समझें, तो त्वचा को खरोंचने पर लाल निशान पड़ने लगते हैं और उभार आने लगे तो यह स्किन राइटिंग की समस्या को इशारा करते हैं। अमेरिकन ऑस्टियोपैथिक एसोसिएशन (American Osteopathic Association) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार 2 से 5 प्रतिशत लोगों में स्किन राइटिंग की समस्या देखी जाती है। वहीं नैशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन (National Center for Biotechnology Information) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार 7 से 10 प्रतिशत लोगों में स्किन रैश एवं सूजन के कारण होने वाली समस्या है और डर्मेटोग्राफिया हीव्स (Hives) के जैसी दिखने वाली परेशानी है। प्रायः डर्मेटोग्राफिया की समस्या अपने आप तकरीबन आधे घंटे में ठीक भी हो जाती है, लेकिन अगर डर्मेटोग्राफिया की समस्या ज्यादा होती है तो ऐसे में इसके कारणों एवं लक्षणों को ध्यान देना जरूरी है, जिससे जल्द से जल्द स्किन प्रॉब्लेम को दूर करने में मदद मिल सकती है।

    और पढ़ें : Skin Lesions: स्किन लीजन क्या है? जानिए स्किन लीजन का कारण, इलाज और घरेलू उपाय

    स्किन राइटिंग के कारण क्या हैं? (Cause of Skin Writing)

    स्किन राइटिंग का मुख्य कारण एलर्जिक रिएक्शन माना गया है। दरअसल बॉडी में एंटीबॉडीज खासकर IgE और IgM रिलीज होने के कारण शरीर में खुजली होती है। ऐसे में अगर त्वचा पर खरोच किया जाए, प्रेशर डाला जाए या हल्का इरिटेशन होने पर स्किन राइटिंग की समस्या देखी जाती है। इसके अलावा स्किन राइटिंग के निम्नलिखित स्थिति भी हो सकती है। जैसे:

    स्किन राइटिंग की समस्या इन ऊपर बताये कारणों की वजह से हो सकती है। वहीं स्किन राइटिंग की समस्या रात के वक्त और ज्यादा बढ़ जाती है।

    और पढ़ें : Blind Pimple: ब्लाइंड पिंपल से छुटकारा पाने के लिए 7 घरेलू उपाय एवं 9 टिप्स कर सकते हैं फॉलो!

    स्किन राइटिंग के लक्षण क्या हैं? (Symptoms of Skin Writing)

    मायो फाउंडेशन फॉर मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च (Mayo Foundation for Medical Education and Research) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार डर्मेटोग्राफिया के लक्षण निम्नलिखित हो सकते हैं। जैसे:

    रिसर्च रिपोर्ट्स के अनुसार डर्मेटोग्राफिया के लक्षण (Dermatographia symptoms) अपने आप ठीक हो जाते हैं ,लेकिन कुछ केसेस में इस स्किन डिजीज को अपने आप ठीक होने में एक साल का भी वक्त लग सकता है। इसलिए डॉक्टर से कंसल्ट जरूर करें।

    और पढ़ें : हाइड्रोजन पेरोक्साइड और स्किन कंडिशन: क्यों स्किन के लिए हाइड्रोजन पेरोक्साइड का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए?

    स्किन राइटिंग का निदान कैसे किया जाता है? (Diagnosis of Skin Writing)

    स्किन राइटिंग के निदान के लिए डॉक्टर सबसे पहले पेशेंट के स्किन को मॉनिटर करते हैं और उनसे लक्षणों को समझने की कोशिश करते हैं। इसके बाद टंग डिप्रेसर (Tongue depressor) की सहायता से स्किन टेस्ट (Skin test) करते हैं। इस स्किन टेस्ट की वजह से मरीज को कोई परेशानी नहीं होती है और डॉक्टर द्वारा टेस्ट किये जाने के बाद स्किन राइटिंग के लक्षण कुछ ही मिनटों में स्किन पर आ जाते हैं। डर्मेटोग्राफिया के लक्षण (Dermatographia symptoms) को ध्यान में रखकर इलाज शुरू किया जाता है।

    और पढ़ें : Purpura: परप्यूरा क्या है? जानिए परप्यूरा के कारण, लक्षण और इलाज!

    स्किन राइटिंग का इलाज कैसे किया जाता है? (Treatment for Skin Writing)

    स्किन राइटिंग की समस्या वैसे तो अपने आप ठीक हो जाती है, लेकिन अगर स्किन प्रॉब्लेम ठीक ना हो तो ऐसी स्थिति में डॉक्टर निम्नलिखित मेडिसिन प्रिस्क्राइब कर सकते हैं। जैसे:

    • डाय​फि​नहायड्रामिन (Diphenhydramine)
    • फेक्सोफेनाडाइन (Fexofenadine)
    • सेटरिजिन (Cetirizine)

    इन अलग-अलग दवाओं के सेवन से स्किन राइटिंग की समस्या दूर हो सकती है।

    नोट: इन दवाओं का सेवन अपनी मर्जी से ना करें और डॉक्टर द्वारा प्रिस्क्राइब्ड डोज के अनुसार ही करें। अपनी मर्जी से दवाओं का सेवन करना नुकसानदायक हो सकता है या अन्य शारीरिक तकलीफ बढ़ सकती है।

    और पढ़ें : Natural Ways To Increase Glutathione: जानिए ग्लूटाथियोन के लिए नैचुरल तरीका और इसके फायदे!

    डर्मेटोग्राफिया की समस्या होने पर किन-किन बातों का ध्यान रखें? (Tips for Dermatographia)

    डर्मेटोग्राफिया की समस्या होने पर निम्नलिखित खाद्य पदार्थों से दूरी बनायें। जैसे:

    • रेड मीट (Red meat) का सेवन ना करें।
    • प्रोसेस्ड मीट (Processed meat) का सेवन ना करें।
    • तले हुए खाद्य पदार्थों (Fried foods) का सेवन ना करें।
    • रिफाइन किये हुए कार्बोहायड्रेट (Refined carbohydrates) का सेवन ना करें।
    • ऐसे पेय पदार्थों का सेवन ना करें (Beverages sweetened with sugar) जिसमे शुगर हो।

    स्किन राइटिंग के मरीजों को इन ऊपर बताये खाद्य पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए।

    और पढ़ें : Non Cancerous Skin Tags: जानिए नॉन कैंसरस स्किन टैग से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी!

    स्किन राइटिंग से बचाव कैसे संभव है? (Tips to prevent Skin Writing)

    स्किन राइटिंग से बचाव के लिए निम्नलिखित टिप्स फॉलो करें। जैसे:

    1. त्वचा की साफ-सफाई का ध्यान रखें। इसलिए सोप, फेसवॉश एवं अन्य केमिकल फ्री स्किन केयर प्रॉडक्ट्स (Skin products) का इस्तेमाल करें।
    2. अत्यधिक गर्म या अत्यधिक ठंडे पानी से स्नान ना करें।
    3. स्नान करने के बाद शरीर को अच्छी तरह से टॉवेल से पूछें।
    4. ऐसे कपड़े ना पहनें जिससे त्वचा में खुजली हो।
    5. बॉडी फिटेड या बॉडी हगिंग ड्रेस ना पहनें।
    6. स्किन को ड्राय होने ना दें, इसलिए मॉस्चराइजर का इस्तेमाल करें।
    7. अपने डायट (Diet) में सीफूड, हरी पत्तेदार सब्जियां, केल, पालक, टमाटर, मौसमी फल एवं ऑलिव ऑयल को शामिल करें।
    8. सूर्य की तेज रोशनी(Sun light) में ना निकलें।
    9. त्वचा के लिए सनस्क्रीन लोशन (Sunscreen lotion) का इस्तेमाल करें।

    इन ऊपर बताये नौ टिप्स को नियमित रूप से फॉलो करने पर स्किन से जुड़ी परेशानियों को दूर करने में या स्किन प्रॉब्लेम से बचने में मदद मिल सकती है।

    और पढ़ें : Food for Clear Skin: साफ त्वचा के लिए फूड में शामिल कर सकते हैं ये 5 खाद्य पदार्थ!

    उम्मीद करते हैं कि स्किन राइटिंग (Skin Writing) से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में स्किन राइटिंग (Skin Writing) ​से जुड़े कोई अन्य कोई सवाल हैं, तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हैलो स्वास्थ्य के हेल्थ एक्स्पर्ट आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। वहीं आप अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

    आयुर्वेदिक ब्यूटी रेमेडीज के बारे में जानें संपूर्ण जानकारी नीचे दिए इस वीडियो लिंक को क्लिक कर। आयुर्वेदिक ब्यूटी एक्सपर्ट पूजा नागदेव खास जानकारी साझा कर रहीं हैं आयुर्वेदिक ब्यूटी रेमेडीज की, जिससे आप आसानी से अपना सकती हैं और चेहरे पर एक्ने के दाने या अन्य दाग-धब्बों को दूर करने के उपाय।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

    डॉ. प्रणाली पाटील

    फार्मेसी · Hello Swasthya


    Nidhi Sinha द्वारा लिखित · अपडेटेड 06/04/2022

    advertisement
    advertisement
    advertisement
    advertisement