Psoriasis And Skin Cancer: सोरायसिस और स्किन कैंसर से कैसे रहें दूर?

    Psoriasis And Skin Cancer: सोरायसिस और स्किन कैंसर से कैसे रहें दूर?

    स्किन से जुड़ी समस्या सामान्य लगती है, लेकिन सामान्य सी यह परेशानी कभी-कभी गंभीर भी हो सकती है। इसलिए आज इस आर्टिकल में सोरायसिस और स्किन कैंसर (Psoriasis And Skin Cancer) के आपसी तालमेल को समझेंगे। वैसे अगर आप यहां कैंसर का नाम पढ़कर परेशान हो रहें हैं, तो ऐसा बिल्कुल भी ना करें, क्योंकि किसी भी बीमारी का इलाज अगर समय पर किया जाए तो गंभीर से गंभीर बीमारियों से बचना संभव हो सकता है और कैंसर के साथ भी कुछ ऐसा ही है। तो चलिए सोरायसिस और स्किन कैंसर (Psoriasis And Skin Cancer) के बारे में जानते हैं।

    • सोरायसिस और स्किन कैंसर क्या है?
    • सोरायसिस और स्किन कैंसर के लक्षण क्या हो सकते हैं?
    • सोरायसिस के कारण स्किन कैंसर का बढ़ सकता है खतरा?
    • सोरायसिस और स्किन कैंसर का निदान कैसे किया जाता है?
    • सोरायसिस और स्किन कैंसर का इलाज कैसे किया जाता है?
    • सोरायसिस से बचाव के लिए टिप्स।

    चलिए अब सोरायसिस और स्किन कैंसर (Psoriasis And Skin Cancer) से जुड़े इन सवालों का जवाब जानते हैं।

    और पढ़ें : Purpura: परप्यूरा क्या है? जानिए परप्यूरा के कारण, लक्षण और इलाज!

    सोरायसिस और स्किन कैंसर (Psoriasis And Skin Cancer) क्या है?

    सोरायसिस (Psoriasis)

    सोरायसिस और स्किन कैंसर (Psoriasis And Skin Cancer)

    सोरायसिस ऑटोइम्यून डिजीज है, जो एक त्वचा संबंधी समस्या है। इससे पीड़ित व्यक्ति को त्वचा में जलन के साथ त्वचा पर अलग तरह के चकत्ते और सूजन जैसे लक्षण नजर आते हैं, जिसका इलाज ठीक तरह से नहीं करवाया जाए तो तकलीफ बढ़ सकती है। तकलीफ बढ़ने पर त्वचा पर अत्यधिक खुजली होना, जोड़ों में जकड़न महसूस होना या स्किन का अत्यधिक ड्राय पड़ना महसूस किया जा सकता है।

    स्किन कैंसर (Skin Cancer)

    सोरायसिस और स्किन कैंसर (Psoriasis And Skin Cancer)

    स्किन कैंसर, स्किन सेल्स के असामान्य तरीके से बढ़ने के कारण होती है। स्किन कैंसर की समस्या प्रायः उन्हीं अंगों पर देखी जाती है, जो सूर्य की रोशनी के ज्यादा संपर्क में आती है। स्किन कैंसर के लक्षण सोरायसिस के लक्षण से मिलते हैं। इसलिए शुरुआती स्टेज में इसे समझपाना कठिन होता है, लेकिन यहां यह समझना जरूरी है कि सोरायसिस के कारण स्किन कैंसर का खतरा कितना है।

    और पढ़ें : हाइड्रोजन पेरोक्साइड और स्किन कंडिशन: क्यों स्किन के लिए हाइड्रोजन पेरोक्साइड का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए?

    सोरायसिस और स्किन कैंसर के लक्षण क्या हो सकते हैं? (Symptoms of Psoriasis And Skin Cancer)

    सोरायसिस और स्किन कैंसर के लक्षण निम्नलिखित हो सकते हैं। जैसे:

    सोरायसिस के लक्षण (Psoriasis symptoms)-

    • अत्यधिक खुजली की समस्या होना।
    • जोड़ों में जकड़न महसूस होना।
    • स्किन बहुत ज्यादा ड्राय पड़ना।
    • बुखार आना।
    • पल्स रेट का बहुत तेज चलना।
    • मांसपेशियों का कमजोर होना।
    • एनीमिया की समस्या होना।
    • अत्यधिक ठंड लगना।
    • डिहाइड्रेशन की समस्या होना।

    स्किन कैंसर के लक्षण (Skin cancer symptoms)

    • त्वचा पर खुजली महसूस होना।
    • त्वचा पर लाल धब्बे पड़ना।
    • त्वचा पर पपड़ी पड़ना।
    • स्किन अल्सर की समस्या होना।
    • त्वचा पर मस्सा बनना।

    सोरायसिस और स्किन कैंसर के लक्षण तकरीबन एक जैसे होते हैं। इसलिए शुरुआती दिनों में ज्यादातर लोग इसे नॉर्मल स्किन प्रॉब्लेम समझकर इग्नोर कर देते हैं।

    और पढ़ें : Blind Pimple: ब्लाइंड पिंपल से छुटकारा पाने के लिए 7 घरेलू उपाय एवं 9 टिप्स कर सकते हैं फॉलो!

    सोरायसिस और स्किन कैंसर: सोरायसिस के कारण स्किन कैंसर का बढ़ सकता है खतरा? (Risk factor of Psoriasis And Skin Cancer)

    दि प्रेसिडेंट एवं फेलो ऑफ हार्वर्ड कॉलेज (The President and Fellows of Harvard College) द्वारा पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार सिर्फ सोरायसिस के कारण स्किन कैंसर की समस्या हो सकती है ऐसा नहीं है। रिसर्च रिपोर्ट के अनुसार सोरायसिस इंफ्लेमेंटरी कंडिशन (Inflammatory condition) है, जो इम्यून सेल्स को ओवरएक्टिव करने का काम कर सकती है। वहीं इंफ्लेमेंटरी डिजीज की लिस्ट में शामिल क्रोहन रोग (Crohn’s disease) के कारण भी कैंसर का खतरा बना रहता है।

    कुछ मरीजों में सोरायसिस के साथ-साथ मेटाबॉलिक सिंड्रोम (Metabolic syndrome) की समस्या देखी जाती है, कुछ लोग तंबाकू का सेवन करते हैं, कुछ लोग अत्यधिक एल्कोहॉल का सेवन करते है और यह अलग-अलग आदतें भी कैंसर की संभावनाओं को बढ़ाने का काम करती है। इसलिए किसी भी हेल्थ कंडिशन एवं अनहेल्दी हैबिट्स को ध्यान में रखें और डॉक्टर से कंसल्ट करें।

    और पढ़ें : Skin Lesions: स्किन लीजन क्या है? जानिए स्किन लीजन का कारण, इलाज और घरेलू उपाय

    सोरायसिस और स्किन कैंसर का निदान कैसे किया जाता है? (Diagnosis of Psoriasis And Skin Cancer)

    सोरायसिस और स्किन कैंसर की समस्या को समझने के लिए डॉक्टर सबसे पहले पेशेंट के हेल्थ कंडिशन (Health Condition) को समझने की कोशिश करते हैं और फिर उनसे लक्षणों (Symptoms) के बारे में पूछते हैं। त्वचा पर पड़ने वाली पपड़ी या लालमी को चेक करते हैं और फिर जरूरत पड़ने पर स्किन बायोप्सी (Skin Biopsy) करवाने की सलाह देते हैं। टेस्ट रिपोर्ट और हेल्थ कंडिशन को ध्यान में रखकर इलाज शुरू किया जाता है।

    और पढ़ें : सैलीसिलिक एसिड और ग्लाइकोलिक एसिड: ब्यूटी प्रोडक्टस में प्रयोग होने वाले यह एसिड किस तरह से हैं फायदेमंद, जानिए

    सोरायसिस और स्किन कैंसर का इलाज कैसे किया जाता है? (Treatment for Psoriasis And Skin Cancer)

    सोरायसिस और स्किन कैंसर (Psoriasis And Skin Cancer)

    सोरायसिस की समस्या होने पर डॉक्टर टॉपिकल क्रीम लगाने की सलाह देते हैं। अगर इस क्रीम के इस्तेमाल से लाभ नहीं मिलता है, तो ऐसी स्थिति में ओरल मेडिसिन प्रिस्क्राइब की जा सकती है। वहीं कुछ लोगों में सोरायसिस की समस्या होने पर फोटोथेरिपि (Phototherapy) की मदद ली जा सकती है। वहीं अगर पेशेंट में स्किन कैंसर की समस्या डायग्नॉस हुई है, तो ऐसी स्थिति में स्किन कैंसर के टाइप को समझा जाता है और फिर सर्जरी (Surgery), रेडिएशन थेरिपी (Radiation therapy), कीमोथेरिपी (Chemotherapy) या दोनों थेरिपी की मदद ली जा सकती है।

    नोट: सोरयासिस की समस्या होने पर इलाज में वक्त लग सकता है। वहीं स्किन कैंसर की समस्या होने पर इलाज में वक्त लगने के साथ-साथ मरीज की देखभाल, मेडिकेशन और समय-समय पर ट्रीटमेंट की जरुरत पड़ती है। स्किन कैंसर की जानकारी मिलने पर घबराएं नहीं और डॉक्टर द्वारा दिए गए सलाह का पालन करें।

    क्रोहन रोग, सोरायसिस की समस्या एवं अन्य हेल्थ कंडिशन मिलकर स्किन कैंसर की समस्या को दावत दे सकती है। इसलिए ऐसे में सोरायसिस की समस्या से बचना बेहद जरूरी है।

    और पढ़ें : Hyaluronic Acid For Skin: जानिए शरीर एवं त्वचा के लिए हाईऐल्युरोनिक एसिड के 10 फायदे!

    सोरायसिस से बचाव के लिए टिप्स (Tips to prevent Psoriasis)

    सोरायसिस से बचाव के लिए निम्नलिखित टिप्स फॉलो किये जा सकते हैं। जैसे:

    • रोजाना स्नान (Take daily baths) करें।
    • मॉस्चराइजर (Moisturizer) का इस्तेमाल करें।
    • सूर्य की तेज किरणों (Sunlight) से त्वचा बचाएं।
    • इन्फेक्टेड एरिया पर मेडिकेटेड क्रीम (Medicated cream) लगाएं।
    • एल्कोहॉल का सेवन (Avoid drinking alcohol) ना करें।

    सोरायसिस के मरीजों को इन बातों का ध्यान अवश्य रखना चाहिए।

    उम्मीद करते हैं कि आपको सोरायसिस और स्किन कैंसर (Psoriasis And Skin Cancer) से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में सोरायसिस और स्किन कैंसर (Psoriasis And Skin Cancer) ​से जुड़े कोई अन्य कोई सवाल हैं, तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हैलो स्वास्थ्य के हेल्थ एक्स्पर्ट आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। वहीं आप अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

    आयुर्वेदिक ब्यूटी रेमेडीज के बारे में जानें संपूर्ण जानकारी नीचे दिए इस वीडियो लिंक को क्लिक कर। आयुर्वेदिक ब्यूटी एक्सपर्ट पूजा नागदेव खास जानकारी साझा कर रहीं हैं आयुर्वेदिक ब्यूटी रेमेडीज की, जिससे आप आसानी से अपना सकती हैं और चेहरे पर एक्ने के दाने या अन्य दाग-धब्बों को दूर करने के उपाय।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    Psoriasis and cancer: What’s the link?/https://www.health.harvard.edu/blog/psoriasis-and-cancer-whats-the-link-2019120518320/Accessed on 22/03/2022

    About psoriasis/https://www.psoriasis.org/about-psoriasis/Accessed on 22/03/2022

    Skin cancer/https://www.cancer.org/cancer/skin-cancer.html/Accessed on 22/03/2022

    Skin cancer statistics/https://www.cdc.gov/cancer/skin/statistics/index.htm/ Accessed on 22/03/2022

    Skin Biopsy/https://medlineplus.gov/lab-tests/skin-biopsy/Accessed on 22/03/2022

    Skin Cancer Treatment (PDQ®)–Patient Version/https://www.cancer.gov/types/skin/patient/skin-treatment-pdq/Accessed on 22/03/2022 The Risk of Cancer in Patients With Psoriasis/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5273859/ Accessed on 22/03/2022

     

    लेखक की तस्वीर badge
    Nidhi Sinha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 22/03/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड