महिला और पुरुषों की लंबाई में अंतर क्यों होता है? जानें लंबाई से जुड़े रोचक फैक्ट्स

Medically reviewed by | By

Update Date जून 6, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

‘लंबू जी, लंबू जी, बोलो जी टिंगू जी’, ‘बड़े मियां तो, बड़े मियां, छोटे मियां सुभानअल्लाह…’ ऐसे कई गाने व्यक्ति की लंबाई का प्रतिनिधित्व करते नजर आते हैं। भारतीय समाज में शरीर की लंबाई का विशेष महत्व है। लंबे पुरुषों को हेंडसम का खिताब दिया जाता है वहीं लंबी महिलाओं को मॉडलिंग की सलाह। अक्सर  महिला और पुरुषों की लंबाई में अंतर देखने को मिलता है। ज्यादातर पुरुष लंबे और महिलाएं छोटी होती हैं। क्या आप जानते हैं कि महिला और पुरुषों की लंबाई में अंतर के लिए एक्स गुणसूत्र जिम्मेदार होता है?

इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि एक्स गुणसूत्र किस तरह से लंबाई में अंतर करता है। वहीं, महिला और पुरुषों की लंबाई में अंतर और लंबाई से जुड़े फन फैक्ट्स के बारे में भी जानेंगे।

यह भी पढ़ें : हाइट बढ़ाने के व्यायाम जो पहले कभी नहीं सुने होंगे

एक्स गुणसूत्र के कारण महिला और पुरुषों की लंबाई में अंतर क्यों होता है?

मानव शरीर की सबसे छोटी इकाई कोशिका होती है। कोशिका में गुणसूत्र पाए जाते हैं, ये गुणसूत्र डीएनए को कैरी करते हैं। इंसान के पास 23 जोड़ी गुणसूत्र होते हैं। जिसमें से 22 जोड़ी गुणसूत्र महिला और पुरुष में एक समान होते हैं। वहीं, 23वां जोड़ा गुणसूत्र सेक्स गुणसूत्र होता है, जो महिला (XX) और पुरुष (XY) में अलग-अलग होते हैं। किसी भी बच्चे को जन्म देने के लिए मां बच्चे को एक्स गुणसूत्र देती हैं, वहीं पिता बच्चे को एक्स गुणसूत्र या वाई गुणसूत्र देते हैं। 

किसी भी लड़के के पास एक एक्स गुणसूत्र और एक वाई गुणसूत्र होता है और लड़की में दो एक्स गुणसूत्र होते हैं। एक अध्ययन के मुताबिक एक्स गुणसूत्र के साथ कई तरह के चैलेंजेस होते हैं, लेकिन महिलाओं में दो एक्स गुणसूत्र होते हैं, इसलिए उनके जीन्स में ज्यादा चैलेंजेस होते हैं। यही चैलेंजेस महिला और पुरुष में एक्स गुणसूत्र के साथ कई तरह के बायोलॉजिकल चेंजेस के लिए जिम्मेदार होते हैं। यही कारण है कि महिला और पुरुषों की लंबाई में अंतर के लिए एक्स गुणसूत्र ही जिम्मेदार होता है। कई बार दो एक्स क्रोमोसोम की वजह से महिलाओं की हाइट पुरुषों की तुलना में कम होती है। लंबाई कम होने के पीछे कई दूसरे कारण भी जिम्मेदार होते हैं।

यह भी पढ़ें : क्यों कुछ लोगों की हाइट छोटी होती है?

महिला और पुरुषों की लंबाई में अंतर से जुड़े फन फैक्ट्स

एक्स गुणसूत्र के कारण महिला और पुरुषों की लंबाई में अंतर के बारे में तो आप समझ गए, आइए अब जानते हैं कि महिला और पुरुषों की लंबाई में अंतर से जुड़े फन फैक्ट्स : 

उम्र के पहले साल में लंबाई तेजी से बढ़ती है

महिला और पुरुषों की लंबाई में अंतर तो उम्र बढ़ने पर होता है। जब हम अपने उम्र के शुरुआती साल में होते हैं तो हमारी लंबाई पूरे जीवन में सबसे तेजी से बढ़ती है। जब हम एक साल के होते हैं, तब तक हमारी लंबाई 10 इंच तक बढ़ चुकी होती है। इसके बाद जब महिलाओं में मासिक धर्म की शुरुआत होती है तो उसके तीन चार साल के अंदर लंबाई बढ़ना बंद हो जाती है। जबकि लड़कों की लंबाई 20 साल के बाद भी थोड़ी बहुत बढ़ती रहती है। महिला और पुरुषों की लंबाई में अंतर यही से समझ में आने लगता है।

यह भी पढ़ें : ये 8 फूड्स बच्चे की हाइट बढ़ाने में करेंगे मदद

दिन भर हमारी लंबाई बदलती रहती है

आपने सुना होगा कि हमारे शरीर का वजन दिन भर घटता बढ़ता रहता है, लेकिन आप शायद विश्वास ना करें कि दिनभर हमारी लंबाई भी बदलती रहती है। जब हम सोकर उठते हैं तो हमारे शरीर की लंबाई ज्यादा होती है और दिन ढलते-ढलते हमारे शरीर की लंबाई लगभग एक सेंटीमीटर तक कम हो जाती है। ऐसा होने के पीछे कारण यह है कि जब हम सोते हैं तो हमारे स्पाइन फैल जाते हैं और दिन ढलने के साथ ही कई तरह की एक्टिविटी के कारण फिर से अपने स्थान पर आ जाती है। 

महिला और पुरुषों की लंबाई में अंतर के लिए सिर्फ हाइट जीन्स जरूरी नहीं

 हमारे शरीर की लंबाई के लिए 60 से 80 फीसदी हमारे जीन्स जिम्मेदार होते हैं। जबकि 40 से 20 फीसदी के लिए हमारा पर्यावरण जिम्मेदार होता है। इसके साथ ही हमारे द्वारा बचपन में लिया गया पोषण भी हमारी लंबाई के लिए जिम्मेदार होता है। महिला और पुरुषों की लंबाई में अंतर को जानने के लिए एक फॉर्मूला है, जिसके माध्यम से आप लड़के और लड़की की हाइट का आंकलन कर सकते हैं :

  • लड़कियों की हाइट को जानने के लिए आप पिता की हाइट में से 5 इंच घटाएं और जो गिनती आए, उसे माता के हाइट के साथ एवरेज निकालें। इसके बाद जो गिनती आए उसमें 2 इंच जोड़े और घटाएं। बस मान लीजिए कि लड़की हाइट उसी के बीच की होगी।
  • लड़कों में हाइट जानने के लिए मां की हाइट में 5 इंच को जोड़ें, इसके बाद पिता के हाइट के साथ एवरेज निकालें और फिर जो गिनती आए, उसमें से 2 इंच जोड़ और घटा दें। लड़के की हाइट बड़े होने पर उसी के बीच की हो सकती है। यही वजह भी है कि दोनों अलग अलग प्रकार से सोचते हैं, दोनों की पसंद और नापसंद भी अलग होती है। 

इसलिए ज्यादातर डॉक्टर पेरेंट्स को यही सलाह देते हैं कि बच्चों को बचपन में फल, सब्जियां, अनाज, प्रोटीन और दूध आदि खिलाना चाहिए। इससे बच्चों की हाइट बढ़ने में मदद मिलती है।

यह भी पढ़ें : अपर बॉडी को टोन करना सीखें, साथ ही बढ़ाएं हाइट भी

लंबे लोगों को कैंसर का खतरा ज्यादा होता है

लंबे लोगों में कैंसर का खतरा ज्यादा होता है। लैंसेट ऑन्कोलॉजी में किए गए एक अध्ययन में ये पाया गया है कि जिनकी हाइट 5 फीट 6 इंच से ज्यादा होती है, वे लोग कैंसर के हायर रिस्क पर होते हैं। इस अध्ययन में 5 फीट 1 इंच से कम हाइट के लोगों को शामिल किया गया और 5 फीट 8 इंच लंबे लोगों को शामिल किया गया। जिसमें पाया गया कि 37 फीसदी लंबे लोगों को कैंसर का खतरा ज्यादा होता है। ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में भी इस बात पर रिसर्च हुई कि लंबे लोगों की कोशिकाएं कैंसरस होने के रिस्क में ज्यादा होती हैं।

यह भी पढ़ें : बढ़ती उम्र सिर्फ जिंदगी ही नहीं हाइट भी घटा सकती है 

उम्र बढ़ने के साथ लंबाई घटने लगती है

ज्यादातर लोगों की उम्र ढलने के साथ उनकी लंबाई भी कम होने लगती है। 40 साल की उम्र बीतने के बाद व्यक्ति की लंबाई आधा इंच हर 10 साल में कम होने लगती है। ऐसा होने के पीछे हमारी स्पाइन जिम्मेदार होती है। धीरे-धीरे हमारी स्पाइन पानी को खोने लगती है, जिसके कारण हमारी लंबाई सिकुड़ने लगती है। वहीं, ऑस्टियोपोरोसिस और हड्डियों से संबंधित बीमारियों के कारण भी व्यक्ति की हाइट कम होने लगती हैं, लेकिन लागातार योगा और एक्सरसाइज की मदद से आप अपनी लंबाई को कम होने से रोक सकते हैं। 

तो इस तरह से आप ने जाना कि महिला और पुरुषों की लंबाई में अंतर के लिए एक्स गुणसूत्र और दूसरे फैक्टर किस तरह भूमिका निभाते हैं। साथ ही महिला और पुरुषों की लंबाई में अंतर से जुड़े फन फैक्ट्स के बारे में भी आपने जाना। उम्मीद है कि आपको ये आर्टिकल पसंद आया होगा। अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरही की कोई मेडिकल जानकारी नहीं दे रहा है। 

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

बच्चों में साइनसाइटिस का कारण: ऐसे पहचाने इसके लक्षण

जानिए बच्चों में साइनसाइटिस का कारण in Hindi, बच्चों में साइनसाइटिस का कारण कैसे पहचानें, Baccho me sinus ka karan, शिशुओं में साइनसाइटिस के लक्षण और उपचार, बंद नाक के कारण।

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Ankita Mishra
बच्चों की देखभाल, पेरेंटिंग अप्रैल 7, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Condurango: कोन्डुरेंगो क्या है?

जानिए कोन्डुरेंगो की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, कोन्डुरेंगो उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Condurango डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Sunil Kumar
जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल अप्रैल 7, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

बेबी रैशेज: शिशु को रैशेज की समस्या से कैसे बचायें?

जानिए बेबी रैशेज क्यों होते हैं? क्या Baby Rash शरीर के किसी भी हिस्से पर हो सकता है? कब डॉक्टर से संपर्क करना आवश्यक होता है?

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Nidhi Sinha
बच्चों की देखभाल, पेरेंटिंग अप्रैल 2, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

बच्चे को पसीना आना : जानें कारण और उपाय

जानिए बच्चे को ज्यादा पसीना क्यों आता है? बच्चे को पसीना आना कौन-कौन सी बीमारी की ओर इशारा करता है? पेरेंट्स को किन-किन बातों का रखना चाहिए ध्यान?

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Nidhi Sinha
बच्चों की देखभाल, पेरेंटिंग अप्रैल 1, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

सेकंड हैंड ड्रिंकिंग के बारे में जानिये विस्तार से

सेकेंड हैंड ड्रिंकिंग क्या है?

Medically reviewed by Dr. Shruthi Shridhar
Written by Anu Sharma
Published on जून 30, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
बॉडी शेमिंग -body shaming

बच्चों को बॉडी शेमिंग से कैसे बचाएं?

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by sudhir Ginnore
Published on मई 19, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
पुरुष और महिला में ब्रेन डिफरेंस

पुरुष और महिला में ब्रेन डिफरेंस से जुड़ी इन इंटरेस्टिंग बातों को नहीं जानते होंगे आप

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shayali Rekha
Published on मई 4, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
बच्चे-स्कूल-नहीं-जाते

जब बच्चे स्कूल नहीं जाते तो पैरेंट्स क्या करें

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shivam Rohatgi
Published on अप्रैल 23, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें